बीएससी जैव प्रौद्योगिकी में कैसे करें?

1 minute read
22 views
10 shares
Leverage Edu Default Blog Cover

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी अंडर ग्रेजुएट डिग्री कोर्स है, इसे 12वीं के बाद कर सकते है। यह छात्रों के लिए बहुत दिलचस्प कोर्स है। यदि आप बायोटेक्नोलॉजी में करियर बनाना चाहते है, तो यह अच्छा कोर्स है। बीएससी जैव प्रौद्योगिकी और इसके करियर के बारे में इस ब्लॉग में बताया गया है।

कोर्स स्तर अंडरग्रेजुएट 
फुल फॉर्म  बैचलर ऑफ साइंस इन बायोटेक्नोलॉजी
अवधि 3 वर्ष
औसत वार्षिक शुल्क INR 50,000 से 2,00,000
नौकरी की स्थिति बायोकेमिस्ट, एपिडेमियोलॉजिस्ट, लैब टेक्निशियन, आदि
औसत वार्षिक वेतन INR 3,00,000 – 8,00,000

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी क्या है?

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है, यह 3 साल का होता है। जैव प्रौद्योगिकी विज्ञान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जिसमें जैविक प्रणालियों और जीवों के बारे में अध्ययन कराते हैं। यह आणविक जीव विज्ञान, जैव रसायन, सूक्ष्म जीव विज्ञान, रसायन इंजीनियरिंग, प्रतिरक्षा विज्ञान, चिकित्सा, कृषि आदि से संबंधित विभिन्न वैज्ञानिक सिद्धांतों को लागू करके और दवाओं, एंटीबायोटिक दवाओं, एंजाइम आदि के उत्पादन के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करके किया जाता है।

जिम्मेदारियां

  • टीकों का उत्पादन
  • दवा वितरण प्रणाली विकसित करना
  • तर्कसंगत दवा डिजाइन और प्रभावकारिता में सुधार
  • भोजन, ऊतकों, कोशिकाओं, बैक्टीरिया और अन्य जीवित जीवों के सैंपल एकत्र करना और उनका परीक्षण करना।

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी को क्यों चुनें?

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी को क्यों चुनें इसके कारण नीचे दिए गए हैं:

  • बीएससी जैव प्रौद्योगिकी पेशेवरों के साथ एक मजबूत नेटवर्क बनाता है।
  • बीएससी जैव प्रौद्योगिकी में करियर विकल्प काफी हैं जिन्हें आप चुनकर अच्छी सैलरी पा सकते हैं और विदेश में नौकरी करते हुए आप वहाँ के वातावरण का भी अनुभव ले सकते हैं।
  • जीव विज्ञान की नवीनतम शाखाओं में से एक है प्रौद्योगिकी है जिसमें कई प्रकार के शोध और खोज करने को मिलता है।

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी के लिए स्किल्स

कुछ स्किल्स यहां दी गई हैं, जो बीएससी जैव प्रौद्योगिकी कोर्स करने के साथ ही सफल करियर बनाने के लिए होनी ज़रूरी है। 

  • विश्लेषणात्मक और समस्या-समाधान कौशल
  • महत्वपूर्ण विचार कौशल
  • संचार कौशल
  • नेतृत्व कौशल
  • टीम वर्क

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी का सिलेबस

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी का तीनों वर्षों के अनुसार सामान्य सिलेबस यहां दिया गया है:

साल सिलेबस
बीएससी जैव प्रौद्योगिकी प्रथम वर्ष -जैविक विविधता
-रसायन विज्ञान का परिचय
-बायोफिज़िक्स
-इंस्ट्रुमेंटेशन तकनीक
-कीटाणु-विज्ञान
बीएससी जैव प्रौद्योगिकी द्वितीय वर्ष -आनुवंशिकी और विकास
-सेलुलर चयापचय
-माइक्रोबियल विविधता
-जैव सूचना विज्ञान
-पशु और पौधे जैव प्रौद्योगिकी
-ऐच्छिक
बीएससी जैव प्रौद्योगिकी तृतीय वर्ष -इम्यूनोलॉजी
-जैव रासायनिक इंजीनियरिंग
-बायोप्रोसेस
-फार्मास्युटिकल बायोटेक्नोलॉजी
-ऐच्छिक
-रिसर्च परियोजना/निबंध

विदेश में टॉप यूनिवर्सिटीज़

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी की पढ़ाई के लिए विदेश में टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट यहां दी गई है:

भारत में टॉप विश्वविद्यालय

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी की पढ़ाई के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट यहां दी गई है:

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आईआईटी
  • बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी और साइंस, बिट्स
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, डीयू
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, बीएचयू
  • वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, वीआईटी
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, एनआईटी
  • दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, डीटीयू
  • जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी
  • मणिपाल अकादमी ऑफ हाइअर एजुकेशन
  • थापर इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी

योग्यता

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी कोर्स में नामांकित होने के लिए, आपको विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा, जिनकी जानकारी नीचे दी गई है:

  • आपको किसी भी मान्यता प्राप्त शैक्षिक बोर्ड से गणित के साथ BIPC विषयों (जीव विज्ञान, भौतिकी और रसायन विज्ञान)  में 10+2 स्तर या समकक्ष उत्तीर्ण होना चाहिए ।
  • विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा में न्यूनतम प्रतिशत, यदि कोई हो। 
  • आपके पास एक वैध IELTS/TOEFL/PTE स्कोर होना चाहिए। 
  • यदि आप कनाडा/यूएसए में अध्ययन करने की योजना बना रहे हैं तो SET/SAT परीक्षा स्कोर आवश्यक हैं।
  • आपको स्टेटमेंट आफ पर्पज SOP, लेटर ऑफ रिकमेंडेशन LOR , और अकादमिक ट्रांसक्रिप्ट भी जमा करना होगा।

आवेदन प्रक्रिया

बीए राजनीति विज्ञान के लिए भारत और विदेशी विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया के बारे में नीचे बताया गया है:

विदेश के लिए आवेदन प्रक्रिया 

विदेश के विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है-

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स और यूनिवर्सिटी का चुनाव है। 
  • कोर्स और यूनिवर्सिटी के चुनाव के बाद उस कोर्स के लिए उस यूनिवर्सिटी की एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के बारे में रिसर्च करें।
  • आवश्यक टेस्ट स्कोर और दस्तावेज एकत्र करें।
  • यूनिवर्सिटी की साइट पर जाकर एप्लीकेशन फॉर्म भरें या फिर आप Leverage Edu एक्सपर्ट्स की भी सहायता ले सकते हैं।
  • ऑफर की प्रतीक्षा करें और सिलेक्ट होने पर इंटरव्यू की तैयारी करें। 
  • इंटरव्यू राउंड क्लियर होने के बाद आवश्यक ट्यूशन शुल्क का भुगतान करें और स्कॉलरशिप, छात्रवीजा, एजुकेशन लोन और छात्रावास के लिए आवेदन करें।

भारतीय विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है–

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़

कुछ ज़रूरी दस्तावेज़ों की लिस्ट नीचे दी गई हैं–

  • आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्ट
  • स्कैन किए हुए पासपोर्ट की कॉपीI
  • IELTS या TOEFL, आवश्यक टेस्ट स्कोर 
  • प्रोफेशनल/एकेडमिक LORs 
  • SOP 
  • निबंध (यदि आवश्यक हो)
  • पोर्टफोलियो (यदि आवश्यक हो)
  • अपडेट किया गया सीवी/रिज्यूमे 
  • एक पासपोर्ट और छात्र वीज़ा  
  • बैंक विवरण 

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी के लिए किताबें

नीचे दी गई तालिका में सूचीबद्ध पुस्तकें बीएससी जैव प्रौद्योगिकी कोर्स के लिए काफ़ी पसंद की जाती हैं:

पुस्तक का नाम लेखक का नाम 
Biotechnology बी.डी.सिंह
A Problem Approach प्रणव कुमार & उषा मीना
Gene Cloning and DNA Analysis टी.ए. ब्राउन
Lehninger Principles of Biochemistry – Fifth Edition डेविड एल. नेल्सन

प्रवेश परीक्षाएं

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी के लिए प्रवेश परीक्षा निम्नलिखित हैं: 

परीक्षा का नाम परीक्षा तिथि
DUET जून 2022
KIITEE जून 2022
SAAT जून 2022
KCET  जुलाई 2022

करियर स्कोप

बीएससी बायोटेक्नोलॉजी कोर्स जैव सूचना विज्ञान, माइक्रोबायोलॉजी, बायोकैमिस्ट्री, बायोमोलेक्यूल्स, सेल्युलर मेटाबॉलिज्म, जीन आदि से संबंधित विभिन्न अवधारणाओं में ज्ञान प्रदान करता है इस प्रकार, बीएससी बायोटेक्नोलॉजी कोर्स में या तो अपना करियर शुरू कर सकते हैं या एमएससी बायोटेक्नोलॉजी जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से उच्च अध्ययन कर सकते हैं, इनमे से कुछ नीचे दिए गए हैं:

  • शैक्षणिक
  • जैव उद्योग
  • आईटी कंपनियां
  • अनुसंधान प्रयोगशालाएं
  • सरकारी और निजी अस्पताल
  • दवा कंपनियां
  • फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री
  • कृषि क्षेत्र

जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी

नीचे दी गई तालिका में बीएससी बायोटेक्नोलॉजी डिग्री वालों के लिए उनके संबंधित वेतन के साथ कुछ सबसे सामान्य जॉब प्रोफाइल नीचे दी गई है:

नौकरी प्रोफाइल्स वेतन
बायोकेमिस्ट INR 5,25,000
प्रयोगशाला तकनीशियन INR 2,85,000
रिसर्च वैज्ञानिक INR 5,45,000
बायोटेक एनालिस्ट INR 6,85,000
व्याख्याता/प्रोफेसर INR 6,00,000

FAQs

जैव प्रौद्योगिकी में बीएससी क्या है?

BSc बैचलर ऑफ साइंस अंडर ग्रेजुएट डिग्री कोर्स है इसे 12 वीं के बाद कर सकते है।

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी कितने साल का होता है?

बीएससी जैव प्रौद्योगिकी कोर्स 3 साल का होता है।

बायो टेक्नोलॉजी का मतलब क्या होता है?

जैव प्रौद्योगिकी  विज्ञान का एक अनुशासन है जिसमें जैविक प्रणालियों और जीवों के माध्यम से निर्माण कराते हैं।

उम्मीद है, आपको बीएससी जैव प्रौद्योगिकी के बारे में सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आप इस कोर्स को विदेश में करना चाहते हैं तो Leverage Edu एक्सपर्ट्स को 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert