ये पॉजिटिव सोच देंगी आपके जीवन को नया मुकाम

1 minute read
2.2K views
Positive Thinking in Hindi

पॉजिटिव सोच एक प्रकार की शक्ति है ,शस्त्र है जो हमें भगवान द्वारा मिली है। इस शक्ति का प्रयोग करके हम जीवन में बड़े से बड़े युद्ध में विजय प्राप्त कर सकते हैं। motivation quotes भी पॉजिटिव थिंकिंग लाते हैं। पॉजिटिव थिंकिंग से हम परेशानी के सामने लड़ सकते हैं। हर एक मनुष्य के जीवन में परेशानी होती है, जो मनुष्य परेशानी के समय में अपनी सोच को काबू में रखते हैं, अंतिम समय में वही सफल हो पाते हैं। मन के अंदर बुरे विचार आना, दूसरे के बारे में गलत विचार ना , यह सारी शैतानी शक्ति होती है। इस ब्लॉग में Positive Thinking in Hindi के बारे में बताया जाएगा, जिससे आपका मन सकारात्मक बातों से खील उठेगा। जीवन में हर एक मनुष्य को हमेशा सकारात्मक सोच रखनी चाहिए। तो आइए जानते हैं Positive Thinking in Hindi के बारे में विस्तार से।

सकारात्मक सोच का मतलब

पॉजिटिव थिंकिंग का हिंदी अर्थ सकारात्मक सोच होता है जिसका मतलब अच्छी सोच या हमेशा सही सोचना होता है। यदि कोई व्यक्ति सकारात्मक सोच रखता है तो वह कठिन समय में भी अच्छा ही सोचता है। 

सकारात्मक सोच क्या होती है?

सकारात्मक सोच का का अर्थ है सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ जीवन की चुनौतियों का सामना करना। एक व्यक्ति जो सकारात्मक तरीके से सोचता है, वह अपने आसपास के लोगों और घटनाओं के उज्‍ज्‍वल पक्ष पर ही ध्‍यान केंद्रित करता है। इसके साथ ही वे अपनी तमाम इच्छाओं को वश में कर अपनी नकारात्मक सोच को सकारात्मक सोच में बदल देता है।

सकारात्मक सोच का महत्व

Positive Thinking in Hindi के महत्व नीचे दिए गए हैं-

  • सकारात्मक और आशावादी सोच के कई सारे फायदे होते हैं, जॉन्स हॉपकिन्स के अनुसार, जिन लोगों के पास परिवार में हृदय रोग का इतिहास है लेकिन सकारात्मक दृष्टिकोण है, वे दिल का दौरा पड़ने के बाद भी ज्‍यादा लंबी जिंदगी जीते हैं। उनमें किसी भी तरह के जोखिम की संभावना एक तिहाई कम होती है।
  • आपकी रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने के प्रमुख तरीकों में से एक सकारात्मक रूप से सोचना है। जब आप सकारात्‍मक तरीके से सोचते हैं, तभी आपकी इम्‍यूनिटी ज्‍यादा बेहतर तरीके से काम करती है और आप बेहतर तरीके से बीमारियों से लड़ पाते हैं।
  • केंटकी विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका में किए गए 30 वर्षों में 300 अध्ययनों के मेटा-विश्लेषण, पाया गया कि नकारात्मक सोच शरीर की प्रतिरक्षा कार्यप्रणाली में परिवर्तन करती है। दूसरी तरफ सकारात्मक सोच शरीर की प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है।
  • उच्च रक्तचाप के मुख्य कारणों में से एक बहुत अधिक तनाव है। अगर हम सकारात्मक सोच रखते हैं, तो हम तनाव कम लेते हैं और हमारा रक्तचाप नियंत्रण में रहता है। साइकोसोमेटिक मेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित एक सहयोगी अध्ययन में, रिसर्चर्स ने बुजुर्गों में  उच्च सकारात्मक सोच और निम्न रक्तचाप के बीच संबंध पाया।

छात्रों के लिए सकारात्मक सोच का मकसद

छात्रों के लिए सकारात्मक सोच की पुष्टि का मुख्य उद्देश्य यह है कि अपने सोचने के तरीके को बदलकर आप अपनी भावनाओं और अपने कार्यों को नियंत्रित कर सकते हैं। युवा वयस्क, विशेष रूप से, अपने जीवन में अधिक सकारात्मक सोच का उपयोग कर सकते हैं। अधिक सकारात्मक सोचने की शुरुआत करके, वे खुद पर विश्वास करना सीख सकते हैं और अपने व्यक्तिगत भविष्य की दिशा में काम कर सकते हैं। युवा वयस्क वे हैं जो अभी भी जीवन में अपना रास्ता खोज रहे हैं और अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में भी भ्रमित हैं। यह उनके लिए तनावपूर्ण हो सकता है। अपनी दैनिक दिनचर्या में से कुछ मिनट निकालकर सभी सर्वोत्तम गुणों के बारे में सोचना प्रत्येक व्यक्ति में आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करेगा। 

आप सकारात्मक सोच की पुष्टि को अवास्तविक “इच्छाधारी सोच” मान सकते हैं। इसके बजाय, सकारात्मक सोच की पुष्टि को इस तरह से देखने का प्रयास करें: हम में से कई अपने शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए बार-बार व्यायाम करते हैं, पुष्टि हमारे दिमाग और परिप्रेक्ष्य (पर्सपेक्टिव) के लिए व्यायाम की तरह है।

पॉजिटिव सोच कैसे बनाएं?

मनुष्य के मन में दो तरह के विचार होते हैं:

  1. सकारात्मक सोच (पॉजिटिव थिंकिंग)
  2. नकारात्मक सोच (नेगेटिव थिंकिंग)

पॉजिटिव सोच हमारे जीवन में भगवान की ओर से आती है परंतु नकारात्मक सोच शैतान का काम होता है। इस दुनिया के अंदर जैसे भगवान की शक्ति होती है ठीक उसी प्रकार शैतान की ताकत भी होती है। आपने तो सुना ही होगा पॉजिटिव सोच वाले लोग जीवन में हमेशा सफल होता है। आपके मन में जो विचार चल रहे होते हैं वह स्वभाव के द्वारा सब लोग के सामने आते हैं। पॉजिटिव सोच वाले लोगों के पास सभी लोग जाना पसंद करते हैं।

Source : Sandeep Maheshwari

पॉजिटिव सोच के लिए रोज सुबह उठकर आईने के सामने खड़े रहकर नीचे निम्नलिखित प्रक्रिया जरूर अपनाएं:

  1. हर रोज मुस्कुराओ।
  2. आज मेरा ही दिन है।
  3. मुझे पता है ,मैं आज सबसे बेस्ट जगह में हूं।
  4. मुझे पता है, मैं विजेता हूं।
  5. मैं अपने लिए खुद जिम्मेदार हूं।
  6. अपना भाग्य मैं खुद चुन सकता हूं।
  7. मुझे पता है मैं यह कर सकता हूं।
  8. मेरे अंदर विश्वास है कि मैं यह कर सकता हूं।
  9. मुझे पता है भगवान हमेशा मेरे साथ रहते हैं।
  10. मेरे लिए कोई भी काम मुश्किल नहीं है।
  11. मैं यह जरूर कर पाऊंगा।
  12. मैं इसके लिए कड़ी से कड़ी मेहनत करूंगा।

आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि यह बोलने से क्या होगा? ऐसा करने से क्या बदलाव आएगा? यह बोलने से मेरी परेशानी तो ठीक नहीं होने वाली? मैं इसे रोज क्यों बोलूं? इस प्रकार के सवाल हल सभी के मन में आते हैं, लेकिन आप विश्वास करें अगर आप यह प्रक्रिया रोज अपनाएंगे तो आपके मन के अंदर सकारात्मक सोच का संचार होगा। आपने तो सुना ही होगा शब्दों में बहुत ताकत होती है। अगर आप रोज सकारात्मक बोलोगे तो आप वैसा ही सकारात्मक सोचोगे। पॉजिटिव पार्टी बोलने से हमारे शरीर के अंदर पॉजिटिव किरण आएंगी इससे हम मुसीबत का दढ के सामना कर सकते हैं।

पॉजिटिव सोच लाने के लिए पांच मूल मंत्र

Positive Thinking in Hindi के लिए 5 मूल मंत्र इस प्रकार हैं:

  • विश्वास रखें खुशी एल प्रकार का विकल्प है अपने लिए आपको चुन सकते हैं।
  • हमेशा नकारात्मक भरी जिंदगी से दूर रहें।
  • हर परिस्थिति और मुश्किल में सकारात्मक पात्र सोचें।
  • हमेशा खुशियां  दूसरो के साथ बांटें।
  • सकारात्मक सोच वाले लोगों से जुड़ कर रहें।

सकारात्मक सोच के लिए पावरफुल बातें

Positive Thinking in Hindi के लिए कुछ पावरफुल बातें इस प्रकार हैं:

  • हमेशा अच्छा सोचें।
  • देखने का नजरिया बदलो।
  • शिकायत मत करो।
  • परेशानी के ऊपर फोकस मत करो।
  • हमेशा हंसते रहो।
  • एक्सरसाइज करो।
  • ध्यान करो।
  • दूसरों को प्रोत्साहित करो।
  • अच्छे गाने सुनों।
  • सकारत्मक सोच वाली किताबें पढ़ो।

पॉजिटिव सोच के लिए कुछ महत्वपूर्ण विचार

Positive Thinking in Hindi के लिए कुछ महत्वपूर्ण विचार इस प्रकार हैं:

  1. “सकारात्मक बनने को चुनना और एक अच्छा व्यवहार रखना, ये तय करेगा कि आप किस तरह अपनी आगे की जिंदगी जीने वाले हो।”– जोएल ओस टीन
  2. मेरा मानना है कि अगर आप भरोसा बनाए रखते हों, अपना विश्वास और अच्छा आचरण रखते हों, अगर आप आभारी हो, तो आप ईश्वर को नए दरवाजे खोलते हुए देखोगे।” – जोएल ओस टीन
  3. ”मैं बस खुद को नियंत्रित रख सकती हूं और सकारात्मक बनी रह सकती हूं।” – रोज़ नामानुजास
  4. ”आप जो अपने मन मे महसूस करते हो वो आपके चेहरे पर दिखता है। इसलिए हर समय सकारात्मक और खुश रहिए। ” – श्री देवी
  5. ”एक मजबूत सकारात्मक मानसिक स्वभाव किसी भी ड्रग से ज्यादा कमाल कर सकता है।” – पटरीसीया नील
  6. ”हर दिन मे 1440 मिनट होते हैं। इसका मतलब रोज हमारे पास सकारात्मक होने के 1440 अवसर होते हैं।” – लैस ब्राउन
  7. ”मैं हर दिन खुश रहता हूं क्योंकि जिंदगी बहुत धीरे और आराम से चल रही है।” – लील याची
  8. ”परिस्थिति नहीं बल्कि हम उस पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रतिक्रिया देते हैं यह जरूरी है।” – जीग जिगलर
  9. मुझे लगता है किसी चीज पर कठिन परिश्रम करने पर सकारात्मक नतीजे मिलना हमेशा एक खुशी वाली फिलिंग होती है। ” – जेसिका स्प्रिंग स्टीन
  10. ”मिस्र और सीरिया के लोगों के बीच मे एक सकारत्मक और निजी रिश्ता बना हुआ है।” – मोहम्मद मोरिस
Source : Sandeep Maheshwari

पॉजिटिव सोच के लिए सबसे बेस्ट कोट्स

Positive Thinking in Hindi के लिए सबसे बेस्ट कोट्स नीचे दिए गए हैं-

  1. जिंदगी में कुछ नेक काम ऐसे भी करने चाहिए जिनका, उस ऊपर वालें के सिवा कोई दुसरा गवाह ना हो।
  2. जब कोई विचार अनन्य रुप से मस्तिष्क पर अधिकार कर लेता है तब वह वास्तविक, भौतिक या मानसिक अवस्था में परिवर्तित हो जाता है!
  3. सब्र कोई कमज़ोरी नही होती है ये वो ताकत होती है जो सब में नहीं होती..!!
  4. दुआएं कभी खाली नहीं जाती हैं बस सही वक्त पर कबूल होती है।
  5. मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता हैं, जैसा वो विश्वास करता हैं वैसा वो बन जाता हैं.
  6. सब कुछ काॅपी हो सकता है लेकिन चरित्र और व्यवहार नहीं..!
  7. अपनी सोच को काबू में रखिए क्योकि आपकी सोच ही असलियत का रुप लेगी।
  8. अगर नियत अच्छी हो तो नसीब कभी बुरा नहीं होता..!
  9. वक्त बनाने वाले को जरा सा वक्त देकर देखो, वो आपका वक्त बदल देगा…
  10. कर्म का कोई मेन्यू नही होता, जो आप सर्व करेंगे, वहीं आप डिज़र्व करेंगे!!
Source : Pinterest
  1. दिमाग में विचारों का ट्रैफिक जितना कम होगा..जिंदगी का सफर उतना ही आसान होगा!!
  2. मन का झुकना भी बहुत जरुरी है, सिर्फ सर झुकाने से भगवान नहीं मिलते..
  3. मंजर बुरा हो सकता है, मजिंल नहीं.. दौर बुरा हो सकता है, लेकिन जिंदगी नहीं..
  4. जितने का मज़ा तब आता है…जब सभी आपके हारने का इंतजार कर रहे हो..!
  5. अगर आप उन बातों और परिस्थितियों की वजह से चिंतित हो जाते हैं, जो आपके नियंत्रण में नहीं; तो इसका परिणाम समय की बर्बादी और भविष्य का पछतावा हैं…
  6. आप दुःख पर ध्यान देंगे तो हमेशा दुःखी रहेंगे, आप सुख पर ध्यान देंगे तो हमेशा सुखी रहेंगे; क्योंकि आप जीस पर ध्यान देते है वहीं चीज सक्रिय हो जाती है।
  7. बुरा वक्त भी गुज़र ही जाता है, बस “रब” को हमारा “सबर” आजमाना होता है..!
  8. चेहरे पर हमेशा मुस्कान का ये मतलब नहीं की जीवन में संघर्ष नहीं है..बस उपर वाले पर भरोसा ज्यादा है!!
  9. ज़िन्दगी में अगर कुछ बड़ा करना हैं तब दो चीजें हमेशा याद रखना; 
  10. पहला जो खोया हैं उसका ग़म नहीं और जो पाया हैं वो भी किसी से काम नहीं..!!
positive thinking in hindi
Source : Pinterest
  1. ख़राब तबियत से व्यक्ति जितना कमजोर नहीं होता उससे ज्यादा वह नकारात्मक विचारों से थकता है..
  2. ज़िंदगी में हम कितने सही और कितने गलत हैं, ये सिर्फ दो ही शख़्स जानते हैं, परमात्मा और अंतरआत्मा।
  3. कामयाबी कुछ नहीं बस एक नाकामयाब व्यक्ति के संघर्ष की कहानी होती है..
  4. नकारात्मक विचारों को अपने मन में प्रवेश करने की अनुमति ना दें क्योंकी ये वो झंखाड़ होती हैं जो आत्म-विश्वास कम कर देती है..
  5. आपके ख़िलाफ होने वाली बातों को खामोशी से सुन लिजिए..यकिन मानिए, वक्त उसे बेहतर जवाब देगा..!
  6. दिल और दिमाग के टकराव में हमेशा दिल की सुनो..
  7. जिसने अपने को वश में कर लिया है, उसकी जीत को देवता भी हार में नही बदल सकते।
  8. सबको गिला है बहुत कम मिला है,ज़रा सोचिए..जितना आपको मिला है उतना कितनों को मिला है!!
  9. जब कोई ‘हाथ’ और ‘साथ’ दोनो छोड़ देता है.. तब कुदरत कोई ना कोई उंगली पकड़ने वाला भेज हो देता है।
  10. अगर लोग आपकी अच्छाई को आपकी कमज़ोरी समझते हैं..तो यह उनकी समस्या है 
  11. एक समय में एक काम करो..और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमें ड़ाल दो और बाकि सबकुछ भूल जाओ…
  12. पैसा कमाने के लिए इतना वक़्त खर्च ना करो कि पैसा खर्च करने के लिए ज़िन्दगी में वक़्त ही ना मिले
  13. ज़िन्दगी पल-पल ढलती है, जैसे रेत मुठ्ठी से फिसलती है..शिकवे कितने भी हो हर पल, फिर भी हँसते रहना क्योंकि ये ज़िंन्दगी जैसी भी है बस एक ही बार मिलती है।
  14. खुद के बारें में न किसी पीर से पूछो न किसी फ़क़ीर से पूछो…बस कुछ देर आँखें बंद कर अपने ज़मीर से पूछो।
  15. ख़ुशी के लिए काम करोगे तो ख़ुशी नहीं मिलेगी, लेकिन ख़ुश होकर काम करोगे तो ख़ुशी जरूर मिलेगी।
  16. जब भी ज़िंदगी आपको पटक दे या पीछे ढकेल दे, तो समझ जाना एक बड़ी छलांग लगाने का वक़्त आ गया है। 
  17. सच की राहों पर चलो तो फायदा ही फायदा होता है क्योंकि इस राह पर भीड़ हमेशा कम होती है।
  18. पैरों में आई मोच और छोटी सोच इंसान को आगें नहीं बढ़ने देती हैं।
  19. पैसा हैसियत बदल सकता हैं, औक़ात नहीं।
  20. बुरा वक्त रुलाता है, मगर बहुत कुछ सीखा कर जाता है।
  21. तुझसे कोई शिकायत नहीं है ऐ ज़िन्दगी जो भी दिया है वही बहुत है।
  22. निंदा उसी की होती हैं जो ज़िन्दा हैं, मरने के बाद तो सिर्फ तारीफ़ होती हैं।
  23. ग़म की चादर हटाओ और ज़रा देखो बाहर, औरों के दर्द से तो तुम्हारा दर्द कम है।
  24. किस्मत और सुबह की नींद, कभी समय पर नहीं खुलती।
  25. उस इंसान से कभी झूठ मत बोलिए, जिसे आपके झूठ पर भी विश्वास हो।

आपकी रोज़मर्रा की प्रेरणा के लिए सकारात्मक अफर्मेशन

सकारात्मक पुष्टि आपके आत्म-सम्मान, शरीर की छवि को बढ़ा सकती है। छात्र बदमाशी या सामाजिक संघर्षों और बहुत कुछ को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में सक्षम हैं। हमने कुछ सकारात्मक पुष्टिओं की एक सूची तैयार की है जो युवा वयस्कों की मदद करती हैं और उन्हें प्रेरित रहने में मदद करती हैं:

आत्म-सम्मान और शरीर की छवि को आसमान छूने के लिए

  1. मुझे अपनी खूबियों का मालिक बनना पसंद है क्योंकि मुझे पता है कि कोई भी व्यक्ति पूर्ण नहीं होता है।
  2. मैं अपने सिवा किसी और की तरह नहीं दिखना चाहता।
  3. मैं हर दिन हर तरह से बेहतर होता जाता हूं।
  4. मेरा आत्म-मूल्य पैमाने पर एक संख्या से निर्धारित नहीं होता है।

खुद की तुलना करना बंद करने के लिए

  1. मैं खुद की तुलना केवल अपने उच्चतम स्व से करता हूं।
  2. मैं इसमें फिट होने की कोशिश नहीं कर रहा हूं, क्योंकि मैं अलग दिखने के लिए पैदा हुआ हूं।
  3. मैं खुद की दूसरों से तुलना करने से परहेज करता हूं।
  4. सुंदरता सभी आकारों और आकारों में आती है।

नकारात्मक टिप्पणियों पर काबू पाने के लिए

  1. मैं संबंधित हूं, और मैं काफी अच्छा हूं।
  2. मेरी मर्जी के बिना कोई मुझे हीन महसूस नहीं करवा सकता।
  3. मैं अपने आप को ऐसे लोगों से घेरता हूं जो मेरे साथ अच्छा व्यवहार करते हैं।
  4. मैं दूसरों में सुंदरता देखता हूं।

सकारात्मकता के चश्मे से देखना सीखें

  1. मैं जैसा हूं वैसा ही संपूर्ण और संपूर्ण हूं।
  2. मैं अपनी भावनाओं को नियंत्रित करता हूं; वे मुझे नियंत्रित नहीं करते।
  3. मैं इस दुनिया के लिए आत्म-दया महसूस करने के लिए बहुत बड़ा उपहार हूं।
  4. आज का दिन मेरे जीवन का सबसे अच्छा दिन है।

सकारात्मक सोच अफर्मेशन का उपयोग कैसे करें?

आप विभिन्न स्थितियों में सकारात्मक सोच की पुष्टि का उपयोग कर सकते हैं जहां आप सकारात्मक बदलाव देखना चाहते हैं। इनमें वे स्थितियां शामिल हो सकती हैं जब आप चाहते हैं:

  • प्रदर्शन या महत्वपूर्ण मीटिंग से पहले अपना आत्मविश्वास बढ़ाएं।
  • निराशा, क्रोध या चिंता जैसी नकारात्मक भावनाओं को संभालें।
  • अपने आत्मसम्मान को बढ़ाएं।
  • आपके द्वारा शुरू किए गए प्रोजेक्ट बंद करें।
  • अपनी उत्पादकता बढ़ाएँ।
  • एक बुरी आदत पर काबू पाएं।

पॉजिटिव सोच के लिए कुछ महत्वपूर्ण किताबें

Positive Thinking in Hindi के लिए सबसे बेस्ट बुक्स के नाम इस प्रकार हैं:

पॉजिटिव सोच के बेस्ट हिंदी ऐप्स

Positive Thinking in Hindi के लिए बेस्ट हिंदी ऐप्स इस प्रकार हैं:

  1. Headspace 
  2. Calm
  3. Eka
  4. ThinkRight.me
  5. InnerHour
  6. Positive Thoughts
  7. Yog Nidra
  8. Meditation Plus
  9. योगासन
  10. मन की शक्ति
  11. Adipurusha
  12. Antistress

पॉजिटिव सोच के लिए कविता

Source : Pinterest

FAQs

पॉजिटिव कैसे सोचें?

हमेशा अच्छा सोचें।
देखने का नजरिया बदलो।
शिकायत मत करो।
परेशानी के ऊपर फोकस मत करो।
हमेशा हंसते रहो।
एक्सरसाइज करो।
ध्यान करो।
दूसरों को प्रोत्साहित करो।
अच्छे गाने सुनों।
पॉजिटिव सोच वाली किताबें पढ़ों।

पॉजिटिव थिंकिंग का मतलब क्या होता है?

पॉजिटिव थिंकिंग का हिंदी अर्थ सकारात्मक सोच होता है जिसका मतलब अच्छी सोच या हमेशा सही सोचना होता है। यदि कोई व्यक्ति सकारात्मक सोच रखता है तो वह कठिन समय में भी अच्छा ही सोचता है।

सकारात्मक सोच क्या है और इसका महत्व उदाहरण सहित समझाइए?

सकारात्मक सोच का का अर्थ है सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ जीवन की चुनौतियों का सामना करना। एक व्यक्ति जो सकारात्मक तरीके से सोचता है, वह अपने आसपास के लोगों और घटनाओं के उज्‍ज्‍वल पक्ष पर ही ध्‍यान केंद्रित करता है। इसके साथ ही वे अपनी तमाम इच्छाओं को वश में कर अपनी नकारात्मक सोच को सकारात्मक सोच में बदल देता है।
केंटकी विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका में किए गए 30 वर्षों में 300 अध्ययनों के मेटा-विश्लेषण, पाया गया कि नकारात्मक सोच शरीर की प्रतिरक्षा कार्यप्रणाली में परिवर्तन करती है। दूसरी तरफ सकारात्मक सोच शरीर की प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है।

सकारात्मक सोच क्यों रखनी चाहिए?

यदि कोई व्यक्ति सकारात्मक सोच रखता है तो वह कठिन समय में भी अच्छा ही सोचता है। 

नेगेटिव का हिंदी अर्थ क्या है?

ऋणात्मक

दिमाग से नेगेटिव बातों को कैसे निकालें?

विश्वास रखें खुशी एल प्रकार का विकल्प है अपने लिए आपको चुन सकते हैं-
1. हमेशा नकारात्मक भरी जिंदगी से दूर रहें।
2. हर परिस्थिति और मुश्किल में सकारात्मक पात्र सोचें।
3. हमेशा खुशियां  दूसरो के साथ बाँटें।
4. सकारात्मक सोच वाले लोगों से जुड़ कर रहें।

उम्मीद हैं कि Positive Thinking in Hindi के इस ब्लॉग से आपको जानकारी मिल गई होगी। अगर आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते है तो आज ही हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स से 1800 572 000 पर कॉल करके 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

6 comments
  1. आपका ब्लाग मुझे बहुत पसंद आया सकारात्मक विचार व्यक्ति का जीवन बदल देते हैं

    1. आपका आभार, ऐसे ही आप हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

    1. आपका आभार, ऐसे ही हमारी वेबसाइट पर बने रहें।

  1. आपका ब्लाग मुझे बहुत पसंद आया सकारात्मक विचार व्यक्ति का जीवन बदल देते हैं

    1. आपका आभार, ऐसे ही आप हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert