Vakyansh Ke Liye Ek Shabd (वाक्यांश के लिए एक शब्द)

Rating:
4.2
(115)
Vakyansh Ke Liye Ek Shabd

आजकल सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में Vakyansh ke liye ek shabd से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। RPSC, Patwari, 12 Grade, Police, School Teacher NTPC SSC Stonographar Hindi competitive examआदि कई प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं में Vakyansh ke liye ek shabd के प्रश्न पूछे जाते हैं। वाक्यांश के लिए एक शब्द , एक वाक्य का अर्थ रखते हैं।

हिन्दी में कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक विचारों की अभिव्यक्ति के लिए Vakyansh ke liye ek shabd का प्रयोग बहुउपयोगी होता है। ऐसे शब्दों को अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द (One Word Substitution) भी कहा जाता है। इसलिए हम 200+ महत्वपूर्ण Vakyansh ke liye ek shabd इस ब्लॉग में लेकर आए हैं। आइए देखते हैं पूछे जाने वाले Vakyansh ke liye ek shabd जो नीचे दिए गए हैं-

Vakyansh ke liye ek shabd वाक्यांश किसे कहते हैं? 

  • किसी वाक्य का कोई ऐसा अंश जिसका एक स्वतंत्र अर्थ निकलता हो वाक्यांश कहलाता है। 
  • उदाहरण: तुम उस अखबार/पत्रिका को क्यों नहीं मंगाते जो महीने में एक बार आती है? 
  • उपरोक्त उदाहरण में “जो महीने में एक बार आती है” एक वाक्यांश है। इस वाक्य का एक अलग और स्वतंत्र अर्थ निकलता है। 

लोकोक्तियाँ हिंदी में

Vakyansh किसे कहते हैं? 

अपनी बातों को सही और छोटे रूप में रखना एक कला होती है। भाषा को सुंदर, प्रभावशाली और आकर्षक बनाने के लिए हर भाषा में ऐसे शब्द होते हैं जो किसी एक वाक्य के स्थान पर प्रयोग किए जा सकते हैं। हिंदी भाषा में भी कई शब्दों के स्थान पर एक शब्द बोलकर हम भाषा को प्रभावशाली और आकर्षक बना सकते हैं। अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द का प्रयोग करके भाषा की सुंदरता और भावों की गम्भीरता को रखते हुए लिख सकते हैं। 

अतः जब अनेक शब्दों के स्थान पर केवल एक शब्द का प्रयोग भी किया जाता है तो उसे वाक्यांश के लिए एक शब्द कहा जाता है। 

उपसर्ग और प्रत्येय क्या है? 

Vakyansh ke liye ek shabd के उदाहरण

  1. जिस पुस्तक में आठ अध्याय हो  — अष्टाध्यायी
  2. जिसका भाषा द्वारा वर्णन असंभव हो — अनिर्वचनीय
  3. अत्यधिक बढ़ा–चढ़ा कर कही गई बात — अतिशयोक्ति
  4. सबसे आगे रहने वाला — अग्रणी
  5. जो पहले जन्मा हो — अग्रज
  6. जो बाद मे जन्मा हो — अनुज
  7. जो इंद्रियों द्वारा न जाना जा सके — अगोचर
  8. जिसका पता न हो — अज्ञात
  9. आगे आने वाला — आगामी
  10. अण्डे से जन्म लेने वाला — अण्डज
  11. जो छूने योग्य न हो — अछूत
  12. जो छुआ न गया हो — अछूता
  13. जो अपने स्थान या स्थिति से अलग न किया जा सके — अच्युत
  14. जो अपनी बात से टले नही — अटल
  15. आवश्यकता से अधिक बरसात — अतिवृष्टि
  16. बरसात बिल्कुल न होना — अनावृष्टि
  17. बहुत कम बरसात होना — अल्पवृष्टि
  18. इंद्रियोँ की पहुँच से बाहर — अतीन्द्रिय/इंद्रियातीत
  19. सीमा का अनुचित उल्लंघन — अतिक्रमण
  20. जो बीत गया हो — अतीत
  21. जिसकी गहराई का पता न लग सके — अथाह
  22. आगे का विचार न कर सकने वाला — अदूरदर्शी
  23. जो आज तक से सम्बन्ध रखता है — अद्यतन
  24. आदेश जो निश्चित अवधि तक लागू हो — अध्यादेश
  25. जिस पर किसी ने अधिकार कर लिया हो — अधिकृत
  26. वह सूचना जो सरकार की ओर से जारी हो — अधिसूचना
  27. विधायिका द्वारा स्वीकृत नियम — अधिनियम
  28. अविवाहित महिला — अनूढ़ा
  29. वह स्त्री जिसके पति ने दूसरी शादी कर ली हो — अध्यूढ़ा
  30. दूसरे की विवाहित स्त्री — अन्योढ़ा
  31. गुरु के पास रहकर पढ़ने वाला — अन्तेवासी
  32. पहाड़ के ऊपर की समतल जमीन — अधित्यका
  33. जिसके हस्ताक्षर नीचे अंकित है— अधोहस्ताक्षरकर्ता
  34. महल का वह भाग जहाँ रानियाँ निवास करती हैँ — अंतःपुर/रनिवास
  35. जिसे किसी बात का पता न हो — अनभिज्ञ/अज्ञ
  36. जिसका आदर न किया गया हो — अनादृत
  37. जिसका मन कहीँ अन्यत्र लगा हो — अन्यमनस्क
  38. जिसके पास कुछ न हो अर्थात् दरिद्र — अकिँचन
  39. जो कभी मरता न हो — अमर
  40. जो सुना हुआ न हो — अश्रव्य
  41. जिसको भेदा न जा सके — अभेद्य
  42. जो साधा न जा सके — असाध्य
  43. जो चीज इस संसार मेँ न हो — अलौकिक
  44. जो बाह्य संसार के ज्ञान से अनभिज्ञ हो — अलोकज्ञ
  45. जिसे लाँघा न जा सके — अलंघनीय
  46. जिसकी तुलना न हो सके — अतुलनीय
  47. जिसके आदि (प्रारम्भ) का पता न हो — अनादि
  48. जिसके आने की तिथि निश्चित न हो — अतिथि
  49. कमर के नीचे पहने जाने वाला वस्त्र — अधोवस्त्र
  50. जिसके बारे में कोई निश्चित न हो — अनिश्चित

 जाने संज्ञा क्या है? 

  1. जिसका आदर न किया गया हो — अनादृत
  2. जिसका मन कहीँ अन्यत्र लगा हो — अन्यमनस्क
  3. जो धन को व्यर्थ ही खर्च करता हो — अपव्ययी
  4. आवश्यकता से अधिक धन का संचय न करना — अपरिग्रह
  5. जो किसी पर अभियोग लगाए — अभियोगी
  6. जो भोजन रोगी के लिए निषिद्ध है — अपथ्य
  7. जिस वस्त्र को पहना न गया हो — अप्रहत
  8. न जोता गया खेत — अप्रहत
  9. जो बिन माँगे मिल जाए — अयाचित
  10. जो कम बोलता हो — अल्पभाषी / मितभाषी
  11. आदेश की अवहेलना — अवज्ञा
  12. जो बिना वेतन के कार्य करता हो — अवैतनिक
  13. जो व्यक्ति विदेश मे रहता हो — अप्रवासी
  14. जो सहनशील न हो — असहिष्णु
  15. जिसका कभी अन्त न हो — अनन्त
  16. जिसका दमन न किया जा सके — अदम्य
  17. जिसका स्पर्श करना वर्जित हो — अस्पृश्य
  18. जिसका विश्वास न किया जा सके — अविश्वस्त
  19. जो कभी नष्ट न होने वाला हो — अनश्वर
  20. जो रचना अन्य भाषा की अनुवाद हो — अनूदित
  21. जिसके पास कुछ न हो अर्थात् दरिद्र — अकिँचन
  22. जो कभी मरता न हो — अमर
  23. जो सुना हुआ न हो — अश्रव्य
  24. ऊपर कहा हुआ-       उपर्युक्त
  25. ऊपर आने वाला श्वास-  उच्छवास
  26. ऊपर की ओर जाने वाली- उर्ध्वगामी
  27. ऊपर की ओर बढ़ती हुई साँस-  उर्ध्वश्वास 
  28. उपचार या ऊपरी दिखावे के रूप में होने वाला- औपचारिक
  29. उच्च न्यायालय का न्यायाधीश- न्यायमूर्ति
  30. उपकार के प्रति किया गया उपकार- प्रत्युपकार
  31. ऊपर कहा हुआ- उपर्युक्त
  32. ऊपर लिखा गया- उपरिलिखित
  33. उतरती युवावस्था का- अधेर
  34. उत्तर दिशा- उदीची
  35. उच्च वर्ण के पुरुष के साथ निम्न वर्ण की स्त्री का विवाह- अनुलोम विवाह
  36. उसी समय का- तत्कालीन
  37. किसी पद का उम्मीदवार- प्रत्याशी
  38. कीर्तिमान पुरुष- यशस्वी
  39. कम खर्च करने वाला- मितव्ययी
  40. कम जानने वाला- अल्पज्ञ
  41. कम बोलनेवाला- मितभाषी
  42. कम अक्ल वाला- अल्पबुद्धि
  43. कठिनाई से समझने योग्य- दुर्बोध
  44. कल्पना से परे हो- कल्पनातीत
  45. किसी की हँसी उड़ाना- उपहास
  46. कुछ दिनों तक बने रहने वाला- टिकाऊ
  47. किसी बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहना- अतिशयोक्ति
  48. कठिनाई से प्राप्त होने वाला – दुर्लभ
  49. किसी पद का उम्मीदवार- प्रत्याशी
  50. किसी विषय को विशेष रूप से जानने वाला- विशेषज्ञ

जाने शुध्द व अशुध्द वाक्य क्या है? 

  1. किसी काम में दूसरे से बढ़ने की इच्छा या उद्योग-    स्पर्द्धा
  2. क्रम के अनुसार- यथाक्रम
  3. कार्य करने वाले- कार्यकर्ता
  4. करने योग्य- करणीय, कर्तव्य
  5. किसी कथा के अंतर्गत आने वाली दूसरी कथा- अंतःकथा
  6. कर या शुल्क का वह अंश जो किसी कारणवश अधिक से अधिक लिया जाता है-अधिभार
  7. किसी पक्ष का समर्थन करने वाला- अधिवक्ता
  8. किसी कार्यालय या विभाग का वह अधिकारी जो अपने अधीन कार्य करने वाले कर्मचारियों की निगरानी रखे- अधीक्षक
  9. किसी सभा, संस्था का प्रधान- अध्यक्ष
  10. किसी कार्य के लिए दी जाने वाली सहायता- अनुदान
  11. किसी मत या प्रस्ताव का समर्थन करने की क्रिया- अनुमोदन
  12. किसी व्यक्ति या सिद्धांत का समर्थन करने वाला- अनुयायी
  13. किसी कार्य को बार-बार करना- अभ्यास
  14. किसी वस्तु का भीतरी भाग- अभ्यन्तर
  15. किसी वस्तु को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा- अभीप्सा
  16. किसी प्राणी को न मारना- अहिंसा
  17. कुबेर की नगरी- अलकापुरी
  18. किसी छोटे से प्रसन्न हो उसका उपकार करना- अनुग्रह
  19. किसी के दुःख से दुखी होकर उस पर दया करना- अनुकम्पा
  20. किसी श्रेष्ठ का मान या स्वागत- अभिनन्दन
  21. किसी विशेष वस्तु की हार्दिक इच्छा- अभिलापा
  22. किसी के शरीर की रक्षा करने वाला- अंगरक्षक
  23. किसी को भय से बचाने का वचन देना- अभयदान
  24. केवल फल खाकर रहने वाला- फलाहारी
  25. किसी कलाकार की कलापूर्ण रचना- कलाकृति
  26. करने की इच्छा- चिकीर्षा
  27. कुबेर का बगीचा- चैत्ररथ
  28. कुबेर का पुत्र- नलकूबर
  29. कुबेर का विमान- पुष्पक
  30. कच्चे मांस की गंध- विस्र
  31. कमल के समान गहरा लाल रंग- शोण
  32. काला पीला मिला रंग- कपिश
  33. केंचुए की स्त्री- शिली
  34. कुएँ की जगत-  वीनाह
  35. किसी के पास रखी हुई दूसरे की सम्पत्ति- थाती / न्यास
  36. केवल वर्षा पर निर्भर- बारानी
  37. कलम की कमाई खाने वाले- मसिजीवी
  38. कुएँ के मेढ़क के समान संकीर्ण बुद्धिवाला-कूपमंडुक
  39. कालापानी की सजा पाया कैदी- दामुल कैदी
  40. किसी काम में दखल देना- हस्तक्षेप
  41. कुसंगति के कारण चरित्र पर दोष- कलंक
  42. कुछ खास शर्तों द्वारा कोई कार्य कराने का समझौता- संविदा
  43. खाने से बचा हुआ जूठा भोजन- उच्छिष्ट
  44. खाने योग्य पदार्थ- खाद्य। 
  45. खाने की इच्छा- बुभुक्षा। 
  46. खून से रंगा हुआ- रक्तरंजित। 
  47. खेलना का मैदान- क्रीड़ास्थल। 
  48. घास छीलने वाला- घसियारा। 
  49. घास खाने वाले- तृण भोजी। 
  50. घूस लेने वाला/रिश्वत लेने वाला- घूसखोर/रिश्वतखोर। 

निबंध लेखन हिंदी में

  1. घुलने योग्य पदार्थ- घुलनशील। 
  2. घृणा करने योग्य- घृणास्पद। 
  3. दूर की सोचने वाला- दूरदर्शी
  4. दुसरे देश से अपने देश में समान आना- आयात
  5. दूसरों की बातों में दखल देना- हस्तक्षेप
  6. दिल से होने वाला- हार्दिक
  7. दया करने वाला- दयालु
  8. दूसरों पर उपकार करने वाला- उपकारी
  9. दूसरों के दोष को खोजने वाला- छिद्रान्वेषी
  10. दूसरे के पीछे चलने वाला- अनुचर
  11. दुखांत नाटक- त्रासदी
  12. दर्द से भरा हुआ- दर्दनाक
  13. देखने योग्य- दर्शनीय
  14. दूसरों की बातों में दखल देना- हस्तक्षेप
  15. दिल से होने वाला- हार्दिक
  16. दो बार जन्म लेने वाले- द्विज
  17. दुःख देनेवाला- दुःखद
  18. दर्शन के योग्य- र्शनीय
  19. दिन पर दिन- दिनानुदिन
  20. द्रुपद की पुत्री- द्रौपदी
  21. द्रुत गमन करनेवाला- द्रुतगामी
  22. दाव (जंगल) का अनल (आग)- दावानल
  23. दूसरों के गुणों में दोष ढूँढने की वृत्ति का न होना- अनसूया
  24. दोपहर के बाद का समय- अपराह्न
  25. देश के लिए अपने प्राण देने वाला- शहीद
  26. द्वार या आँगन के फर्श पर रंगों से चित्र बनाने या चौक पूरने की कला- अल्पना
  27. दूसरे के हित में अपने आप को संकट में डालना- आत्मोत्सर्ग
  28. देश में विदेश से माल आने की क्रिया- आयात
  29. दूसरों की उन्नति को न देख सकना- ईष्र्या
  30. दूसरों के दोषों को खोजना- छिद्रान्वेषण
  31. दिन रात ठाढ़े (खड़े) रहने वाले साधु- ठाढ़ेश्वरी
  32. दस वर्षो का समय- दशक
  33. दाव (जंगल) में लगने वाली आग- दावानल
  34. दिन पर दिन- दिनोदिन
  35. दो बार जन्म लेने वाला- द्विज
  36. देने की इच्छा- दित्सा
  37. दैव या प्रारब्ध संबंधी बातें जानने वाला- देवज्ञ
  38. दिन के समय अपने प्रिय से मिलने जाने वाली नायिका- दिवा अभिसारिका
  39. दशरथ का पुत्र- दशरथि
  40. देखने की इच्छा- दिदृक्ष
  41. दण्ड दिये जाने योग्य- दण्डनीय
  42. दो भाषाएं बोलने वाला- द्विभाषी
  43. दो वेदों को जानने वाला- द्विवेदी
  44. देवताओं पर चढ़ाने हेतु बनाया गया दही, घी, जल, चीनी, और शहद का मिश्रण-मधुपर्क
  45. दूसरे के स्थान पर काम करने वाला- स्थानापन्न
  46. दैहिक, दैविक व भौतिक ताप या कष्ट- त्रिताप
  47. दीवार पर बने हुए चित्र- भित्तिचित्र
  48. दूसरे के मन की बात जानने वाला- अन्तर्यामी
  49. दूसरे के अन्दर की गहराई ताड़नेवाला- अन्तर्दर्शी
  50. दूध पिलाने वाली धाय- अन्ना

कबीर दास जी के दोहे

  1. देह का दाहिना भाग- अपसव्य
  2. दर्पण जड़ी अँगूठी, जिसे स्त्रियाँ अँगूठे में पहनती हैं- आरसी
  3. दो दिशाओं के बीच की दिशा- उपदिशा
  4. दो बातों या कामों में से एक- वैकल्पिक
  5. दूर से मन को आकर्षित करनेवाली गंध- निर्हारी
  6. दुःख, भय आदि के कारण उत्पत्र ध्वनि- काकु
  7. द्वीप में जन्मा- द्वैपायन
  8. दक्षिण दिशा- अवाची
  9. दो या तीन बार कहना- आम्रेडित
  10. दागकर छोड़ा गया साँड़- अंकिल
  11. दूसरे के हाथ में गया हुआ- हस्तांतरित

Vakyansh ke liye ek shabd के लिए पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण MCQ

वाक्यांश के लिए एक शब्द?

कम से कम शब्दोँ मेँ अधिकाधिक अर्थ को प्रकट करने के लिए ‘वाक्यांश या शब्द–समूह के लिए एक शब्द’ का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है। ऐसे शब्दोँ के प्रयोग से वाक्य–रचना मेँ संक्षिप्तता, सुन्दरता तथा गंभीरता आ जाती है। भाषा में कई शब्दों के स्थान पर एक शब्द बोल कर हम भाषा को प्रभावशाली एवं आकर्षक बनाते है।

वाक्यांशों की परिभाषा?

दो या उससे अधिक पदों का आकांक्षायुक्त सार्थक योग वाक्यांश है, यथा–’रोटी खाने के बाद मैंने केला खाया’ में ‘रोटी खाने के बाद’ वाक्यांश है । वाक्यखंड पदों का वह समूह है जिससे मात्र आंशिक भाव प्रकट होता है

जो आंखों के सामने हो वाक्यांश के लिए एक शब्द?

जो आँखों के सामने हो उसे ‘प्रत्यक्ष’ कहते हैं।

आँखों के सामने कौन सा समास है?

क्योंकि प्रत्यक्ष में अव्ययीभाव समास है इसलिए हमने विद्यार्थियों की सहायता के लिए अव्ययीभाव समास की परिभाषा, भेद और उदाहरण को यहाँ पर संक्षेप में समझाया है

यदि आपको हमारा यह Vakyansh ke liye ek shabd ब्लॉग पसंद आया हो और आपको ब्लाॅग्स पढ़ने में रुचि हो तो आप Leverage Edu पर जाकर ऐसे कई ब्लॉग्स पढ़ सकते हैैं। इस ब्लॉग से जुड़ी कोई भी जानकारी जानने के लिए हमारे कमेंट बॉक्स में हमें कमेंट कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

हिंदी मुहावरे (Muhavare)
Read More

300+ हिंदी मुहावरे

‘मुहावरा’ शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है ‘अभ्यास होना’ या आदी होना’। इस प्रकार मुहावरा शब्द…
उपसर्ग और प्रत्यय
Read More

उपसर्ग और प्रत्यय

शब्दांश या अव्यय जो किसी शब्द के पहले आकर उसका विशेष अर्थ बनाते हैं, उपसर्ग कहलाते हैं। उपसर्ग…