Bharat Mata Class 11 NCERT Solutions

Rating:
4.4
(7)
Bharat Mata Class 11

भारत माता अध्याय हिंदुस्तान की कहानी का पाँचवाँ अध्याय है। इसमें नेहरू ने बताया है कि किस तरह देश के कोने-कोने में आयोजित जलसों में जाकर वे आम लोगों को बताते थे कि अनेक हिस्सों में बँटा होने के बाद भी हिंदुस्तान एक है। इस अपार फैलाव के बीच एकता के क्या आधार हैं और क्यों भारत एक देश है, जिसके सभी हिस्सों की नियति एक ही तरीके से बनती-बिगड़ती है। उन्होंने भारत माता शब्द पर भी विचार किया तथा यह निष्कर्ष निकाला कि भारत माता की जय का मतलब है-यहाँ के करोड़ों-करोड़ लोगों की जय। चलिए जानते हैं Bharat Mata Class 11 NCERT Solutions पाठ के लेखक परिचय, पाठ का सारांश, शब्दार्थ, प्रश्नोत्तर और MCQ Questions And Answers के बारे में। 

Check Out: 10 Study Tips in Hindi- परीक्षा की तैयारी कैसे करे?

लेखक परिचय

Bharat Mata Class 11
Source : Wikipedia

जवाहरलाल नेहरू का जन्म इलाहाबाद के एक संपन्न परिवार में 1889 ई. में हुआ। इनके पिता प्रसिद्ध वकील थे। नेहरू की प्रारंभिक शिक्षा घर पर तथा उच्च शिक्षा इंग्लैंड में हैरो तथा कैम्ब्रिज में हुई। इन्होंने वहीं से वकालत की पढ़ाई की। इन पर गाँधी का बहुत प्रभाव था। उनके आहवान पर वे पढ़ाई छोड़कर आजादी की लड़ाई में जुट गए। 1929 ई. में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन के अध्यक्ष बने और पूर्ण स्वतंत्रता की माँग की। इनका झुकाव समाजवाद की ओर भी रहा।

1947 ई. में भारत स्वतंत्र हुआ। ये भारत के पहले प्रधानमंत्री बने तथा जीवनपर्यत भारत के निर्माण में लगे रहे। उन्होंने देश के विकास के लिए कई योजनाएँ बनाई जिनमें आर्थिक और औद्योगिक प्रगति तथा वैज्ञानिक अनुसंधान से लेकर साहित्य, कला, संस्कृति आदि क्षेत्र शामिल थे। बच्चों से इन्हें विशेष लगाव था। वे चाचा नेहरू के रूप में जाने जाते हैं। ये शांति, अहिंसा और मानवता के हिमायती थे। इन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्वशांति और पंचशील के सिद्धांतों का प्रचार किया। इनका निधन 1964 ई. में हुआ।

रचनाएँ- नेहरू जी उच्चकोटि के लेखक भी थे। इन्होंने अंग्रेजी में लिखा। इनकी रचनाओं का हिंदी सहित अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ। इनकी रचनाएँ निम्नलिखित हैं-

मेरी कहानी (आत्मकथा), विश्व इतिहास की झलक, हिंदुस्तान की कहानी, पिता के पत्र पुत्री के नाम, लेखों और दुनिया।

Check Out: 135+ Common Interview Questions in Hindi

Bharat Mata Class 11 पाठ का सारांश

‘भारत माता’ अध्याय हिंदुस्तान की कहानी का पाँचवाँ अध्याय है। इसमें नेहरू ने बताया है कि किस तरह देश के कोने-कोने में आयोजित जलसों में जाकर वे आम लोगों को बताते थे कि अनेक हिस्सों में बँटा होने के बाद भी हिंदुस्तान एक है। इस अपार फैलाव के बीच एकता के क्या आधार हैं और क्यों भारत एक देश है, जिसके सभी हिस्सों की नियति एक ही तरीके से बनती-बिगड़ती है। उन्होंने भारत माता शब्द पर भी विचार किया तथा यह निष्कर्ष निकाला कि भारत माता की जय का मतलब है-यहाँ के करोड़ों-करोड़ लोगों की जय।

नेहरू जी का कहना है कि जब वे जलसों में जाते हैं तो वे श्रोताओं से भारत की चर्चा करते हैं। भारत संस्कृत शब्द है और इस जाति के परंपरागत संस्थापक के नाम से निकला है। शहरों में लोग अधिक समझदार हैं। गाँवों में किसानों से देश के बारे में चर्चा करते हैं। वे उन्हें बताते हैं कि देश के हिस्से अलग होते हुए भी एक हैं। वे उन्हें बताते थे कि उत्तर सँ लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक उनकी समस्याएँ एक जैसी है और स्वराज्य सभी के लिए फायदेमंद है।

नेहरू ने सारे भारत की यात्रा की। इस दौरान उन्होंने यह समझाने का प्रयास किया कि हर जगह किसानों की समस्याएँ एक-सी हैं-गरीबों, कर्जदारों, पूँजीपतियों के शिकंजे, जमींदार, महाजन, कड़े लगान और सूद, पुलिस के जुल्म। ये सभी बातें विदेशी सरकार की देन हैं तथा सबको इससे छुटकारा पाने के लिए सोचना है। सभी लोगों को देश के बारे में सोचना है। वे . लोगों से चीन, स्पेन, अबीसिनिया, मध्य यूरोप, मिस्र और पश्चिमी एशिया में होने वाले परिवर्तनों का जिक्र करते हैं। वे सोवियत यूनियन व अमरीका की उन्नति के बारे में बताते हैं। किसानों को विदेशों के बारे में समझाना आसान न था किंतु उन्होंने जैसा समझ रखा था वैसा मुश्किल भी न था। इसका कारण यह था कि हमारे महाकाव्यों व पुराणों ने इस देश की कल्पना करा दी थी और तीर्थ यात्रा करने वाले लोगों ने या बड़ी लड़ाइयों में भाग लेने सिपाहियों और कुछ ने विदेशों में नौकरी करके देश-दुनिया की जानकारी दी। सन् तीस की आर्थिक मंदी की वजह से दूसरे देशों के बारे में नेहरू जी के दिए गए उदाहरण लोगों के समझ में आ जाते थे।

जलसों में नेहरू का स्वागत अकसर ‘भारत माता की जय’ के नारे से होता था। वे लोगों से इस नारे का मतलब पूछते तो वे जवाब न दे पाते। एक हट्टे-कट्टे किसान ने भारत माता का अर्थ धरती बताया। उन्होंने पूछा कि कौन-सी धरती? उनके गाँव, जिले, सूबे या पूरे देश की धरती। इस प्रश्न पर फिर सब चुप हो जाते। नेहरू उन्हें बताते हैं कि भारत वह है जो उन्होंने समझ रखा है। इसमें नदी, पहाड़, जंगल, खेत व करोड़ों भारतीय शामिल हैं। भारत माता की जय का अर्थ है–इन सबकी जय। जब वे स्वयं को भारत माता का अंश समझते थे तो उनकी आँखों में चमक आ जाती थी।

Check Out: 80+ Education Quotes हिंदी में

शब्दार्थ

  1. अकसर-प्राय:
  2. जलसा-समारोह
  3. संस्थापक-स्थापना करने वाला
  4.  सयाने-समझदार
  5. गिजा-खुराक
  6.  नजरिया-सोचने का तरीका
  7. महबूद-सीमित
  8.  मसला-मुद्दा
  9.  यक-साँ-एक समान
  10.  स्वराज्य-अपना शासन
  11.  धुर-और परे
  12. शिकजा-कसने वाला औजार
  13. महाजन-ब्याज पर धन देने वाले
  14. लगान-खेती की जमीन पर बुवाई का कर
  15.  सूद-ब्याज
  16. जुल्म-अत्याचार
  17.  हासिल-प्राप्त
  18. जुन-अंश
  19. कशमकश-ऊहापोह, पसोपेश
  20. अचरज-हैरानी
  21. तब्दीली-बदलावा जंग-लड़ाई
  22.  धावा-हमला, आक्रमण
  23.  मंदी-व्यापार में कमी
  24. मुल्क-देश
  25.  हवाले-संदर्भ
  26. ताज्जुब-हैरानी
  27. जवाब न बन पाना-उत्तर न दे पाना
  28. किसानी-खेती
  29.  सूबा-प्रदेश
  30.  अजीज-प्रिय

Bharat Mata Class 11 Questions And Answers

Q 1: भारत की चर्चा नेहरू कब और किससे करते थे?

Ans: भारत की चर्चा नेहरू जलसे में आए श्रोताओं से करते थे। नेहरू जी प्रायः जलसों में जाते रहते थे। तब वह जलसे में आए हुए श्रोताओं से भारती की चर्चा किया करते थे।

Q 2: नेहरू जी भारत के सभी किसानों से कौन-सा प्रश्न बार-बार करते थे?

Ans: नेहरू जी भारत के सभी किसानों से ‘भारतमाता की जय’ के विषय में प्रश्न बार-बार किया करते थे। वह उनसे पूछते थे कि किसान जिस भारतमाता की जय करते हैं, वह कौन है? नेहरू जी के इस प्रश्न पर जब लोग जवाब देते की धरती को वे भारतमाता कहते हैं, तो नेहरू जी उनसे फिर प्रश्न करते कि कौन-सी धरती के बारे में बात की जा रही है? इसमें वे अपने गाँव की धरती की बात कर रहे हैं। जिले, सूबे अथवा हिन्दुस्तान की बात कर रहे हैं। इस तरह वह किसानों से प्रश्न बार किया करते थे।

Q 3: दुनिया के बारे में किसानों को बताना नेहरू जी के लिए क्यों आसान था?

Ans : नेहरू जी किसानों को दुनिया के बारे में बताते थे। उन्हें इनके बारे में बताना नेहरू जी के लिए आसान था। किसान पुराणों तथा महाकाव्यों से जुड़ी कथा व कहानियों से अंजान नहीं थे। अतः इन्हीं के माध्यम से नेहरू जी ने देश के विषय में ज्ञान करवा दिया। जलसे में उन्हें इस तरह के लोग भी मिल जाते थे, जिन्होंने कई यात्राएँ तथा तीर्थ किए हुए थे। वे हिन्दुस्तान के कोने-कोने से वाकिफ थे। इनमें से कई सैनिक भी थे, जो युद्ध करने के लिए विदेशों में भी गए थे। अतः जब नेहरू जी दुनिया के बारे में उन्हें बताते, तो उनकी समझ में आ जाता था।

Q 4: किसान सामान्यतः भारत माता का क्या अर्थ लेते थे?

Ans. किसानों के अनुसार उनके देश की धरती ही भारतमाता थी। वह सामान्यतः भारतमाता का यही अर्थ लेते थे।

Q 5: भारतमाता के प्रति नेहरू जी की क्या अवधारण थी?

Ans : भारतमाता के प्रति नेहरू जी की अवधारण किसानों से बिलकुल अलग थी। उनका मानना था कि हमारे देश की धरती, खेत, पहाड़, जंगल, झरने इत्यादि इसके अंग हैं। मगर भारत के सभी लोग जो पूरे देश में हैं, सही मायनों में ये ही भारतमाता हैं।

Q 6: आजादी से पूर्व किसानों को किन समस्याओं का सामना करना पड़ता था?

Ans: आजादी से पूर्व किसानों को इन समस्याओं का सामना करना पड़ता था।
कर्ज से युक्त जीवन
भूखमरी
जमींदारों द्वारा शोषण
महाजनों द्वारा शोषण
आय से अधिक लगान

Q 7: आजादी से पहले भारत-निर्माण को लेकर नेहरू के क्या सपने थे? आजादी के बाद वे साकार हुए? चर्चा कीजिए।

Ans: आजादी से पहले भारत-निर्माण को लेकर नेहरू के ये सपने थे।
भारत को आर्थिक रूप से मज़बूत बनाया जाए।
भारत का चहुँमुखी विकास हो।
भारत से गरीबी का उन्मूलन हो।
भारतीय किसानों की विपत्तियों की समाप्ति हो।
भारत में औद्योगिकी क्रांति तथा उसका विकास हो।
आजादी से पहले भारत-निर्माण को लेकर नेहरू ने जो सपने देखे थे, उनमें से कई साकार हो गए हैं। आज भारत आर्थिक रूप से मज़बूत बन गया है। भारत का चहुँमुखी विकास हो रहा है। भारत में औद्योगिकी क्रांति भी हुई है और आज उसका विकास चरम पर है। कुछ सपने हैं, जो आज भी सफल नहीं हुए हैं। आज भी किसानों की विपत्तियों का अंत नहीं हुआ है तथा गरीबी उन्मूलन नहीं हुआ है।

Q 8: भारत के विकास को लेकर आप क्या सपने देखते हैं? चर्चा कीजिए।

Ans : भारत के विकास को लेकर मैं बहुत से सपने देखती हूँ। वे इस प्रकार हैं-
• चारों तरफ शिक्षा का प्रचार-प्रसार हो। देश में कोई अशिक्षित न रहे।
• भारत में कोई गरीब और भूखा न हो।
• सबके पास पक्के मकान और हर प्रकार की सुख-सुविधाएँ हों।
• बेरोज़गारी समाप्त हो जाए।
• भारत की आत्मनिर्भरता हर क्षेत्र में हो।
• प्रदूषण की समस्या से निजात पा सकें।
• देश की तेज़ी से बढ़ती आबादी को रोका जा सके।
• भारत शीघ्र ही विकसित राष्ट्र कहलाए।

Q 9 आपकी दृष्टि में भारतमाता और हिन्दुस्तान की क्या संकल्पना है? बताइए।

Ans : मेरी दृष्टि में भारतमाता और हिन्दुस्तान की संकल्पना नेहरू जी की बतायी अवधारणा से अलग नहीं है। भारतामाता और हिन्दुस्तान मात्र धरती की संकल्पना से नहीं हो सकता। उसमें रहने वाले लोग उसे सुंदर और जीवंत बनाते हैं। उसमें रंग भरते हैं। उनके कारण ही एक धरती स्वरूप पाती है, और नाम पाती है। भारत का स्वरूप तो सबसे निराला है। उसके मस्तक में हिमालय मुकुट के रूप में और सागर उसके चरणों को धोता हुआ प्रतीत होता है। यहाँ सभी धर्मों के लोग प्रेम से साथ रहते हैं।

Q 10: वर्तमान समय में किसानों की स्थिति किस सीमा तक बदली है? चर्चा कर लिखिए।

Ans: वर्तमान समय में किसानों की स्थिति में बहुत बदलाव आया है। अब खेती में अत्याधुनिक मशीनों से काम लिया जाने लगा है। मगर यह अनुपात बहुत कम है। आज भी ऐसे स्थानों पर जो बहुत दूर हैं, वहाँ के किसानों की स्थिति पहले के समान ही है। प्रकृति की मार उनकी मेहनत को नष्ट कर रही है। कर्ज के बोझ तले दबकर वे आत्महत्या करने के लिए विवश हो रहे हैं। आज भी उनके बच्चे भूख से मर रहे हैं। सभी सुख-सुविधाओं से विहीन किसान विपन्नता का जीवन जीने के लिए मजबूर हैं।

Q 11: आजादी से पूर्व अनेक नारे प्रचलिथ थे। किन्हीं दस नारों का संकलन करें और संदर्भ भी लिखें।

Ans: आजादी से पूर्व निम्नलिखित नारे प्रचलित थे-
1. अंग्रेज़ों भारत छोड़ो। (यह नारा 8 अगस्त, 1942 को कांग्रेस कमेटी के सत्र में आंदोलन पारित किया गया था, जिसका नाम अंग्रेज़ों भारत छोड़ो था।)
2. जय हिंद (सुभाषचंद्र बोस ने आज़ाद हिन्द फ़ौज ने युद्ध घोषण के समय बोला था। यह नारा सबसे पहले डॉ. चम्पकरमण पिल्लई द्वारा बोला गया।)
3. वंदे मातरम (बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने किया था। आगे चलकर यह बहुत प्रसिद्ध हुआ।)
4. भारतमाता की जय (माना जाता है कि भगत सिंह ने अदालत में इसे बोला था।)
5. स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा। (बाल गंगाधार तिलक ने एक भाषण के दौरान मराठी भाषा में बोला था।)
6. तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूँगा। (सुभाषचंद्र बोस ने यह नारा अपनी सेना में भर्ती होने आए सैनिकों से बोला था।)
7. दिल्ली चलो। (सुभाषचंद्र बोस ने यह नारा 1942 में आज़ाद हिंद फौज को दिया था।)

Q 12: नीचे दिए गए वाक्यों का पाठ के संदर्भ में अर्थ लिखिए-
दक्खिन, पच्छिम, यक-सां, एक जुज, ढढ्ढे

Ans : दक्खिन- दक्षिण, पच्छिम- पश्चिम, एक-सां- एक समान, एक जुज- एक भाग, ढढ्ढे-बोझ

Q 13: नीचे दिए गए संज्ञा शब्दों के विशेषण-रूप लिखिए-
आजादी, चमक, हिन्दुस्तान, विदेश, सरकार, यात्रा, पुराण, भारत।

Ans: आजादी- आजाद
चमक-चमकीला
हिन्दुस्तान-हिन्दुस्तानी
विदेश-विदेशी
सरकार-सरकारी
यात्रा- यात्री
पुराण-पौराणिक
भारत-भारतीय

Check Out: स्किल डेवलपमेंट के ये कोर्स, सफलता की राह करेंगे आसान

Bharat Mata Class 11 MCQ

1. ‘भारत माता’ किसके द्वारा रचित पाठ है?|
A. प्रेमचंद
B. जवाहर लाल नेहरू
C. कृष्ण नाथ
D. कृष्णचंद्र

Ans- B. जवाहर लाल नेहरू

2. ‘भारत’ किस भाषा का शब्द है?
A. हिंदी
B. संस्कृत
C. फ़ारसी
D. अंग्रेज़ी

Ans- B. संस्कृत

3. खैबर दर्रा किस दिशा में है?|
A. उत्तर-पश्चिम
B. उत्तर-पूर्व
C. दक्खिन-पूर्व
D. दक्खिन उत्तर

Ans- A. उत्तर-पश्चिम

4. कन्याकुमारी किस दिशा में है?
A. पूर्व
B. पश्चिम
C. उत्तर
D. दक्षिण

Ans- D. दक्षिण

5. सब से अधिक प्रश्न कौन पूछते थे?
A. मजदूर
B. किसान
C. व्यापारी
D. डॉक्टर

Ans- B. किसान

6. भारत माता दरअसल क्या है?
A. ज़मीन
B. सेना
C. नेता
D. करोड़ों देशवासी

Ans- D. करोड़ों देशवासी

7. किसने यह उत्तर दिया था- “भारतमाता से उनका मतलब धरती से है” ?
A. जाट ने
B. अध्यापक ने
C. नेता ने
D. डॉक्टर ने

Ans- A. जाट ने

8. ‘महदूद’ नज़रिया कैसा होता है?
A. विस्तृत
B. सीमित
C. मध्यम
D. निकृष्ट

Ans- A. विस्तृत

9. ‘यक-साँ’ क्या होता है?
A. एक समान
B. अलग-अलग
C. विभाजित
D. मज़बूत

Ans- A. एक समान

10. किस सन् के बाद आर्थिक मंदी पैदा हुई थी?
A. बीस
B. तीस
C. चालीस
D. पचास

Ans- B. तीस

 Check Out: Success Stories in Hindi

आशा करते हैं कि Bharat Mata Class 11 ब्लॉग अच्छा लगा होगा। हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Mahatma Gandhi Essay in Hindi
Read More

Mahatma Gandhi Essay in Hindi

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी भारत के ही नहीं बल्कि संसार के महान पुरुष थे। वे आज के इस युग…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…