जीने का जज्बा देगी Aalo Aandhari की कहानी

Rating:
4
(1)
Aalo Aandhari

जीवन में कठिन हालातों व रास्तों को ही झुकाकर उस पर चल पड़ना एक कामयाब व्यक्ति की पहचान है. जीवन में दुखों की भरमार के बावजूद उन दुखों को अपने सपनों के आगे नहीं देने वाले लोग ही सितारा बनते हैं और ऐसे चमकते हैं कि अँधेरा उनके लिए मात्र एक शब्द बनकर जाता है. बुरा वक़्त किस का नहीं आता, लेकिन बुरा वक़त ही अपनी ताकत को इकठ्ठा करने का सबसे बढ़िया समय होता है. आज का यह ब्लॉग इसी पर है. Aalo Aandhari यह बस एक शब्द नहीं है, यह है एक जूनून, जानिए Aalo Aandhari को इस पाठ के द्वारा – 

Check Out: Indira Gandhi Biography in Hindi

लेखिका परिचय

लेखिका बेबी हालदार का जन्म जम्मू कश्मीर में हुआ था, वहां, उनके पिता सेना में थे। इनका जन्म संभवतया 1974 में हुआ। परिवार की आर्थिक दशा कमजोर होने के कारण तेरह वर्ष की आयु में इनका विवाह दोगुनी उम्र के व्यक्ति से कर दिया गया। इस कारण उन्हें सातवीं कक्षा में पढ़ाई छोड़नी पड़ी। 12-13 वर्षों के बाद पति की ज्यादतियों से परेशान होकर वे तीन बच्चों सहित पति का घर छोड़कर दुर्गापुर से फरीदाबाद आ गई। वहां रहने का इनका महीने का किराया 800 रूपये था. कुछ समय बाद वह गुड़गाँव चली आई और घरेलू नौकरानी के रूप में काम कर रही हैं। इनकी एकमात्र रचना है-आलो-आँधारि। यह मूल रूप से बांग्ला भाषा में लिखी गई तथा बाद में इसका हिंदी अनुवाद किया गया। Aalo Aandhari लेखिका का जीवन परिचय है, यह उनके जीवन के संघर्षों को दर्शाता है।

Check Out: पीएम नरेंद्र मोदी की कहानी

पाठ का सारांश

आलो-आँधारि-लेखिका की आत्मकथा है, इसका अर्थ है – अँधेरे का उजाला 

यह समाज की करोड़ों झुग्गियों की कहानी है. यह साहित्य में उनके लिए चुनौती है जो साहित्य को वस्तु में देखने के आदी हैं, जो यह समझते हैं कि साहित्य को एक खास वर्ग की बपौती मानते हैं। यह आपबीती है, जो बांग्ला में लिखी गई, लेकिन पहली ऐसी रचना जो छपकर बाज़ार में आने से पहले ही मुख्य रूप में हिंदी में आई। इसके अनुवादक हैं प्रबोध कुमार।

लेखिका अपने पति से अलग किराए के मकान में अपने तीन छोटे बच्चों के साथ रहती थी। उसे हर समय काम की तलाश रहती थी। वह सभी को अपने लिए काम ढूँढ़ने के लिए कहती थी। शाम को जब वह घर वापिस आती तो पड़ोस की औरतें काम के बारे में पूछतीं। काम न मिलने पर वह उसका हौंसला बढ़ाती थी। लेखिका सुनील नामक युवक से मिलती है। एक दिन उसने किसी मकान मालिक से लेखिका को मिलवाया। मकान मालिक ने आठ सौ रुपये महीने पर उसे रख लिया और घर की सफाई व खाना बनाने का काम दिया। उसने पहले काम कर रही महिला को हटा दिया। उस महिला ने लेखिका से भला-बुरा कहा। लेखिका उस घर में रोज सवेरे आती तथा दोपहर तक सारा काम खत्म करके चली जाती। घर जाकर बच्चों को नहलाती व खिलाती। उसे बच्चों के भविष्य की चिंता थी।

जिस मकान में वह रहती थी, वह महंगा था। उसने सस्ता किराए वाला मकान ले लिया। लोग उसके अकेले रहने पर तरह-तरह की बातें बनाते थे। घर के खर्च चलाने के लिए वह और काम चाहती थी। वह मकान मालिक से काम की नई जगह ढूँढ़ने को कहती है। उसे बच्चों की पढ़ाई, घर के किराए व लोगों की बातों की भी चिंता थी। एक दिन उन्होंने लेखिका से पूछा कि वह घर जाकर क्या-क्या करती है। लेखिका की बात सुनकर उन्हें आश्चर्य हुआ। उन्होंने स्वयं को ‘तातुश’ कहकर पुकारने को कहा। वे उसे बेबी कहते थे तथा अपनी बेटी की तरह मानते थे। उनका सारा परिवार लेखिका का ख्याल रखता था। वह पुस्तकों की अलमारियों की सफाई करते समय पुस्तकों को उत्सुकता से देखने लगती। यह देखकर तातुश ने उसे एक किताब पढ़ने के लिए दी।

तातुश ने उससे लेखकों के बारे में पूछा तो उसने कई बांग्ला लेखकों के नाम बता दिए। एक दिन तातुश ने उसे कॉपी व पेन दिया और कहा कि समय निकालकर वह कुछ जरूर लिखे। काम की अधिकता के कारण लिखना बहुत मुश्किल था, परंतु तातुश के प्रोत्साहन से वह रोज कुछ पृष्ठ लिखने लगी। शौक आदत में बदला। उसका अकेले रहना समाज में कुछ लोगों को सहन नहीं हो रहा था। वे उए परेशान करते थे। बाथरूम न होने से भी विशेष दिक्कत थी। मकान मालिक के लड़के के दुव्र्यवहार की वजह से वह नया घर तलाशने की सोचने लगी।

एक दिन लेखिका काम से घर लौटी तो देखा कि मकान टूटा हुआ है तथा उसका सारा सामान खुले में बाहर पड़ा हुआ है। वह रोने लगी। इतनी जल्दी मकान ढूंढना भी मुश्किल था। वह सारी रात बच्चों के साथ खुले आसमान के नीचे बैठी रही। दो भाई नजदीक रहने के बावजूद उसकी सहायता नहीं करते। तातुश को बेबी का घर टूटने का पता चला तो उन्होंने अपने घर में कमरा दे दिया। इस प्रकार वह तातुश के घर में रहने लगी। उसके बच्चों को ठीक खाना मिलने लगा। तातुश उसका बहुत ख्याल रखते।

बच्चों के बीमार होने पर वे उनकी दवा का प्रबंध करते। उसका बड़ा लड़का किसी घर में काम करता था। तातुश ने उसके लड़के को खोजा तथा उसे बेबी से मिलवाया। लड़के को दूसरी जगह काम दिलवाया। लेखिका सोचती कि तातुश पिछले जन्म में उसके बाबा रहे होंगे। तातुश उसे लिखने के लिए प्रोत्साहित करते थे। उन्होंने अपने कई मित्रों के पास बेबी के लेखन के कुछ अंश भेज दिए थे। उन्हें यह लेखन पसंद आया और वे भी लेखिका का उत्साह बढ़ाते रहे। तातुश के छोटे लड़के अर्जुन के दो मित्र वहाँ आकर रहने लगे, परंतु उनके अच्छे व्यवहार से लेखिका बढ़े काम को खुशी-खुशी करने लगी। उसने उसे रोजाना शाम के समय पार्क में बच्चों को घुमा लाने के लिए कहा। अब वह पार्क में जाने लगी।

पार्क में नए-नए लोगों से मुलाकात होती। उसकी पहचान बंगाली लड़की से हुई जो जल्दी ही वापिस चली गई। लोगों के दुव्र्यवहार के कारण उसने पार्क में जाना छोड़ दिया। लेखिका को किताब, अखबार पढ़ने व लेखन-कार्य में आनंद आने लगा। तातुश के जोर देने पर वह अपने जीवन की घटनाएँ लिखने लगी। तातुश के दोस्त उसका उत्साह बढ़ाते रहे। एक मित्र ने उसे आशापूर्णा देवी का उदाहरण दिया। इससे लेखिका का हौसला बढ़ा और उसने उन्हें जेलू कहकर संबोधित किया। एक दिन लेखिका के पिता उससे मिलने पहुँचे। उसने उसकी माँ के निधन के बारे में बताया। लेखिका के भाइयों को पता था, परंतु उन्होंने उसे नहीं बताया । लेखिका काफी देर तक माँ की याद करके रोती रही। बाबा ने बच्चों से माँ का ख्याल रखने के लिए समझाया। लेखिका पत्रों के माध्यम से कोलकाता और दिल्ली के मित्रों से संपर्क रखने लगी। उसे हैरानी थी कि लोग उसके लेखन को पसंद करते हैं।

शर्मिला उससे तरह-तरह की बातें करती थी। लेखिका सोचती कि तातुश उससे न मिलते तो यह जीवन कहाँ मिलता। लेखिका का जीवन तातुश के घर में आकर बदल गया। उसका बड़ा लड़का काम पर लगा था। दोनों छोटे बच्चे स्कूल में पढ़ रहे थे। वह स्वयं लेखिका बन गई थी। पहले वह सोचती थी कि अपनों से बिछुड़कर कैसे जी पाएगी, परंतु अब उसने जीना सीख लिया था। वह तातुश से शब्दों के अर्थ पूछने लगी थी। तातुश के जीवन में भी खुशी आ गई थी। अंत में वह दिन भी आ गया जब लेखिका की लेखन-कला को पत्रिका में जगह मिली। पत्रिका में उसकी रचना का शीर्षक था- ‘आलो-आँधारि” बेबी हालदार। लेखिका अत्यंत प्रसन्न थी। तातुश के प्रति उसका मन कृतज्ञता से भर आया। उसने तातुश के पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त किया।

Check Out: The Story of Ram Mohan Roy in Hindi

Aalo Aandhari पाठ के कठिन शब्द

शब्द    मतलब
आपबीती    अपने पर बीती हुई
बांग्ला  बंगाली
दुव्र्यवहार   बुरा बर्ताव
बपौती   जागीर
अनुवादक   अनुवाद करने वाला
प्रोत्साहित      प्रेरणा देने वाला
अर्थ      मतलब
अत्यंत बहुत
कृतज्ञता       शुक्रिया का भाव
सांचा       वस्तु

Aalo Aandhari पाठ से संबंधित प्रश्न-उत्तर

Aalo Aandhari पाठ से संबंधित प्रश्न-उत्तर आपके लिए दिए हैं. क्या आपको पता हैं इन प्रश्नों के उत्तर, तो चलिए दीजिए उत्तर –

प्रश्न 1: अपने परिवार से लेकर तातुश के घर तक के सफ़र में बेबी के सामने रिश्तों की कौन-सी सच्चाई उसके सामने आती है?

उत्तर: उसने जाना कि रिश्तों का संबंध दिल से होता है, अन्यथा रिश्ते बेगाने होते हैं। पति का घर छोड़कर आने के बाद वह अकेली व असहाय थी। वह अकेले ही बच्चों के साथ किराये के मकान में रहने लगी।उसके अपने ही उसके लिए अंजान थे। उल्टा, अनजानों ने उसकी सहायता की थी। सुनील के रास्ते ही उसने अपना मकाम पाया।

प्रश्न 2: घरों में काम करने वालों के जीवन की मुश्किलों का पता चलता है। घरेलू नौकरों को और किन परेशानियों का सामना करना पड़ता है? 

उत्तर: घरेलू नौकरों को आर्थिक सुरक्षा व मदद नहीं मिलती। नौकरी पर मुश्किल बनी रहती है। उन्हें गदे व सस्ते मकानों में रहना पड़ता है, क्योंकि ये अधिक किराया नहीं दे पाते। इन लोगों का शारीरिक शोषण भी किया जाता है। नौकरानियों को अकसर शोषण का शिकार होना पड़ता है।

प्रश्न 3: बेबी की जिंदगी में तातुश का परिवार न आया होता तो उसका जीवन कैसा होता?

उत्तर: तातुश के संपर्क में आने से पहले बेबी कई घरों में काम कर चुकी थी। उसका जीवन कष्टों से भरा था। तातुश के परिवार में आने के बाद उसे घर, पैसा, भोजन आदि समस्याओं से राहत मिली। यहाँ उसके बच्चों का पालन-पोषण ठीक ढंग से होने लगा। यदि उसकी जिंदगी में तातुश का परिवार न आया होता तो उसका जीवन बहुत बुरे दौर में होता।

प्रश्न 4: तातुश के व्यक्तित्व से आपको क्या प्रेरणा मिलती है?

उत्तर: तातुश के व्यक्तित्व से हमें दूसरों की मदद करने की प्रेरणा, शिक्षा के प्रति बच्चों को जागरूक बनाने, सहृदय बनने, दूसरों के जीवन में शिक्षा की रोशनी फैलाने की प्रेरणा मिलती है। वहीँ, सबसे ज़रूरी है हमारा दूसरों के लिए बर्ताव कैसे है।

प्रश्न 5: तातुश लेखिका को पढ़ने-लिखने के लिए इतना प्रोत्साहित क्यों करते थे?

उत्तर: तातुश को जिंदगी का अनुभव था। वे जानते थे कि शिक्षा से व्यक्ति का जीवन, रहन-सहन बदल जाता है तथा व्यक्ति अधिक सभ्य एवं समाजसेवी नागरिक बनता है। इसीलिए वे लेखिका को इतना पढ़ने-लिखने के लिए प्रोत्साहित करते थे।

प्रश्न 6: बेबी हालदार जब अपने पति से अलग होकर रहनी लगी, तब से अब तक उसने क्या-क्या सीखा?

उत्तर: जब बेबी हालदार अपने पति से अलग अपने बच्चों के साथ रह रही थी, उसकी आर्थिक और सामाजिक हालत बहुत ही ख़राब थी। वह अपने लिए काम ढूंढती, लेकिन निराश नहीं होती। उसने सीखा कि मेहनत से जीवन जीना है तो ठोकरे खानी पड़ती हैं। उसने यह भी सीखा कि बस काम के लिए लोग आपको पूछते हैं। सुनील के सहारे वो तातुश नाम के व्यक्ति से मिलती है और उसकी जिंदगी बदल जाती है।

Check it: तुलसीदास की बेहतरीन कविताएं और चर्चित रचनाएं

आज आपने जाना Aalo Aandhari पाठ को इस ब्लॉग के माध्यम की मदद से Aalo Aandhari सिर्फ एक कहानी नहीं है यह सच्चाई है जिंदगी की । हमें आशा है आप को यह ब्लॉग पसंद आया होगा, ऐसे ही प्रकार के और भी कई ब्लॉग हमारे Leverage Edu पर आपको मिलेंगे.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
आर्ट्स सब्जेक्ट
Read More

आर्ट्स सब्जेक्ट

दसवीं के बाद आप कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो आर्ट्स स्ट्रीम आप के लिए ही है। 11वीं…
Namak Ka Daroga
Read More

Namak Ka Daroga Class 11

यहाँ हम हिंदी कक्षा 11 “आरोह भाग- ” के पाठ-1 “Namak Ka Daroga Class″ कहानी के  के सार…