संघवाद क्या है?

Rating:
4.3
(15)
Sangvad

Sangvad (संघवाद) का अर्थ वैसे तो बड़ा सादा और स्पष्ट है मगर इसे हर जगह जोड़-तोड़ के पेश किया जाता रहा है। संघवाद में 2 स्तर हैं, एक है केंद्रीय और दूसरा राज्य स्तर। केंद्र का किरदार संघवाद भले ही राज्यीय या स्थानीय स्तर से ज़रूर बड़ा है लेकिन यह इन दोनों स्तर पर हावी नहीं होता है। भारत की तरह ही बेल्जियम में भी संघवाद हमारी तरह ही चलता है। आप इस ब्लॉग में संघवाद के बारे में विस्तार से जानिए – Sangvad  

संघवाद क्या है?  Sangvad 

  • संघवाद (Federalism) लैटिन शब्द ‘Foedus’ है जिसका अर्थ है एक प्रकार का समझौता या अनुबंध। 
  • महासंघ दो तरह की सरकारों के बीच सत्ता साझा करने और उनके संबंधित क्षेत्रों को नियंत्रित करने हेतु एक समझौता है।
  • संघवाद सरकार का वह रूप है जिसमें देश के भीतर सरकार के कम-से-कम दो स्तर मौजूद हैं- पहला केंद्रीय स्तर पर और दूसरा स्थानीय या राज्यीय स्तर पर।
  • भारत की स्थिति में संघवाद को स्थानीय, केंद्रीय और राज्य सरकारों के मध्य अधिकारों के वितरण के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

Check Out: अच्छे विद्यार्थी के 10 गुण

सहकारी बनाम प्रतिस्पर्द्धी संघवाद – Sangvad

केंद्र और राज्य सरकार के बीच संबंधों के आधार पर संघवाद की अवधारणा को दो भागों में विभाजित किया गया है।

सहकारी संघवाद

सहकारी संघवाद में केंद्र व राज्य एक-दूसरे के साथ क्षैतिज संबंध स्थापित करते हुए एक-दूसरे के सहयोग से अपनी समस्याओं को हल करने का प्रयास करते हैं। इसमें केंद्र और राज्य में से कोई भी किसी से श्रेष्ठ नहीं है।

  • जानकारों के मुताबिक यह राष्ट्रीय नीतियों के निर्माण और अमल में राज्यों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए एक महत्त्वपूर्ण उपकरण है।
  • संघ और राज्य संवैधानिक रूप से संविधान की 7वीं अनुसूची में निर्दिष्ट मामलों पर एक-दूसरे के साथ सहयोग करने हेतु बाध्य हैं।

Check Out: Personality Development Tips in Hindi

प्रतिस्पर्द्धी संघवाद

प्रतिस्पर्द्धी संघवाद में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के मध्य संबंध वर्टीकल (लंबवत) होते हैं जबकि राज्य सरकारों के मध्य संबंध हॉरिजॉन्टल (क्षैतिज) होते हैं।

  • प्रतिस्पर्द्धी संघवाद की अवधारणा को देश में 1990 के दशक के आर्थिक सुधारों के बाद से महत्त्व प्राप्त हुआ।
  • प्रतिस्पर्द्धी संघवाद में राज्यों को आपस में और केंद्र के साथ लाभ के उद्देश्य से प्रतिस्पर्द्धा करनी होती है।
  • सभी राज्य धन और निवेश को आकर्षित करने के लिए एक-दूसरे के साथ प्रतिस्पर्द्धा करते हैं, जिससे विकास संबंधी गतिविधियों को बढ़ावा दिया जा सके है।
  • उल्लेखनीय है कि प्रतिस्पर्द्धी संघवाद भारतीय संविधान की मूल संरचना का हिस्सा नहीं है।

Check Out: 100 Motivational Quotes in Hindi

संवैधानिक प्रावधान- केंद्र और राज्य संबंध

केंद्र और राज्यों के बीच संबंधों का उल्लेख संविधान के भाग XI और XII में विधायी, प्रशासनिक तथा वित्तीय संबंधों के तहत किया गया है। Sangvad को यहाँ आप बारीकी से जानेंगे – 

विधायी संबंध

  1. केंद्र अथवा राज्य द्वारा किसी विषय पर कानून बनाने की शक्ति को विधायी शक्ति कहा जाता है।
  2. भारत में ऐसी प्रणाली का पालन होता है जिसमें विधायी शक्तियों का वर्णन करने वाली दो प्रकार की विषय सूची होती है, जिन्हें क्रमशः संघ सूची और राज्य सूची के रूप में जाना जाता है और एक समवर्ती सूची भी होती है।
  • संघ सूची में राष्ट्रीय हित के 100 विषय शामिल हैं और यह तीनों सूचियों में सबसे बड़ी है। इस सूची से संबंधित विषयों पर कानून बनाने का अधिकार केंद्र के पास है। 
  • राज्य सूची में राज्यों के मध्य व्यापार, पुलिस, मत्स्य पालन, वन, स्थानीय सरकारें, थिएटर, उद्योग आदि 61 विषय शामिल हैं और राज्यों के पास इन विषयों पर कानून बनाने की शक्ति है।
  • समवर्ती सूची में स्टाम्प ड्यूटी, ड्रग्स एवं ज़हर, बिजली, समाचार पत्र, आपराधिक कानून, श्रम कल्याण जैसे कुल 52 विषय शामिल हैं। 

Check Out: jane bodhdh dharam ka etihaas

प्रशासनिक संबंध

  1. संविधान के अनुच्छेद 256-263 तक केंद्र तथा राज्यों के प्रशासनिक संबंधों की चर्चा की गई है।
  2. सामान्य रूप में संघ तथा राज्यों के बीच शक्तियों का विभाजन किया गया है, परंतु प्रशासनिक शक्तियों के विभाजन में संघीय सरकार अधिक शक्तिशाली है।
  3. केंद्र को यह अधिकार दिया गया है कि वह आवश्यकतानुसार कभी भी राज्यों को निर्देश दे सकता है। इसके अलावा संसद को यह अधिकार है कि वह अंतर-राज्यीय नदी विवादों पर फैसला कर सकती है।
  4. भारतीय संविधान ने प्रशासनिक व्यवस्था में एकरूपता सुनिश्चित करने का भी प्रावधान किया है। इसमें आईएएस और आईपीए जैसी अखिल भारतीय सेवाओं का निर्माण और उन्हें राज्य के प्रमुख पद आवंटित करने संबंधी प्रावधान शामिल हैं।
  5. अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों की भर्ती तो केंद्र सरकार द्वारा की जाती है, परंतु उनकी नियुक्ति राज्यों में होती है।

वित्तीय संबंध

  1. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 268-293 तक केंद्र एवं राज्यों के मध्य वित्तीय संबंधों की व्याख्या की गई है। साथ ही संघ एवं राज्यों के मध्य वित्तीय संसाधनों का विभाजन किया गया है, जो कि भारत शासन अधिनियम, 1935 पर आधारित हैं।
  2. संविधान, द्वारा केंद्र और राज्य सरकारों को राजस्व का स्वतंत्र स्रोत प्रदान किया गया है।
  • संविधान के अनुसार, संसद के पास संघ सूची में शामिल विषयों पर कर लगाने की शक्ति है।
  • राज्य विधायिकाओं के पास राज्य सूची में शामिल विषयों पर कर लगाने की शक्ति है।
  • संसद के पास अवशिष्ट विषयों से संबंधित मामलों पर भी कर लगाने का अधिकार है।

सीबीएसई कक्षा 9 गणित पाठ्यक्रम

भारत के लिये संघवाद का महत्त्व   Sangvad

भारत के लिए संघवाद ज़रूरी है जिससे कार्यप्रणाली सही ढंग से काम करे। संघवाद में भले ही केंद्र को ज्यादा महत्व है, लेकिन यह सिर्फ केंद्र तक ही सीमित नहीं है। Sangvad केंद्रीय सरकार से होकर अलग स्तर पर जाता है – 

  1. भारतीय प्रशासन में शक्ति केंद्र से स्थानीय निकायों यानी पंचायत तक प्रवाहित होती है, इसी कारण देश में विकेंद्रीकरण आवश्यक है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि केंद्र सभी शक्तियों का अधिग्रहण न करे।
  2. यह प्रणाली कार्य के बोझ तले दबे प्रशासन की काफी मदद करती है।
  3. भारत में विभिन्न नस्लों और धर्मों के लोग मौजूद हैं। सरकार ने एक धर्मनिरपेक्ष विचार को अपनाया जो 42वें संशोधन अधिनियम, 1976 के माध्यम से प्रस्तावना में जोड़ा गया।

भारत में संघवाद के समक्ष चुनौतियाँ

भारत में Sangvad के समक्ष चुनौतियां तो हैं, लेकिन यह भी ज़रूरी है कि चुनौतियां बनी रहें जिससे संघवाद के अस्तित्व पर सवाल न आएं।

  1. भारत में संघवाद के सामने क्षेत्रवाद सबसे बड़ी चुनौती है। विशेषज्ञों के अनुसार संघवाद सबसे अधिक लोकतंत्र में ही कामयाब रहता है, क्योंकि यह केंद्र और राज्यों के बीच शक्तियों के केंद्रीकरण को कम करता है।
  2. संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के विपरीत भारत में शक्तियों का वितरण संविधान की सातवीं अनुसूची में वर्णित तीन सूचियों के तहत किया जाता है।
  • इसके अलावा समवर्ती सूची में वह विषय शामिल हैं जिनमें केंद्र व राज्य दोनों की ही भागीदारी की आवश्यकता होती है। विवाद में केंद्र को प्रमुख माना जाएगा।
  • इस प्रकार शक्तियों के बँटवारे के कई अन्य प्रावधान भी हैं जिनमें केंद्र को वरीयता दी गई है, जो कि राज्यों के मध्य केंद्रीकरण का भय उत्पन्न करता है।
  1. एक सामान्य महासंघ में संविधान में संशोधन की शक्ति महासंघ और इसकी इकाइयों के बीच साझा आधार पर विभाजित होती है।
  2. भारत में प्रत्येक राज्य के लिए राज्यपाल का कार्यालय एक संवेदनशील मुद्दा रहा है, क्योंकि यह कभी-कभी भारतीय संघ के संघीय चरित्र के लिये खतरा बन जाता है।
  3. अरुणाचल प्रदेश में जनवरी 2016 में राष्ट्रपति शासन लागू करने (जबकि राज्य में एक निर्वाचित सरकार थी) को भारत के संवैधानिक इतिहास में एक विचित्र घटना माना जाता है।
  4. भारत में भाषाओं की विविधता से भी कभी-कभी संविधान की संघीय भावना को ठेस पहुँचती है। भारत में संवैधानिक रूप से स्वीकृत 22 भाषाएँ हैं। इसके अलावा देश में सैकड़ों भाषाएँ बोली जाती हैं।

Sangvad की विशेषताएं

आपके सामने हम Sangvad की विशेषताएं आपको बताएंगे जिससे आपको इसके बारे में अधिक जानने को मिलेगा। जानते हैं इसकी विशेषताएं।

लिखित संविधान

किसी भी संघ का सबसे प्रमुख लक्षण होता है कि उनके पास एक लिखित संविधान हो जिससे कि जरूरत पड़ने पर केंद्र तथा राज्य सरकार मार्ग दर्शन प्राप्त कर सकें। भारतीय संविधान (Indian Constitution) एक लिखित संविधान है और दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है।

कठोर संविधान

संघीय संविधान केवल लिखित ही नहीं है बल्कि कठोर भी होता है। संविधान में महत्वपूर्ण संशोधनों के लिए संसद की सहमति के साथ-साथ कम से कम आधे राज्यों के विधान मण्डलों (Legislatures) की अनुमति भी आवश्यक हैं।

शक्तियों का विभाजन

हमारे संविधान में विधायी शक्तियों को तीन लिस्ट में बांटा गया है

  • संघसूची (Union List)
  • राज्य सूची (State Unit)
  • समवर्ती सूची (Concurrent List)
  • संघ सूची में 97 राष्ट्रीय महत्व (National Importance) के विषयों का उल्लेख है जिसमें रक्षा, रेल्वे, डाक एवं तार आदि विषय आते है। 
  • राज्य सूची में 66 स्थानीय महत्व (Local Importance) के विषय जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, पुलिस आदि आते है। 
  • समवर्ती सूची में केंद्र तथा राज्य दोनों से संबंधित 47 महत्वपूर्ण विषय जैसे बिजली, मजदूर संगठन खाद्य पदार्थों में मिलावट आदि आते है।

द्वैध शासन (Diarchy) प्रणाली

इसमें दो सरकारें होती है एक राष्ट्रीय सरकार और दूसरे उन राज्यों की सरकारें जिनके मिलने से संघ का निर्माण हुआ हो। दो तरह के विधानमण्डल (Legislature) है आरै दो प्रकार के प्रशासन पाए जाते है।

संविधान की सर्वोच्चता

भारत में केंद्र और राज्य सरकारों की सर्वोच्चता (Power) नहीं है। संविधान ही सबसे सर्वोच्च है। क्योंकि केंद्र व राज्य दोनों को संविधान द्वारा ही शक्तियां प्राप्त होती है।

सुप्रीम कोर्ट की विशेष स्थिति 

संघ के लक्षणों में एक महत्वपूर्ण लक्षण है कि उसके पास एक स्वतंत्र न्यायपालिका (Independent Judiciary) हो जो संविधान की व्यवस्था करें। केंद्र तथा राज्य के बीच हुए विवादों को सुलझाना सुप्रीम कोर्ट का मूल क्षेत्राधिकार हैं। यदि केंद्र अथवा राज्य सरकार द्वारा पारित कोई कानून संविधान के किसी प्रावधान (Provision) का उल्लंघन करता है तो सुप्रीम कोर्ट उसे असंवैधानिक (Unconstitutional) घोषित कर सकता है।

सीबीएसई कक्षा 9 अंग्रेजी पाठ्यक्रम

एनसीईआरटी के सवाल : Sangvad कक्षा 10 के प्रशनोत्तर

प्रश्न 1: भारत की संघीय व्यवस्था में बेल्जियम से मिलती जुलती एक विशेषता विशेषता को बताएँ।

उत्तर: बेल्जियम से मिलती जुलती विशेषता: सबको जोड़कर संघ बनाना।

प्रश्न 2: शासन के संघीय और राज्यीय स्वरूपों में क्या-क्या मुख्य अंतर है? इसे उदाहरणों के माध्यम से स्पष्ट करें।

उत्तर: शासन के एकात्मक स्वरूप में केंद्र सरकार बहुत शक्तिशाली होती है और शासन के निचले स्तरों को सही मायने में शक्ति नहीं मिलती। इस तरह के उदाहरण कई तानाशाही शासनों और राजतंत्रों में देखे जा सकते हैं; जैसे लीबिया, सउदी अरब, आदि।

प्रश्न 3: संघीय सरकार की एक विशिष्टता है?

क. राष्ट्रीय सरकार अपने कुछ अधिकार प्रांतीय सरकारों को देती है।
ख. अधिकार विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के बीच बँट जाते हैं।
ग. निर्वाचित पदाधिकारी ही सरकार में सर्वोच्च ताकत का उपयोग करते हैं।
घ.  सरकार की शक्ति शासन के विभिन्न स्तरों के बीच बँट जाती है।
उत्तर:

प्रश्न 4: भारतीय संविधान की विभिन्न सूचियों में दर्ज कुछ विषय यहाँ दिए गये हैं। इन्हें नीचे दी गई तालिका में संघीय सूची, राज्य सूची और समवर्ती सूची वाले समूहों में लिखें: रक्षा, पुलिस, कृषि, शिक्षा, बैंकिंग, वन, संचार, व्यापार, विवाह।

उत्तर: संघीय सूची   – रक्षा, बैंकिंग, संचार, विवाह
          राज्य सूची  – कृषि, पुलिस
          समवर्ती सूची – शिक्षा, वन, व्यापार

प्रश्न 5: नीचे भारत में शासन के विभिन्न स्तरों और उनके कानून बनाने के अधिकार क्षेत्र के जोड़े दिए गये हैं। इनमें से कौन सा जोड़ा सही मेल वाला नहीं है?

राज्य सरकार         –        राज्य सूची
केंद्र सरकार          –       संघीय सूची
केंद्र और राज्य सरकार  –   समवर्ती सूची
स्थानीय सरकार             –  अवशिष्ट अधिकार

उत्तर: स्थानीय सरकार → अवशिष्ट अधिकार

Sangvad – पूछे गए सवाल (FAQ’s)

प्रश्न 1: संघवाद को अंग्रेजी में क्या कहते हैं?

उत्तर:  Federalism

प्रश्न 2: सहकारी संघवाद के साथ आने वाले दूसरे संघवाद को क्या कहते हैं?

उत्तर: प्रतिस्पर्द्धी संघवाद

प्रश्न 3: विधायी शक्तियों का वर्णन करने वाली तीन विषय सूचियों के नाम बताएं?

उत्तर: संघ सूची, राज्य सूची व समवर्ती सूची

प्रश्न 4: संघ सूची में राष्ट्रीय हित के कितने विषय शामिल हैं?

उत्तर:  100 विषय

प्रश्न 5: भारत में संघवाद के सामने सबसे बड़ी चुनौती कौन सी है?

उत्तर: छेत्रवाद

प्रश्न 6: संघवाद क्या है Class 10?

उत्तर: उत्तर: शासन की वह व्यवस्था जिसमें किसी देश की अवयव इकाइयों और एक केंद्रीय शक्ति के बीच सत्ता की साझेदारी हो उसे संघवाद कहते हैं।

प्रश्न 7: भारत में संघवाद क्या है?

उत्तर: संघवाद सरकार का वह रूप है जिसमें शक्ति का विभाजन आंशिक रूप से केंद्र सरकार और राज्य सरकार अथवा क्षेत्रीय सरकारों के मध्य होता है।

प्रश्न 8: भारत में संघवाद का विकास कैसे हुआ?

उत्तर: भारत में स्वतंत्रता से पूर्व संघात्मक प्रणाली का विकास : भारतीय शासन अधिनियम 1919 के माध्यम से 50 विषयों पर कानून बनाने का अधिकार प्रान्तों को प्रदान किया था। भारत में भारत सरकार अधिनियम के 1935 के माध्यम से सबसे पहले संघवाद शब्द का प्रयोग किया गया।

प्रश्न 9: संघवाद का कौन सा लक्षण नहीं है 1?

उत्तर: प्रथम, राजनयिक शक्तियों का संघीय एवं राज्य सरकारों के मध्य संवैधानिक विभाजन, द्वितीय, संघीय संविधान की प्रभुसत्ता अर्थात् प्रथम तो न संघीय और न राज्य सरकारें संघ से पृथक् हो सकती हैं।

प्रश्न 10: संघवाद में कितने सरकारी होते हैं?

उत्तर: किसी भी संघीय व्यवस्था में सामान्य तौर पर सरकार के दो स्तर होते हैं। एक स्तर पर पूरे देश के लिये एक सरकार होती है और दूसरे स्तर पर राज्य की सरकारें होती हैं।

आशा करते हैं कि आपको हमारा Sangvad का यह ब्लॉग अच्छा लगा होगा। Sangvad ब्लॉग अपने दोस्त, जाननेवालों के साथ ज्यादा-ज्यादा शेयर करें जिससे उन्हें भी Sangvad के बारे में पता चल सके। यदि आप विदेश में पढ़ने को इच्छुक हैं, तो हमारी वेबसाइट Leverage Edu पर आज ही विजिट करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

satta ki sajhedari class 10
Read More

Satta Ki Sajhedari Class 10

बेल्जियम में देश की कुल आबादी का 59 प्रतिशत हिस्सा फ्लेमिश इलाके में रहता है और डच बोलता…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…