बीएससी नैनोसाइंस कैसे करें?

1 minute read
21 views
Freepik

बीएससी नैनोसाइंस नैनोफिजिक्स और इमेजिंग और मैनिपुलेटिंग नैनोस्ट्रक्चर जैसे अनुरूप मॉड्यूल इस क्षेत्र में आपकी स्पेशलिस्ट एक्सपर्टीज विकसित करता है। इस कोर्स के माध्यम से माइक्रोस्कोपी और इमेजिंग नैनोस्ट्रक्चर में महत्वपूर्ण कौशल हासिल किया जा सकता है। यदि आपकी रूचि रिसर्च में है तो बीएससी नैनोसाइंस करियर के अवसर प्रदान करने वाला एक दिलचस्प कोर्स है। बीएससी नैनोसाइंस के बारे जानने के लिए इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें। 

बीएससी नैनोसाइंस क्या है? 

यह 4 साल का कोर्स होता है जो परमाणुओं और अणुओं (मॉलिक्यूल्स) की छिपी दुनिया में गहराई से जाने के लिए रसायन विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, भौतिकी और गणित को भी सम्मिलित करता है। आप इस कोर्स में विभिन्न प्रकार की नैनोसाइंस तकनीकों का उपयोग करके ओपन-एंडेड समस्याओं से निपटने का तरीका भी सीखेंगे।

बीएससी नैनोसाइंस क्यों करें? 

बीएससी नैनोसाइंस की पढ़ाई क्यों करें यह जानने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़ें:

  • बीएससी नैनोसाइंस, रिसर्चर को यह देखने में सक्षम बनाता है कि परमाणु स्तर पर क्या हो रहा है।
  • यह कोर्स छात्रों को रिसर्च, शिक्षा, बिजनेस या भविष्य में करियर के लिए तैयार करने के लिए उत्कृष्ट सीखने के अवसर और कौशल विकास प्रदान करता है। 
  • बीएससी नैनोसाइंस प्राकृतिक विज्ञान वैज्ञानिक विषयों में मौजूद नेचुरल एक्शन्स पर निर्मित अच्छी तरह से स्ट्रक्चर्ड रूट की एक सीरीज प्रदान करता है।
  • यह कोर्स ट्रांसफरेबल स्किल्स बनाने के लिए छात्रों को एक साथ लाता है।
  • वर्ल्ड-लीडिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट और इंटरडिसीप्लिनरी साइंस के लिए समर्पित हाई-टेक लर्निंग स्पेस में अध्ययन करने का मौका भी आपको मिलता है। 
  • नैनोसाइंस में ओपन-एंडेड समस्याओं को तैयार करने के साथ-साथ निपटने के लिए और डिसिप्लिन में वर्तमान प्रिंसिपल के किसी भी निष्कर्ष से संबंधित विभिन्न इंटरडिसीप्लिनरी टेक्निक और मेथड को कॉल करने में सक्षम होंगे। 

स्किल्स

बीएससी नैनोसाइंस पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए आवश्यक स्किल्स इस प्रकार हैं:

  • फिजिकल
  • कंप्यूटेशनल
  • मैथमेटिकल
  • रिसर्च
  • एनालिटिकल
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग
  • क्रिटिकल थिंकिंग
  • टीम वर्क
  • टाइम मैनेजमेंट
  • डिसीजन मेकिंग

विषय

बीएससी नैनोसाइंस में पढ़ाए जाने वाले कुछ सब्जेक्ट्स नीचे दिए हैं-

  • द फंडामेंटल्स ऑफ नैनोसाइंस
  • क्वांटम एंड क्लासिकल मैकेनिक्स
  • स्टैटिसटिकल फिजिक्स
  • इलेक्ट्रोमैगनेटिज्म
  • थर्मोडायनेमिक्स
  • वेव् फिनोमिना
  • द प्रॉपर्टीज ऑफ मैटर एंड कंडेंस्ड मैटर फिजिक्स 
  • मैथमेटिक्स
  • मैग्नेटिक मैटेरियल
  • केमिस्ट्री फॉर नेचुरल साइंसेस l: इंट्रोडक्शन टू केमिकल स्ट्रक्चर एंड रिएक्टिविटी to 
  • केमिस्ट्री फॉर नेचुरल साइंसेस ll: इंट्रोडक्शन टू एनालिसिस एंड केमिकल चेंज 
  • मैथमेटिक्स फॉर साइंस l
  • इंट्रोडक्शन टो नैनोसाइंस एंड नैनोटेक्नोलॉजी 
  • इंट्रोडक्शन टू थर्मल एंड क्वांटम ऑफ फिजिक्स 
  • इलेक्ट्रोमैग्नेटिक, वेव्स एंड ऑप्टिक

आप AI Course Finder की मदद से अपने पसंद के कोर्सेज और उससे सम्बंधित टॉप यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं।

टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़

बीएससी नैनोसाइंस के लिए टॉप विदेशी यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है-

आप UniConnect के जरिए विश्व के पहले और सबसे बड़े ऑनलाइन विश्वविद्यालय मेले का हिस्सा बनने का मौका पा सकते हैं, जहाँ आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि से सीधा संपर्क कर सकेंगे।

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़

टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट नीचे दी गई है-

  • IIT मद्रास इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, अड्यार, चेन्नई 
  • IIT रुड़की- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, रुड़की 
  • IIT इंदौर: इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, इंदौर 
  • अन्ना यूनिवर्सिटी, गिंडी, चेन्नई
  • जादवपुर यूनिवर्सिटी, जादवपुर, कोलकाता

योग्यता 

योग्यता एक यूनिवर्सिटी से दूसरी यूनिवर्सिटी में भिन्न-भिन्न हो सकती है, यहाँ सामान्य योग्यता मानदंड दिया गया है:

  • किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से 10+2 PCM सब्जेक्ट्स के साथ आवश्यक अंकों के साथ उत्तीर्ण होना जरूरी है। 
  • विदेश में पढ़ने के लिए इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट जैसे- IELTS, TOEFL, PTE के स्कोर
  • किसी यूनिवर्सिटी द्वारा Duolingo की मांग की जा सकती है। 
  • C1 एडवांस्ड और C2 प्रोफिशिएंसी के अंक भी अनिवार्य हैं।

क्या आप IELTS/TOEFL/SAT/GRE में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं? आज ही इन एक्साम्स की बेहतरीन तैयारी के लिए Leverage Live पर रजिस्टर करें और अच्छे अंक प्राप्त करें।

आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स चुनना है, जिसके लिए आप AI Course Finder की सहायता लेकर अपने पसंदीदा कोर्सेज को शॉर्टलिस्ट कर सकते हैं। 
  • एक्सपर्ट्स से कॉन्टैक्ट के पश्चात वे कॉमन डैशबोर्ड प्लेटफॉर्म के माध्यम से कई विश्वविद्यालयों की आपकी आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे। 
  • अगला कदम अपने सभी दस्तावेजों जैसे SOP, निबंध (essay), सर्टिफिकेट्स और LOR और आवश्यक टेस्ट स्कोर जैसे IELTS, TOEFL, SAT, ACT आदि को इकट्ठा करना और सुव्यवस्थित करना है। 
  • यदि आपने अभी तक अपनी IELTS, TOEFL, PTE, GMAT, GRE आदि परीक्षा के लिए तैयारी नहीं की है, जो निश्चित रूप से विदेश में अध्ययन करने का एक महत्वपूर्ण कारक है, तो आप Leverage Live कक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। ये कक्षाएं आपको अपने टेस्ट में उच्च स्कोर प्राप्त करने का एक महत्त्वपूर्ण कारक साबित हो सकती हैं।
  • आपका एप्लीकेशन और सभी आवश्यक दस्तावेज जमा करने के बाद, एक्सपर्ट्स आवास, छात्र वीज़ा और छात्रवृत्ति / छात्र लोन के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू करेंगे । 
  • अब आपके प्रस्ताव पत्र की प्रतीक्षा करने का समय है जिसमें लगभग 4-6 सप्ताह या उससे अधिक समय लग सकता है। ऑफर लेटर आने के बाद उसे स्वीकार करके आवश्यक सेमेस्टर शुल्क का भुगतान करना आपकी आवेदन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। 

आवदेन प्रक्रिया से सम्बन्धित जानकारी और मदद के लिए Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर संपर्क करें

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

छात्र वीजा पाने के लिए भी Leverage Edu विशेषज्ञ आपकी हर सम्भव मदद करेंगे।

प्रवेश परीक्षाएं 

अलग-अलग कॉलेजों में एडमिशन प्राप्त करने के लिए प्रवेश परीक्षाएं अलग प्रकार की होती है लेकिन कुछ ऐसी सामान्य परीक्षाएं है जो अधिकतर सभी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज़ के द्वारा मान्य होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

विदेशी प्रवेश परीक्षाएं

लैंग्वेज रिक्वायरमेंट

करियर स्कोप

बीएससी नैनोसाइंस के बाद आप हायर एजुकेशन भी प्राप्त कर सकते हैं या फिर बीएससी नैनोसाइंस ग्रेजुएट्स निम्नलिखित क्षेत्रों में काम कर सकते हैं-

  • इलेक्ट्रॉनिक्स/ सेमीकंडक्टर इंडस्ट्री 
  • मैटेरियल साइंस इंक्लूडिंग टेक्सटाइल्स, पॉलिमर्स एंड पैकेजिंग 
  • ऑटोमोटिव एंड एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज 
  • स्पोर्टिंग गुड्स 
  • बायो टेक्नोलॉजी
  • मेडिकल फील्ड एंड फार्मास्यूटिकल 
  • एनवायरमेंटल मॉनिटरिंग एंड कंट्रोल
  • फूड साइंस इंक्लूडिंग क्वालिटी कंट्रोल एंड पैकेजिंग 
  • फॉरेंसिक
  • यूनिवर्सिटी एंड एनएचएस रिसर्च
  • डिफेंस एंड नेशनल सिक्योरिटी
  • एनर्जी कैप्चर एंड स्टोरेज

जॉब प्रोफ़ाइल और सैलरी

बीएससी नैनोसाइंस ग्रेजुएट्स के लिए जॉब प्रोफ़ाइल और Payscale के अनुसार सैलरी नीचे दी गई है:

जॉब प्रोफ़ाइल अनुमानित सालाना सैलरी
एसोसिएट एडिटर INR 2-6.12 लाख
ऑपरेशंस एनालिस्ट INR 2.55-8.50 लाख
ऑपरेशंस मैनेजर INR 4.98-20 लाख
रिसर्च एसोसिएट INR 1.8-7.88 लाख
रिसर्च साइंटिस्ट INR 2.97-20 लाख
डिजाइन इंजीनियर INR 1.77-9.87 लाख

FAQs

नैनो टेक्नोलॉजी में टॉप बैचलर्स कोर्सेज कौन से हैं?

1. BSc in Nanoscience
2. BSc in Chemistry with Nanotechnology
3. BSc (Hons) in Nanotechnology
4. Bachelors in Chemistry with Green Nanotechnology
5. BS in Nanosystem Engineering

बीएससी नैनोसाइंस क्या है?

यह 4 साल का कोर्स होता है जो परमाणुओं और अणुओं की छिपी दुनिया में गहराई से जाने के लिए रसायन विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, भौतिकी और गणित को भी सम्मिलित करता है। आप इस कोर्स में विभिन्न प्रकार की नैनोसाइंस तकनीकों का उपयोग करके ओपन-एंडेड समस्याओं से निपटने का तरीका भी सीखेंगे।

बीएससी नैनोसाइंस क्यों करें?

बीएससी नैनोसाइंस की पढ़ाई क्यों करें यह जानने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़ें:
1. बीएससी नैनोसाइंस रिसर्चर को यह देखने में सक्षम बनाता है कि परमाणु स्तर पर क्या हो रहा है।
2. यह कोर्स छात्रों को रिसर्च, शिक्षा, बिजनेस या भविष्य में करियर के लिए तैयार करने के लिए उत्कृष्ट सीखने के अवसर और कौशल विकास प्रदान करता है। 
3. बीएससी नैनोसाइंस प्राकृतिक विज्ञान वैज्ञानिक विषयों में मौजूद नेचुरल एक्शन्स पर निर्मित अच्छी तरह से स्ट्रक्चर्ड रूट की एक सीरीज प्रदान करता है।
4. यह कोर्स ट्रांसफरेबल स्किल्स बनाने के लिए छात्रों को एक साथ लाता है।
5. वर्ल्ड- लीडिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट और इंटरडिसीप्लिनरी साइंस के लिए समर्पित हाई-टेक लर्निंग स्पेस में अध्ययन करने का मौका भी आपको मिलता है। 
6. नैनोसाइंस में ओपन-एंडेड समस्याओं को तैयार करने के साथ-साथ निपटने के लिए और डिसिप्लिन में वर्तमान प्रिंसिपल के किसी भी निष्कर्ष से संबंधित विभिन्न इंटरडिसीप्लिनरी टेक्निक और मेथड को कॉल करने में सक्षम होंगे।

बीएससी नैनोसाइंस पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए आवश्यक स्किल्स क्या हैं?

बीएससी नैनोसाइंस पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए आवश्यक स्किल्स फिजिकल, कंप्यूटेशनल, मैथमेटिकल, रिसर्च, एनालिटिकल, प्रॉब्लम सॉल्विंग, क्रिटिकल थिंकिंग, टीम वर्क, टाइम मैनेजमेंट और डिसीजन मेकिंग आदि हैं।

उम्मीद है, बीएससी नैनोसाइंस के बारे में आपको सभी जानकारियां इस ब्लॉग में मिल गई होंगी। यदि आप विदेश की किसी यूनिवर्सिटी में बीएससी नैनोसाइंस कोर्स करना चाहते हैं तो 1800572000 पर कॉल करके Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें और बेहतर गाइडेंस पाएं। 

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert