क्रिया विशेषण : परिभाषा, भेद एवं उदाहरण

Rating:
4.2
(72)
Kriya Visheshan

क्रिया विशेषण वह शब्द होते हैं जो हमें क्रिया की विशेषता बताते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो जिन शब्दों से क्रिया की विशेषता का पता चलता है, उन शब्दों को हम क्रिया विशेषण कहते हैं। इस ब्लॉग में kriya visheshan (adverb in Hindi) की परिभाषा , क्रिया विशेषण के भेद के बारे में संपूर्ण जानकारी दी जाएगी। चलिए पढ़ते हैं क्रिया विशेषण (adverb in Hindi) के बारे में विस्तार से।

हिंदी व्याकरण – Leverage Edu के साथ संपूर्ण हिंदी व्याकरण सीखें

शब्द के प्रकार

Kriya visheshan के बारे में जानने से पहले शब्दों के प्रकार पता होने चाहिए, जो नीचे दिए हैं:

  • विकारी शब्द: जिन शब्दों में लिंग, वचन और कारक के कारण विकार (disorder) पैदा हो जाता है, उसे विकारी शब्द कहते हैं।
  • अविकारी शब्द: जिन शब्दों में लिंग, वचन और कारक के कारण विकार पैदा न हो, उसे अविकारी शब्द कहते हैं। क्रिया-विशेषण अविकारी शब्द का एक भेद होता है क्योंकि क्रिया-विशेषण शब्द किसी भी स्थिति में नहीं बदलते हैं।

Kriya Visheshan की परिभाषा

वह शब्द जो हमें क्रिया की विशेषता के बारे में बताते हैं, वे शब्द क्रिया विशेषण कहलाते हैं। जैसे: हिरण तेज़ भागता है। 

इस वाक्य में भागना क्रिया है। तेज़ शब्द हमें क्रिया कि विशेषता बता रहा है कि वह कितनी तेज़ भाग रहा है। तेज़ शब्द क्रियाविशेषण है।

Source : Rachna Sagar

Kriya Visheshan Examples

Kriya visheshan के examples कुछ इस प्रकार हैं:

  • वह धीरे-धीरे चलता है।
  • खरगोश तेज़ दौड़ता है।
  • शेर धीरे-धीरे आगे बढ़ता है।
  • राम धीरे चलता है ।
  • मैं वहां नहीं जाऊंगा ।
  • हमे यहां से आगे जाना है ।
  • कल मेरा जन्मदिन है ।
  • वह प्रतिदिन कसरत करता है ।
  • सभी को अपना कार्य ध्यानपूर्वक करना चाहिए ।
  • तुम हस्ते हुए बहुत सुंदर लगते हो ।
  • मुझे थोड़ा ही खाना चाहिए ।
  • तुम्हें कम बोलना चाहिए ।
  • यह थैला बहुत भारी है ।
  • आज तेज बारिश आएगी ।
  • मेरा घर ऊपर है ।
  • अचानक से उसके पेट में दर्द शुरू हो गया ।
  • मुझे बहुत प्यास लगी है ।
  • वह दृश्य बहुत सुंदर है ।

धीरे-धीरे, तेज़ आदि शब्द चलना, दौड़ना, बढ़ना आदि क्रियाओं की विशेषता बताने का काम कर रहे है।  यह शब्द क्रियाविशेषण कहलाते हैं।

जरूर पढ़ें पत्र लेखन उदाहरण कक्षा 6, 7, 8, 9 और 10 के लिए

क्रिया विशेषण के भेद

क्रिया विशेषण के चार भेद होते है। इन्हे नीचे विस्तारपूर्वक समझाया गया है।

अर्थ के आधार पर क्रिया विशेषण के भेद

अर्थ के आधार पर क्रियाविशेषण के चार भेद होते हैं:

  1. कालवाचक क्रियाविशेषण
  2. रीतिवाचक क्रियाविशेषण
  3. स्थानवाचक क्रियाविशेषण
  4. परिमाणवाचक क्रियाविशेषण

जरूर पढ़ें Kaal in Hindi (काल)

1. कालवाचक क्रियाविशेषण

वो क्रियाविशेषण शब्द जो क्रिया के होने के समय के बारे में बताते हैं, कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • श्यामू कल मेरे घर आया था।
  • परसों बरसात होगी।
  • मैंने सुबह खाना खाया था।
  • मैं शाम को खेलता हूँ।

 हमें निश्चित ही क्रिया के होने के समय के बारे में पता चल रहा है ऐसे शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आते हैं।

  • मैं  सुबह जल्दी उठता हूँ।
  • मैं दोपहर में स्कूल से लौटता हूँ।
  • हम अक्सर शाम को खेलने जाते हैं।

क्रिया शब्द जैसे आना, खाना, होना, उठना, लौटना आदि के होने के समय के बारे में कल, सुबह, शाम, दोपहर आदि शब्द बता रहे हैं।  यह शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आयेंगे।

जरूर पढ़ें 150 Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द)

2. रीतिवाचक क्रियाविशेषण

ऐसे क्रियाविशेषण शब्द जो किसी क्रिया के होने की विधि या तरीके के बारे में बताते हैं, वह शब्द रीतिवाचक क्रिया विशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • सुरेश ध्यान से चलता है।
  • वह फटाफट खाता है।
  • अमित गलत चाल चलता है।
  • उमेश हमेशा सच बोलता है।
  • पियूष अच्छी तरह काम करता है।
  • नरेन्द्र ध्यान पूर्वक पढ़ाई करता है।
  • शेर धीरे-धीरे आगे बढ़ता है।

ध्यान से, फटाफट, गलत, हमेशा, सच, अच्छी तरह, ध्यान पूर्वक, धीरे-धीरे आदि शब्द खाना, चलना, बोलना आदि क्रियाओं की विशेषता बता रहे हैं। यह शब्द रीतिवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आयेंगे।

रीतिवाचक क्रियाविशेषण के प्रकार :-

(1) निश्चयवाचक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- अवश्य , बेशक , सचमुच , वस्तुतः , निसंदेह , सही , जरुर , अलबत्ता , यथार्थ में , दरअसल आदि।

(2) अनिश्चयवाचक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- शायद , कदाचित , संभवतः , अक्सर , बहुतकर , यथासंभव आदि।

(3) कारणात्मक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- क्योंकि , अत: , अतएव , इसलिए , चूँकि , किसलिए , क्यों , काहे को आदि।

(4) आक्स्मिकतात्म्क क्रियाविशेषण :-
जैसे :- सहसा , अकस्मात , अचानक , एकाएक आदि।

(5) स्वीकारात्मक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- हाँ , सच , ठीक , बिलकुल , जी , अच्छा आदि।

(6) निषेधात्मक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- न , मत , नहीं आदि।

(7) आवृत्यात्मक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- गटागट , धडाधड आदि।

(8) अवधारक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- ही , तो , भर , तक , भी , मात्र , सा आदि।

(9) निष्कर्ष क्रियाविशेषण :-
जैसे :- अत: , इसलिए आदि।

जरूर पढ़ें Sarvanam in Hindi (सर्वनाम)

3. स्थानवाचक क्रियाविशेषण

ऐसे अविकारी शब्द जो हमें क्रियाओं के होने के स्थान का बोध कराते हैं, वे शब्द स्थानवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • तुम अन्दर जाकर बैठो।
  • मैं बाहर खेलता हूँ।
  • हम छत पर सोते हैं।
  • मैं पेड़ पर बैठा हूँ।
  • शशि मुझसे बहुत दूर बैठी है।
  • मुरारी मैदान में खेल रहा है।
  • तुम अपने दाहिने ओर गिर जाओ।

अन्दर, बाहर, छत पर, पेड़ पर, दूर, मैदान में, दाहिने आदि शब्द हमें बैठना, खेलना, सोना, गिरना आदि क्रियाओं के होने के स्थान का बोध करा रहे हैं। जब कोई शब्द हमें किसी क्रिया के होने के स्थान का बोध कराते हैं, ऐसे शब्द स्थानवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आते हैं।

जरूर पढ़ें उपसर्ग और प्रत्यय

4. परिमाणवाचक क्रियाविशेषण

ऐसे क्रियाविशेषण शब्द जिनसे हमें क्रिया के परिमाण, संख्या या मात्र का पता चलता है, वे शब्द परिमाणवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • तुम थोड़ा अधिक खाओ।
  • अमृत बहुत ज्यादा दौड़ता है।
  • मोहन अधिक खाना खाता है।
  • आयुष उसके दोस्त से ज्यादा पढता है।
  • अभी तक तुमने पर्याप्त नींद नहीं ली।

अधिक, ज्यादा, पर्याप्त आदि शब्द खाना, दौड़ना, सोना, पढ़ना आदि क्रियाओं के परिमाप या मात्र का बोध कराते हैं।परिभाषा से हमें यह जान पड़ता है की ऐसे शब्द जो हमें क्रिया के होने की मात्रा एवं संख्या के बोध कराते हैं ऐसे शब्द परिमाणवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आते हैं।

जरूर पढ़ें 200+ हिंदी मुहावरे

प्रयोग के आधार पर क्रियाविशेषण के भेद

प्रयोग के आधार पर क्रियाविशेषण के तीन भेद होते हैं :

  1. साधारण क्रियाविशेषण ,
  2. सयोंजक क्रियाविशेषण 
  3. अनुबद्ध क्रियाविशेषण

1. साधारण क्रियाविशेषण

ऐसे क्रियाविशेषण शब्द जिनका प्रयोग वाक्य में स्वतंत्र होता है, वे शब्द साधारण क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे: 

  • अरे! तुम कब आये ?
  • हाय! यह क्या हो गया।
  • अरे! वह लड़का कहाँ चला गया ?
  • बेटा जल्दी आओ।

 कुछ शब्दों का प्रयोग वाक्य में स्वतंत्र होता है। यह शब्द साधारण क्रियाविशेषण कहलाते हैं।

2. सयोंजक क्रियाविशेषण

जिन क्रियाविशेषणों का सम्बन्ध किसी उपवाक्य से होता है , वह शब्द सयोंजक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे :

  • जहाँ तुम अभी खड़े हो, वहां घर हुआ करता था।
  • जहां तुम जाओगे, वहीँ मैं जाऊँगा।
  • यहाँ हम चल रहे हैं, वहां वो दौड़ रहे हैं।

 क्रियाविशेषणों का सम्बन्ध किसी उपवाक्य से है , यह क्रियाविशेषण शब्द सयोंजक क्रियाविशेषण कहलाते हैं।

3. अनुबद्ध क्रियाविशेषण

ऐसे शब्द जो निश्चय के लिए कहीं भी प्रयोग कर लिए जाते हैं वे शब्द अनुबद्ध क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • यह काम तो गलत ही हुआ है।
  • आपके आने भर की देर है।

 जैसे शब्दों का निश्चय के लिए कहीं भी प्रयोग हो जाता है। अतः यह शब्द अनुबद्ध क्रियाविशेषण के अंतर्गत आते हैं।

रूप के आधार पर क्रियाविशेषण के भेद

रूप के आधार पर क्रियाविशेषण के तीन भेद होते हैं :

  1. मूल क्रियाविशेषण
  2. स्थानीय क्रियाविशेषण
  3. योगिक क्रियाविशेषण

1. मूल क्रियाविशेषण

ऐसे शब्द जो दुसरे शब्दों के मेल से नहीं बनते यानी जो दुसरे शब्दों में प्रत्यय लगे बिना बन जाते हैं, वे शब्द मूल क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे: – 

  • पास
  • दूर
  • ऊपर  
  • आज  
  • सदा
  • अचानक 
  • फिर
  • नहीं
  • ठीक

2. स्थानीय क्रियाविशेषण

ऐसे अन्य शब्द-भेद जो बिना अपने रूप में बदलाव किए किसी विशेष स्थान पर आते हैं, वे स्थानीय क्रियाविशेषण कहलाते हैं। जैसे: 

  • वह अपना सिर पढे़गा।
  • तुम दौड़कर चलते हो।

 सिर, चलते आदि शब्दों के रूप में बिना बदलाव हुए ही वे विशेष स्थान पर प्रयोग किए गए है, अतः यह स्थानीय क्रियाविशेषण के अंतर्गत आयेंगे।

3. यौगिक क्रियाविशेषण

ऐसे क्रियाविशेषण जो किसी दुसरे शब्दों में प्रत्यय या पद आदि लगाने से बनते हैं, ऐसे क्रियाविशेषण यौगिक क्रियाविशेषणों की श्रेणी में आते हैं।

संज्ञा से यौगिक क्रियाविशेषण :-
जैसे :- सवेरे , सायं , आजन्म , क्रमशः , प्रेमपूर्वक , रातभर , मन से आदि।

सर्वनाम से यौगिक क्रियाविशेषण :-
जैसे : यहाँ , वहाँ , अब , कब , इतना , उतना , जहाँ , जिससे आदि।

विशेषण से क्रियाविशेषण :-
जैसे :- चुपके , पहले , दूसरे , धीरे आदि।

क्रिया से क्रियाविशेषण :-
जैसे :- खाते , पीते , सोते , उठते , बैठते , जागते आदि।

विशेषण और क्रियाविशेषण में अंतर

नीचे विशेषण और kriya visheshan में अंतर दिया गया है।

विशेषण क्रियाविशेषण
जो शब्द संज्ञा या फिर सर्वनाम की विशेषता बताते हैं उन्हें विशेषण कहते हैं। जो शब्द क्रिया की विशेषता बताते हैं उन्हें क्रिया-विशेषण कहते हैं।
उदाहरण: वह अच्छा खिलाड़ी है। उदाहरण: वह अच्छा खेलता है।

Adverb in Hindi Worksheet 

Pad Parichay

Adverb in Hindi Question and Answer

क्रियाविशेषण किसकी विशेषता बताता है?
(i) संज्ञा
(ii) सर्वनाम
(iii) क्रिया
(iv) काल

उत्तर: (iii) क्रिया

Adverb in Hindi के कितने भेद होते हैं?
(i) तीन
(ii) चार
(iii) पाँच
(iv) आठ

उत्तर: (ii) चार

संज्ञा या सर्वनाम का शेष वाक्य के साथ संबंध जोड़ने वाला शब्द कहलाता है?
(i) संबंधबोधक
(ii) क्रिया
(iii) क्रियाविशेषण
(iv) सर्वनाम

उत्तर: (i) संबंधबोधक

समुच्चयबोधक शब्द का अभिप्राय है-
(i) दो शब्दों या वाक्यों को पृथक करना,
(ii) दो शब्दों या वाक्यों को जोड़ना
(iii) दो शब्दों या वाक्यों में समानता बताना
(iv) इनमें कोई नहीं

उत्तर: (ii) दो शब्दों या वाक्यों को जोड़ना

समुच्चयबोधक के उदाहरण हैं-
(i) के पास, से दूर
(ii) और, क्योंकि
(iii) में, पर
(iv) सुबह, रात

उत्तर: (ii) और, क्योंकि

हे प्रभु! मेरी प्रार्थना सुन लो। में भाव प्रकट हो रहा है-
(i) स्वीकृतिबोधक।
(ii) भयबोधक
(iii) संबंधबोधक
(iv) घृणाबोधक

उत्तर: (iii) संबंधबोधक

विजयी हो! तुम अवश्य शत्रु को हरा सकोगे।
(i) हर्षबोधक
(ii) घृणाबोधक
(iii) शोकबोधक
(iv) आर्शीवादबोधक

उत्तर: (iv) आर्शीवादबोधक

वाक्यों में आए सही निपात शब्द हैं
(i) मैं
(ii) ही
(iii) तुम
(iv) चलो

उत्तर: (ii) ही

क्रियाविशेषण के कितने भेद हैं?

अर्थ के आधार पर क्रियाविशेषण के चार भेद होते हैं:
1. कालवाचक क्रियाविशेषण
2. रीतिवाचक क्रियाविशेषण
3. स्थानवाचक क्रियाविशेषण
4. परिमाणवाचक क्रियाविशेषण

प्रयोग के आधार पर क्रियाविशेषण के तीन भेद होते हैं :
1. साधारण क्रियाविशेषण ,
2. सयोंजक क्रियाविशेषण 
3. अनुबद्ध क्रियाविशेषण

रूप के आधार पर क्रियाविशेषण के तीन भेद होते हैं
 1. मूल क्रियाविशेषण
 2. स्थानीय क्रियाविशेषण
 3. योगिक क्रियाविशेषण

क्रियाविशेषण का क्या अर्थ है?

वह शब्द जो हमें क्रियाओं की विशेषता का बोध कराते हैं वे शब्द क्रिया विशेषण कहलाते हैं। दुसरे शब्दों में कहें तो जिन शब्दों से क्रिया की विशेषता का पता चलता है, उन शब्दों को हम क्रिया विशेषण कहते हैं।

रीतिवाचक क्रियाविशेषण के कितने प्रकार है ?

1) निश्चयवाचक क्रियाविशेषण  
2) अनिश्चयवाचक क्रियाविशेषण
3) कारणात्मक क्रियाविशेषण 
4) आक्स्मिकतात्म्क क्रियाविशेषण
5) स्वीकारात्मक क्रियाविशेषण 
6) निषेधात्मक क्रियाविशेषण
7) आवृत्यात्मक क्रियाविशेषण
8) अवधारक क्रियाविशेषण
9) निष्कर्ष क्रियाविशेषण

क्रियाविशेषण किसकी विशेषता बताता है?

क्रिया

परिमाणवाचक क्रियाविशेषण किसे कहते है ?

ऐसे क्रियाविशेषण शब्द जिनसे हमें क्रिया के परिमाण, संख्या या मात्र का पता चलता है, वे शब्द परिमाणवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। 
जैसे: तुम थोड़ा अधिक खाओ।
       अमृत बहुत ज्यादा दौड़ता है।

FAQs

बार बार कौन सा क्रिया विशेषण है?

जो अविकारी शब्द किसी क्रिया के होने का समय बतलाते हैं, उन्हें कालवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं। परसों, पहले, पीछे, कभी, अब तक, अभी-अभी, बार-बार।

कभी ना कभी मैं कौन सा क्रिया विशेषण है?

यौगिक क्रियाविशेषण :- जो दूसरे शब्दों में प्रत्यय या पद आदि लगाने से बनते हैं उन्हें यौगिक क्रियाविशेषण कहते हैं। जैसे : – कभी -कभी , खाते, पीते आजन्म आदि।

इधर उधर कौन सा क्रिया विशेषण है?

जो अविकारी शब्द किसी क्रिया की दिशा का बोध कराते हैं, उन्हें दिशावाचक क्रियाविशेषण कहते हैं। जैसे- दायें-बायें, इधर-उधर, किधर, एक ओर, चारों तरफ़ आदि। अतः इधर-उधर में दिशा वाचक क्रिया विशेषण है।

आशा करते हैं कि इस ब्लॉग से आपको kriya visheshan के बारे में पता चल गया होगा। अगर आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं तो हमारे Leverage Edu के experts से 1800 572 000 पर कॉल कर आज ही 30 मिनट का free session बुक करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

2 comments

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

हिंदी मुहावरे (Muhavare)
Read More

300+ हिंदी मुहावरे

‘मुहावरा’ शब्द अरबी भाषा का है जिसका अर्थ है ‘अभ्यास होना’ या आदी होना’। इस प्रकार मुहावरा शब्द…
उपसर्ग और प्रत्यय
Read More

उपसर्ग और प्रत्यय

शब्दांश या अव्यय जो किसी शब्द के पहले आकर उसका विशेष अर्थ बनाते हैं, उपसर्ग कहलाते हैं। उपसर्ग…