भारत में राष्ट्रवाद Class 10

Rating:
4.2
(33)
भारत में राष्ट्रवाद

भारत में राष्ट्रवाद का उदय यूरोपियन राष्ट्रवाद के साथ हुआ हैं। राष्ट्रवाद एकता की भावना जो ऐतिहासिक, धार्मिक, संस्कृति पर आधारित होती है। इस भावना से जो प्रेरणा लेता है वो जरूर अपनी एक अलग पहचान बनाता है ।भारत में राष्ट्रवाद में हमें बहुत सारी बातों  के बारे में पता चलता है :जैसे: पहले विश्व युद्ध ,सत्याग्रह का विचार, रॉलट एक्ट, असहयोग आन्दोलन आदि। इसके साथ भारत में राष्ट्रवाद से बहुत सारी चीजें जुड़ी है। तो आइए जानते हैं भारत में राष्ट्रवाद Class 10 के बारे में Leverage Edu के साथ।  

 CheckOut: Revolt of 1857 (1857 की क्रांति)

भारत में राष्ट्रवाद की शुरुआत कैसे हुई

भारत में कई वर्षों से असंतोष चलते आ रहा था । प्राचीन काल से ही राष्ट्रवाद जीवित रहा है। अर्थ वेद में कहां है “वरुण राष्ट्र हो अविचल करें बृहस्पति राष्ट्र को स्थिर करें इंद्र राष्ट्र को शुरू करें अग्रिम देवराष्ट्र को निश्चित रूप से धारण करें” राष्ट्रवाद एकता की भावना जागृत करता है । भारत में राष्ट्रवाद की शुरुआत 19वीं शताब्दी से शुरू हुई थी। ब्रिटिश साम्राज्य की नीतियों और उनकी चुनौतियों से भारत में राष्ट्र के रूप में सोचना शुरू किया इसका आधारशीला ब्रिटिश शासन से हुई।

भारत में राष्ट्रवाद Class 10 का कारण

  • 1857 को भारत में राष्ट्रवाद Class 10 के उदय का मुख्य कारण माना जाता है। इसे सैनिक विद्रोह के नाम से भी जाना जाता है।
  • प्रेस और समाचार पत्र- भारत में राजा राममोहन ने राष्ट्र प्रेस की नींव रखी उन्होंने बंगाली भाषा में संवाद कौमुदी , फारसी मिरात-उल- अकबर जैसे लोगों की आवाज ‌बने।ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने साप्ताहिक पत्र सोम प्रकाश शुरू किया जिसने राष्ट्रवाद की भावना जागृत की इसके अलावा अमृत बाजार पत्रिका केसरी हिंदू मराठा आदि समाचार पत्रों में ब्रिटिश स्कूल की नीतियों की आलोचना करें और राष्ट्र वाद की भावना जागृत की।
  • पाश्चात्य शिक्षा और संस्कृति: अंग्रेजों ने भारतीयों को शिक्षित इसलिए नहीं किया क्योंकि वह नहीं चाहते थे कि उन में राष्ट्रीय भावना जागृत हो उनका उद्देश्य ब्रिटिश प्रशासन में क्लर्क की नियुक्ति करना था उन्होंने अंग्रेजी शिक्षा का प्रचार अपने लाभ की पूर्ति के लिए किया अंग्रेज अंग्रेजी राजनीतिक बायरन खुद ब्रिटिश की गलत नीतियों से जूझ रहे थे ।1833 अंग्रेजी को शिक्षा का माध्यम बनाया गया जिसमें संबंध, पाश्चात्य साहित्य विज्ञान की प्राप्ति हुई और राष्ट्रवाद की भावना जागृत करने में पाश्चात्य शिक्षा और संस्कृति ने इस प्रकार बड़ी भूमिका निभाई।
  • आर्थिक नीतियां- ब्रिटिश का पैसा इंग्लैंड के लिए जाने लगा ईडी वाचा के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था इस तरह से चरमरा गई थी कि चार करोड़ भारतीय दिन में एक बार का खाना खाकर संतुष्ट होते थे। दादा भाई नौरोजी ने धन निष्कासन किस सिद्धांत को समझा कर लोगों को अंग्रेजी हुकूमत के द्वारा शोषण के बारे में जागृत किया।
  • इल्बर्ट बिल- 1883 इसके अनुसार अंग्रेजों के ऊपर मुकदमे की सुनवाई का अधिकार भारतीयों से छीन लिया गया था इसमें हो रहे भेदभाव में भारतीयों में राष्ट्रवाद की भावना जागृत की।
  • इस सरकार की गलत नीतियां- लॉर्ड रिपिन ने अपने शासनकाल में अंग्रेजी शासन के प्रति असंतोष की लहर पैदा हो गई। 1887 में दिल्ली दरबार उस समय किया गया जब दक्षिण भारत में अकाल, भुखमरी से लड़ रहा था।

युद्ध का कारण

1919  में राष्ट्र संघ स्थापित की गईं जिसका उद्देश्य विश्व भर में शांति स्थापित करना था यह संगठन सभी देशों को अपना सदस्य बनाना चाहता था जिससे उनके बीच चल रहें विवाद सुलझ जाए लेकिन ऐसा करने में असफल रहा क्योंकि सभी देश में शामिल नहीं होना चाहते थे इसके अलावा इटली  और जापान के मंचूरियन क्षेत्र पर आक्रमण जैसे अन्य आक्रमण को रोकने के लिए अपनी सेना नहीं थी। इस युद्ध का कारण ऑस्ट्रिया के राजकुमार फर्डिंनेंड की हत्या हुई था जिसके बाद साइबेरिया के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी जिस समय यह युद्ध शुरू हुआ उस समय भारत अंग्रेजी शासन के अधीन था भारतीय सैनिक पूरे विश्व में अलग-अलग जगह लड़ाई लड़ रहे थे। साथी इस विश्व युद्ध के खत्म होने के बाद भारत में अंग्रेजी शासन के प्रति असंतोष थी साफ दिखाई देने लगी थी जिस कारण असहयोग आंदोलन सत्याग्रह अनेकों आंदोलन के बारे में आप नीचे पढ़ेंगे।

CheckOut: Revolt of 1857 (1857 की क्रांति)

पहला विश्व युद्ध (1919)

भारत ने कभी पहले विश्वयुद्ध में कभी आतंरिक रूप से भाग नहीं लिया था। भारत को विश्वयुद्ध के समय अलग -अलग समस्याओं का सामना करना पड़ा था।इसमें एक अलग तरह की राजनीतिक और आर्थिक समस्या पैदा हो गई थी। अग्रेजो के रक्षा बजट को बढानें के लिए युद्ध के दौरान टैक्स बढाए गए । इनकम टैक्स और कस्टम ड्यूटी को बढ़ाया गया ताकि राजस्व इकट्ठा किया गया। 1913 से 1918 के बीच लोगो को सेना में जबरन भर्ती किया गया । 1918-1920 बहुत साड़ी फसल ख़राब हो गयी थी। 1921 की जनगरण के अनुसार महामारी के कारण 120लाख -130लाख  लोग मारे गए थे।

सत्याग्रह पर विचार 

  • महात्मा गाँधी 1915 में भारत वापस लौटे उनके रूप में भारत को एक नया नेता मिला। 
  • गांधीजी ने जनांदोलन का एक अनोखा तरीका अपनाया था जिसे सत्याग्रह से जाना जाता है ।गांधीजी का मानना था की अपनी लड़ाई अहिंसा से भी जीती जा सकती है।
  • गांधी जी ने बिहार के चंपारण जिले में (1916), गुजरात के खेड़ा में (1917), अहमदाबाद के मिल मजदूरों के लिए आन्दोलन (1919)।

रॉलट एक्ट(1919)

  • इस अधिनयम से सरकार को राजनीतिक गतिविधियों पर लगाम और राजनीतिक कैदियो को बिना मुकदमें चलाये बंद करने का आदेश था।
  •  रॉलट एक्ट के खिलाफ महात्मा गाँधी ने 6अप्रैल को  एक आन्दोलन की शुरुआत की गांधीजी ने हडताल का आवाहन किया विभिन्न शहरोँ में इसे समर्थन मिला 
  • दुकाने बंद कर दी लाखो मजदूर हडताल पर चले गए 
  • इस आन्दोलन के खिलाफ खड़ा उठाने का निर्णय लिया , कई नेताओं को बंधी बना लिया गया और महत्मा गाँधी को दिल्ली आने से रोका गया।

जालियाँवाला बाग हत्याकांड (1919)

  • 13 अप्रैल 1919 को जालियाँवाला बाग मैदान में काफी संख्या में लोग एकत्रित हुए थे ।
  • जनरल डायर सैनिको के साथ वहां पहुचें और बाहर निकले के रास्ते बंद कर दिए , इसके बाद लगतार गोलियां चलाई गईं 
  • खबर आग की तरह फेल गयी और लोगो पुलिस से मोर्चा लेने सरकारी इमारतो पर हमला करने लगे ।

खिलाफत आन्दोलन (1919)

  • खिलाफत आन्दोलन के जरिए महत्मा गाँधी हिन्दू और मुसलमानों को एक साथ सके 
  • खिलाफत आन्दोलन का नेत्रित्व शौकत अली और मोहम्मद अली ने किया 
  • खिलाफत के समर्थन  में गांधीजी ने स्वराज के लिए असहयोग आन्दोलन शुरू करने के लये राज़ी हो गए 
  • खिलाफत के समर्थन में बॉम्बे में एक खिलाफत कमिटी बने गई  

असहयोग आन्दोलन 

  • 1909 स्वराज पुस्तक में लिखा भारत में अग्रेजी राज इसलिए स्थापित हो पाया क्योंकि भारत के लोगो ने उनका  साथ दिया।
  •  गांधीजी का मानना था की अगर भारतीय अग्रेजो का सहयोग करना बंद कर दे तो उनके पास भारत छोडने के अलावा कोई रास्ता नही रहेगा।
    असहयोग आन्दोलन के कुछ प्रस्ताव :
  • अग्रेजो सरकार द्वारा दी गयो सारी उपाधियो को वापस करना।
  • सिविल सर्विस , सेना पुलिस , कोर्ट , लेजिस्लेटिव काउन्सिल का बहिस्कार करना।
  • विदेशी समानों का बहिस्कार किया गया , विदेशी कपड़ो की होली जलाई गाई ।
  • आदिवासियो का आन्दोलन हिंसक हो गया 
  • विद्रोहियों ने पुलिस स्टेशन पर हमला किया , 1924 को राजू को पकड़ लिया और उन्हें फ़ासी दे दी गई ।
  • बगान में काम कर रहे श्रमिको के लिए चारदीवारी से बाहर आना आज़ादी था ।
  • 1859 अंतर्देशीय उत्प्रवास अधिनियमजिसमे बगान में काम करने वाले श्रमिको  का बाहर जाना मना था ।

सवनिय अवज्ञा की ओर 

  • फ़रवरी 1921में गांधीजी ने असहयोग आन्दोलन वापस लेने की घोषणा की थी 
  • सी आर दास और जवाहरलाल नेहरु ने स्वराज पार्टी का गठन किया किया था 
  • 1920 के बाद राजनीति को दिशा देने के कारण  
  • आर्थिक मंदी – 1930 के बाद कृषि उत्पादों की मांग में गिरावट आई जिससे उसकी कीमत में भी गिरावट दर्ज की गयी 

साइमन कमीशन

यह आयोग 1928 में भारत आया, कांग्रेस ने इस आयोग का विरोध किया क्योंकि इसमें एक भी भारतीय शामिल नही था
जवाहरलाल नेहरु की के नेत्रित्व में दिसम्बर 1929 में लाहौर में कांग्रेस ने पिरन स्वराज की मांग की।

नमक और सविनय अवज्ञा आन्दोलन

31जनवरी 1930 को गांधी जी ने  लार्ड इरविन को ख़त लिखा और अपनी 11मांगो का ज़िक्र किया गाँधी  जी ने इन मांगो के चलते अपने आपको समाज से जोड़ने की कोशिश की थो क्योंकि इसमें किसानो से लेकर करके उद्योगपति का ज़िक्र था । उन्होंने लिखा था की अगर 11मार्च तक उनकी मांगे नही मानी गयी तो सविनय अवज्ञा आन्दोलन छोड़ देगे ,इरविन ने बातो को मानने  से मना कर दिया और इसके फलस्वरूप उन्होंने अपने 78 वालंटियर के साथ नमक यात्रा शुरू कर दी ये साबरमती आश्रम से 240किलोमीटर दूर जाकर खत्म हुई । 24 दिनों तक हर रोज़ 10किलोमीटर की पद यात्रा करते थे , 6अप्रैल को नमक का पानी उबाल कर उससे नमक बनाया जो कानून का उल्लंघन था 

यही से सविनय अवज्ञा आन्दोलन की नीव पड़ी इस बार लोगो ने न सिर्फ अंग्रेजो का समर्थन न करना बल्कि औपनिवेशिक कानूनों का उल्लंघन किया इस आन्दोलन को कुचलने के लिए क्रूरता का सहारा लिया गया और गांधीजी और नेहरु को गिरफ्तार कर लिया गया , गाँधी जी ने आन्दोलन वापस ले लिया । 5 मार्च 1931 को आन्दोलन वापस ले लिया।वो गोल मेज सम्मलेन में भाग लेने के लिए लन्दन गए बातचीत बीच में ही टूट गयी और उन्हें वापस आना पड़ा। कांग्रेस को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया 1934 तक आते आते आन्दोलन की गति मंद पड़ने लगी ।

लोगो ने कैसे आन्दोलन को देखा  

गुजरात के पाटीदार और राजस्थान के जाटो ने इसमें सक्रीय भूमिक निभाई थी सपन्न किसानों ने सविनय अवज्ञा आन्दोलन का जमकर समर्थन किया , लेकिन 1931 में बिना फसलो के दाम बिना कम हुए इस आन्दोलन को वापस ले लिया गरीब किसान केवल लगान वापस नही चाहते थे।अमीर किसान की नाराजगी के भय से कांग्रेस ने “भाड़ा फोड़ “ आन्दोलन में भाग नही लिया ।
प्रथम विश्व युद्ध के बाद व्यापारियों ने भारी काफी मुनाफा कमाया था उग्रवादियों के हमले की आशंका और युवा कांग्रेस के बीच समाजवाद ने उन्हें आन्दोलन में शामिल नही होने दिया ।महिलाओं ने भी इसमें जमकर भाग लिया, नमक बनाया , शराब की दुकानों के बाहर धरना प्रदर्शन किया।

सविनय अवज्ञा आन्दोलन की सीमाए

दलितों ने इस सक्रीय आन्दोलन में भाग नही लिया 1930 के बाद अछूतों का एक वर्ग अपने आपको को दलित या उत्पीड़ित कहने लगा। डॉक्टर आंबेडकर ने 1930 में दमित वर्ग एसोसिएशन का निर्माण किया 1932 में आंबेडकर और गांधीजी ने पूना पैक्ट पर हस्ताक्षर किए। मुसलमानों के बीच इसको लेकर खास उत्साह नही था मुस्लिम लीग के नेता आरक्षित सीट चाहते थे.

Check Out:  Indian Freedom Fighters (महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी)

भारत में राष्ट्रवाद Class 10 NCERT पाठ -3 के महत्वपूर्ण प्रश्न-उत्तर

प्रश्न 1-उपनिवेशों में राष्ट्रवाद के उदय की प्रक्रिया उपनिवेशवाद विरोधी आंदोलन से जुड़ी हुई क्यों थी ?

उत्तर – दमन और दुर्व्यहवार के चलते भिन्न समहू एक दूसरे से बंध गए थे औपनिवेशिक के खिलाफ लड़ते लड़ते एकता की भावना समझ आने लगी खुद को विदेशी ताकत से आज़ाद कराने के लिए स्वतंत्रता संग्राम में जनता हिस्सा लेने लगी। हर वर्ग के लिए स्वंत्रता संग्राम के मायने अलग थे और उनसे उम्मीद भी अलग थी इस तरह उपनिवेशों में राष्ट्रवाद के उदय की प्रक्रिया उपनिवेशवाद विरोधी आंदोलन से जुड़ी हुई थी।

प्रश्न 2- पहले विश्वयुद्ध में भारत में राष्ट्र आंदोलन के विकास मैं किस प्रकार योगदान दिया?

उत्तर- विश्वयुद्ध में एक नई आर्थिक और राजनीतिक स्थिति पैदा हों गई थी इसी कारण रक्षा खर्ज में भारी इज़ाफा हुआ खर्चे की भरपाई के लिए दाम तेज़ी से बड़े और दाम दोगुने हों चुके थे जिस वजह से हालत बहुत खराब हों गई सिपाहियों को जबरन भर्ती कराई गई 1918 1921 तक फसल खराब होने लगी 1921 जनगणना के मुताबिक महामारी के कारण 120 130 लाख लोग मारे गए।

प्रश्न3 – भारत में लोग रॉयल एक्ट के विरोध में क्यों थे?

उत्तर- सरकार को डर सता रहा था की कोई आंदोलन अवश्य होगा। इस एक्ट के अनुसार सरकार किसी भी व्यक्ति को बिना केस चलाए अनिश्चित समय के लिए बंद कर सकती थी। उसे अपील, दलील या वकील करने का अधिकार नहीं था भारतीय ने इस काले बिल के नाम से संबोधित किया ये राष्ट्र सम्मान पर धब्बा था ।

प्रश्न4-  गांधी जी ने अहसयोग आंदोलन को वापस क्यों लिया?

उत्तर- अहसयोग आंदोलन अपने पूरे चरम पर था। जब महात्मा गांधी ने 1922 में इसे वापस ले लिया।इस आंदोलन को वापस लेने के दो मुख्य कारण थे-
1. महात्मा गांधी अहिंसा और शांति के समर्थ के थे जब उन्हें पता चला की चोरा चोरी के पुलिस थाने में आग लगा कर 22 पुलिस वालों को हत्या कर दी तो वो परेशान हो गए।
2. उन्होंने सोचा यदि आंदोलन हिंसक हों जाए तो अंग्रेज सरकार और उग्र हों जाएगी और बहुत निर्दोष लोग मारे जाएंगे। इसलिए महात्मा गांधी ने अहसयोग आंदोलन वापस ले लिया।

प्रश्न5- सत्याग्रह के विचार का क्या मतलब है?

उत्तर- सत्याग्रह सच्चाई निशा रोकने का ढंग है दक्षिण अफ्रीका में नस्लभेद से सफलतापूर्वक लोहा लिया बाद में यह पद्धति उन्होंने ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध अपनाएं अगर आप का उद्देश्य सच्चा और न्याय पूर्ण है तो अंत में सफलता अवश्य मिलेगी। बाद में उन्होंने इसी सिद्धांत का प्रयोग अनेक स्थानों पर किया 1916 में चंपारण इलाके में बागान मालिकों के विरुद्ध किसानों को बचाने में 1917 में गुजरात के खेड़ा जिले के किसानों की फसल खराब हो जाने के कारण सरकारी कर से बचाने के लिए 1918 में गुजरात के अहमदाबाद के सूती कपड़ा मिल के मजदूरों को उचित वेतन दिलाने में किया लेकिन उन्हें अंत में सफलता जरूर प्राप्त हुई।

प्रश्न6- जलियांवाला बाग हत्याकांड पर टिप्पणी लिखें?

उत्तर- रोलेट एक्ट के विरोध में महात्मा गांधी और सत्य पाल किचलू को गिरफ्तार किया गया इस गिरफ्तारी का विरोध करने के लिए 1913 को वैशाखी पर्व के दिन जलियांवाला बाग में जनसभा का आयोजन किया गया। अमृतसर के प्रशासक जनरल डायर ने इस सभा में कुछ सिपाहियों के साथ अवैध तरीके से घुसपैठ की और उन्होंने वहां गोलियां चलवाई थी। इसमें सैकड़ों लोगों की मौत हो गई इस हत्याकांड पर रिपोर्ट मांगने के लिए ब्रिटिश सरकार में हंटर कमीशन की स्थापना की और इस आयोग की रिपोर्ट के बाद जनरल डायर को सम्मान दिया गया जिससे महात्मा गांधी और सहयोगी हो गए थे और उन्हें सहयोग आंदोलन की शुरुआत करी ।

प्रश्न7- साइमन कमीशन पर टिप्पणी लिखें।

उत्तर- 1919 एक्ट के तहत यह निर्णय लिया गया था कि प्रत्येक 10 साल बाद सुधारों का मूल्यांकन किया जाएगा इसी के लिए इंग्लैंड ने भारत में कमीशन भेजा जिसका नाम साइमन कमीशन था 1928 में जॉन साइमन की अध्यक्षता में एक आयोग भारत आया इस कमीशन का उद्देश भारतीयों के हितों का देखभाल करना था जबकि इसमें एक भी भारतीय नहीं था इसलिए भारतीय ने इस मिशन का बहिष्कार किया और साइमन गो बैक के नारे लगाए जब आयोग लाहौर पहुंचा तो लाला लाजपत राय  प्रदर्शन कर रहे थे पुलिस के लाठीचार्ज में  लाला लाजपत राय घायल हो गए और उनकी मृत्यु हो गई।

प्रश्न 8 भारत माता की छवि और जर्मनिया की छवि की तुलना करें।

उत्तर- फ्लिप बैक ने अपने राष्ट्र को जर्मी नियम के रूप में प्रस्तुत किया है मैं बल तू वृक्ष क्या मुकुट पहने हुए दिखाई गई है क्योंकि वह जर्मन बलवंता का प्रतीक है भारत में भी अभी नींद रा नाथ टैगोर ने भारत को भारत माता का रूप में दिखाया है एक चित्र में उन्होंने माता को भोजन कपड़े देती हुई दिखाया है एक और चित्र में माता शेर और हाथी के बीच खड़ी है और उसके हाथ में त्रिशूल दिखाया गया।

प्रश्न9 1920 असहयोग आंदोलन के बारे में आप क्या जानते हैं?

उत्तर असहयोग आंदोलन 1920 में शुरू हुआ और 1922 में समाप्त हो गया इसके कुछ प्रभावअग्रेजो सरकार द्वारा दी गयो सारी उपाधियो को वापस करना।सिविल सर्विस , सेना पुलिस , कोर्ट, ,लेजिस्लेटिव काउन्सिल का बहिस्कार करना।विदेशी समानों का बहिस्कार किया गया ,विदेशी कपड़ो की होली जलाई गाई ।

प्रश्न 10 राजनीतिक नेता प्रतिक निर्वाचक ओं के सवाल पर क्यों बटे हुए थे हुए?

उत्तर अलग-अलग नेता अपने आप को संगठित करने में लगे हुए थे ।उन्होंने निर्वाचन क्षेत्र की बात करें ताकि वहां से विधायक बन सके उनका मानना था कि केवल राजनीतिक शक्तिकरण से ही दूरी हो सकती है 1930 में दलित के दलित वर्ग एसोसिएशन का संगठन डॉक्टर अंबेडकर द्वारा किया गया अलग निर्वाचन क्षेत्र की मांग पर गोल में सम्मेलन में उनके और महात्मा गांधीजी के बीच काफी बहस हुई आखिरकार अंबेडकर ने महात्मा गांधी जी की राय मानी ली।

   Check Out: Importance of Books

भारत में राष्ट्रवाद Class 10 MCQ

1. भारत में राष्ट्र कांग्रेस की स्थापना कब हुई थी?
 1884
1882
1885
1886

उत्तर-(3) 1885

2. गांधी जी ने किस वर्ष बिहार में चंपारण आंदोलन शुरू किया?
1917
1916
1930
1915

उत्तर- (2) 1916

3. महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका कब गए थे?
1915
1911
1909
1913

उत्तर-(1) 1915

4. गांधी इरविन समझौता कब हुआ था?
10 मार्च 1931
5 मार्च 1931
7 मार्च 1931
8 मार्च 1931

उत्तर-(2) 5 मार्च 1931

5.असहयोग आंदोलनआंदोलन के दौरान अवध में किसानों का नेतृत्व किसने किया था?
बाबा रामचंद्र
सुभाष चंद्र बोस
महात्मा गांधी
शौकत अली

उत्तर-(1) बाबा रामचंद्र

6. असहयोग आंदोलन किस वर्ष शुरू हुआ था?
14 अप्रैल 1919
13 अप्रैल 1919
15 अप्रैल 1919
12 अप्रैल 1919

उत्तर (2) 13 अप्रैल 1919

Check out : DRDO Kya Hai

आशा करते हैं कि आपको भारत में राष्ट्रवाद Class 10 का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी भारत में राष्ट्रवाद Class 10  पाठ का लाभ उठा सकें और उसकी जानकारी प्राप्त कर सके ।हमारे  Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी प्रकार के सवाल में दिक्कत हो रही हो तो हमारी विशेषज्ञ आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

satta ki sajhedari class 10
Read More

Satta Ki Sajhedari Class 10

बेल्जियम में देश की कुल आबादी का 59 प्रतिशत हिस्सा फ्लेमिश इलाके में रहता है और डच बोलता…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…