हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क क्या होते हैं?

1 minute read
36 views
विदेश में पढ़ने से बढ़ती है एशिया लिटरेसी
Freepik

हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क दोनों साथ-साथ ही चलते हैं। इस बात से बिल्कुल भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि महान उपलब्धियों की नींव रखने के लिए लोगों को कड़ी मेहनत करने की जरूरत है। लेकिन एक तथ्य यह भी है की अगर छात्र स्मार्ट तरीके से काम करते हैं, तो वे उतनी ही मात्रा में काम तेजी से और कुशलता से कर सकते हैं। छात्रों को लगातार कड़ी मेहनत करने के लिए और उन्हें स्मार्ट वर्क सीखने में सक्षम बनने के बीच की बारीक रेखा को समझने की जरूरत है। यह ब्लॉग इस बिंदु पर केंद्रित है की आपको किसी भी कार्य को करने के लिए हार्ड वर्क की आवश्यकता है या फिर स्मार्ट वर्क या दोनो। इस ब्लॉग में हम हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क के बीच के अंतर को स्पष्ट रूप से समझेंगे। 

हार्ड वर्क का अर्थ

हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क जानने के साथ-साथ यह भी जानना भी आवश्यक है कि हार्ड वर्क क्या है, जो इस प्रकार है:

  • हार्ड वर्क का सीधा सा अर्थ यह होता है कि किसी भी कार्य में व्यक्ति को उसके प्रति प्रतिबद्ध तथा ईमानदार होकर इसका पालन करना होता है।
  • सबसे ज्यादा हार्ड वर्क आप को उसी दिशा में लेकर जाता है जिसमें आप सबसे अधिक लायक होते हैं। इसमें आप सबसे अधिक चुनौती पूर्ण कार्य को चुनते हैं। किसी भी कार्य में सफलता आपको हार्ड वर्क करके लंबे समय में प्राप्त होती है। हार्ड वर्क करने वाले व्यक्ति अपने जीवन में आराम से भी दूर रहते हैं।
  • हार्ड वर्क में आप एक पारंपरिक तरीके से एक पैटर्न में वर्क करते हैं जिसमें ज्यादा बदलाव शामिल नहीं होते हैं।
  • हार्ड वर्क में एक परंपरागत पैटर्न शामिल होने कि वजह से आपको अधिक मेहनत, बहुत सारे प्रयास तथा निरंतरता की आवश्यकता होती है। इस प्रकार यह लोगों को थका देने वाली प्रक्रिया भी सिद्ध होती है। इसलिए आप इसमें बहुत जल्दी सफलता को प्राप्त नहीं कर सकते हैं।
  • हालांकि यह तुरंत परिणाम देने के योग्य नहीं है लेकिन अगर हार्ड वर्क को दिल एवं पूरा मन लगाकर किया जाते तो यह अच्छे परिणाम देता है।

स्मार्ट वर्क का अर्थ

हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क जानने के साथ-साथ यह भी जानना भी आवश्यक है कि स्मार्ट वर्क क्या है, जो इस प्रकार है:

  • स्मार्ट वर्क में सबसे जरूरी यह है कि जिस किसी कार्य को भी आप कर रहें हो उसके बारे में इंटेंस नॉलेज आपको प्राप्त होनी चाहिए। जिससे वह काम आपके लिए आसान हो जाएगा तथा उसके बाद आप उस कार्य को आसानी से करने के लिए एक दूसरा संगठित तरीका ढूंढकर कुशलता से संपूर्ण कर सकते हैं।
  • स्मार्ट वर्क की सहायता से आप अपना बहुत सारा समय बचा सकते हैं। आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लॉजिकल तथा इनोवेटिव तरीके से कार्य करके अपने समय की बचत कर सकते हैं। उससे केवल आपका समय ही नहीं बचता है बल्कि भविष्य के काम को मैनेज करने तथा कार्य को पूरा करने के लिए नए तरीके भी प्राप्त होते हैं।
  • परंपरागत तरीके से हटकर नए माध्यमों के प्रयोग से स्मार्ट वर्क आपको आपके लक्ष्यों को जल्दी प्राप्त करने में मदद करता है।
  • किसी भी कार्य को पुराने तरीके से अलग होकर करने, उसको पूरा करने के नए तरीके ढूंढने तथा उसके बारे में संपूर्ण ज्ञान प्राप्त होने से आपकी उस कार्य को करने की प्रबलता ओर भी अधिक बढ़ जाती है तथा आप उस कार्य को करने में सबसे अधिक प्रभावशाली होते हैं।
  • आज के इस तकनीकी युग में स्मार्ट वर्क कि किसी भी कार्य में सबसे अधिक मांग है। यह किसी भी कार्य को पूरा करने में आसान तरीका उपलब्ध करवाता है तथा कम समय में भी कार्य के परिणाम समान ही होते हैं। 

यदि आप सोच रहें हैं कि स्मार्ट वर्क एक बेहतर उपाय है तो आपका यह जानना भी अत्यधिक जरूरी है की स्मार्ट वर्क भी हार्ड वर्क की ही एक कड़ी है। किसी कार्य को स्मार्ट तरीके से करने के लिए आपको उसके सभी पहलुओं को समझने के लिए हार्ड वर्क करना ही होगा। 

हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क

हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क को आप निम्न प्रकार से समझ सकते हैं:

  • हार्ड वर्क में आप किसी भी कार्य को करने के लिए अधिक समय देकर एक चुने हुए तरीके से कार्य करके अपने लक्ष्यों को प्राप्त करते हैं। जिसका अर्थ है कि बिना किसी नए तरीके का प्रयोग किए तथा अधिक शारीरिक मेहनत से कार्य किया जाता है। वहीं दूसरी ओर स्मार्ट वर्क में उन तरीकों को ढूंढना शामिल है जिनकी सहायता से कार्य जल्दी तथा सुचारू संचालन से पूर्ण हो। 
  • हार्ड वर्क में क्वालिटी (गुणवत्ता) कि जगह क्वांटिटी (मात्रा) पर अधिक ध्यान दिया जाता है वहीं स्मार्ट वर्क में चतुरता से दोनो चीजों को संभाला जाता है। 
  • हार्ड वर्क में जिस प्रक्रिया का प्रयोग किया जाता है वह बहुत ही सामान्य होती है वह एक डायरेक्ट अप्रोच होती है जो एक निशित समय में पूरी की जाती है जिसमें किसी प्रकार की कोई नई रणनीति तथा नवाचार (इनोवेटिव) कार्य शामिल नहीं होते हैं जो भी हो इसमें कार्यों को एक (संगठित) ऑर्गनाइज्ड तरीके से पूर्ण कर लिया जाता है। 
  • सिर्फ हार्ड वर्क की सहायता से आप किसी भी लक्ष्य को उतनी आसानी से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। एकनिश्चित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आपको किसी भी कार्य में चतुरता से समय का प्रबंधन करके, समय की बचत करके, गुणवत्ता में किसी भी प्रकार की कमी न आने देकर तथा कार्य को डेडलाइन के समय में पूरा करने से सहायता मिलेगी। 

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क के बीच अंतर

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क के कुछ मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं, जिनकी सहायता से आप इनके बीच के अंतर को आसानी से समझ सकते हैं। 

हार्ड वर्क

  • हार्ड वर्क में आप कार्य को प्रतिबद्ध तथा गंभीर होकर करते हैं। 
  • हार्ड वर्क का यह भी मतलब होता है की आप कार्य को ईमानदारी से तथा जिम्मेदारी से पूर्ण करने कि कोशिश करते हैं। 
  • जितना अधिक हार्ड वर्क आप करेंगे उतने अधिक भाग्यशाली आप होते जायेंगे। 
  • हार्ड वर्क में आप शारीरिक श्रम से जुड़े कार्यों को सबसे अधिक करते हैं। 

स्मार्ट वर्क

  • स्मार्ट वर्क क्रिएटिव तथा इनोवेटिव तरीके से कार्य करने पर जोर देता है। 
  • किसी भी नई परिस्थिति या चुनौती का जल्दी निवारण किया जा सकता है। 
  • आप किसी भी कार्य में आपके सबसे अधिक आकर्षक ज्ञान का प्रयोग करते हैं।  
  • किसी भी समय आपको कठिन निर्णय लेने के योग्य होता हैं। 
  • आप किसी भी जगह निवेश करने में अधिक सुरक्षित महसूस करते हैं। 
  • आपके पास नया नेटवर्क तथा बेहतर संवाद स्थापित करने की क्षमता होती है। 

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क के कुछ उदाहरण

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क के उदाहरण के बीच अंतर समझा जाए तो इसका सिर्फ यह अर्थ नहीं है कि जिस किसी भी कार्य में अधिक मेहनत लगी हो वह कार्य हार्ड वर्क में गिना जाता हो तथा जिस कार्य को हमने आसानी से कर लिया हो वह स्मार्ट वर्क की गिनती में आएगा।

स्मार्ट वर्क का मतलब है की यदि आपने पहले किसी कार्य को एक निशित समय में किया तथा दूसरी बार उसी कार्य को आपने अपने तरीके से पहले वाले समय की तुलना में जल्दी पूर्ण कर लिया हो तथा इससे उस कार्य कि गुणवत्ता तथा परिणाम में भी कोई कमी ना आई हो। 

स्मार्ट वर्क तथा हार्ड वर्क दोनो ही एक दूसरे से जुड़े हुए पहलू हैं इसको हम निम्न उदाहरणों की सहायता से समझ सकते हैं –

  • पुराने समय में मनुष्य ने अपने सामान के एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए स्वयं गाड़ी को खींचा करता था उसके बाद उसने पशुओं की सहायता लेनी शुरू की तथा आज के समय में वो जगह बड़ी गाड़ियों ने ले ली है। जिससे यह काम और भी आसान हो गया है। 
  • जिन वस्तुओं को पहले हाथ की सहायता से बनाया जाता था उनके लिए अब नई मशीनों का प्रयोग किया जाता है जिससे कि उत्पाद की गुणवत्ता में भी बढ़ोतरी होती है तथा कार्य समय से पूर्व पूरा हो जाता है। 
  • यदि आप कंपनी के किसी प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहें हो तो उस प्रोजेक्ट को समय पर करने के लिए आप अपने पुराने डेटा तथा प्रोजेक्ट के अनुभव के आधार पर नए ट्रेंड या संभावना को पहले ही प्रेडिक्ट करके उसके उपाय कर लें। 

हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क में से किसे चुनें?

ऐसा कहा जाता है कि किसी भी कार्य को स्मार्ट तरीके से करने से पहले आपकी उस कार्य को करने के लिए हार्ड वर्क करना होता है। जिससे की आप अपने कार्य के प्रति जिम्मेदारी को समझ सकें। लेकिन यदि आप कुछ समय बाद उस कार्य को स्मार्ट तरीके से न करके सिर्फ हार्ड वर्क करते रहेंगे तो आप अपने जीवन भर वही कार्य करते रह जायेंगे। 

सीधा सा अर्थ यह है की किसी भी कार्य को प्रभावी ढंग से करने के लिए आपको उस कार्य को दोनों तरीकों से करना होगा। दोनों के संयोजन से ही आप अच्छे परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। 

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क के प्रश्नों का उत्तर किस प्रकार दें?

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क दोनो से जुड़े हुए प्रश्न लोगों से बहुत बार पूछे जातें हैं इन्ही में से कुछ प्रश्नों के उत्तर हमने आपको उदाहरण के साथ दिए है जिन्हें पढ़कर आप किसी भी व्यक्ति को इस विषय पर उत्तर दे सकते हैं:

संभावित उत्तर #1

हार्ड वर्क तथा स्मार्ट वर्क दोनो के बीच अंतर एक पर आधारित है की हम इनमें से किस प्रकार को चुनते हैं। हार्ड वर्क में हम किसी भी कार्य को करने के लिए अधिक समय देते हैं वो भी बिना किसी आसान उपाय को चुने। इससे यह तो निश्चित होता है की अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे लेकिन इस प्रकार से कार्य करने में अधिक समय लगेगा तथा यह तनावपूर्ण प्रक्रिया भी है। स्मार्ट वर्क में हम लोग उसी प्रकार के परिणाम को लक्ष्य बनाकर योजना एवं प्राथमिकता के आधार पर कार्य को करते हैं। जैसे की इंजीनियरिंग में हमने जाना की एग्जाम में आने वाले प्रश्न प्रतिवर्ष फिर से दोहराए जाते थे। तो हमने यह रणनीति बनाई की हम अपने एग्जाम में पिछले 4 से 5 वर्षों के प्रश्न पत्रों को पढ़कर अपनी तैयारी करेंगे जिससे की पूरा सिलेबस न पढ़कर भी एग्जाम में अच्छा प्रदर्शन किया जा सकता है। इस प्रकार हमने स्मार्ट तरीके से हार्ड वर्क करके दोनों की सहायता से अपने एग्जाम के लिए अच्छी तैयारी कर ली। 

संभावित उत्तर #2

यदि हार्ड वर्क और स्मार्ट वर्क दोनो को एक साथ मिलाकर कार्य किया जाए तो हम एक प्रतिभावान व्यक्ति बन सकते हैं। हम कुछ लोगों का उदाहरण ले सकते हैं जैसे कि एलन मस्क, वारेन बफेट तथा मार्क जकरबर्ग ये अपने क्षेत्र में प्रतिभावान व्यक्ति हैं जिन्होंने लंबे वर्षों के अपने सफर में हार्ड वर्क के साथ स्मार्ट वर्क करके अपने अपने क्षेत्रों में क्रिएशन तथा इनोवेशन के क्षेत्र में नया मुकाम हासिल किया है। इन लोगों ने कई बार ऐसे निर्णय लिए हैं जो की किसी सामान्य अप्रोच रखने वाले व्यक्ति के लिए संभव नहीं थे लेकिन उन्हीं की सहायता से आज ये अपने क्षेत्र में सबसे अधिक लोकप्रिय तथा प्रभावशाली है। 

संभावित उत्तर #3

मुझे ऐसा लगता है की एक स्मार्ट वर्क करने वाला व्यक्ति ही होता है जो अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निरंतर बिना रुके प्रयास करते रहता है। उसे हमेशा पॉजिटिव अप्रोच के साथ कार्य महत्व देकर एक स्वास्थ्य मस्तिष्क से निरंतर सफलता प्राप्त करने के लिए प्रयास करते रहना चाहिए। 

एक हार्ड वर्कर को भी स्मार्ट वर्कर कि तरह अपने लक्ष्यों को प्राप्त करना चाहिए लेकिन उसके विषय में कठिन निर्णय लेने, प्रोब्लम सॉल्विंग में तथा नए परिवर्तन को अपनाने में थोड़ी कमी हो सकती है। हमे हमेशा यह सोच रखनी चाहिए की हम किसी भी कार्य को करने के लिए उस पर केंद्रित रहें तथा कहीं किसी प्रकार की कोई समस्या आने पर किसी अन्य व्यक्ति की सहायता लेने के लिए भी बिना हिचकिचाए तैयार रहें। एक स्मार्ट वर्कर की अप्रोच रखकर किसी भी कार्य में टीम वर्क कि सहायता से लक्ष्यों की प्राप्ति आसानी से कि जा सकती है। 

FAQs

स्मार्ट वर्क में काम न करने पर जोर दिया जाता है?

नहीं, स्मार्ट वर्क में कार्य को प्रभावशाली ढंग से कम समय में पूरा किया जाता है।

किस प्रक्रिया में अधिक समय लगता है?

हार्ड वर्क करने में एक परंपरागत पैटर्न में निश्चित समय लगता है।

क्या हार्ड वर्क के साथ स्मार्ट वर्क करने से सफलता प्राप्त होगी?

हां, ऐसा करने से आपको दूसरे लोगों की तुलना में कम समय मे सफलता प्राप्त होती है।

हमें आशा है कि इस ब्लॉग से आपको हार्ड वर्क vs स्मार्ट वर्क के बारे सम्पूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते है तो आज ही हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert