2022 में फ्रांस में पढ़ने के लिए आए 4 लाख अंतरराष्ट्रीय छात्र

1 minute read
38 views
2022 में फ्रांस में पढ़ने के लिए आए 4 लाख अंतरराष्ट्रीय छात्र

सितंबर के पहले सप्ताह में फ्रांस में ‘la rentreé’ मनाया जाता है। तब ही फ्रांस में नया अकादमिक वर्ष शुरू होता है। कैंपस फ्रांस ने यह खबर साझा की कि, फ़्रांसिसी विदेश मंत्रालय के नए आंकड़ों के अनुसार, अकादमिक वर्ष 2021/22 में फ्रांस में एनरोल्ड विदेशी छात्रों की संख्या में 8% की बढ़ोतरी हुई है।

अब, उच्च शिक्षा में अपरेंटिस सहित फ्रांस में अंतरराष्ट्रीय छात्रों की कुल संख्या 400,026 है, जो 2005 के बाद सबसे अधिक देखी गई है।

2018 की रणनीति में 2027 तक फ्रांस में आधे मिलियन (5 लाख) अंतरराष्ट्रीय छात्रों को आकर्षित करने का लक्ष्य है। इस अंतरराष्ट्रीय अभियान की शुरुआत 2019 में हुई थी।

कैंपस फ्रांस में हेड ऑफ स्टडीज़ ओलिवियर मारीचलर ने कहा कि महामारी के दौरान, फ्रांस ने अंतरराष्ट्रीय छात्रों के स्वागत करने वाले देश के रूप में खुद को दिखाया है।

यह वृद्धि विशेष रूप से पड़ोसी यूरोपीय देशों से फ्रांस आने वाले अंतरराष्ट्रीय छात्रों की संख्या में वृद्धि से प्रेरित है।

फ्रांस में मोरक्को के 46,371 छात्र 2021/2022 में पढ़ रहे हैं, जो अन्य देशों की तुलना में सबसे ज्यादा हैं।

पिछले एक साल में फ्रांस में पढ़ने वाले इटैलियन अंतरराष्ट्रीय छात्रों (कुल 19,185) की संख्या में 16% की वृद्धि हुई है। स्पेनिश छात्रों की संख्या 11,256 तक पहुंच गई है, जो पिछले साल से 25% और 2016 से 51% अधिक है। लेबनानी छात्रों (10,469) की संख्या में भी 30% की वृद्धि हुई है। अमेरिका ने 6,179 के साथ, 2021 से 50% की वृद्धि देखी, जबकि जर्मनी ने 8,186 छात्रों के साथ 17% की वृद्धि देखी।

हालाँकि, महामारी प्रतिबंधों के चलते, दो देशों से गतिशीलता कम बनी हुई है। चीन में 2% की कमी के साथ 27,479 छात्र और वियतनाम में पिछले वर्ष की तुलना में 4% की कमी के साथ 5,259 छात्र हैं। लेकिन मारीचलर को उम्मीद है कि ये संख्या आगे बढ़ेगी। .

मारीचलर ने आगे कहा कि हमने उदाहरण के लिए दोनों देशों में पिछले वर्ष की तुलना में आवेदन संख्या में इजाफा देखा है, वियतनाम के लिए + 40% और चीन के लिए +12%, लेकिन इसके बावजूद आवेदनों का लेवल 2019 से कम रहा है।

आंकड़े यह भी दिखाते हैं कि, पिछले एक साल में, यूरोप, अमेरिका और MENA ऐसे क्षेत्र हैं जिन्होंने सबसे महत्वपूर्ण विकास किया है – जिसमें अमेरिका सबसे आगे है। विशेष रूप से, उत्तरी अमेरिका के छात्रों में 43% की वृद्धि हुई।

अमेरिका के बाद, यूरोप ने 13% की वृद्धि के साथ दूसरी सबसे बड़ी बढ़ोतरी दिखाई, जो अब महामारी से पहले की तुलना में 10% अधिक है। अधिक विशेष रूप से, गैर-यूरोपीय संघ के देशों में 25% की वृद्धि हुई है जबकि यूरोपीय संघ के देशों ने 9% की वृद्धि का अनुभव किया है।

MENA क्षेत्र से छात्र संख्या एक वर्ष में 10% और पिछले पांच वर्षों में 32% बढ़ी है। इस क्षेत्र में मध्य पूर्व में 17% की वृद्धि के साथ महत्वपूर्ण वृद्धि देखी गई।

सब-सहारा अफ्रीका में एक वर्ष में 5% की औसत से कम वृद्धि करने के बावजूद, अफ्रीकी छात्रों की संख्या में 40% की वृद्धि हुई है।

कैंपस फ्रांस के अनुसार, एशिया-प्रशांत देशों के छात्र महामारी से जुड़े मोबिलिटी रेस्ट्रिक्शन्स से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं और इसलिए एक वर्ष में केवल 1% की वृद्धि दर्ज की गई है। हालांकि, 2020-21 में 9% की गिरावट के बाद, यह छोटी वृद्धि हुई है।

इसी तरह की और नई न्यूज़ अपडेट्स के लिए फॉलो करें Leverage Edu

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*