बीएससी वनस्पति विज्ञान कैसे करें?

1 minute read
बीएससी वनस्पति विज्ञान

बीएससी वनस्पति विज्ञान तीन साल का अंडरग्रेजुएट कोर्स होता है। इस कोर्स में वैज्ञानिक रूप से पौधे के जीवन के बारे में पढ़ाया जाता है। नए रिसर्च मेथड और पादप विज्ञान के प्रति दृष्टिकोण में बदलाव के साथ, जीव विज्ञान के कई छात्रों ने वनस्पति विज्ञान में रुचि दिखाना शुरू कर दिया है। इकोलॉजी में रिसर्च और जलवायु परिवर्तन की वर्तमान दर और ग्लोबल वार्मिंग ने पौधों का अध्ययन और उसी पर रिसर्च करना और भी महत्वपूर्ण बना दिया है। यदि आप एक ऐसे करियर की तलाश कर रहे हैं जो रिसर्च और पौधों के जीवन के विस्तृत अध्ययन के लिए इच्छुक है तो आप वनस्पति विज्ञान को आगे बढ़ाना चाहेंगे। यहां बीएससी वनस्पति विज्ञान, इसके कोर्स, शीर्ष विश्वविद्यालयों, कोर्स के प्रकारों के साथ-साथ करियर की संभावनाओं पर एक विस्तृत ब्लॉग है जिसे आप इस डिग्री कोर्स को पूरा करने के बाद तलाश सकते हैं।

कोर्स बीएससी वनस्पति विज्ञान
अवधि 3 वर्ष
शिक्षा का स्तर अंडरग्रेजुएट
मूल पात्रता (विदेश में) -10+2 BiPC विषयों के साथ
SAT परीक्षा स्कोर
IELTS/TOEFL स्कोर
योग्यता (भारत) -10+2 BiPC विषयों के साथ
– BHU UET, OUAT, GSAT, आदि स्कोर
जॉब प्रोफाइल्स वनस्पतिशास्त्री, प्लांट पैथोलॉजिस्ट, नर्सरी मैनेजर, इकोलॉजिस्ट, कंजर्वेशनिस्ट, प्लांट एक्सप्लोरर, बायोलॉजिकल टेक्निशियन, एनवायरनमेंट कंसल्टेंट, इकोलॉजिस्ट, आदि। 
जॉब एरियाज वन्यजीव एसओएस, राष्ट्रीय रासायनिक प्रयोगशाला, भारतीय पारिस्थितिकी संस्थान, ग्रीनपीस, वन्यजीव संरक्षण सोसायटी, पर्यावरण शिक्षा और विज्ञान और पर्यावरण केंद्र
कोर्स वेरिएंट पारिस्थितिकी में बीएससी, पादप विज्ञान में बीएससी, पर्यावरण विज्ञान में बीएससी, आदि।
वेतन INR 4 लाख-8 लाख प्रति वर्ष

बीएससी वनस्पति विज्ञान क्या है?

बीएससी वनस्पति विज्ञान तीन साल का अंडरग्रेजुएट कोर्स है। जिसका उद्देश्य वैज्ञानिक रूप से पौधे के जीवन का अध्ययन करना है। बीएससी वनस्पति विज्ञान में पौधों का प्रैक्टिकल एंड थियोरेटिकल अध्ययन शामिल है। इस कोर्स में वनस्पति विज्ञान के कई उपक्षेत्र हैं जो एककोशिकीय पौधों से लेकर जैव प्रौद्योगिकी जैसे उन्नत कोर्सेज तक पौधों की सभी प्रजातियों का पता लगाते हैं। बीएससी वनस्पति विज्ञान की डिग्री आपको उद्योग की मांगों को समझने के साथ-साथ क्षेत्र के लिए एक रिसर्च-ड्रिवन अप्रोच विकसित करने के लिए आवश्यक स्किल्स भी प्रदान करेगी।

बीएससी वनस्पति विज्ञान को क्यों चुनें?

बीएससी वनस्पति विज्ञान को क्यों चुनना चाहिए उसके कुछ कारण यहाँ दिए गए हैं-

  • अगर आपकी रुचि खेती में है तो आप बॉटनी में बीएससी कर सकते हैं जिसमें आप अलग-अलग तरह के पेड़-पौधों पर रिसर्च कर सकते हैं और उनकी पैदावार को बढ़ाने के नए-नए तरीके खोज सकते हैं।
  • बॉटनी में बीएससी करने के बाद आप MSc कर सकते हैं जिसके बाद आप वनस्पति विज्ञान में साइंटिस्ट भी बन सकते हैं। 
  • बॉटनी में ग्रेजुएशन करने के बाद आप कृषि वैज्ञानिक, माइकोलॉजिस्ट,बायोफिजिसिस्ट, साइंस साइंटिस्ट आदि ऑप्शन चुनकर अपना करियर बना सकते हैं।
  • इनके अलावा आप रिसर्च और टीचिंग में भी अपना करियर बना सकते हैं। 
  • इस कोर्स को करने से पर्यावरण में होने वाले परिवर्तनों को समझने में भी आसानी रहती है। 

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए स्किल्स

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए कुछ स्किल्स का होना जरूरी होता है जो इस प्रकार है:

  • पौधों और वातावरण के विकास की ओर रूचि होना। 
  • बॉटनी से सम्बन्धित होने के कारण आपको मैथमेटिक्स, केमिस्ट्री, साथ ही साथ बायोलॉजी की अच्छी समझ होना अनिवार्य है। 
  • स्ट्रांग एनालिटिकल स्किल्स
  • कम्युनिकेशन स्किल्स 
  • कंप्यूटर एप्टीट्यूड स्किल्स 
  • प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स 
  • टीमवर्क और सब्र

बीएससी वनस्पति विज्ञान का सिलेबस

बीएससी वनस्पति विज्ञान का सिलेबस एक कॉलेज से दूसरे कॉलेज में भिन्न हो सकता है यहाँ एक सामान्य सिलेबस दिया गया है-

वर्ष 1 वर्ष 2 वर्ष 3
जीव विज्ञान का परिचय प्लांट रिसोर्स यूटिलाइजेशन  प्लांट सिस्टमेटिक्स एंड इवोल्यूशन
शैवाल और सूक्ष्म जीव विज्ञान गणित और सांख्यिकी प्लांट फिजियोलॉजी 
रसायन विज्ञान-I सेल बायोलॉजी – I पर्यावरण प्रबंधन/जैव सूचना विज्ञान
अंग्रेजी में तकनीकी लेखन और संचार/कम्प्यूटेशनल कौशल मॉलिक्यूलर बायोलॉजी – 1 आनुवंशिकी और जीनोमिक्स -I
माइकोलॉजी और फाइटोपैथोलॉजी प्लांट डेवलपमेंट एंड एनाटॉमी प्लांट मेटाबोलिज्म 
आर्कगोनिएट  पारिस्थितिकी और फाइटोजियोग्राफी एंजियोस्पर्म का प्रजनन जीव विज्ञान
रसायन विज्ञान-द्वितीय सेल बायोलॉजी II प्लांट बायोटेक्नोलॉजी 
जीव रसायन मॉलिक्यूलर बायोलॉजी – II जेनेटिक्स और जीनोमिक्स – II

विदेश में टॉप यूनिवर्सिटी

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए विदेश की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट यहाँ दी गई है-

भारत में टॉप यूनिवर्सिटी

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए भारत की टॉप यूनिवर्सिटीज़ की लिस्ट यहाँ दी गई है-

  • हिन्दू कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • मिरांडा हॉउस, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • मद्रास क्रिस्चियन कॉलेज, चेन्नई 
  • हंसराज कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • दौलत राम कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बैंगलोर 
  • दीन दयाल उपाध्याय कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • SJC बैंगलोर- सेंट जोसेफ कॉलेज 
  • गार्गी कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी 
  • रामजस कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी आदि। 

योग्यता

किसी विशेष कोर्स में प्रवेश लेने से पहले सभी आवश्यक आवश्यकताओं को नोट करना महत्वपूर्ण है। यदि आप भारत या विदेश में बीएससी बॉटनी करने की योजना बना रहे हैं, तो नीचे कुछ प्रमुख पहलुओं का उल्लेख किया गया है, जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए-

  • बीआईपीसी विषयों के साथ 10+2 की औपचारिक शिक्षा 
  • SAT या ACT परीक्षा में न्यूनतम आवश्यक अंक
  • IELTS, TOEFL या किसी अन्य भाषा प्रवीणता परीक्षा  में एक अच्छा स्कोर
  • निर्धारित फॉर्मेट में SOP के साथ LOR

भारतीय शैक्षणिक संस्थानों के लिए आपको नीचे दिए गए बिंदुओं का पालन करना चाहिए-

  • पृष्ठभूमि के रूप में बीआईपीसी विषय के साथ न्यूनतम 50% अंक के साथ 10+2 होना चाहिए। 
  • विश्वविद्यालय/राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा जैसे बीएचयू यूईटी, ओयूएटी, जीसैट आदि में न्यूनतम आवश्यक अंक।

आवेदन प्रक्रिया

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए भारत और विदेशी विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया के बारे में नीचे बताया गया है-

विदेश में आवेदन प्रक्रिया

विदेश के विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • आपकी आवेदन प्रक्रिया का फर्स्ट स्टेप सही कोर्स और यूनिवर्सिटी का चुनाव है। 
  • कोर्स और यूनिवर्सिटी के चुनाव के बाद उस कोर्स के लिए उस यूनिवर्सिटी की पात्रता मानदंड के बारे में रिसर्च करें। 
  • आवश्यक टेस्ट स्कोर और दस्तावेज एकत्र करें।
  • यूनिवर्सिटी की साइट पर जाकर एप्लीकेशन फॉर्म भरें या फिर आप Leverage Edu एक्सपर्ट्स की भी सहायता ले सकते हैं।
  • ऑफर की प्रतीक्षा करें और सिलेक्ट होने पर इंटरव्यू की तैयारी करें। 
  • इंटरव्यू राउंड क्लियर होने के बाद आवश्यक ट्यूशन शुल्क का भुगतान करें और स्कॉलरशिप, छात्रवीजा, एजुकेशन लोन और छात्रावास के लिए आवेदन करें।

भारतीय विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया

भारत के विश्वविद्यालयों में आवेदन प्रक्रिया, इस प्रकार है:

  • सबसे पहले अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर रजिस्ट्रेशन करें।
  • यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको एक यूजर नेम और पासवर्ड प्राप्त होगा।
  • फिर वेबसाइट में साइन इन के बाद अपने चुने हुए कोर्स का चयन करें जिसे आप करना चाहते हैं।
  • अब शैक्षिक योग्यता, वर्ग आदि के साथ आवेदन फॉर्म भरें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म जमा करें और आवश्यक आवेदन शुल्क का भुगतान करें। 
  • यदि एडमिशन, प्रवेश परीक्षा पर आधारित है तो पहले प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करें और फिर रिजल्ट के बाद काउंसलिंग की प्रतीक्षा करें। प्रवेश परीक्षा के अंको के आधार पर आपका चयन किया जाएगा और लिस्ट जारी की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज

कुछ जरूरी दस्तावेजों की लिस्ट नीचे दी गई है–

  • आधिकारिक शैक्षणिक ट्रांसक्रिप्ट
  • स्कैन किए हुए पासपोर्ट की कॉपी
  • IELTS या TOEFL, आवश्यक टेस्ट स्कोर 
  • प्रोफेशनल/एकेडमिक LORs
  • SOP 
  • निबंध (यदि आवश्यक हो)
  • पोर्टफोलियो (यदि आवश्यक हो)
  • अपडेट किया गया सीवी/रिज्यूमे
  • एक पासपोर्ट और छात्र वीजा 
  • बैंक विवरण 

बीएससी वनस्पति विज्ञान के लिए किताबें

नीचे उल्लिखित पुस्तकें वे हैं जो बीएससी वनस्पति विज्ञान के बारे में सीखने के लिए पूरे देश में व्यापक रूप से उपयोग की जाती हैं-

किताब का नाम लेखक
Principles of Genetics गार्डनर, सीमन्स, और स्नुस्तादी
Cell- A Molecular Approach कूपर और हौसमैन
Principles of Biochemistry लेह्निंगर
Plant Physiology ताइज़ और ज़ीगेर

प्रवेश परीक्षाएं

यह प्रवेश परीक्षाएं कॉलेज के अनुसार अलग-अलग हो सकती हैं-

  • BHU UET
  • PUBDET
  • APU UG NET
  • UPSEE
  • TS EAMCET
  • IELTS, TOEFL, PTE (विदेश के लिए)

करियर स्कोप

बॉटनी में पढ़ाई करने के अलग-अलग लेवल्स में आप अपने स्कोप की गहराई को ध्यान से समझ पाएंगे। जैसे अगर आप बीएससी वनस्पति विज्ञान में ग्रेजुएट हो चुकें है और आगे पढ़ाई करना चाहते है तो मास्टर्स कर बेहतर पैकेज के हकदार बन सकते हैं। इसी के साथ अगर आप मास्टर्स कर चुके हैं और बेहतर मौके की तलाश में है तो डॉक्टोरल डिग्री के साथ अपने चुने गए विषय में महारथ हासिल कर उच्च प्रोफाइल्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं। एक बॉटनिस्ट की नौकरी उसके चुने गए क्षेत्र और डिग्री के आधार पर निर्धारित की जाती है। बॉटनिस्ट के एरियाज़ कुछ इस प्रकार है –

  • एग्रीकल्चरल रिसर्च सर्विस 
  • बोटैनिकल सर्वे सेंटर्स 
  • इको-बॉटनी 
  • बायोटेक्नोलॉजी फर्मस 
  • फर्मेन्टेशन इंडस्ट्रीज 
  • एनवायर्नमेंटल मैनेजमेंट यूनिट्स 
  • फ़ूड इंडस्ट्री एंड हर्बल इंडस्ट्री 

बॉटनी में डिग्री होल्डर्स को नौकरी देने वाली कंपनियों की लिस्ट नीचे दी गई है –

  • National Chemical Laboratory
  • Wildlife SOS
  • Indian Institute of Ecology
  • Wildlife Conservation Society
  • Center for Science and Environment
  • Environmental Education
  • Nature Conservation फाउंडेशन

जॉब प्रोफाइल्स और सैलरी

इस chhetr में कुछ मुख्य जॉब प्रोफ़ाइल हैं जो उनकी सैलरी के साथ दी गई हैं:

जॉब प्रोफाइल औसत सालाना सैलरी (INR में) 
रिसर्च साइंटिस्ट 3.6 लाख-20 लाख  
माइक्रोबायोलॉजिस्ट 1.5 लाख-9.3 लाख  
रिसर्च ऑफिसर 2.7 लाख-10 लाख
ऑफिस असिस्टेंट 2 लाख -3.2 लाख
CHRO (Chief Human Resources officer)  10 लाख-50 लाख

FAQs

भारत में बीएससी वनस्पति विज्ञान की अवधि क्या है?

भारत में बीएससी वनस्पति विज्ञान की सामान्य अवधि आमतौर पर 3 वर्ष होती है। 

क्या वनस्पति विज्ञान जूलॉजी से कठिन है?

छात्र जीव विज्ञान को वनस्पति विज्ञान की तुलना में आसान मानते हैं क्योंकि यह अक्सर मानव जीव विज्ञान के साथ पशु जीव विज्ञान से मेल खाता है। दूसरी ओर, पौधे अजीब लगते हैं और शब्दावली इतनी परिचित नहीं है, इसलिए यह थोड़ा कठिन लगता है। 

वनस्पति विज्ञान के कुछ विषय क्या हैं?

बीएससी वनस्पति विज्ञान विषयों में से कुछ हैं: 
1. अल्गोलॉजी
2. फाइकोलॉजी
3. बैक्टीरियोलॉजी
4. माइकोलॉजी
5. ब्रायोलॉजी
6. प्लांट सेल बायोलॉजी
7. प्लांट एनाटॉमी
8. पैलियोबोटनी
9. फिजियोलॉजी

उम्मीद है, बीएससी वनस्पति विज्ञान के बारे में जानने में इस ब्लॉग ने आपकी मदद की होगी। यदि आप विदेश में बीएससी वनस्पति विज्ञान कोर्स को करना चाहते हैं तो Leverage Edu एक्सपर्ट्स को 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें। 

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*