जानिए कौन से हैं भारत के फर्जी विश्वविद्यालय?

1 minute read
541 views
10 shares

मॉडर्न दुनिया का एक डरावना हिस्सा यह है कि बिजी लाइफ में हमारे लिए धोखेबाजी और बेईमानी को पहचानना मुश्किल है। क्या ये एक पहेली जैसा लगता है? भारत में बड़ी संख्या में फर्जी विश्वविद्यालय हैं, जिन्हें यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (UGC) द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है। ये फर्जी कॉलेज किसी छात्र को डिग्री देने के काबिल नहीं हैं। यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (UGC) भारत में एडवांस एजुकेशन का प्रमुख नियंत्रक है। UGC को देश भर के कॉलेजों की क्वालिटी का रिकॉर्ड रखना चाहिए और क्वालिटी एजुकेशन देने की जरूरतों को पूरा करने के लिए, एक एजुकेशनल संस्थान को UGC द्वारा मान्यता प्राप्त होनी चाहिए। पूरे कार्य और इसकी कार्यप्रणाली को देखते हुए, UGC के पास भारत के उन फर्जी कॉलेजों को लिस्ट करने का विकल्प था, जो बिना मंजूरी के काम कर रहे थे। इन कॉलेजों के पास न तो जरूरी मान्यताएं हैं और न ही वे डिग्री प्रदान करने की क्षमता है, जो स्वीकार्य हों। यह ब्लॉग भारत में अलग-अलग मान्यता प्राप्त और नकली विश्वविद्यालयों के बारे में फैक्ट्स और फिगर के बारे में रीडर्स को जानकारी देने के लिए है।

विषय भारत के फर्ज़ी विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालयों की सूचि राज्य अनुसार दिल्ली, UP, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक

क्या होते हैं फर्ज़ी विश्वविद्यालय

एक स्टूडेंट जो कॉलेज की दुनिया में पहली बार अपने लिए सही कॉलेज चुनने की कोशिश करता है, उसके लिए फर्जी कॉलेज होना भी परेशानी साबित हो सकता है। इसलिए भारत में हर फर्जी विश्वविद्यालय के बारे में जानना बेहद जरूरी है, जो अक्सर छात्रों को अपने संस्थान में एडमिशन लेने के लिए प्रेरित करते हैं। भारत में फर्जी विश्वविद्यालय वे हैं, जिन्हें UGC के दिशानिर्देशों के तहत मान्यता प्राप्त नहीं है, केंद्रीय या राज्य अधिनियम द्वारा स्थापित नहीं किए गए। इसलिए UGC अधिनियम की धारा 3 के तहत वे विश्वविद्यालय नहीं माने जाते हैं। 

स्टूडेंट्स को कॉलेज में एडमिशन लेने, अपने इंटरेस्ट को दिखाने या फॉर्म भरने से पहले विश्वविद्यालय की UGC मान्यता जरूर चेक करनी चाहिए। UGC का कहना है कि अगर देश में चलने वाले फर्जी कॉलेज द्वारा छात्रों को धोखा मिलता है, तो इसका जिम्मेदारी UGC की नहीं होगी। इसलिए किसी कॉलेज में एडमिशन होने के दौरान छात्रों को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होती है। हालांकि, UGC ने भारत के फर्जी कॉलेजों के खिलाफ कदम उठाने के लिए राज्य सरकारों के साथ संपर्क और सहयोग बना रखे हैं।

ये भी पढ़ें :फॉरेन लैंग्वेज के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज

भारत में फर्जी विश्वविद्यालय

जैसा कि UGC एक्ट(Act) 1956 से स्पष्ट किया गया है, कॉलेज केवल तभी डिग्री प्रदान कर सकते हैं जब वे केंद्रीय, प्रदेश या राज्य के बनाए गए एक्ट(Act) के तहत स्थापित हों। इसके अलावा, UGC एक्ट की धारा 3 के तहत स्थापित फाउंडेशन डिग्री देने के योग्य हैं। दूसरी ओर, संसद के एक एक्ट द्वारा स्थापित किए गए कॉलेज स्टूडेंट्स को डिग्री देने के योग्य हैं।  UGC एक्ट की धारा 23 के अनुसार, किसी भी संस्थान में ‘विश्वविद्यालय’ नाम शामिल नहीं होना चाहिए, सिवाय इसके कि उनकी शुरुआत पिछली बताई गई प्रक्रिया के अनुसार हुई थी, जो केंद्रीय / राज्य / प्रदेश एक्ट के तहत है। जो संस्थान इसका पालन नहीं करते हैं वे भारत में फर्जी विश्वविद्यालय की सूची में आ सकते हैं। नीचे दिए गए सभी पॉइंट्स में हम भारत के अलग अलग राज्यों में आने वाली फर्जी विश्वविद्यालों की सूचि पर नज़र डालेंगे। जिसमें दिल्ली, उत्तर प्रदेश, ओड़िसा, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक शामिल हैं।

ये भी पढ़ें : भारत के बेस्ट एक्टिंग कॉलेज

भारत में फर्जी विश्वविद्यालय की सूची

किसी कॉलेज में अपना एडमिशन कराने से पहले, विश्वविद्यालयों से संबंधित सभी सरकारी नीतियों को जानना जरूरी है। UGC ने UGC की धारा 3 के तहत भारत में 18 फर्जी विश्वविद्यालय होने की घोषणा की है। इन विश्वविद्यालयों को राष्ट्र के केंद्रीय द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं और इनमें एडमिशन लेने वाले छात्रों को डिग्री नहीं दी जाएगी। नीचे विश्वविद्यालयों और उनके स्थान के आधार पर सूची बनाई गई है।

दिल्ली के फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची

  • कमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड , दरियागंज, दिल्ली
  • वोकेशनल यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • यूनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी
  • आध्यात्मिक विश्वविद्यालय स्पिरिचुअल विश्वविद्यालय
  • वारानासेया संस्कृत विश्वविद्यालय
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेनेजमेंट सोल्यूशन, जनकपुरी
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड इंजीनियरिंग
  • डीआर-सेंट्रिक ज्यूडिशियल यूनिवर्सिटी

ये भी पढ़ें : ये है बेस्ट संस्कृत कॉलेज

उत्तर प्रदेश के फर्जी विश्वविद्यालय

  • महाराणा प्रताप शिक्षा निकेतन विश्वविद्यालय
  • अलीगढ़ उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय, कोसी कलन, मथुरा
  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस यूनिवर्सिटी,ओपन युनिवर्सिटी
  • वाराणसी महिला ग्राम विद्यापीठ विश्वविद्यालय, इलाहाबाद
  • इंद्रप्रस्थ शिक्षा परिषद, इंस्टिट्यूशनल एरिया, खोद

ओडिशा के फर्जी विश्वविद्यालय

  • नवभारत शिक्षा परिषद, अनुपूर्णा, रोर्केला
  • नोर्थ ओडिशा यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी

ये भी पढ़ें : भारत के बेस्ट फार्मसी कॉलेज

पश्चिम बंगाल के फर्जी विश्वविद्यालय

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ अल्टर्नेटिव मेडिसिन, कोलकाता
  • इंस्टिट्यूट ऑफ अल्टर्नेटिव मेडिसिन एंड रिसर्च, कोलकाता

ये भी पढ़ें : भारत के बेस्ट एयरोस्पेस इंजीनियरिंग कॉलेज

कर्नाटक के फर्जी विश्वविद्यालय

  • बदागनवी, सरकार वर्ल्ड ओपन यूनिवर्सिटी एजुकेशन सोसाइटी
  • बेलगॉम सेंट जोन यूनिवर्सिटी, किशनाट्टम

पुडुचेरी के फर्जी विश्वविद्यालय

  • श्री बोधि एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन

आंध्र प्रदेश

  • क्राइस्ट न्यू टेस्टामेंट डीम्ड यूनिवर्सिटी, गुंटूर

महाराष्ट्र के फर्जी विश्वविद्यालय

  • राजा अरेबिक यूनिवर्सिटी, नागपुर

केरल के फर्जी विश्वविद्यालय

  • सेंट जॉन यूनिवर्सिटी कृष्णाटम, केरल

सही यूनिवर्सिटी चुनें

जब UGC की मान्यता के बिना कई विश्वविद्यालय चल रहे हों, तो सही विश्वविद्यालय ढ़ूंढना बेहद मुश्किल हो सकता है। हालांकि, सही विश्वविद्यालय की पहचान करने के लिए अलग-अलग स्टेप्स को समझना जरूरी है। किसी भी कॉलेज में एडमिशन के लिए अपना समय लगाने से पहले, जान लें कि यह प्रमाणित है और भारत के फर्जी विश्वविद्यालय में से एक नहीं है। इसका मतलब है कि एक लाइसेंस प्राप्त अधिकृत संघ ने कॉलेज, उसके शैक्षिक कार्यक्रम और शिक्षा के मौलिक विद्वानों के दिशानिर्देशों  पर विचार किया है। आमतौर पर, ज्यादातर कॉलेज इस डेटा को अपनी साइट पर ‘अबाउट’ या ‘एडमिशन’ पेज पर देते हैं। यदि आप इस जानकारी को प्राप्त करने में मुश्किल का सामना कर रहे हैं, तो विश्वविद्यालय की मान्यता जानने के लिए एक्सपर्ट से संपर्क कर सकते हैं और इससे संबंधित अपनी पूछताछ को दूर कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें : युनिवर्सिटी असिस्टेंट एग्ज़ाम

FAQs

यूजीसी ने कितने विश्वविद्यालय को फर्जी घोषित किया?

यूजीसी ने जिन 24 संस्थानों को फर्जी घोषित किया है, उनमें उत्तर प्रदेश के आठ, दिल्ली के सात, ओडिशा और बंगाल के दो-दो, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी का एक-एक विश्वविद्यालय है।

2 डिग्री एक साथ कर सकते हैं क्या?

क़ानूनी रूप से कॉलेज की दो नियमित डिग्री एक साथ नहीं की जा सकती . कोई भी छात्र एक डिग्री डिस्टेंस मोड से और एक डिग्री रेगुलर मोड से अर्थात इस तरह की दो डिग्री एक साथ प्राप्त कर सकता है।

यूजीसी से मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय क्या है?

UGCकी मान्यता के लिए बिना यूनिवर्सिटीज़ कोई डिग्री नहीं दे सकती है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम, 1956 (UGC Act 1956) के अनुच्छेद 22(1) के अनुसार- ऐसे विवि जिन्हें केंद्रीय या राज्य अधिनियम (Central or State Act) के तहत स्थापित किया गया हो। या जो यूजीसी एक्ट अनुच्छेद 3 के तहत स्थापित मानित विवि हों।

भारत में विश्वविद्यालय कितने हैं?

भारत देश में कितनी यूनिवर्सिटी हैं? फरवरी 2017 तक, यूजीसी वेबसाइट के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, भारत में 789 विश्वविद्यालय, 37,204 कॉलेज और 11,443 स्टैंड-अलोन संस्थान हैं।

वर्ष 2019 तक यूजीसी की सूची में कुल कितने केंद्रीय विश्वविद्यालय थे?

भारत मे 45 केन्द्रीय विश्वविद्यालय हैं।

उम्मीद है आपको हमारा ‘जानिए कौन से है भारत के फर्जी विश्वविद्यालय’ पर ब्लॉग पसंद आया होगा। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं तो हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800572000 पर कांटेक्ट कर आज ही 30 मिनट्स का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert