EMI क्या है

Rating:
0
(0)
EMI क्या है

भाग दौड़ के इस रोज मर्रा ज़िन्दगी में हमे घर,गाडी एवं कई ज़रूरतमंद चीजों के लिए लोन की आवश्यकता पड़ सकती है। अपनी इन ज़रूरतों को पूरा करने के लिए हमे लोन की आवश्यकता पड़ती है जो किसी भी बैंक से प्राप्त कर सकते है। जब भी आप किसी बैंक से लोन की पुष्टि करते हो तो इस बात का ध्यान ज़रूर रखेँ कि आपको EMI क्या है इसकी पूर्ण जानकारी ज्ञात है। कोई भी बैंक अपने लोन प्रक्रिया को नियमित रूप से व्यवस्थित रखती है।

EMI क्या है

EMI का अर्थ है समान मासिक किश्त | जब भी हम किसी बैंक या कंपनी से बड़े राशि का लोन लेते है तो उसके साथ मूल राशि व ब्याज भी जुड़ जाता है। इस बढ़ती राशि को हम मासिक रूप से किश्त भर कर समाप्त कर सकते हैं। इस मासिक भुगतान को ही EMI कहते हैं। EMI की फुल फॉर्म होती है – Equity Monthly Installment जिसका मतलब है समान मासिक किश्त. EMI दो प्रकार के होते हैं –

  1. मूलधन पुनर्भुगतान  
  2. ब्याज़

हर बैंक के लोन का ब्याज़ अलग होता है और जो बैंक अधिक मात्रा में लोन माफ़ करे वह बेहतर होता है।

EMI के तरीके 

जब कभी भी आप लोन लेते हैं तो आपको एक नियमित राशि मिलती है। इस मूल राशि में समय के हिसाब से ब्याज जुड़ते रहते हैं। इसी मूलराशि की भरपाई को ही EMI कहते हैं। इस लोन राशि में ब्याज सहित आपके मासिक किश्त में जुड़ती रहती है। 

जब कभी हम किसी लोन का भुगतान EMI के माध्यम से करते हैं तो इसके दो तरीकें होते हैं। 

  1. ऑफलाइन – जिस भी बैंक संस्थान से आपने लोन लिया हो, उसके नजदीकी ब्रांच में भुगतान कर सकते हैं।
  2. ऑनलाइन –  ऑनलाइन माध्यम का इस्तेमाल करके हम क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भुगतान कर सकते हैं। 

LOAN की Duration

कोई भी बैंक या संस्थान जब हमे एक बड़ी राशि देती है तो साथ ही साथ एक नियमित समय भी देती है जिसके अंदर कुछ ब्याज़ भी जुड़े रहते हैं। अगर हम इस नियमित समय में भुगतान नहीं कर पाते हैं तो कानूनी कार्रवाई हो सकती है। लोन कई प्रकार के होते हैं जैसे कार लोन,होम लोन,बाइक लोन,बिज़नेस लोन,आदि। अपनी जरूरतों के अंतर्गत ही हम सही लोन का चयन करते हैं। 

हम इस लोन की राशि को एक बार में भी चुका सकते हैं किन्तु मूलराशि बड़ी होने के कारण ये संभव नहीं होता है और इसी कारण मासिक किश्त भरना बेहतर विकल्प होता है। हमारी अवधि हमारे लोन के amount पर निर्भर करती है। जितनी बड़ी लोन राशि होती है उतनी ही कम EMI होती है। 

No Cost EMI क्या है 

जैसा कि हमे नाम से मालूम पड़ गया कि वो हर प्रकार कि EMI जिसमे सिर्फ प्रोडक्ट कि कीमत का भुगतान करना पड़ता है उसे No Cost EMI कहते हैं। दूसरे शब्दों में नो कॉस्ट EMI वह तरीका है जिसमे हमे ब्याज नहीं देना पड़ता है। 

जैसे कि एक उदाहरण ले सकते हैं – मैंने एक प्रोडक्ट 10,000 रुपयों में किश्त पर ख़रीदा तो दो महीने की इसकी No Cost EMI 5000-5000 रूपये होगी। 

EMI कैसे निकालें

 हमारे EMI की गणना मासिक आधार पर की जाती है। इसका हिसाब हम किसी बैंक या संस्थान से लिए हुए मूलराशि से कर सकते हैं। हम अपने EMI लिए मूलराशि का गणित ब्याज़ दर एवं समय कार्यकाल से करेंगे जो  हमारी देय अमाउंट यानी EMI होती है। 

EMI की गणना निम्नलिखित गणितीय सूत्र के आधार पर की जाती है: EMI = P × R × (1 + R) ^ n / ((1 + R) ^ n -1) जहां, P = ऋण(Principal) राशि, R = ब्याज दर, जिसकी गणना मासिक आधार पर की जाती है।

FAQ

EMI का पूरा नाम क्या है ?

EMI का पूरा नाम है Equated Monthly Installment  जिसका अर्थ है समान मासिक किश्त।

Home Loan क्या है ?

Home Loan वह मासिक भुगतान है जो हम Home Loan के लिए चुकाते हैं।

No Cost EMI क्या है ?

वह EMI जिसमे न ब्याज़ लगता है और न ही कोई processing मनी, इस प्रकार की EMI को No Cost EMI कहते हैं।

क्या पर्सनल लोन की EMI पर GST लागू है ?

जी नहीं,पर्सनल लोन पर किसी भी प्रकार का कोई नहीं TAX लागू नहीं है।

आशा करते हैं कि आपको EMI क्या है का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

2 comments

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Bajar Darshan
Read More

Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य…
Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
आर्ट्स सब्जेक्ट
Read More

आर्ट्स सब्जेक्ट

दसवीं के बाद आप कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो आर्ट्स स्ट्रीम आप के लिए ही है। 11वीं…
Namak Ka Daroga
Read More

Namak Ka Daroga Class 11

यहाँ हम हिंदी कक्षा 11 “आरोह भाग- ” के पाठ-1 “Namak Ka Daroga Class″ कहानी के  के सार…