क्या होते है परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज

1 minute read
277 views
Leverage-Edu-Default-Blog

आज कल जिस रफ्तार में ग्लोबलाइजेशन आगे बढ़ रहा है देश दुनिया तरक्की की ओर कदम बढ़ा रहे हैं हर कोई अपना जीवन किसी न किसी रूप में सफ़ल बनाना चाहते हैं। एक अच्छी शिक्षा ही इस कदम को आगे बढ़ने में हौसला बढ़ाता है क्या आप जाना चाहते हो कि ये Permanent Residency Courses kya hote hain? क्या आप विदेश में पढ़ाई कर वंहा की परमानेंट नागरिकता लेना चाहते हो? तो हम आपको बिताएंगे की विदेश मे  पढाई के साथ कैसे वहां की नागरिकता ले सकते हैं।

परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज क्या होते हैं?

सरल भाषा में कहें तो परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज का मतलब हैं जिस देश मे आप अपनी पढ़ाई कर रहे हों वहां की सरकार आपको एक मौका देती है कि आप अपनी पढ़ाई पूर्ण करने के साथ साथ उस देश के परमानेंट नागरिक बन कर उस देश की प्रगति मे अपना सहयोग एवं योगदान प्रदान करें। हर देश अपने देश को विश्व का सबसे सर्व श्रेष्ठ देश बनाना चाहता है और इस मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए स्किल्ड परमानेंट नागरिकों के सहयोग की जरूरत होती हैं जो उन्हें इस मार्ग पर आगे बढ़ने में अपना योगदान दे। परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज आपको अपने जीवन को संवारने और विदेश में सेटल होने की इच्छा को बल प्रदान करता हैं। 

टॉप परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज की लिस्ट 

विदेश में अध्ययन करने के लिए जाने वाले अधिकांश आवेदक ऐसे कोर्सेज का चयन करते हैं जिसके अध्ययन से उस देश मे उनका  उज्ज्वल भविष्य बन सके है जो अंततः एक पद और स्थायी निवास के लिए आवेदन करने की अनुमति देता है।  विदेश में बसने के लिए इच्छुक छात्रों को सही परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज का चयन करने की आवश्यकता होती है, जिसमें परमानेंट रेजिडेंट की सबसे अधिक संभावनाएं होती हैं और निकट भविष्य में इसकी मांग बनी रहती है।

  • Accountancy
  • Trade Qualification
  • Teaching
  • Building and Construction
  • Social Work
  • Computer and Information Technology (IT)
  • Automotive
  • Engineering
  • Hospitality
  • Nursing
  • Painting and Decoration

कौन-कौन से देश परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज के साथ स्कॉलरशिप ऑफर करते हैं? 

अधिकांश अंतर्राष्ट्रीय छात्र अक्सर उन देशों में बसना चाहते हैं जिनमें वे पढ़ रहे हैं। इसलिए अपनी स्टडी डेस्टिनेशन चुनने से पहले, आप्रवास के लिए सर्वश्रेष्ठ देशों की इस सूची पर एक नज़र डालें। विदेश में अध्ययन और बसने के लिए सही देश चुनने से पहले विभिन्न फैक्टर्स पर विचार किया जाना चाहिए। कई छात्र विदेश में पढ़ने के लिए आवेदन करते हैं लेकिन उनमें से कुछ ही इसे हासिल कर पाते हैं। चूंकि अधिकांश देशों में कठोर आव्रजन नीतियां हैं, इसलिए वापस रहने और काम करने के तरीके खोजना मुश्किल हो जाता है। फिर भी, कुछ देश अंतरराष्ट्रीय छात्रों को स्थायी निवासियों के रूप में बसने की अनुमति देते हैं। देश जो परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज को स्कॉलरशिप के साथ ऑफर करती हैं कुछ इस प्रकार हैं।

  1. कनाडा: कनाडा एक ऐसा देश है जिसने हमेशा अप्रवासियों का खुले दिल से स्वागत किया है और शायद स्टूडेंट इमीग्रेशन के लिए सबसे अच्छा देश है। इसमें पोस्ट ग्रेजुएशन वर्क परमिट के साथ-साथ इमीग्रेशन फ्रेंडली वर्क परमिट भी दिया जाता है। ये सुविधाएं अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए आदर्श हैं जो विदेश में पढ़ना और काम करना चाहते हैं। इन कार्यक्रमों के तहत, एक छात्र अपने परमानेंट रेजीडेंसी कोर्स की अवधि के आधार पर 3 साल तक का वर्क परमिट प्राप्त कर सकता है। एक बार जब कोई छात्र नौकरी पाता है, तो उसके लिए छह महीने के बाद स्थायी निवास के लिए आवेदन करना आसान हो जाता है। कनाडा में एक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रणाली और अत्यधिक प्रसिद्ध विश्वविद्यालय हैं ।
  1. ऑस्ट्रेलिया: ऑस्ट्रेलिया को उच्च शिक्षा के लिए सर्वश्रेष्ठ देशों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है। हालाँकि, देश छात्र प्रवास का केंद्र भी है। ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षण शुल्क है, इसकी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रणाली इसे परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज के लिए सर्वश्रेष्ठ देशों में से एक बनाती है।
  1. न्यूजीलैंड: न्यूजीलैंड एक खूबसूरत देश है। अपनी हरी-भरी हरियाली और सुखद जलवायु के साथ  एक बेहतरीन जगह है, यह अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए सर्वोत्तम  नीतियां प्रदान करता है। न्यूजीलैंड सरकार की एक आधिकारिक वेबसाइट है जो परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज के बारे में जानकारी साझा करती है। अंतर्राष्ट्रीय छात्र पोस्ट स्टडी वर्क वीज़ा के माध्यम से 4 साल तक वर्क वीज़ा के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  1. जर्मनी: जर्मनी को उच्च शिक्षा के लिए सर्वश्रेष्ठ देशों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है। जर्मनी के विश्वविद्यालय अपनी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रणाली के कारण परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज के लिए सर्वश्रेष्ठ है।
  1. यूके:  ब्रिटेन के विश्वविद्यालय लगातार दुनिया के टॉप रैंक विश्वविद्यालयों में शुमार हैं। इसलिए, ग्रेजुएशन होने के बाद, आप एक चुनौतीपूर्ण करियर के लिए पूरी तरह से तैयार होंगे। और अच्छी खबर यह है कि अंतरराष्ट्रीय छात्र ग्रेजुएशन होने के बाद दो साल तक रुक सकते हैं और नौकरी या काम की तलाश कर सकते हैं।
  1. सिंगापुर: सिंगापुर के लिए वीज़ा आवेदन प्रक्रिया बहुत अलग है। यहाँ आपको जब अनुमती दी जाती है, तब विश्वविद्यालय आपको स्वीकृति पत्र के साथ ही एक छात्र वीजा भी भेजते है! और इस देश में वापस रहना और काम करना उतना ही आसान है। 

परमानेंट रेजीडेंसी कोर्स के लिए योग्यता  

किसी भी देश की नागरिकता लेने के लिए कुछ नियम और पॉलिसी होती हैं जिसको किसी भी छात्र को वीज़ा प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए पूर्ण करना होता हैं। एक कैंडिडेट की योग्यता पूरा करने की क्षमता दर्शाती है कि वह कितना योग्य है किसी भी देश की परमानेंट रेजीडेंसी को लेकर आवेदन देने हेतु। Permanent Residency Courses kya hote hain जानने के साथ साथ जानें इसके लिए आवश्यक योग्यता के बारे में:

  • NOC पर फुल टाइम ऑक्यूपेशन में कम से कम एक वर्ष का कार्य अनुभव।
  • आपका कार्य अनुभव लीगल होना चाहिए और ग्रेजुएशन होने के बाद प्राप्त किया जाना चाहिए। ग्रेजुएशन के दौरान कार्य अनुभव की गणना नहीं की जाएगी।
  • आपको 100 में से 67 अंक चाहिए।
  • न्यूनतम ग्रेजुएशन के डिग्री होनी आवश्यक है।
  •  IELTS (अंतर्राष्ट्रीय अंग्रेजी भाषा परीक्षण प्रणाली) प्रत्येक बैंड में 6 का स्कोर।
  • कम से कम 2 साल का कार्य अनुभव।
  • जॉब ऑफर लेटर
  • पुलिस एंड मेडिकल क्लीयरेंस
  • TOEFL एक विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेजी की परीक्षा।

FAQs

कौने से शहर कनाडा में PR के लिए अच्छे विकल्प है? 

टोरंटो, वैंकोवर,कैलगरी,हैलिफैक्स,ओटावा कनाडा में पीआर के लिए अच्छे शहर हैं।

भारतीय छात्रों के लिए ऑस्ट्रेलिया में PR कैसे प्राप्त करें?

छात्र ऑस्ट्रेलिया में स्थायी निवास मार्ग की तलाश कर सकते हैं यदि आपका एम्पलॉयीर आपको TSS वीज़ा या स्थायी ENS 186/RSMS 187 वीज़ा के लिए प्रायोजित करने के लिए तैयार है। यदि सामान्य कुशल प्रवासन के माध्यम से आवेदन कर रहे हैं, तो आपके पास पॉजिटिव स्किल अस्सेस्मेंट मूल्यांकन होना चाहिए और एक ऐसा व्यवसाय होना चाहिए जो वीज़ा प्रकार के लिए योग्य हो आपका अध्ययन क्षेत्र और व्यवसाय प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मेल खाना चाहिए।

परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज को लिए उम्र कितनी होनी चाहिए? 

कोई भी व्यक्ति या छात्र जो अपना कैरियर विदेश मे बनाना चाहता हो या विदेश में सेटल होना चाहता है जिसकी उम्र (25-33) वर्ष के बीच हो वह परमानेंट रेजीडेंसी कोर्सेज के लिए आवेदन कर सकता है। 

किसी भी देश मे PR आवेदन के लिए कितने फंड की आवश्यकता पड़ती है? 

अगर हम फंड रेक्विरेमेंट की बात कहे तो यह बात उस देश पर निर्भर करती है जिस देश मे आप आवेदन पत्र डाल रहे हों अगर बेसिक फंड की बात करें तो यह 9, 67, 000 भारतीय रुपये है जो कि 13247.55 USD है। 

हम आशा करते हैं कि इस ब्लॉग ने आपको Permanent Residency Courses kya hote hain के बारे मे जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते है, तो Leverage Edu एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 572 000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today. Study Abroad
Talk to an expert