कोशिका किसे कहते हैं

Rating:
3.4
(7)
Koshika Kya Hai

मनुष्य तथा अन्य जीवजंतु और पेड़ पौधे का निर्माण भी कोशिका से ही हुआ है। बिना कोशिका से किसी भी जीव का जीवन असंभव है। अमीबा हो या कोई विशाल जानवर सभी जीव में कोशिका पाई जाती है। कोशिका कोई छोटा विषय नहीं है और कोशिका को समझने के लिए आपको पहले इसके प्रकार तथा कार्यों को समझना होगा।  इस पोस्ट में हमने यही कोशिश की है आपको साधारण भाषा में पूरी जानकारी दी जाये। अगर आप इस पोस्ट को अच्छे से पढ़ लते है तो कोशिश की खोज किसने की यह जानकारी के अलावा कोशिका से जुड़ी अन्य जरुरी बातों का भी ज्ञान प्राप्त होगा। तो चलिए जानते हैं Koshika kya hai के बारे में Leverage Edu के साथ।

Check it: Science GK Quiz in Hindi

कोशिका किसे कहते हैं-(What is Cell in Hindi)

कोशिका जीवन की आधारभूत संरचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई है। पृथ्वी पर रहने वाले सूक्ष्म जीव से लेकर विशाल जीव तक सभी कोशिकाओं से मिलकर बने है। Koshika kya hai कोशिकाओं के भीतर ही वह सारी क्रियाएं होती है जो एक जीव को जीवन प्रदान करने के लिए आवश्यक होते हैं।

कोशिका की खोज-(Discovery of Cell in Hindi)

कोशिका की खोज (Discovery of cell)कोशिकाओं की खोज और उनका अध्ययन सूक्ष्मदर्शी(microscope) के आविष्कार के बाद ही संभव हो पाया। सर्वप्रथम सन् 1665 में राबर्ट हुक (Robert Hooke) नामक अंगरेज वैज्ञानिक ने कोशिका की खोज की।

  • जब वह अपने ही बनाए हुए पुराने किस्म के माइक्रोस्कोप में पौधे के कॉर्क (cork) की एक पतली अनुप्रस्थ काट का अध्ययन कर रहे थे तो उन्हें छोटी-छोटी कोठरियाँ (compartments) दिखाई पड़ी जो मधुमक्खी के समान दिखाई पड़ रही थीं।
  •  राबर्ट हुक ने इन खोखली कोठारिया को सेल का नाम दिया ।
  • सन् 1674 में ल्यूवेन हॉक नामक डच वैज्ञानिक ने अपने ही बनाए हुए उन्नत प्रकार के माइक्रोस्कोप में स्वतंत्र कोशिका जैसे बैक्टीरिया, प्रोटोजोआ, लाल रक्त कणिकाओं (red blood cells)एवं शुक्राणु (sperms), का अध्ययन किया।

रॉबर्ट ब्राउन(Robert Brown) ने सन 1831 में पादप कोशिकाओं में केंद्रक(nucleus) को सर्वप्रथम देखा। जे.ई. परकिंजे (J.E.Purkinje) ने सन् 1939 में कोशिकाद्रव्य का नाम प्रोटोप्लास्ट (Protoplast) रखा।

सन 1866 में हैकेल (Haeckel) ने यह सिद्ध किया कि केंद्रक के भीतर आनु-वंशिक लक्षणों का संग्रह होता है। आगे चलकर अनेक वैज्ञानिकों ने कोशिका(cell in hind) के विभिन्न घटकों की रचना एवं कार्य की जानकारी दी।

मृत कोशिका क्या है

साल 1665 ईस्वी में रॉबर्ट हुक नामक एक अंग्रेज वैज्ञानिक ने अपने द्वारा बनाए गए सूक्ष्मदर्शी से कार्क की एक पतली काट में कोशिकाओं को खोजा। उन्हें इसमें मधुमक्खी के छत्ते जैसी कोठरियां दिखाई दिया जिन्हें रॉबर्ट हुक ने सेल नाम दिया। इन ही सेल को मृत कोशिकाएं भी कहा गया था।

कोशिका झिल्ली

हर एक कोशिका के चारों ओर एक बहुत पतली, मुलायम व लचीली झिल्ली होती है, जिसे कोशिका झिल्ली (Cell Membrane In Hindi) कहते हैं। यह झिल्ली जीवित एवं अर्द्ध पारगम्य होती है। क्योंकि इस झिल्ली द्वारा कुछ हीं पदार्थ अंदर तथा बाहर आ-जा सकते हैं, यह लिपिड और प्रोटीन की बनी होती है। इसमें दो परत प्रोटीन तथा एक परत लिपिड की होती है।

कोशिका के कार्य लिखिए

  • प्लाजमा झिल्ली कोशिका के भीतर सभी भागों को घेरे रखती हैं।
  • यह कोशिका को आकृति प्रदान करती हैं (जंतु कोशिकाओं में) उदाहरण लालरूधिर कोशिकाओं अस्थि कोशिकाओं आदि की विशिष्ट आकृति प्लाज्मा झिल्ली के कारणही होती हैं।
  • इसमें से हाके र विशिष्ट पदार्थ कोशिका के भीतर या बाहर आ जा सकते हैंलेकिन सभी पदार्थ नहीं। अत: इसे चयनात्मक रूप से पारगम्य [Selectively permeable] कहा जाता हैं।

कोशिकांग किसे कहते हैं

जिस प्रकार शरीर के विभिन्न अंग भिन्न-भिन्न कार्य करते हैं, उसी प्रकार कोशिका के अन्दर स्थित संरचनाएँ विशिष्ट कार्य करती हैं। अतः इन संरचनाओं को कोशिकांग या अंगक (Organelle) कहते हैं। उदाहरण के लिये, माइटोकांड्रिया या सूत्रकणिका कोशिका का ‘शक्तिगृह’ (power house) कहलाता है क्योंकि इसी में कोशिका की अधिकांश रासायनिक ऊर्जा उत्पन्न होती है

Check it: विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

कोशिका सिद्धांत क्या है(Cell Theory in Hindi)

एक वनस्पति वैज्ञानिक जैकॉब मैथ्यास श्लाइडन (Jakob Mathhais Schleiden) ने सन 1838 में बताया कि पादपों के शरीर सूक्ष्म कोशिकाओं(cell meaning in hindi) के बने होते हैं। सन 1839 में प्राणिविज्ञानी थिओडोर श्वान (Theodor Schwann) ने बताया कि जंतु का शरीर भी सूक्ष्म कोशिकाओं का बना होता है। इन दोनों जर्मन वैज्ञानिकों ने एक मत होकर कोशिका सिद्धांत दिया।

कोशिका सिद्धांत के अनुसार “सभी जीवधारी एक या अनेक कोशिकाओं के बने होते हैं, अर्थात् कोशिका जीवधारियों के शरीर की आधारभूत संरचना और क्रियात्मक इकाई है।”

कोशिका की आकृति आकार एवं संख्या-About Cell in Hindi

पूरी दुनिया में विभिन्न प्रकार के जीव जंतु पाए जाते हैं। इन सभी की कोशिकाओं(cell meaning in hindi)के आकार, आकृति और संख्या में विभिन्नता पाई जाती हैं।

कोशिका की आकृति-(Cell Shape in Hindi) 

कोशिका की आधारीय आकृति गोलाकार होती है किंतु विभिन्न प्रकार के कार्य करने हेतु अलग-अलग जीवों की कोशिका(cell in hindi) आकृति में विविधता पाई जाती यहाँ तक की एक पौधे या जंतु के शरीर के विभिन्न अंगों की कोशिकाएँ अलग-अलग आकार की हो सकती हैं।

Koshika kya hai : कोशिका का आकार

विभिन्न पौधे और जंतु कोशिकाओं के आकार में भी विविधता पाई जाती है। अधिकतर कोशिकाओं का आकार 6.5 से 2.0 माइक्रोमीटर होती है।

  • सबसे छोटी कोशिका प्ल्यूरोन्योमोनिया जैसे जीव की है जिसका व्यास केवल 0.1\um होता है, 
  • जबकि दूसरी ओर शुतुरमुर्ग की अंडकोशिका(cell meaning in hindi) का आकार 15 सेमी तक हो सकता है। 
  • मनुष्य के शरीर की सबसे छोटी कोशिका लाल रक्त कणिकाएँ हैं जिनका व्यास 8um होता है
  •  सबसे बड़ी तंत्रिका कोशिकाएँ होती हैं जो 90 सेमी तक लंबी हो सकती हैं ।
  •  पौधों में मनिला हेम्प (Manila hemp) की तंतु कोशिकाएँ (स्कलेरेनकाइमा) की लंबाई 100 सेमी से भी अधिक होती है।

कोशिका संख्या (Cell Number in Hindi)

 एककोशिकीय जीव, जैसे बैक्टीरिया, प्रोटोजोआ आदि, केवल एक ही कोशिका के बने होते हैं, जबकि बहुकोशिकीय जीवों में कोशिकाओं की संख्या बहुत अधिक होती है।

बहुकोशिकीय जीवों में कोशिकाओं की संख्या उनके आकार एवं आयतन के अनुरूप होती है। पैन्डोरिना (Pandorina) नामक हरित शैवाल (green algae) में कोशिकाओं की संख्या केवल 8 से 32 होती है, जबकि एक 80 किलोग्राम वजन के मनुष्य में लगभग 60×10^15 कोशिकाएँ पाई जाती हैं।

Check it: Importance of Hard work in Hindi

Koshika Kya Hai: कोशिका के प्रकार

कोशिकाएं दो प्रकार की होती है

प्रोकैरियोटिक कोशिका (Prokaryotic Cell)

इस कोशिका में केन्द्रक मोजूद नहीं होते। केन्द्रक ना होने के कारण इसमें न्यूक्लाइड पाया जाता है जो आनुवंशिक सूचनाएँ नियंत्रित रखता है। यह एकल कोशिका (Single Celled) वाले सूक्ष्मजीव में पाए जाते है उदहारण के लिए बैक्टीरिया।

  • इनका व्यास (Diameter) 0.1 से 0.5 माइक्रोमीटर के बीच होता हैं। 
  • इनका निर्माण द्विखण्डन (Binary Fission) से होता है।
  • जीवविज्ञान में कोशिका का दो भागों में विभाजित होना और नयी कोशिकाओं का निर्माण करना द्विखण्डन कहलाता है। 

यूकैरियोटिक कोशिका (Eukaryotic Cell)

इस कोशिका में केन्द्रक मोजूद होते है जिसमे यह आनुवंशिक सूचनाएँ एकत्रित रखते है
यह बहुकोशिकीय वाले सूक्ष्मजीव में पाए जाते है उदहारण के लिए मनुष्य, जानवर आदि।

  • इनका व्यास (Diameter) 10 से 100 माइक्रोमीटर के बीच होता है।
  • इनका निर्माण लैंगिक तथा अलैंगिक जनन (Sexual & Asexual Reproduction) से हो सकता है।

Check it: 80+ Education Quotes हिंदी में

Koshika Kya Hai: प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक कोशिका में अन्तर

प्रोकैरियोटिक यूकैरियोटिक
ये छोटी आकार की कोशिका होती है। ये बड़ी आकार की कोशिका होती है।
इनमें केन्द्रक पूर्ण विकसित नहीं होता है। इनमें पूर्ण विकसित केन्द्रक पाया जाता है।
श्वसन क्रिया जीवद्रव्य से होती है। श्वसन क्रिया माइट्रोकोण्ड्रिया से होती है।
माइट्रोकोण्ड्रिया अनुपस्थित रहता है। माइट्रोकोण्ड्रिया पाया जाता है।
गॉल्जीकाय नहीं पाया जाता है। गॉल्जीकाय पाया जाता है।
सेन्ट्रोसोम नहीं पाया जाता है। सेन्ट्रोसोम पाया जाता है।
लाइसोसोम नहीं पाया जाता है। लाइसोसोम पाया जाता है।

Koshika Kya Hai: प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक कोशिका में समानताएँ

  • DNA प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में पाया जाता है।
  • प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में जीवद्रव्य पाया जाता है।
  • प्रकाश संश्लेषण की क्रिया प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में होती है।
  • प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में कोशिका झिल्ली पाई जाती है।
  • कोशिका भित्ति प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक दोनों कोशिकाओं में उपस्थित रहती है। प्रोकैरियोटिक कोशिका में कोशिका भित्ति पेप्टीडो ग्लाइकेन और यूकैरियोटिक कोशिका में कोशिका भित्ति सेल्युलोज की बनी होती है।
  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं में 70s राइबोसोम पाया जाता है और यूकैरियोटिक कोशिकाओं में 80s राइबोसोम पाया जाता है।

Check it: विटामिन क्यों जरूरी है, जानिए

Koshika Kya Hai – Koshika Ke Ang

  1. कोशिका झिल्ली(Cell membrane)
  2. कोशिका भित्ति(Cell wall)
  3. माइट्रोकांड्रिया(Mitochondria)
  4. गॉल्जीकाय(Golgoykay)
  5. रसधानी(Vacuole)
  6. तारककाय(Centrosome)
  7. अन्त प्रद्रव्यी जालिका(Endoplasmic reticulum)
  8. राइबोसोम(Ribosome)
  9. केन्द्रक(Nucleus)
  10. लाइसोसोम(Lysosome)
  11. जीवद्रव्य(Protoplasm)
  12. सिलिया और कशाभिका(Cilia and flagella)
  13. लवक(Lavak)
  14. गुणसूत्र(Chromosome)

Koshika Kya Hai: Frequently Asked Questions

दुनिया की सबसे छोटी कोशिका कौनसी है ?

दोस्तों पूरी दुनिया की सबसे छोटी कोशिका माइकोप्लाज्मा(Mycoplasma) की होती है। जो एककोशिकीय जीव होता है।

दुनिया की सबसे बड़ी कोशिका कौनसी है ?

दोस्तों पूरी दुनिया की सबसे बड़ी कोशिका शुतुरमुर्ग के अण्डे में होती है।

मानव में सबसे छोटी कोशिका कौनसी होती है ?

दोस्तों मानव शरीर की सबसे छोटी कोशिका पुरूषों में स्पर्म(Sperm) या शुक्राणु की होती है।

मानव में सबसे बड़ी कोशिका कौनसी होती है ?

दोस्तों मानव शरीर की सबसे बड़ी कोशिका महिलाओं के अण्डाणु की होती है।

मानव शरीर की सबसे लम्बी कोशिका कौनसी है ?

दोस्तों मानव शरीर की सबसे लम्बी कोशिका तंत्रिका तंत्र(Nervous system) अर्थात् न्यूरोन(Neuron) होती है। जिसे मस्तिष्क की कोशिका कहा जाता है।

Source: Garima IAS

आशा करते हैं कि आपको Koshika Kya Hai का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी Koshika Kya Hai का  लाभ उठा सकें और  उसकी जानकारी प्राप्त कर सके । हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी प्रकार के सवाल में दिक्कत हो रही हो तो हमारी विशेषज्ञ आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

नीट के बिना Medical Courses
Read More

नीट के बिना Medical Courses

ऐसे भी कई मेडिकल और पैरामेडिकल कोर्स उपलब्ध हैं, जिनमें प्रवेश के लिए NEET की आवश्यकता नहीं होती।…
बीडीएस टू एमबीबीएस ब्रिज कोर्स (BDS to MBBS Bridge Course)
Read More

BDS to MBBS ब्रिज कोर्स

मेडिकल साइंस की फील्ड में बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (बीडीएस), बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस)…