Best Motivational Movies For Students in Hindi

Rating:
0
(0)
Motivational Movies for Students

हमारे जीवन में अक्सर ऐसा मौका आता है जिनकी वजह से हम निराशा पाते है और निराशा ही महसूस करते हैं। उस समय हमको कुछ ऐसी प्रेरणा दायक बातों की कविताओं कि या फिर कुछ ऐसी फिल्मों को देखना चाहिए जिनमें उन्होंने अपने करियर में बड़ी असफलता मिलने के बावजूद सफलता हासिल कि हो। आज इस हम इस ब्लॉग के जरिए आपको कुछ ऐसी ही फिल्मों के बारे मेंं बताने वाले है जिनको देखने के बाद आपके अदंर मोटिवेशन पूरी तरह से भर जाएगा और आप अपने लक्ष्य को पाने के लिए अपना पूरा 100 प्रतिशत लगा देंगे। तो चलिए जानते हैं Motivational Movies for Students in Hindi के बारे में विस्तार से।

Best Motivational Movies For Students in Hindi कुछ इस प्रकार है-

जाने Best 10 motivational books के विषय में

Motivational movies for students in Hindi :
3 Idiots

यह फिल्म अंग्रेजी उपन्यासकार चेतन भगत के प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यास ”फ़ाइव प्वाइंट समवन” पर आधारित फिल्म है। इस फिल्म सबसे अच्छी बात यह है कि यह फिल्म काबिल बनने की जगह कामयाब बनने पर जोर देती है l साथ ही इस फिल्म मे यह भी दर्शाया गया है कि कैसे अभिभावकों के दबाव में आकर कुछ बच्चे इंजीनियरिंग, मेडिकल या ऐसे किसी और फील्ड मे एडमिशन लेते हैं जिनमे उनकी दिलचस्पी नही होती और जिसके बाद उन्हें हमेशा संघर्ष करना पड़ता है l फिल्म यह भी दर्शाती है कि स्कूल के विद्यार्थियों को क्या-क्या संघर्ष उठाने पड़ते है l यह फ़िल्म मनोरंजन से भरपूर है और इसके साथ-साथ जीवन की कुछ महत्वपूर्ण किस्से इसमे दर्शाये गए है। यह फिल्म बहुत ही motivational है। मेरी राय यही है कि students को अपने जीवन में इस मूवी को जरूर देखना चाहिए और इसमें बताई गई बातें अपने जीवन मे भी apply करनी चाहिए

Source – 3 Idiots

Motivational movies for students in Hindi :
भाग मिल्खा भाग

भाग मिल्खा भाग  मूवी मशहूर धावक मिल्खा सिंह के जीवन पर आधारित फिल्म है। इस फ़िल्म में दिखाया गया है कि कैसे मिल्खा सिंह अपने लक्ष्य को पाने के लिए दिन रात एक करके मेहनत करते हैं l इस फिल्म मिल्खा सिंह के बचपन से लेकर फ्लाइंग सिख बनने तक की कहानी दिखाई गई है lइस फिल्म में यह भी दिखाया गया है कि भारत-पाक विभाज़न के दौरान बचपन में मिल्खा सिंह ने किस तरह के दर्द का सामना किया। ओलंपिक्स के लिए प्रैक्टिस करते-करते मिल्खा सिंह ने न जानें कितनी बार पसीनें से बाल्टियाँ भरी और मुँह से खून फेका, इसके बावज़ूद वह ओलंपिक्स में मेडल पानें से चूक गए l इस कहानी से हर विद्यार्थी को यह प्रेरणा मिलती है कि कैसे किसी विषय की तैयारी लिए उन्हें कितनी मेहनत करनी पड़ती है l जैसे कोई धावक एक दिन में तेज़ दौड़ कर मेडल नहीं जीत सकता, उसी तरह बिना पेन और पेपर से प्रैक्टिस किये कोई विद्यार्थी टॉप नहीं कर सकता। टॉप करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

Source – Bhaag Milkha Bhaag

जाने UP-TET syllabus हिंदी में

Motivational Movies For Students in Hindi : स्लमडॉग मिलेनियर

स्लमडॉग मिलियनेयर फ़िल्म की पृष्ठभूमि में ज़्यादातर मुंबई के झोपड़पट्टी में रहने वाले लोग हैं। यह फ़िल्म दो भाइयों के इर्द गिर्द घूमती है जो बचपन में दंगों के दौरान अनाथ और बेघर हो जाते हैं। दोनों भाइयो ने तरह-तरह के बुरे लोगों और अनगिनत मुश्किलों का सामना किया l दोनों भाइयों में से एक भाई ने गलत रास्ता चुनता है और दूसरा भाई  मेहनत का सही रास्ता चुनता है l अगर किसी को लगता है कि उसकी ज़िन्दगी में मुश्किलें बहुत ज़्यादा हैं तो उसे यह फिल्म ज़रूर देखनी चाहिए l इस फिल्म मे अंत में यह भी दिखाया है कि गलत रास्ते पर चलने वाले का अंजाम हमेशा गलत ही होता है और कैसे मेहनत करने वाले आगे बढ़ते हैं l

Source – स्लमडॉग मिलेनियर

Motivational Movies For Students in Hindi :
आई एम कलाम

यह फिल्म छोटू नाम के एक 12 वर्षीय लड़के के इर्द-गिर्द घूमती है जो राजस्थान में रहता है l गरीबी और अभाव में रहने के बावजूद छोटू हर तरह के हालातों से प्रसन्नतापूर्वक लड़ता है और अपने परिवार की आर्थिक मदद के लिए वह सड़क के किनारे छोटे से होटल में काम करता है और इसके अलावा वो  शाम को पढ़ाई करता है। एक दिन छोटू भारत के राष्ट्रपति डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम को टेलीविजन पर देखता है और उनसे काफी प्रेरित होता है। इसके चलते वह अपना नाम बदलकर कलाम रख लेता है और यह निश्चय करता है कि वह एक ऐसा व्यक्ति बनेगा जो टाई पहनता है और दूसरे व्यक्ति जिसका सम्मान करेंगे। फिल्म में उसकी मां बार-बार यह कहती है कि ‘’स्कूल हमारे भाग्य में नहीं है’’ मगर फिल्म ये बताती है कि भाग्य कुछ नहीं होता है और कठिन परिश्रम से किस तरह नियति को  बदला जा सकता है। इस फिल्म से विद्यार्थियों को यह सीख लेनी चाहिए कि विकट परिस्थितियां होने पर भी आप अपनी किस्मत अपनी मेहनत व लगन से बदल सकते हैं। 

Source – I AM Kalam

हिंदी में जाने OSI मॉडल क्या है? 

Motivational Movies For Students in Hindi :
चक दे इंडिया

‘चक दे इंडिया’ यह फिल्म कबीर खान नाम के व्यक्ति की कहानी है, जो भारतीय हॉकी टीम का श्रेष्ठ सेंटर फॉरवर्ड खिलाड़ी रह चुका था। पाकिस्तान के विरूद्ध एक फाइनल मैच में वह अंतिम क्षणों में पेनल्टी स्ट्रोक के जरिये गोल बनाने से चूक जाता है और उसे आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है। मुस्लिम होने के कारण उसकी देशभक्ति पर सवाल खड़े कर दिए गए ।

सात वर्ष बाद जब वह महिला हॉकी टीम का प्रशिक्षक (Coach) बनता है और इस टीम को विश्व चैम्पियन बनाकर वह अपने ऊपर लगे हुए दाग को धोता है । यह काम आसान नहीं था उस जमाने मे महिला हॉकी टीम  सिर्फ नाम के लिए खेलती थी इसकी वजह से कबीर खान को बहुत ज़्यादा संघर्ष करना पड़ता है l कबीर ने टीम से बहुत मेहनत करायी और टीम को एकजुट करके विश्व चैंपियन बनाया l यह फ़िल्म किसी भी काम को सफलतापूर्वक करने के लिए प्रैक्टिस का महत्व सिखाती है और इसके साथ-साथ टीम-वर्क के इम्पोर्टेंस के बारे में बड़ी सीख देती है l

Source – चक दे इंडिया

Motivational Movies For Students in Hindi :
गुड विल हंटिंग

इस फिल्म में विल हंटिंग नाम का व्यक्ति मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी (दुनिया की सबसे नामी यूनिवर्सिटी) का एक चौकीदार होता है। जो एक बहुत तेज़ बुद्धि और गणित के प्रति गहरा लगाव रखने वाला व्यक्ति है । वह एक दुर्व्यवहार ग्रस्त बच्चा भी है जिसकी वजह से वह पेशेवर और भावनात्मक रूप से सहज नहीं रह पा रहा था । एक बार यूनिवर्सिटी के बड़े प्रोफेसर एक कठिन प्रश्न विद्यार्थियों के लिए बोर्ड पर लिख कर छोड़ जाते हैं, जिसे वह चुपचाप आसानी से हल कर देता है । यह बात यूनिवर्सिटी के बड़े प्रोफेसर को बहुत बाद में पता चलती है जिसके बाद वह उसकी मदद करते हैं l यह फिल्म हमें सिखाती है हमे खुद की काबिलियत पर विश्वास करना चाहिए और पुरानी बातों अथवा दुःखों को भूल कर आगे बढ़ना चाहिए। 

Source – Good Will Hunting

जाने importance of education

Motivational Movies For Students in Hindi :
द परस्युट ऑफ़ हैपिनेस

यह एक अमेरिकी जीवनी नाटक(American biography drama) फिल्म है जो क्रिस गार्डनर के जीवन पर आधारित है l इस फिल्म में एक भटकते हुए बेघर सेल्समैन से एक शेयर दलाल बनने की कहानी दर्शायी गयी है l इस फिल्म में क्रिस नाम का व्यक्ति (जो एक बच्चे का पिता भी है) अपनी सारी जमा पूँजी बोन स्कैनर नाम की मशीनें खरीदने में लगा देता है l जिसे वह बेच नहीं पाता l वह आर्थिक रूप से टूट जाता है और इसके कारण उसकी पत्नी उसे छोड़ कर चली जाती है l वह बेघर हो जाता हैं जिसके बाद वह और उसका बेटा बार्ट स्टेशन के एक बाथरूम में सोने के लिए मजबूर हो जाते हैं। वह चर्च में भी शरण लेता है जो मुख्य रूप से एकल माताओं और उनके बच्चों के लिए बेघर आश्रय था। चर्च में जगह बहुत कम थी और मांग बहुत ज़्यादा,इसलिए उसे दौड़कर इंटर्नशिप (शेयर दलाल बनने) के लिए आना जाना पड़ता था । उसकी हालत इतनी खराब हो गयी थी की वो टैक्सी का किराया भी नहीं जुटा सकता है। इन कठिन परिस्थितियों में भी उसने कभी हिम्मत नहीं हारी और खुद के साथ साथ अपने बेटे को भी संभाला।इसके साथ ही उसने अपने सह कार्यकर्ताओं के सामने अपनी खराब परिस्थितियों को कभी जाहिर नहीं होने दिया । चूँकि वह शेयर दलाल बनने के लिए इंटर्नशिप कर रहा था तो उसे उसके लिए हर हाल में अच्छा दिखना भी ज़रूरी था l उसने हर हाल में संघर्ष करके अपना बेस्ट दिया और नौकरी की दौड़ में 19 प्रतियोगियों को पीछे करके जीत हासिल की। यह फिल्म हमें यह सिखाती है कि मेहनत करने से आप आपके खराब समय को भी बदल सकते है। 

Source – द परस्युट ऑफ़ हैपिनेस

Motivational Movies For Students in Hindi :
निल बटे सन्नाटा

निल बट्टे सन्नाटा एक भारतीय कॉमेडी ड्रामा है।यह फिल्म एक गरीब मां और उसकी बेटी की कहानी है l फिल्म में स्वरा एक सिंगल मदर की भूमिका निभा रही हैं, जो अपनी बेटी के लिए बड़े-बड़े सपने देखती है। बेटी को पढ़ाना ही उनके जीवन का एक मुख्य उद्देश्य है, लेकिन बेटी बेहद नटखट और बढ़ बोली है। पढ़ाई में उसका दिल ही नहीं लगता। एक माँ, जो घरों में काम करती है मगर वो चाहती है कि उसकी बेटी पढ़ लिख कर नाम कमाए। मगर बेटी सोचती है कि जो काम उसकी माँ करती है वह भी वही काम करेगी, बेटी के सपने मर चुके थे lअपनी बेटी के इस बर्ताव और आर्थिक तंगी से निराश स्वरा को रत्ना सलाह देती है कि वो पहले खुद को शिक्षित करे। इसके बाद कहानी में नया मोड़ आता है। माँ अपनी बेटी के मर चुके ख्वाबों को जिंदा करने के लिए फिर जी-जान से जुट जाती है। यह फिल्म बताती है कि सपनों का मर जाना सबसे खतरनाक होता है और इंसान के सपनों के मर जाने से बड़ा कोई दर्द नहीं होता l यह फिल्म लड़कियों की शिक्षा और मां-बेटी के संबंधों को लेकर बहुत प्रेरणा देने वाली फिल्म है।कुल मिलाकर इस फिल्म में मां-बेटी का रिश्ता और पढ़ने के लिए उनकी जद्दोजहद देखने को मिलती है। 

Source – निल बटे सन्नाटा

Non Cooperation movement

Motivational Movies For Students in Hindi :
द रेवेनेंट

‘द रेवेनेंट’ कठोर परिस्थतियों में भी जीवित रहने के संघर्ष की कहानी है जो माईकल पंके की ‘द रेवनेंट’ नाम की नावेल पर आधारित फिल्म है l यह कहानी है ऐसे व्यक्ति की जिसके घर को आग लगा दी जाती है, बेटे को मार दिया जाता है और जिसको लोग बर्फीले प्रदेश में अकेले मरने के लिए छोड़ कर चले जाते हैं l घने जंगल और बर्फीले तूफान में उसे काफी कठिनाइयां झेलनी पड़ती है l लेकिन वह व्यक्ति आखिरी सांस तक जीने की कोशिश करता है और उसके बाद अपने बेटे के कातिलों से बदला भी लेता है lयह फिल्म हमे संघर्ष करना सिखाती है और यह दिखती है कि हालात चाहे जितने बुरे क्यूँ न हों हमे कभी उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिए l

Source – द रेवेनेंट

Motivational Movies For Students in Hindi : इकबाल

इकबाल वर्ष 2005 में रिलीज हुई एक स्पोर्ट्स ड्रामा है,यह फिल्म गांव में रहने वाले एक गूंगे और बहरे लड़के की कहानी है जो भारतीय क्रिकेट टीम के लिए क्रिकेट खेलने का सपना देखता है और उसके लिए संघर्ष करता है l उसके पास कोई सुविधा नहीं होती उसके पिता भी उसके क्रिकेट खेलने का बहुत विरोध करते है l लेकिन वह हार नहीं मानता l वह हर तरह के हालातो का जम के मुकाबला करता है और अंत में अपने सपने को पूरा भी करता है l यह फिल्म छात्रों को सिखाती है कि हालात चाहें जैसे भी हों हिम्मत नहीं हारनी चाहिए कठिन परिश्रम और दृण निश्चय से सफलता ज़रूर मिलती हैl

Source – इकबाल

Motivational Movies For Students in Hindi : जो जीता वही सिकंदर

जो जीता वही सिकंदर एक स्पोर्ट्स बॉलीवुड ड्रामा कहानी है। कहानी संजू नाम के लड़के के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक मध्यम वर्ग का एक युवक है। कहानी मुख्य रूप से एक वार्षिक अंतर-स्कूल खेल प्रतियोगिता के आसपास सेट की गई है, जो शहर में सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण माना जाता है। कहानी यह है कि एक पिता अपने बेटे को प्ररियोगीता के लिए तैयार करते है। यह  देखते हुए, संजू एक जिम्मेदार दोस्त, भाई, बेटे और एथलीट के रूप में बदल जाता है, और अपने भाई रतन को गौरव दिलाने के लिए साइकिल की दौड़ में कड़ी मेहनत करके हिस्सा लेता है और राजपूत स्कूल से जीत कर अपने पिता, भाई, दोस्त और पूरे शहर के दिल में छा जाता है।

Source – Jo Jeeta Wohi Sikandar

अगर आप टीचर बनने की तैयारी कर रहे हैं तो जरूर पढ़े Deled syllabus

 Motivational Movies For Students in Hindi : लगान

यह एक स्पोर्ट्स-ड्रामा के रूप में टैग की गई फिल्म है, जो सन् 2001 मे रिलीज़ हुई हिंदी फिल्म है। इस फिल्म में गरीब ग्रामीणों की दुर्दशा को दर्शाया गया है, गाँव में बारिश नही होती जिसके कारण से उसकी फसल नहीं उगती और उन्हें ब्रिटिश सरकार द्वारा, भारत में भारी करो (tax) का भुगतान करने के लिए मजबूर किया जाता है। करों से खुद को बचाने के लिए, ग्रामीण एक क्रिकेट मैच के लिए अंग्रेजों के खिलाफ टीम बनाते हैं और मैच खेलते है। इस खेल का परिणाम तय करेगा कि उनका भाग्य क्या है।

Source – lagan

Motivational Movies For Students in Hindi : स्वदेस

स्वदेश, 2004 की एक ऐसी फिल्म है जो एक सफल भारतीय वैज्ञानिक के जीवन के इर्द-गिर्द घूमती है। फिल्म में उस गांव में वापस उनकी यात्रा है जिसमें उन्हें लाया गया था। यह सामाजिक अनियमितताओं के खिलाफ उनकी लड़ाई को दर्शाता है क्योंकि वह ग्रामीणों के जीवन को बुनियादी आवश्यकताओं – भोजन, शिक्षा और सबसे महत्वपूर्ण, बिजली (बिजली) के साथ बिजली देने की कोशिश करता है । इस फिल्म को देखने वाले युवा निश्चित रूप से लीड के नेक विचारों से प्रेरित होंगे।

Source – Swades

Motivational Movies For Students in Hindi : Mother India

1957 में बनी यह फिल्म, एक गरीब भारतीय महिला का एक भारतीय महाकाव्य नाटक है, जो अपने दो बेटों को पालने के लिए सभी बाधाओं से लड़ती है। पूरी फिल्म उनके सामने आने वाली कठिनाइयों और उनके द्वारा दिखाई गई अनुकरणीय ताकत को दर्शाती है। छात्र अपने बच्चों को पालने के लिए मां द्वारा दिखाए गए भावनात्मक तप का अनुसरण कर सकते हैं।

Source – Mother India-

Motivational Movies For Students in Hindi : Airlift

इस फिल्म में इराक द्वारा कुवैत पर आक्रमण की 1990 की ऐतिहासिक घटना को दर्शाया गया है। इस फिल्म में,अक्षय कुमार कुवैत में स्थित एक व्यवसायी के रूप में कार्य करता है, जो युद्ध के दौरान कुवैत साम्राज्य में फंसे 170,000 भारतीयों को निकालने में मदद करता है।एक सफल भारतीय व्यवसायी रंजीत, बगदाद और कुवैत के अधिकारियों के साथ अच्छे संबंध रखता है और भारतीयों के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करता है। हालांकि, आक्रमण के बाद होने वाली घटनाएँ अपने साथी देशवासियों के प्रति उसकी भावनाओं को बदल देती हैं।अपनी पत्नी और बेटी के साथ कुवैत छोड़ने के बजाय, वह वहीं रहता है और अन्य भारतीयों को देश छोड़ने में मदद करता है।फिल्म छात्रों को अपनी मातृभूमि के लिए गहरा प्यार और सम्मान विकसित करने में मदद करती है। 

Source – Airlift

Motivational Movies For Students in Hindi :
मेरी कॉम

मेरी कॉम के नाम से 2014 में रिलीज हुई यह बायोपिक मूवी है जिसमें भारतीय मुक्केबाज मैरी कॉम की प्रतिभा और प्रतिबद्धता को पहचान मिली।जब उसने बॉक्सिंग के लिए विश्व चैंपियनशिप जीती तो वह लड़कियों और लड़कों दोनों के लिए बॉक्सिंग का अभ्यास करने के लिए एक रातोंरात सनसनी और प्रेरणा बन गई। छात्रों को उनकी प्रतिबद्धता की अडिग भावना और कभी न हारने वाले रवैये से सीखने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

Source – Mary Kom

Motivational Movies For Students in Hindi :
तारे ज़मीन पर

यह फिल्म ईशान नाम के एक लड़के की कहानी है जो एक डिस्लेक्सिक छात्र के जीवन का एक रोलर कोस्टर दिखाती है। ईशान जो की एक  असामान्य बच्चा है जिसे सामान्य बच्चों की तरह पढ़ाई लिखाई करने में परेशानी होती है इसी कारण से उसे उसके स्कूल दोस्तों और पिता की कड़वी बातों का सामना करना पड़ता है। लेकिन ईशान एक बहुत ही अच्छा पेंटर (आर्टिस्ट) है। इस फिल्म में आमिर खान एक प्रेरणा स्रोत टीचर की भूमिका निभाते हुए नजर आते हैं जो उसके संघर्षों को समझता है और उन्हें दूर करने में उसकी मदद करता है। जो छात्र इस फिल्म को देखते हैं, वे विशेष योग्यता वाले लोगों के साथ सहानुभूति रखना और उनकी मदद करना सीखेंगे।

Source – Tare Zameen Par Film

Lakshya (लक्ष्य)

लक्ष्य एक ऐसी फिल्म है जिसे देखते हुए आप इसके गाना “लक्ष्य तो हर हाल में पाना है…” सुनेगें तो आप खुद को इस फिल्म से जुड़ते हुए देखेगें। Movie में दिखाया गया है कि जब किसी नौजवान को अपने लक्ष्य का पता नहीं होता, तब तक वह जीवन को मौज-मस्ती में ही गुजार देता है। लेकिन जब उसे कुछ करने की प्रेरणा मिलती है तो वह सबकुछ यहां तक कि अपने एकमात्र प्यार को भी छोड़ आगे बढ़ जाता है और लक्ष्य पाकर ही दम लेता है। फरहान अख्तर की बनाई और रितिक रोशन, प्रीति जिंटा और अमिताभ बच्चन जैसे सितारों से सजी इस फिल्म को motivation के लिए एक बार जरूर देखें।

Lakshya Movie
Source – Movieshits

उड़ान (Udaan)

उड़ान कैद से मुक्त होने की कहानी है। हम सभी को life में कई बार अपने आसपास के लोगों की झल्लाहट या क्रोध से दो-चार होना पड़ता है। लेकिन उड़ान एक ऐसे young boy की कहानी है जो अपने पिता के गुस्से से जुझता है और उसके साथ में होता है उसका अनजान सौतेला भाई। पूरी फिल्म में उसका पिता उसे इतनी यातनाएं देता है कि अंत में वह अपने सौतेले भाई के साथ घर छोड़ अपने सपने की उड़ान के लिए भाग जाता है। यह फिल्म हर किसी के जीवन के कुछ पहलुओं को छू जाती है इसलिए इसे एक बार देखना जरूर बनता है।

udaan
Source – Indian Express

गुरू (Guru)

धीरूभाई अंबानी का जीवन ही बहुत inspirational है, उन्होंने छोटे से व्यापार को एक बड़े empire में बदला तो फिर उनकी life पर बनी यह फिल्म भी motivational क्यों ना होगी। ऊपर से हिन्दी फिल्म सिनेमा के respected director मणि रत्नम ने इस फिल्म को direct किया है। फिल्म की कहानी दर्शकों को motivate करती है।

गुरु
Source – विकिपीडिया

जब भी आपको लगे की आप बहुत कठिन दौर से गुज़र रहें हैं या लगे की सभी रास्ते बंद हो गए हैं। तो इन फ़िल्मों को एक बार ज़रूर देखें l इनको देखने के बाद आपके मन में फिर से नया जोश भर जाएगा। ये जानकारी आपको कैसी लगी हमें comment box मे जरूर बताये। इसी प्रकार की और जानकारी के लिए हमारी site Leverage Edu पर बने रहे। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Motivational Quotes in Hindi (1)
Read More

200+ Motivational Quotes in Hindi

हिंदी मोटिवेशनल कोट्स (Motivational quotes in Hindi)  आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मजबूत करते हैं,…