Mobile Repairing Course

Rating:
1.5
(2)
Mobile Repairing Course

इलेक्ट्रानिक्स और कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग की एक महत्वपूर्ण ब्रांच मोबाइल रिपेयरिंग है। फोन हमारे दिन प्रतिदिन जीवन का एक जरूरी हिस्सा बन गया है। अगर हमारा फोन काम करना बंद कर दे, तो हमारा मन हजार चिंताओं से भर जाता है। इस छोटे से गैजेट में बहुत सारा डेटा जमा होने की वजह से इसका मूल्य सोने से भी ज्यादा हो जाता है। इन वजहों से Mobile Repairing Course लोगों के बीच बहुत ही पॉपुलर हो रही है। अगर आप इस तरह के कोर्स के बारे जानने के लिए उत्सुक हैं तो हमारे ब्लॉग को पढें, जिसमें सेल फोन रिपेयरिंग कोर्स से जुड़ी सारी संभावनाओं को डीटेल में बताया गया है। 

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स: सिलेबस

मोबाइल रिपेयरिंग के सिलेबस को इस तरह से डिजाइन किया गया है, जिसमें मोबाइल फोन रिपेयरिंग और सर्विसिंग के लिए आवश्यक सारे टॉपिक को कवर किया गया है। कोर्स को चार प्रमुख भाग में बांटा जा सकता है:

1. मोबाइल रिपेयरिंग का बेसिक और बेसिक इलेक्ट्रॉनिक्स
2. हार्डवेयर रिपेयरिंग
3. सॉफ्टवेयर रिपेयरिंग
4. बेसिक और एडवांस ट्रबलशूटिंग

UPSC Syllabus in Hindi [Revised 2021]

मोबाइल रिपेयरिंग का बेसिक और बेसिक इलेक्ट्रॉनिक्स

Mobile Repairing Course की पहली यूनिट में छात्रों को मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स की बेसिक जानकारी दी जाती है। इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग से आने वाले छात्रों को पहले से ही इस तरह के मॉड्यूल की जानकारी  होती है। इस यूनिट में निम्नलिखित टॉपिक हैं:

  • मोबाइल कम्युनिकेशन का बेसिक 
  • डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक्स का अध्ययन
  • विभिन्न मोबाइल फोन असेंबलिंग और डिससमेंलिंग
  • मोबाइल रिपेयरिंग में इस्तेमाल होने वाले औजारों और उपकरणों का अध्ययन
  • मोबाइल फोन के पार्ट्स का अध्ययन
  • मल्टीमीटर का उपयोग कैसे करें ?
  • डीसी पावर सप्लाइ का उपयोग

हार्डवेयर रिपेयरिंग

इस यूनिट में सेल फोन के हार्डवेयर को ठीक करने पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। इसमें छात्रों को गैजेट के इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स को बदलना और संभालना सीखाया जाता है। मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स के अंतर्गत निम्नलिखित टॉपिक आते हैं, जो इस मॉड्यूल का प्रमुख हिस्सा हैं:

  • मदरबोर्ड का इंट्रोडक्शन और अध्ययन (प्रिंटेड सर्किट बोर्ड)
  • मदरबोर्ड के  कम्पोनेन्ट का डीटेल 
  • विभिन्न कम्पोनेन्ट और पार्ट्स का टेस्ट करना 
  • मदरबोर्ड पर उपयोग  होने वाले आईसी  का अध्ययन
  • चिप की पहचान करना 
  • सोल्डरिंग आइरन और रीवर्क स्टेशन का उपयोग करते हुए कम्पोनेन्ट को सोल्डरिंग और डेसोल्डरिंग करना 
  • विभिन्न एसएमडी और बीजीए चिप्स की माउंटिंग और रीहिटिंग करना

150 Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द)

सॉफ्टवेयर रिपेयरिंग

सॉफ्टवेयर समस्याएं सेल फोन यूजर की सबसे आम परेशानी हैं। यूआई में अपडेट हो या यूआई के क्रैश होने पर, यह सभी सॉफ्टवेयर के डोमेन के अंतर्गत होता है। इस मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स में यह यूनिट मोबाइल फोन में उपयोग होने वाले सॉफ्टवेयर रिपेयर पर केंद्रित है। इस यूनिट में शामिल टॉपिक निम्नलिखित हैं:

  • सॉफ्टवेयर के खराब होने पर आने वाले गलतियों का डीटेल स्टडी 
  • विभिन्न सॉफ्टवेयर और फ्लैशर बॉक्स का इंट्रोडक्शन 
  • संक्रमित फोन से वायरस को हटाना
  • सॉफ्टवेयर या कोड के माध्यम से फोन की अनलॉकिंग
  • विभिन्न सीक्रेट कोड

बेसिक और एडवांस ट्रबलशूटिंग

मोबाइल यूजर की शिकायत आने के बाद, यह समझना महत्वपूर्ण है कि वास्तव में समस्या क्या है। वास्तविक समस्या का समाधान करने के लिए कैंडिडेट को हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर स्किल में निपूण होना चाहिए। यह यूनिट छात्रों को प्रैक्टिकल दौरान अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए सिखाती है। बेसिक और एडवांस ट्रबलशूटिंग मॉड्यूल के प्रमुख टॉपिक इस प्रकार हैं:

  • ट्रबलशूटिंग, गलती खोजना और विभिन्न गलतियों को दूर करना 
  • हार्डवेयर समस्या के मामले में रिपेयर की प्रक्रिया
  • सॉफ़्टवेयर समस्या के मामले में रिपेयर की प्रक्रिया
  • पानी से क्षति की रिपेयर तकनीक
  • सर्किट ट्रेसिंग; जम्पर तकनीक और समाधान
  • समस्याओं को हल करने के लिए इंटरनेट का उपयोग
  • एडवांस ट्रबलशूटिंग तकनीक

Clauses in Hindi (उपवाक्य): परिभाषा, भेद, प्रकार, उदाहरण

कैरियर के रूप में मोबाइल रिपेयरिंग

मार्केट में जीतने भी स्मार्टफोन हैं, अलग-अलग ब्रांडों के हैं। हर ब्रांड के नए फोन रोज मार्केट में आ रहे हैं। आपको नहीं लगता की लोगों को किसी न किसी दिन फोन के हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर की समस्या का सामना करना ही पड़ता है। उन समस्याओं को कोई खुद से ठीक नहीं कर सकता है। इसे ठीक करने के लिए मोबाइल तकनीशियन की जरूरत है। मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स पूरा करने के बाद छात्र को इतना प्रैक्टिकल ज्ञान हो जाता है कि वो आसानी से इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स को ठीक करने का अपना बिजनस शुरू कर सकते हैं। मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद, छात्र बहुत बड़ी स्मार्टफोन कंपनियों के अधिकृत सर्विस सेंटर में भी नौकरी पा सकते हैं, जहां उन्हें ग्राहकों के फोन में मोबाइल बग्स को ठीक करना होता है।

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स फीस

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स बहुत ज्यादा फीस नहीं देनी होती है। लेकिन अगर छात्र किसी बहुत ही प्रतिष्ठित और फेमस इंस्टिट्यूट से अपना कोर्स करेगा तो तब उसे फीस थोड़ी ज्यादा देनी पड़ सकती है। वैसे इस कोर्स के लिए लगभग 10 हजार रुपए से 15 हजार रुपए तक फीस देनी पड़ती है।

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स के बाद Salary

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद वेतन मिलता है वह पूरी तरह से इस बात के ऊपर डिपेंड करता है कि वह जिस कंपनी में काम कर रहा है वह कितनी बड़ी और प्रतिष्ठित है इसके साथ-साथ कैंडिडेट की योग्यता और कौशल पर भी उसका वेतन निर्भर करता है। आमतौर पर मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद किसी भी कैंडिडेट को शुरू में 12 हजार रुपए से लेकर 15 हजार रुपए तक वेतन मिल जाता है।

हिंदी व्याकरण – Leverage Edu के साथ संपूर्ण हिंदी व्याकरण सीखें

टॉप कंपनियों में भर्ती 

अगर किसी छात्र ने किसी टॉप कॉलेज या तकनीकी विश्वविद्यालय से Mobile Repairing Course में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स पूरा कर लिया है, तो उन्हें टॉप मोबाइल फोन कंपनियों में नौकरी के कई अवसर हैं जैसे :

  • एप्पल 
  • लेनोवो
  • श्याओमी
  • सैमसंग
  • जियो
  • रियलमी 
  • सोनी
  • हुवाई

इन बड़े ब्रांड के मोबाइल फोन कंपनियों में, छात्र अधिकृत सर्विस सेंटर में एक तकनीशियन के रूप में काम कर सकते हैं और अनुभव प्राप्त करने के बाद उच्च पदों पर चले जाते हैं। लोगों के जीवन में स्मार्टफोन की बढ़ती जरूरत को देख कर, Mobile Repairing Course करने वाले इच्छुक छात्रों के लिए नए अवसर ला रही है। अगर आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो  Leverage Edu से संपर्क करें। हमारे एक्सपर्ट आपको कोर्स चुनने में मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

20 comments
    1. Hi there, thanks for your feedback! Just like Moblie Repairing courses, there are various other short term courses that one can do after completing class 10th and 12th. Read our blogs on the same to know more – https://leverageedu.com/blog/short-term-courses-after-10th/, https://leverageedu.com/blog/short-term-courses-after-12th/, https://leverageedu.com/blog/short-term-courses-in-delhi/.

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Computer Course in Hindi
Read More

Computer Course in Hindi

आज का युग कम्प्यूटर का युग है और हम यदि यह कहे कि कम्प्यूटर के बिना हमारी जिंदगी…