जानिए क्यों हुआ Green Revolution

Rating:
4.3
(6)
what is green revolution

Green Revolution एक कृषि सुधार था जिसने 1950 के दशक के अंत तक 1960 के बीच फसलों के उत्पादन को व्यापक रूप से बढ़ा दिया। इसमें फसलों के उत्पादन को बढ़ाने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले कच्चे माल के साथ उच्च अंत तकनीकों और प्रौद्योगिकियों का उपयोग शामिल है। इस तकनीक के आगमन ने वैश्विक कृषि को बदल दिया और भारत सहित विभिन्न विकासशील देशों को बड़े पैमाने पर अकाल से रोका। आश्चर्य है कि भारत में Green Revolution की शुरुआत किसने की? या Green Revolution की मुख्य विशेषताएं क्या हैं? फिर इस ब्लॉग पर पढ़ें और भारत के साथ-साथ दुनिया में Green Revolution के बारे में सब कुछ पता करें।

क्या आप जानते हैं? “हरित क्रांति” शब्द को तीसरे विश्व के कई देशों में सफल कृषि प्रयोगों के लिए लागू किया जाता है। यह भारत के लिए विशिष्ट नहीं है। लेकिन यह भारत में सबसे सफल रहा।

Check it : Indira Gandhi biography in hindi

Green Revolution का इतिहास 

अमेरिकी वैज्ञानिक नॉर्मन बोरलॉग को Green Revolution की शुरुआत का श्रेय दिया जाता है। 1904 के दशक में मेक्सिको में अनुसंधान करते हुए, उन्होंने गेहूं की नई उच्च उपज वाली किस्मों को विकसित किया, जिसमें उच्च रोग प्रतिरोधक क्षमता थी। 

  • जैसा कि मेक्सिको उच्च अंत यंत्रीकृत कृषि प्रौद्योगिकियों से लैस था, यह अधिशेष का उत्पादन करने में सक्षम था और इसलिए, 1960 के दशक तक गेहूं के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक बन गया।
  •  इन किस्मों के उपयोग से पहले, देश का लगभग आधा गेहूं आयात किया जा रहा था। 
  • मेक्सिको में Green Revolution की सफलता को देखते हुए, 1950 और 1960 के दशक में त्वचा को दुनिया भर में लोकप्रियता मिली।
  • 1950 के दशक में Green Revolution प्रौद्योगिकियों को अपनाने के बाद, अमेरिका ने न केवल अपनी जरूरतों को पूरा किया बल्कि गेहूं का निर्यातक बन गया, जो कि 1940 के दशक में एक आयातक था। 

अमेरिका के बाद, Green Revolution से दुनिया भर के कई देशों को फायदा हुआ। भारत भी उनमें से एक था जो 1960 के दशक की शुरुआत में आबादी में बड़े पैमाने पर अकाल की वजह से था लेकिन बाद में गेहूं का निर्यातक बन गया। बाद में, बोरलॉग और फॉर फाउंडेशन ने IR8 नामक चावल की एक नई किस्म विकसित करके शोध किया। अब, भारत चावल के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है, विशेष रूप से IR8 चावल।

दुनिया को खिलाने वाले और हरित क्रांति के जनक के रूप में जाने जाने वाले नॉर्मन बोरलॉग एक अमेरिकी कृषि वैज्ञानिक हैं, जिन्होंने गेहूं के नए रोग प्रतिरोध उच्च उपज किस्मों का विकास किया। 

Check it : Sarojini Naidu biography

भारत में Green Revolution क्या है?

अगर कृषि गलत हो जाती है, तो हमारे देश में और कुछ भी सही होने का मौका नहीं होगा।”

– एम। एस। स्वामीनाथन

स्वतंत्रता के बाद के शुरुआती वर्षों में भारतीय कृषि प्रणाली सबसे खराब देखी गई। निधियों की कमी, कम उपज वाले कच्चे माल, मशीनरी और प्रौद्योगिकी की कमी , उस समय कुछ मुख्य समस्याएं थीं। कृषि क्षेत्र की बिगड़ती हालत को समझते हुए, भारत सरकार ने Green Revolution की शुरुआत की जिसके माध्यम से देश में उच्च उपज वाले किस्म (HYV) के बीजों का उपयोग किया गया। इसके साथ-साथ सिंचाई सुविधाओं में सुधार और अधिक प्रभावी उर्वरकों के उपयोग में वृद्धि हुई। इस सब के कारण भारत में उच्च गुणवत्ता वाली फसलों का बड़े पैमाने पर उत्पादन हुआ। इन मुद्दों के लिए एक इष्टतम समाधान खोजने के लिए, 1965 में एमएस स्वामीनाथन के मार्गदर्शन में भारत सरकार ने 1967- 1978 तक चली Green Revolution की शुरुआत की।

भारत में हरित क्रांति के जनक के रूप में भी जाना जाता है, एमएस स्वामीनाथन एक भारतीय आनुवंशिकीविद् और प्रशासक हैं।

Check it : Rowlatt act 

Green Revolution की विशेषताएं

नीचे दी गई हैं Green Revolution की विशेषताएं: 

  • सभी की सबसे प्रभावी विशेषता भारतीय कृषि में HYV बीजों की शुरुआत थी। 
  • धाराप्रवाह सिंचाई सुविधाओं वाले क्षेत्रों में बीज अत्यधिक प्रभावी साबित हुए, इस प्रकार, पहला चरण पंजाब और तमिलनाडु पर केंद्रित था। 
  • योजना के दूसरे चरण में, अन्य राज्यों को भी शामिल किया गया था और गेहूं के अलावा विभिन्न फसलों के लिए बीज का उपयोग किया गया था।
  • Green Revolution ने एक अंतर्देशीय सिंचाई प्रणाली का उपयोग शुरू किया क्योंकि देश केवल अपनी पानी की जरूरतों के लिए मानसून पर निर्भर नहीं हो सकता है।
  • योजना में मुख्य रूप से खाद्यान्न जैसे गेहूं, चावल आदि के उत्पादन पर ध्यान केंद्रित किया गया था और जूट, कपास, तिलहन आदि जैसे व्यावसायिक फसलों को योजना से प्रतिबंधित किया गया था।
  • इसने किसी भी तरह के प्राकृतिक नुकसान से बचने के लिए कीटनाशकों और खरपतवारनाशकों के उपयोग को सीमित करते हुए उर्वरकों और खादों के उपयोग को बढ़ावा दिया।
  • तकनीकी रूप से उन्नत मशीन जैसे ट्रैक्टर, ड्रिल, हार्वेस्टर आदि का उपयोग लागू किया गया। 

Check it : Indian Freedom fighters

भारत में Green Revolution का प्रभाव

भारत में Green Revolution के परिणाम को समझें और इसने निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से देश के लाखों लोगों को कैसे प्रभावित किया: 

  • कृषि उत्पादन में वृद्धि: अनाज के उत्पादन में विशेष रूप से गेहूँ के उत्पादन में बड़ा उछाल आया क्योंकि यह 1960 में 11 मिलियन टन से बढ़कर 1990 में 55 मिलियन टन हो गया।
  • प्रति एकड़ पैदावार में वृद्धि: Green Revolution का बड़ा असर फसलों के प्रति एकड़ उत्पादन को मापने के दौरान देखा जा सकता है, जो कि 850 किलो / हेक्टेयर से लेकर 2281 किलोग्राम / हेक्टेयर तक की जबड़ा छोड़ने वाली रिकॉर्ड की गई।
  • आयात की शर्तों में स्वतंत्रता : उत्पादन में बढ़ोतरी के साथ, आपात स्थिति के लिए पर्याप्त स्टॉक इकट्ठा किए गए थे। इससे आयात में छूट मिली और भारत ने निर्यात करना शुरू किया।
  •  रोजगार: इस योजना में परिवहन, सिंचाई, खाद्य प्रसंस्करण, विपणन और कई अन्य अवसर शामिल थे; Green Revolution ने लोगों को बेरोजगारी से निपटने में मदद की।
  • किसानों को राहत: कृषि क्षेत्र में कमी के कारण किसानों की दयनीय स्थिति अब पहले जैसी नहीं रही। किसानों ने न केवल अपनी आय में वृद्धि का अनुभव किया, बल्कि विलासिता की कमाई भी शुरू कर दी।

Check it : Indian national movement

Green Revolution के आर्थिक प्रभाव

  • Green Revolution से देश में खाद्यान्न उत्पादन तथा खाद्यान्न गहनता दोनों में तीव्र वृद्धि हुई थी।
  • भारत अनाज उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर हो सका है।
  •  वर्ष 1968 में गेहूँ का उत्पादन 170 लाख टन हो गया था।
  • जो कि उस समय का रिकॉर्ड था और उसके बाद के वर्षों में यह उत्पादन लगातार बढ़ता गया।

Green Revolution के बाद कृषि में नवीन मशीनों जैसे- ट्रैक्टर, हार्वेस्टर, ट्यूबवेल, पंप आदि का प्रयोग किया जाने लगा। इस प्रकार तकनीकी के प्रयोग से कृषि का स्तर बढ़ा , कम ,समय और श्रम में अधिक उत्पादन संभव हुआ था।

कृषि के मशीनीकरण के चलते कृषि हेतु प्रयोग होने वाली मशीनों के अलावा हाइब्रिड बीजों, कीटनाशकों, खरपतवार नाशक तथा रासायनिक उर्वरकों की मांग में तीव्र वृद्धि  होती गई थी। 

  • परिणामस्वरूप देश में इससे संबंधित उद्योगों का अत्यधिक विकास हुआ था।
  • Green Revolution के फलस्वरूप कृषि के विकास के लिये आवश्यक अवसंर रचनाएँ भी हुई थी।
  • जैसे- 
    • परिवहन सुविधा हेतु सड़कें,
    • ट्यूबवेल द्वारा सिंचाई, श
    • ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति, 
    • भंडारण केंद्रों
    • अनाज मंडियों का विकास होने लगा।

Check it: झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के जीवन की कहानी

 Green Revolution के विभिन्न फसलों के लिये न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum Support Price- MSP) और अन्य सब्सिडी सेवाओं का प्रावधान भी इसी समय शुरू किया गया था। Green Revolution के फलस्वरूप किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य मिलना संभव हो सका था। किसानों को दिये जाने वाले इस प्रोत्साहन मूल्य से वे नई कृषि तकनीक अपनाने में सक्षम हुए थे और साथ ही देश की प्रगति हुई थी ।

  • किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने लिये विभिन्न वाणिज्यिक, सहकारी बैंक और कोआपरेटिव सोसाइटी आदि के माध्यम से उन्हें ऋण सुविधाएँ दी जाने लगी थी, ताकि उनकी फसल अच्छी हो। 
  • Green Revolution के  कारण किसान कृषि में लगने वाली लागत को आसानी से इन संस्थाओं से प्राप्त कर सके थे ।

Green Revolution तथा मशीनीकरण से उत्पादन में हुई बढ़ोतरी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार के नए अवसर विकसित हुए थे और धीरे-धीरे देश की प्रगति में होती जा रही थी। 

  • Green Revolution की वजह से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार तथा ओडिशा से लाखों की संख्या में मज़दूर पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रोज़गार की तलाश में जाने लगे।

Check it :  Maurya Samrajya का परिचय

Green Revolution के सामाजिक प्रभाव

Green Revolution की वजह से भारत के ग्रामीण समाज में व्यापक स्तर पर बदलाव हुए थे। इनमें से सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण था ग्रामीण समाज का बाज़ारोन्मुख और गतिशील होना। 

  • Green Revolution के बाद कृषि पूर्व की भाँति मात्र एक जीविकोपार्जन का साधन नहीं रही बल्कि यह अब ग्रामीण समाज के आय का मुख्य स्रोत बन गई है, इसके कारण  सामाजिक जीवन में प्रभाव पड़ा था।

किसानों की आय बढ़ने से उनके सामाजिक और शैक्षिक स्तर का विकास हुआ था। Green Revolution की वजह से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों में स्वकेंद्रण की भावना का विकास हुआ था। जिससे पारंपरिक संयुक्त परिवारों के स्थान पर एकल परिवार की व्यवस्था प्रचलन में आई थी ।

  • Green Revolution के कारण लोगों की आय में वृद्धि हुई ।
  • इसने ग्रामीण समाज में पारंपरिक रूप से चली आ रही प्रथाओं को समाप्त किया था।
  • जैसे- जजमानी प्रथा, वस्तु-विनिमय (Barter) आदि 
  • Green Revolution के विषय में यह कहना गलत होगा कि यह छोटे और सीमांत किसानों की तुलना में बड़े किसानों के लिये अधिक लाभप्रद रही थी। 
  • इसका मुख्य कारण नई तकनीकी में लगने वाली अत्यधिक लागत थी और देश के किसानों को सहायता करने की थी। जिसे छोटे किसानों द्वारा वहन करना संभव नहीं था।
  • इसका परिणाम यह हुआ कि धनी और निर्धन किसानों के बीच असमानता बढ़ती गई थी।
  • इसी कारण की वजह से कुछ स्थानों पर इस असमानता की वजह से संघर्ष भी हुए थे।
  • जहाँ Green Revolution ने अर्थव्यवस्था, समाज तथा संस्कृति में बदलाव किये, वहीं इससे कई नैतिक समस्याएँ भी पैदा हुईं। 
  • उत्तर भारत के इलाकों के किसानों के  सेवन में प्रवृत्ति बढ़ी थी।
  • जैसे- पंजाब, हरियाणा तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश में नशा, शराब ।
  • Green Revolution का महिलाओं के जीवन पर भी व्यापक प्रभाव पड़ा था। Green Revolution से पूर्व महिलाएँ बाहर खेतों में काम करके घर के पुरुष सदस्यों का हाथ बटाया करती थीं लेकिन किसानों की बढ़ती आय तथा मशीनों के बढ़ते प्रयोग से ग्रामीण महिलाओं की स्वतंत्रता कम हुई थी, उनके रोजे जीवन में बदलाव आ गया था।

Check it : भारत के लोकप्रिय कवि

Green Revolution के राजनीतिक प्रभाव

भारतीय राजनीति के क्षेत्र में Green Revolution  ने दूरगामी प्रभाव डाले गए थे। 

  • इस दौर के समय में किसानों के नए वर्ग ने स्थानीय स्तर की राजनीति में भाग लेना प्रारंभ किया था। 
  • पूर्व में राजनीति जहाँ समाज के उच्च जातियों और धनी वर्ग द्वारा ही नियंत्रित होती थी परंतु कुछ बदलाव होने के बाद उसमें अब समाज के छोटे तबके के लोगों की भागीदारी बढ़ी दी गई थी।

Green Revolution ने स्वतंत्रता के बाद बहुत सारे बदलाव आए थे जैसे ज़मींदारी उन्मूलन, भूमि सुधार , कदमों के चलते भारत में समतामूलक समाज के निर्माण को गति प्रदान की थी। किसानों को बहुत ही सहायता मिली थी, इससे छोटे और मध्यम स्तर के किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ और इससे उन्हें शिक्षा तथा राजनीतिक चेतना का विकास हुआ था।

  • मुद्दों को ऊपर सर पर लिया गया था किसान तथा उनसे संबंधित मुद्दों को केवल स्थानीय स्तर पर ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर महत्व दिया जाने लगा।
  • Green Revolution की वजह से किसानों से संबंधित अनेक संगठनों का निर्माण हुआ और पूरे देश में उनकी भूमिका एक दबाव समूह की भाँति निर्मित हुई थी।
  • धीरे-धीरे आगे विकसित होता गया और किसान के साथ उनसे संबंधित मुद्दे देश के मुख्य राजनीतिक दलों के लिये वोट बैंक बने और विभिन्न दलों ने किसानों के मुद्दों की वकालत करना प्रारंभ किया था ।

Green Revolution के घटक

Green Revolution में जो नई कृषि रणनीति अपनाई गई उसके घटक निम्न है-

  • अधिक उपज देने वाले बीजों का प्रयोग
  • कृषि उत्पादन में उर्वरक, खाद और रसायन का प्रयोग
  • कई फसलों का उत्पादन
  • बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर की सुविधाएं
  • मूल्य प्रोत्साहन
  • बेहतर वित्तीय सहायता
  • सिंचाई की सुविधाओ का विकास
  • कृषि सेवा केन्द्रो की स्थापना की गई
  • कृषि उद्योग निगम की स्थापना

कैसे बनें Motivational Speaker?

Green Revolution की कमियां क्या हैं?

दुनिया भर में कृषि क्षेत्र के सबसे महत्वपूर्ण विकासों में से एक के रूप में पहचाने जाने के बाद भी, Green Revolution में कुछ कमियां थीं। 

नीचे उल्लेखित भारत में Green Revolution की कमियां हैं-

  • खाद्यान्नों में प्रमुख असंतुलन देखा गया। 
  • गेहूं, चावल, बाजरा, ज्वार और मक्का जैसे ऑटो साग योजना का एक हिस्सा होगा लेकिन यह मुख्य रूप से गेहूं को सशक्त बनाता है।
  • दालों, तिलहन, अनाज, आदि जैसी फसलों के लिए HYV बीज अभी तक विकसित नहीं हुए हैं या वे अत्यधिक कुशल नहीं हैं। 
  • व्यापक Green Revolution के साथ क्षेत्रीय विषमताएँ प्रज्वलित होने लगीं। 
  • चूंकि उसने केवल पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी यूपी, तमिलनाडु जैसे क्षेत्रों को लाभान्वित किया; संपूर्ण पूर्वी क्षेत्र- पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, असम आदि पूरी तरह से अछूते हैं। 
  • Green Revolution का भी मृदा पर गंभीर प्रभाव पड़ता है क्योंकि एक ही फसल पर एक ही फसल के दोहराव के परिणामस्वरूप मृदा में कमी होती है।

भूरी दुनिया के विकासशील राष्ट्रों की तुलना में विशेषाधिकार प्राप्त दुनिया के संपन्न देशों में हरित क्रांति का पूरी तरह से अलग अर्थ है।”

– नॉर्मन बोरलॉग

भारत में Green Revolution के जनक

 एम एस स्वामीनाथन वह व्यक्ति है, जिन्हे भारत में Green Revolution का जनक माना जाता है। यह मुख्य रूप से पौधे के जेनेटिक वैज्ञानिक है‌।  इन्होने मैक्सिको के बीजों को पंजाब के घरेलू किस्म के बीजों के साथ मिश्रित किया और गेंहू कि फसल के लिए उच्च उत्पादन क्षमता वाले बीज निर्मित किए थे ‌।  इनके कार्य की वजह से इन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

Source: Free  education

आशा करते हैं कि आपको Green Revolution का ब्लॉग अच्छा लगा होगा ।जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी इसकी जानकारी प्राप्त कर सके और जो विद्यार्थी यूपीएससी, एसएससी की तैयारी कर रहे हो तो वह का ज्ञान प्राप्त कर सके ।हमारे Leverage Edu में आपको इसी प्रकार के कई सारे ब्लॉग मिलेंगे जहां आप संपूर्ण जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी विषय में दिक्कत आ रही हो तो हमारे विशेषज्ञों आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Mahatma Gandhi Essay in Hindi
Read More

Mahatma Gandhi Essay in Hindi

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी भारत के ही नहीं बल्कि संसार के महान पुरुष थे। वे आज के इस युग…
Namak Ka Daroga
Read More

Namak Ka Daroga Class 11

यहाँ हम हिंदी कक्षा 11 “आरोह भाग- ” के पाठ-1 “Namak Ka Daroga Class″ कहानी के  के सार…