Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions

Rating:
4.5
(61)
Bajar Darshan

बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) श्री जैनेंद्र कुमार द्वारा रचित एक महत्त्वपूर्ण निबंध है जिसमें गहन वैचारिकता और साहित्य सुलभ लालित्य का मणिकांचन संयोग देखा जा सकता है। यह निबंध उपभोक्तावाद एवं बाजारवाद की मूल अंतर वस्तु को समझाने में बेजोड़ है। जैनेंद्र जी ने इस निबंध के माध्यम से अपने परिचित एवं मित्रों से जुड़े अनुभवों को चित्रित किया है कि बाजार की जादुई ताकत कैसे हमें अपना गुलाम बना लेती है। उन्होंने यह भी बताया है कि अगर हम आवश्यकतानुसार बाजार का सदुपयोग करें तो उसका लाभ उठा सकते हैं लेकिन अगर हम जरूरत से दूर बाजार की चमक-दमक में फंस गए तो वह असंतोष, तृष्णा और ईर्ष्या से घायल कर हमें सदा के लिए बेकार बना सकता। है। इन्हीं भावों को लेखक ने अनेक प्रकार से बताने का प्रयास किया है। चलिए जानते हैं Bajar darshan के लेखक परिचय, पाठ का सारांश, शब्द अर्थ,  प्रश्न और उत्तर MCQ के बारे में।

Check Out: विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

Bajar Darshan पाठ का लेखक परिचय

प्रसिद्ध उपन्यासकार जैनेंद्र कुमार का जन्म 1905 ई० में अलीगढ़ में हुआ था। बचपन में ही इनके पिता जी का देहांत हो गया तथा इनके मामा ने ही इनका पालन-पोषण किया। इनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा हस्तिनापुर के गुरुकुल में हुई। इन्होंने उच्च शिक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय, बनारस में ग्रहण की। 1921 ई० में गांधी जी के प्रभाव के कारण इन्होंने पढ़ाई छोड़कर असहयोग अांदोलन में भाग लिया। अंत में ये स्वतंत्र रूप से लिखने लगे। इनकी साहित्य-सेवा के कारण 1984 ई० में इन्हें ‘भारत-भारती’ सम्मान मिला। भारत सरकार ने इन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया। इन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार भी प्राप्त हुआ। इनका देहांत सन 1990 में दिल्ली में हुआ।

रचनाएँ

  • उपन्यास – परख, अनाम स्वामी, सुनीता, त्यागपत्र, कल्याणी, जयवदर्धन, मुक्तिबोध ।
  • कहानी – संग्रह-वातायन, एक रात, दो चिड़ियाँ फाँसी, नीलम देश की राजकन्या, पाजेब।
  • निबंध-संग्रह – प्रस्तुत प्रश्न, जड़ की बात, पूर्वोदय, साहित्य का श्रेय और प्रेय, सोच-विचार, समय और हम।
  • साहित्यिक विशेषताएँ – हिंदी कथा साहित्य में प्रेमचंद के बाद सबसे महत्वपूर्ण कथाकार के रूप में जैनेंद्र कुमार प्रतिष्ठित हुए। इन्होंने अपने उपन्यासों व कहानियों के माध्यम से हिंदी में एक सशक्त मनोवैज्ञानिक कथा-धारा का प्रवर्तन किया।

जैनेंद्र की पहचान अत्यंत गंभीर चिंतक के रूप में रही। इन्होंने सरल व अनौपचारिक शैली में समाज, राजनीति, अर्थनीति एवं दर्शन से संबंधित गहन प्रश्नों को सुलझाने की कोशिश की है। ये गांधीवादी विचारधारा से प्रभावित थे। इन्होंने गांधीवादी चिंतन दृष्टि का सरल व सहज उपयोग जीवन-जगत से जुड़े प्रश्नों के संदर्भ में किया है। ऐसा उपयोग अन्यत्र दुर्लभ है। इन्होंने गांधीवादी सिद्धांतोंजैसे सत्य, अहिंसा, आत्मसमर्पण आदि-को अपनी रचनाओं में मुखर रूप से अभिव्यक्त किया है। भाषा-शैली-जैनेंद्र जी की भाषा-शैली अत्यंत सरल, सहज व भावानुकूल है जिसमें तत्सम शब्दों का प्रयोग बहुलता से हुआ है परंतु तद्भव और उर्दू-फ़ारसी भाषा के शब्दों का प्रयोग अत्यंत सहजता से हुआ है।

Check Out: previous years papers of NTPC

पाठ का सारांश

प्रतिपादय (Predicable)

‘बाजार दर्शन’ (Bajar Darshan) निबंध में गहरी वैचारिकता व साहित्य के सुलभ लालित्य का संयोग है। कई दशक पहले लिखा गया यह लेख आज भी उपभोक्तावाद व बाजारवाद को समझाने में बेजोड़ है। जैनेंद्र जी अपने परिचितों, मित्रों से जुड़े अनुभव बताते हुए यह स्पष्ट करते हैं कि बाजार की जादुई ताकत मनुष्य को अपना गुलाम बना लेती है। यदि हम अपनी आवश्यकताओं को ठीक-ठीक समझकर बाजार का उपयोग करें तो उसका लाभ उठा सकते हैं। इसके विपरीत, बाजार की चमक-दमक में फेंसने के बाद हम असंतोष, तृष्णा और ईष्या से घायल होकर सदा के लिए बेकार हो सकते हैं। लेखक ने कहीं दार्शनिक अंदाज में तो कहीं किस्सागो की तरह अपनी बात समझाने की कोशिश की है। इस क्रम में इन्होंने केवल बाजार का पोषण करने वाले अर्थशास्त्र को अनीतिशास्त्र बताया है।

सारांश

लेखक अपने मित्र की कहानी बताता है कि एक बार वे बाजार में मामूली चीज लेने गए, परंतु वापस बंडलों के साथ लौटे। लेखक के पूछने पर उन्होंने पत्नी को दोषी बताया। लेखक के अनुसार, पुराने समय से पति इस विषय पर पत्नी की ओट लेते हैं। इसमें मनीबैग अर्थात पैसे की गरमी भी विशेष भूमिका अदा करता है। 0. पैसा पावर है, परंतु उसे प्रदर्शित करने के लिए बैंक-बैलेंस, मकान-कोठी आदि इकट्ठा किया जाता है। पैसे की पर्चेजिंग पावर के प्रयोग से पावर का रस मिलता है। लोग संयमी भी होते हैं। वे पैसे को जोड़ते रहते हैं तथा पैसे के जुड़ा होने पर स्वयं को गर्वीला महसूस करते हैं। मित्र ने बताया कि सारा पैसा खर्च हो गया। मित्र की अधिकतर खरीद पर्चेजिंग पावर के अनुपात से आई थी, न कि जरूरत की।

लेखक कहता है कि फालतू चीज की खरीद का प्रमुख कारण बाजार का आकर्षण है। मित्र ने इसे शैतान का जाल बताया है। यह ऐसा सजा होता है कि बेहया ही इसमें नहीं फँसता। बाजार अपने रूपजाल में सबको उलझाता है। इसके आमंत्रण में आग्रह नहीं है। ऊँचे बाजार का आमंत्रण मूक होता है। यह इच्छा जगाता है। हर आदमी को चीज की कमी महसूस होती है। चाह और अभाव मनुष्य को पागल कर देता है। असंतोष, तृष्णा व ईष्र्या से मनुष्य सदा के लिए बेकार हो जाता है।

लेखक का दूसरा मित्र दोपहर से पहले बाजार गया तथा शाम को खाली हाथ वापस आ गया। पूछने पर बताया कि बाजार में सब कुछ लेने योग्य था, परंतु कुछ भी न ले पाया। एक वस्तु लेने का मतलब था, दूसरी छोड़ देना। अगर अपनी चाह का पता नहीं तो सब ओर की चाह हमें घेर लेती है। ऐसे में कोई परिणाम नहीं होता। बाजार में रूप का जादू है। यह तभी असर करता है जब जेब भरी हो तथा मन खाली हो। यह मन व जेब के खाली होने पर भी असर करता है। खाली मन को बाजार की चीजें निमंत्रण देती हैं। सब चीजें खरीदने का मन करता है।

जादू उतरते ही फैंसी चीजें आराम नहीं, खलल ही डालती प्रतीत होती हैं। इससे स्वाभिमान व अभिमान बढ़ता है। जादू से बचने का एकमात्र उपाय यह है कि बाजार जाते समय मन खाली न रखो। मन में लक्ष्य हो तो बाजार आनंद देगा। वह आपसे कृतार्थ होगा। बाजार की असली कृतार्थता है-आवश्यकता के समय काम आना। मन खाली रखने का मतलब मन बंद नहीं करना है। शून्य होने का अधिकार बस परमात्मा का है जो सनातन भाव से संपूर्ण है। मनुष्य अपूर्ण है। मनुष्य इच्छाओं का निरोध नहीं कर सकता। यह लोभ को जीतना नहीं है, बल्कि लोभ की जीत है।

मन को बलात बंद करना हठयोग है। वास्तव में मनुष्य को अपनी अपूर्णता स्वीकार कर लेनी चाहिए। सच्चा कर्म सदा इस अपूर्णता की स्वीकृति के साथ होता है। अत: मन की भी सुननी चाहिए क्योंकि वह भी उद्देश्यपूर्ण है। मनमानेपन को छूट नहीं देनी चाहिए। लेखक के पड़ोस में भगत जी रहते थे। वे लंबे समय से चूरन बेच रहे थे। चूरन उनका सरनाम था। वे प्रतिदिन छह आने पैसे से अधिक नहीं कमाते थे। वे अपना चूरन थोक व्यापारी को नहीं देते थे और न ही पेशगी ऑर्डर लेते थे। छह आने पूरे होने पर वे बचा चूरन बच्चों को मुफ़्त बाँट देते थे। वे सदा स्वस्थ रहते थे।

उन पर बाजार का जादू नहीं चल सकता था। वे निरक्षर थे। बड़ी-बड़ी बातें जानते नहीं थे। उनका मन अडिग रहता था। पैसा भीख माँगता है कि मुझे लो। वह निर्मम व्यक्ति पैसे को अपने आहत गर्व में बिलखता ही छोड़ देता है। पैसे में व्यंग्य शक्ति होती है। पैदल व्यक्ति के पास से धूल उड़ाती मोटर चली जाए तो व्यक्ति परेशान हो उठता है। वह अपने जन्म तक को कोसता है, परंतु यह व्यंग्य चूरन वाले व्यक्ति पर कोई असर नहीं करता। लेखक ऐसे बल के विषय में कहता है कि यह कुछ अपर जाति का तत्व है। कुछ लोग इसे आत्मिक, धार्मिक व नैतिक कहते हैं।

लेखक कहता है कि जहाँ तृष्णा है, बटोर रखने की स्पृहा है, वहाँ उस बल का बीज नहीं है। संचय की तृष्णा और वैभव की चाह में व्यक्ति की निर्बलता ही प्रमाणित होती है। वह मनुष्य पर धन की और चेतन पर जड़ की विजय है। एक दिन बाजार के चौक में भगत जी व लेखक की राम-राम हुई। उनकी आँखें खुली थीं। वे सबसे मिलकर बात करते हुए जा रहे थे। लेकिन वे भौचक्के नहीं थे और ना ही वे किसी प्रकार से लाचार थे। भाँति-भाँति के बढ़िया माल से चौक भरा था किंतु उनको मात्र अपनी जरूरत की चीज से मतलब था। वे रास्ते के फैंसी स्टोरों को छोड़कर पंसारी की दुकान से अपने काम की चीजें लेकर चल पड़ते हैं। अब उन्हें बाजार शून्य लगता है। फिर चाँदनी बिछी रहती हो या बाजार के आकर्षण बुलाते रहें, वे उसका कल्याण ही चाहते हैं।

लेखक का मानना है कि बाजार को सार्थकता वह मनुष्य देता है जो अपनी जरूरत को पहचानता है। जो केवल पर्चेजिंग पॉवर के बल पर बाजार को व्यंग्य दे जाते हैं, वे न तो बाजार से लाभ उठा सकते हैं और न उस बाजार को सच्चा लाभ दे सकते हैं। वे लोग बाजार का बाजारूपन बढ़ाते हैं। ये कपट को बढ़ाते हैं जिससे सद्भाव घटता है। सद्भाव नष्ट होने से ग्राहक और बेचक रह जाते हैं। वे एक-दूसरे को ठगने की घात में रहते हैं। ऐसे बाजारों में व्यापार नहीं, शोषण होता है। कपट सफल हो जाता है तथा बाजार मानवता के लिए विडंबना है और जो ऐसे बाजार का पोषण करता है जो उसका शास्त्र बना हुआ है, वह अर्थशास्त्र सरासर औधा है, वह मायावी शास्त्र है, वह अर्थशास्त्र अनीतिशास्त्र है।

बाजार दर्शन पाठ का उद्देश्य

लेखक पाठ में अपने मित्र की बात बताता है की उसका मित्र बाज़ार में एक सामान लेने जाता है लेकिन लेकर बहुत कुछ आ जाता है| बाज़ार हमें आकर्षित करता है हमें जो चीज़े नहीं लेनी वह भी ले लेते है। लेखक अपने दूसरे मित्र की बात बताते है कि वह बाज़ार जाता है और खाली हाथ वह वापिस आ जाता है। उसे समझ नहीं आता की कोन सी चीज़ खरीदूं और रहने दूँ । अपनी चाह का पता न हो तो ऐसे ही होता है कि क्या सामान खरीदें। यदि हम अपनी आवश्यकताओं को ठीक-ठीक समझकर बाजार का उपयोग करें तो उसका लाभ उठा सकते हैं। इसके विपरीत, बाजार की चमक-दमक में फेंसने के बाद हम असंतोष, तृष्णा और ईष्या से घायल होकर सदा के लिए बेकार हो सकते हैं। फालतू चीज की खरीद का प्रमुख कारण बाजार का आकर्षण है। बाजार में रूप का जादू है। बाज़ार का असर हमें हमेशा होता है चाहे जेब खाली हो या भरी हो। बाज़ार हमारे मन को भटकता है।

Check Out: 150+ GK in Hindi

Bajar Darshan पाठ के शब्दार्थ

  1. आशय – अर्थ, मतलब। 
  2. महिमा – महत्ता। 
  3. प्रमाणित – सिद्ध।
  4.  माया – आकर्षण।
  5.  अोट – सहारा।
  6.  मनीबैंग – पैसे रखने का थैला। 
  7. पावर – शक्ति, ताकत। 
  8. माल-टाल – सामान।
  9.  यचज़िंग यावर – खरीदने की शक्ति। 
  10. फिजूल – व्यर्थ। 
  11. दरकार – इच्छा, परवाह। 
  12. दत्तक – कला ।
  13.  ब्रेहया – बेशर्म। 
  14. हरज्र – नुकसान। 
  15. आग्रह – खुशामद। 
  16. तिरस्कार – अपमान।
  17.  मूक – मौन। 
  18. परिमित – सीमित। 
  19. अतुलित – अपार।
  20.  कामना – इच्छा। 
  21. विकल – व्याकुल। 
  22. तृष्या – लालसा, इच्छा द्वष्य – जलन।
  23. त्रास – दुख।
  24.  सेक – तपन।
  25.  खुराक – भोजन। 
  26. कृतार्थ – अहसानमंद।
  27.  शून्य – खाली।
  28. सनातन – शाश्वत। 
  29. निरोध – रोकना। 
  30. राह – मार्ग। 
  31. अकारथ – व्यर्थ। 
  32. व्यापक – विस्तृत। 
  33. संकीण – सँकरा। 
  34. विराट – विशाल। 
  35. क्षुद्र – तुच्छ। 
  36. बलात – जबरदस्ती। 
  37. अप्रयोजनीय –अर्थरहित। 
  38. अखिल – संपूर्ण। 
  39. सरनाम – प्रसिद्ध। 
  40. खुद – स्वयं। 
  41. खुशहाल – संपन्न। 
  42. येशगी अॉडर – सामान के लिए अग्रिम पैसा देना। 
  43. काँधे वक्त – निश्चित समय।
  44. नाचीज – तुच्छ। 
  45. अपदार्थ – महत्वहीन। 
  46. अॉडिग – स्थिर।
  47.  निमम – ममतारहित। 
  48. कुंठित – व्यर्थ। 
  49. दारुण – भयंकर। 
  50. लोक – रेखा। 
  51. वंचित – रहित। 
  52. कृतध्न – अहसान न मानने वाला। 
  53. अपर – दूसरी। 
  54. स्पिरिचुअल – धार्मिक। 
  55. प्रतिपादन – वर्णन। 
  56. सरोकार – मतलब। 
  57. स्मृहा – इच्छा। 
  58. अबलता – कमजोरी। 
  59. कोसना – गाली देना। 
  60. येशोयेश – असमंजस। 
  61. अप्रीति – वैर । 
  62. ज्ञात – मालूम। 
  63. विनाशक – विनाशकारी। 
  64. बेचक – व्यापारी। 
  65. ठगना – धोखा देकर लूटना। 
  66. पोषणा – पालन।

Check Out: छत्रपति शिवाजी महाराज

Bazar Darshan Questions & Answers

प्रश्न 1: बाजार का जादू चढ़ने और उतरने पर मनुष्य पर क्या-क्या असर पड़ता हैं?

उत्तर – जब बाज़ार का जादू चढ़ता है तो व्यक्ति फिजूल की खरीददारी करता है। वह उस सामान को खरीद लेता है जिसकी उसे ज़रूरत नहीं होती। वास्तव में जादू का प्रभाव गलत या सही की पहचान खत्म कर देता है। लेकिन जब यह जादू उतरता है तो उसे पता चलता है कि बाज़ार की चकाचौंध ने उन्हें मूर्ख बनाया है। जादू के उतरने पर वह केवल आवश्यकता का ही सामान खरीदता है ताकि उसका पालन-पोषण हो सके।

प्रश्न 2: बाजार में भगत जी के व्यक्तित्व का कौन-सा सशक्त पहलू उभरकर आता हैं? क्या आपकी नजर में उनका आचरण समाज में शांति-स्थापित करने में मददगार हो सकता हैं?

उत्तर – बाजार में भगत जी के व्यक्तित्व का यह सशक्त पहलू उभरकर आता है कि उनका अपने मन पर पूर्ण नियंत्रण है। वे चौक-बाजार में आँखें खोलकर चलते हैं। बाजार की चकाचौंध उन्हें भौचक्का नहीं करती। उनका मन भरा हुआ होता है, अत: बाजार का जादू उन्हें बाँध नहीं पाता। उनका मन अनावश्यक वस्तुओं के लिए विद्रोह नहीं करता। उनकी जरूरत निश्चित है। उन्हें जीरा व काला नमक खरीदना होता है। वे केवल पंसारी की दुकान पर रुककर अपना सामान खरीदते हैं। ऐसे व्यक्ति बाजार को सार्थकता प्रदान करते हैं। ऐसे व्यक्ति समाज में शांति स्थापित करने में मददगार हो सकते हैं क्योंकि इनकी जीवनचर्या संतुलित होती है।

प्रश्न 3: ‘बाजारूपन’ से तात्पर्य है? किस प्रकार के व्यक्ति बाज़ार को सार्थकता प्रदान करते है अथवा बाज़ार की सार्थकता किसमे है ?

उत्तर –बाज़ारूपन से तात्पर्य है कि बाजार की चकाचौंध में खो जाना। केवल बाजार पर ही निर्भर रहना। वे व्यक्ति ऐसे बाज़ार को सार्थकता प्रदान करते हैं जो हर वह सामान खरीद लेते हैं जिनकी उन्हें ज़रूरत भी नहीं होती। वे फिजूल में सामान खरीदते रहते हैं अर्थात् वे अपना धन और समय नष्ट करते हैं। लेखक कहता है कि बाजार की सार्थकता तो केवल ज़रूरत का सामान खरीदने में ही है तभी हमें लाभ होगा।

प्रश्न 4: बाज़ार किसी का लिंग ,जाति ,धर्म या क्षेत्र नहीं दिखाया ? वह देखता है सिर्फ़ उसकी क्रय -शक्ति को। इस रूप में वह एक प्रकार से सामाजिक समता की भी रचना कर रहा है। आप इससे कहाँ तक सहमत है ?

उत्तर – यह बात बिलकुल सही है कि बाजार किसी का लिंग, जाति, धर्म या क्षेत्र नहीं देखता। वह सिर्फ ग्राहक की क्रय-शक्ति को देखता है। उसे इस बात से कोई मतलब नहीं कि खरीददार औरत है या मर्द, वह हिंदू है या मुसलमान; उसकी जाति क्या है या वह किस क्षेत्र-विशेष से है। बाजार में उसी को महत्व मिलता है जो अधिक खरीद सकता है। यहाँ हर व्यक्ति ग्राहक होता है। इस लिहाज से यह एक प्रकार से सामाजिक समता की भी रचना कर रहा है। आज जीवन के हर क्षेत्र-नौकरी, राजनीति, धर्म, आवास आदि-में भेदभाव है, ऐसे में बाजार हरेक को समान मानता है। यहाँ किसी से कोई भेदभाव नहीं किया जाता क्योंकि बाजार का उद्देश्य सामान बेचना है।

प्रश्न 5: आप अपने तथा समाज से कुछ ऐसे प्रकार का उल्लेख करें –
जब पैसा शक्ति के परिचायक के रूप में प्रतीत हुआ।
जब पैसे की शक्ति काम नहीं आई।

उत्तर – जब पैसा शक्ति के परिचायक के रूप में प्रतीत हुआ – समाज में ऐसे अनेक प्रसंग हैं जिसमें पैसा शक्ति के परिचायक के रूप में प्रतीत हुआ।’निठारी कांड’ में पैसे की ताकत साफ़ दिखाई देती है।
जब पैसे की शक्ति काम नहीं आई – समाज में अनेक उदाहरण ऐसे भी हैं जहाँ पैसे की शक्ति काम नहीं आती। ‘जेसिका लाल हत्याकांड’ में अपराधी को अपार धन खर्च करने के बाद भी सजा मिली। इस प्रकार के अन्य प्रसंग विद्यार्थी स्वयं लिखें।

प्रश्न 6: ‘बाजार दर्शन‘ (Bajar Darshan) पात में बाजार जाने या न जाने के संर्दभ में मन की कहूँ स्थितियों का जिक आया हैं। जाप इन स्थितियों से जुड़े अपने अनुमबी‘ का वर्णन कीजिए।
मन खाती हां
मन खालाँ न हो
मन बंद हरे
मन में नकार हो

उत्तर – कई बार तो मन करता है कि बाज़ार जाकर इस उपभोक्तावादी संस्कृति के अंग बन जाएँ। सारा सामान खरीद लें ताकि बाजारवाद का प्रभाव हम पर भी पड़ सके।
लेकिन कभी-कभी मन बिलकुल खाली नहीं होता तब उस पर एक प्रकार का प्रभाव पड़ा रहता है। वह नहीं चाहता है कि कुछ खरीदा जाए।
कई बार ऐसी भी स्थिति आई है कि मन हर तरह से बंद रहा अर्थात् जो कुछ हो रही उसे चुपचाप देखते रहना चाहता है। जरूरत हो तो ले लिया वर्ना नहीं।
मन में नकारने की स्थिति भी रही। बाजार से यह सामान तो लेना ही नहीं क्योंकि शॉपिंग मॉल में सामान बहुत महँगा मिलता है। वस्तुतः इस स्थिति में मन बाजारवादी संस्कृति का विरोध करता है।

प्रश्न 7: ‘बाजार दर्शन‘ (Bajar Darshan)  पाठ में किस प्रकार के ग्राहकों की बताइए है?आप स्वयं की किस श्रेर्णा का प्राहक मानते/मानती हैं?

उत्तर – “बाजार दर्शन (Bajar Darshan) है पाठ में कई प्रकार के ग्राहकों की बाते हुई हैं उगे निम्नलिखित है–
पकेंजिग पावर का प्रदर्शन करने वाले ग्राहक ।
खाली मन व भरी जेब वाले गाहक ।
खाली मन व खाली जेब वाले ग्राहक ।
भरे मन वाले ग्राहक ।
मितव्ययी व संयमी प्राहक ।
अपव्ययी व असंयमी गाहक ।
बाजार का बाजारूपन बहाने वाले गाहक ।
मैं स्वयं को भी मन वाला गाहक समझता है क्योंकि मैं वे ही वस्तुएँ बाजार से खरीदकर लाता है जिनकी मुझे जरूरत होती है।

प्रश्न 8: आप बाजार की भिन्न -भिन्न प्रकार की संस्कृति से अवश्य परिचित होगे । मॉल की संस्कृति और सामान्य बाजार और हाट की संस्कृति में आप क्या अंतर पाते हैं? पर्चेजिंग पावर आपको किस तरह के बाजार में नजर आती हैं?

उत्तर – आज बाजार मुख्यतः तीन संस्कृतियों में बँटा नज़र आता है। वास्तव में इन्हीं तीन संस्कृति के बाजार आज पूरे देश में फैले हुए हैं। मॉल की संस्कृति और सामान्य बाजार की संस्कृति में बहुत. अंतर है। इसी प्रकार सामान्य बाज़ार में तथा हाट में काफ़ी अंतर है। सबसे महँगा मॉल है क्योंकि इसमें ब्रांडेड वस्तुएँ बेची जाती हैं। जबकि सामान्य बाजार में स्थानीय मार्का का सामान मिल जाता है। हाट की संस्कृति निम्न मध्यवर्गीय में बहुत प्रचलित है। हाट मुख्यतः ग्रामीण बाज़ार संस्कृति में है। पर्चेजिंग पावर तो मात्र मॉल में ही नजर आती है।

प्रश्न 9: लेखक ने पाठ में संकेत किया है कि कभी-कभी बाजार में आवश्यकताएं शोषण का रूप धारण कर लेती हैं ।क्या आप इस विचार से सहमत है? तर्क सहित उत्तर दीजिए?

उत्तर– हम इस विचार से पूर्णतया सहमत है कि कभी…कभी बाजार में आवश्यकता ही शोषण का रूप धारण कर लेती है । आमतौर पर देखा जाता है कि जब गाहक अपनी आवश्यकता को बताता है तो दुकानदार उस वस्तु के दाम बढा देता है । हाल ही में चीनी के दामों में भारी उछाल आया क्योंकि इसकी कमी का अंदेशा था तथा यह आम आदमी के लिए जरूरी वस्तु थी ।

प्रश्न 10: ‘स्त्री माया न जोड़े‘ यहाँ ‘माया‘ शब्द किम और संकेत कर रहा हैं? स्कियो‘ दवारा माया जांड़ना प्रकृतिश्लेप्रदत्न नहीं बल्कि परिस्थितिवश हें । वे कौन–यो गांव/झा/दागों जी स्वी की माया जांड़न के लिए विवश कर देती हैं?

उत्तर– कबीर जैसे कालजयी कवियों ने ‘माया’ को स्त्री माना है। यहाँ जैनेंद्र ने माया शब्द का अर्थ पैसा-रुपया बताया है। लेखक कहता है कि परिस्थितियों के कारण ही स्त्रियाँ पैसा जोड़ती हैं वरना पैसा जोड़ना तो वे सीखी ही नहीं है। स्त्रियाँ कई परिस्थितियों में पैसा जोड़ने पर विवश हो जाती हैं; यथा
बेटी की शादी के लिए।
बेटी की पढ़ाई के लिए
गहने आदि बनवाने के लिए।
बैंक या डाकखाने की मासिक किस्त जमा करने हेतु।
घर की ज़रूरत को पूरा करने के लिए।
भविष्य में होने वाले वैवाहिक उत्सवों के लिए।

Check Out: भारत में एग्रीकल्चर कॉलेज

Bajar Darshan MCQs

1. ‘बाज़ार दर्शन (Bajar Darshan)’ के रचयिता हैं-
A. महादेवी वर्मा
B. फणीश्वर नाथ रेणु
C. धर्मवीर भारती
D. जैनेंद्र कुमार

Ans- D. जैनेंद्र कुमार

2. ‘बाज़ार दर्शन (Bajar Darshan) ‘ का प्रतिपाद्य है-|
A. बाज़ार के उपयोग का विवेचन
B. बाजार से लाभ
C. बाज़ार न जाने की सलाह
D. बाज़ार जाने की सलाह

Ans- A. बाज़ार के उपयोग का विवेचन

3. लेखक का मित्र किसके साथ बाज़ार गया था?
A. अपने पिता के साथ
B. मित्र के साथ
C. पत्नी के साथ
D. अकेला

Ans- C. पत्नी के साथ

4. क्या फालतू सामान खरीदने के लिए पत्नी को दोष देना उचित है?
A. हाँ
B. नहीं
C. कह नहीं सकता
D. बाज़ार का दोष है

Ans- B. नहीं

5. लेखक के अनुसार पैसा क्या है?
A. पावर है
B. हाथ की मैल है
C. माया का रूप है
D. पैसा व्यर्थ है

Ans- A. पावर है

6. भगत जी किस प्रकार के व्यक्ति हैं?
A. लोभी
B. संतोषी
C. ईर्ष्यालु
D. मूर्ख

Ans- B. संतोषी

7. बाज़ार के जादू का प्रभाव कब पड़ता है?
A. जब ग्राहक का मन खाली होता है
B. जब ग्राहक का मन भरा हुआ होता है
C. जब ग्राहक के साथ उसकी पत्नी होती है
D. जब ग्राहक गरीब होता है

Ans- A. जब ग्राहक का मन खाली होता है

8. हमें किस स्थिति में बाजार जाना चाहिए?
A. जब मन खाली हो
B. जब मन खाली न हो
C. जब मन बंद हो
D. जब मन में नकार हो

Ans- B. जब मन खाली न हो

9. बाज़ार किसे देखता है?
A. लिंग को
B. जाति को
C. धर्म को
D. क्रय-शक्ति को

Ans- D. क्रय-शक्ति को

10. ‘बाज़ारूपन’ से क्या अभिप्राय है?
A. बाजार से सामान खरीदना
B. बाज़ार से अनावश्यक वस्तुएँ खरीदना
C. बाजार से आवश्यक वस्तुएँ खरीदना
D. बाज़ार को सजाकर आकर्षक बनाना

Ans- B. बाज़ार से अनावश्यक वस्तुएँ खरीदना

Check Out: Motivational Stories in Hindi

आशा करते हैं कि आपको Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी Bajar Darshan Class 12 NCERT Solutions का  लाभ उठा सकें। हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Ras Hindi Grammar
Read More

मियाँ नसीरुद्दीन Class 11 : पाठ का सारांश, प्रश्न उत्तर, MCQ

मियाँ नसीरुद्दीन शब्दचित्र हम-हशमत नामक संग्रह से लिया गया है। इसमें खानदानी नानबाई मियाँ नसीरुद्दीन के व्यक्तित्व, रुचियों…
आर्ट्स सब्जेक्ट
Read More

आर्ट्स सब्जेक्ट

दसवीं के बाद आप कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं तो आर्ट्स स्ट्रीम आप के लिए ही है। 11वीं…
Namak Ka Daroga
Read More

Namak Ka Daroga Class 11

यहाँ हम हिंदी कक्षा 11 “आरोह भाग- ” के पाठ-1 “Namak Ka Daroga Class″ कहानी के  के सार…