CBSE या राज्य बोर्ड कौन सा है पढ़ने के लिए बेस्ट?

1 minute read
1.7K views
10 shares

आज के युग में विज्ञान के चिकित्सा और तकनीकी क्षेत्र में तरक्की हो रही है साथ ही शिक्षा में बहुत सारे सुधार आया है। शिक्षा धीरे-धीरे बहुत ऊपर जा रही है, छात्रों को शिक्षा के साथ जुड़ने के लिए नए विकल्प भी सामने आ रहे हैं। CBSE, ICSE, स्टेट बोर्ड ऐसे कई सारे बोर्ड उपलब्ध हैं, जिनके कारण भारत में बहुत सारे क्षेत्र में विद्यालय मौजूद है। आज इस ब्लॉग में सीबीएसई बोर्ड और राज्य बोर्ड क्या है? उसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी जाएगी। साथ ही कौन से बोर्ड का चयन आपके लिए सही निर्णय साबित हो सकता है उसके बारे में भी जानकारियां दी जाएगी। चलिए जानते हैं CBSE vs State boards केे बारे में विस्तार से।

मानदंड CBSE  राज्य बोर्ड
शिक्षा प्रणाली पूरे देश में केंद्रीकृत है। हर राज्य के लिए अलग
मुख्य फोकस महत्वपूर्ण सोच कौशल और गणित, विज्ञान जैसे विषयों पर रटना सीखना और क्षेत्रीय भाषा, विषयों और संस्कृति पर ध्यान केंद्रित करना
भाषा मोड अंग्रेजी और हिंदी अंग्रेजी और क्षेत्रीय भाषा
ग्रेडिंग प्रणाली केंद्र सरकार के सभी स्कूलों में CCE ग्रेडिंग सिस्टम प्रत्येक राज्य में विभिन्न ग्रेडिंग सिस्टम
सिलेबस अपडेट लगभग हर साल कभी-कभी
परीक्षाएं कक्षा 10 – All India Secondary School Examination (AISSE)कक्षा 12 -All India Senior School Certificate Examination (AISSCE) कक्षा 10 -Secondary School Certificate (SSC)कक्षा 12 – Secondary School Certificate (HSC)

CBSE बोर्ड

CBSE बोर्ड का पूरा नाम “सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन” है, हिंदी में “केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड” भी कहा जाता है। CBSE बोर्ड स्कूल के लिए होता है जो यूनियन गवर्नमेंट ऑफ इंडिया के अंदर आते हैं। CBSE बोर्ड के अंदर आने वाली स्कूल अपनी नीतियों के अनुसार और सिलेबस अपने अनुसार निर्धारित करता है। CBSE बोर्ड की पढ़ाई उन माता-पिता के लिए सबसे ज्यादा पसंदीदा होती है जो केंद्र सरकार के लिए नौकरी करते हैं। क्योंकि समय-समय पर ट्रांसफर होता रहता है, इसी कारण की वजह से वह अपने बच्चों को CBSE बोर्ड में पढ़ाते हैं। CBSE बोर्ड के बच्चों को समस्या नहीं आती क्योंकि सभी स्थानों में यह बोर्ड की शिक्षा समान होती है।

CBSE बोर्ड के अंदर विज्ञान गणित और अन्य सभी विषयों को अधिक महत्व दिया जाता है। CBSE बोर्ड के बनाए नियम के अनुसार ही सभी स्कूलों में कार्य करना होता है। CBSE बोर्ड के अंदर सतत और व्यापक मूल्यांकन CCE का प्रयोग होता है, सीबीएसई बोर्ड की ग्रेडिंग सिस्टम के लिए। बोर्ड में वैज्ञानिक तरीकों का अधिक महत्व दिया गया है क्योंकि वह अपनी सिलेबस को समय-समय पर बदलते ही रहते हैं। सीबीएसई बोर्ड का पाठ्यक्रम NCERT द्वारा तैयार किया जाता है। यह बोर्ड की शिक्षा उच्च मानक ओर प्राप्त शिक्षा कहलाई जाती है।

राज्य बोर्ड

स्टेट बोर्ड या राज्य बोर्ड बोर्ड होता है जो राज्य सरकार में आता है। स्टेट बोर्ड राजकीय स्तर की स्कूलों में सिलेबस और नीतियों को निर्धारित करता है। राज्य बोर्ड के अंदर हर राज्य के अलग-अलग सिलेबस के अनुसार शिक्षा चलती है और उन सबके अपने अलग नियम होते हैं। राज्य बोर्ड की शिक्षा अलग-अलग नियमों पर कराई जाती है। राज्य बोर्ड उन लोगों के लिए अच्छी होती है जो समान राज्य में अपने पूरे शिक्षा लेते हैं। राजीव बोर्ड का सिलेबस क्षेत्रीय, भाषा,संस्कृति और राज्य स्तर के विषयों पर निर्धारित करके सबसे पहले सिलेबस बनाता है। यह बोर्ड जिस भाषा का प्रयोग कराया जाता है ठीक उसी तरह स्कूल में वह अंग्रेजों की क्षेत्रीय भाषा पर निर्भर करता है।

राज्य बोर्ड ग्रेडिंग प्रणाली का अलग तरीके से प्रयोग करते हैं। राज्य बोर्ड सिलेबस को बहुत कम बदलता है। राज्य बोर्ड खुद ही अपनी विशिष्ट तरीके से सिलेबस तैयार करता है, साथ ही परीक्षा का आयोजन और नियोजन और परीक्षा का अंतिम परिणाम खुद ही अपने तरीके से करता है। हर राज्य सरकारों के अलग जिले, तालुका और गांवों में सरकारी पाठशाला ए होती है यह सभी स्टेट बोर्ड के अंतर्गत आती है।

CBSE और राज्य बोर्ड के बीच अंतर

CBSE vs State boards में मुख्य अंतर इस प्रकार हैं:

  • CBSE बोर्ड पूरे भारत में एक सिलेबस के अनुसार कार्य करता है परंतु राज्य बोर्ड सरकार अपने स्टेट के अनुसार बनाए गए सिलेबस पर कार्य करता है।
  • CBSE बोर्ड अपने सिलेबस में बदलाव करते रहते हैं परंतु राज्य बोर्ड बहुत कम अपने सिलेबस में बदलाव करते हैं।
  • CBSE बोर्ड उन माता-पिता के लिए बहुत अच्छा होता है जिनका समय-समय पर अलग-अलग राज्यों में बदलाव होता रहता है क्योंकि सीबीएसई बोर्ड की शिक्षा हर जगह समान होती है परंतु स्टेट बोर्ड के बच्चों को दूसरे राज्य के स्कूल में पढ़ना काफी मुश्किल होता है क्योंकि उनके पाठ्यक्रम उनको समझ नहीं आते।
  • CBSE board के स्कूल अधिकतर अंग्रेजी सिलेबस पर होते हैं परंतु राज्य बोर्ड अंग्रेजी और अपने क्षेत्रीय भाषा के अनुसार अपना सिलेबस बनाता है।
  • राज्य बोर्ड से CBSE बोर्ड अच्छा माना जाता है।
  • राज्य बोर्ड केवल राज्य के लोगों के लिए ही ठीक होता है परंतु CBSE बोर्ड पूरे देश के लिए ठीक होता है।

कौन-सा बोर्ड रहेगा बेस्ट

CBSE vs State boards में से कौन सा बेस्ट है, यह नीचे बताया गया है-

फीस

स्टेट बोर्ड 

स्टेट बोर्ड के अंदर आने वाले स्कूल की फीस फीस अत्यंत कम होती है क्योंकि स्कूल राज्य सरकार के अंतर्गत आती है। यहां सरकार शिक्षा संबंधित दिशा निर्देश लागू किए होते हैं। कुछ स्कूलों में फीस नहीं होती वहां बच्चों को मुफ्त में शिक्षा प्रदान की जाती है।

CBSE बोर्ड 

CBSE बोर्ड के अंदर आने वाली स्कूल की फीस काफी अधिक होती है।

सिलेबस

राज्य बोर्ड

स्टेट बोर्ड के अंदर आने वाली शिक्षा का सिलेबस बहुत ही सरल होता है क्योंकि राज्य की भाषा के अनुसार शिक्षा उपलब्ध होती है। बाकी सारे राज्य के तुलना में बच्चों को सारे विषय की जानकारी कम दी जाती है। सिलेबस में विषय को विस्तार से नहीं बताया जाता सिर्फ बुनियादी जानकारी को शामिल किया जाता है।

CBSE

सीबीएसई बोर्ड के अंदर आने वाले सिलेबस राज्य बोर्ड की तुलना में काफी ज्यादा कठिन होते हैं। यह भारत सरकार  के अधीन बोर्ड होता है ,जिसके अंदर आने वाली सभी स्कूल में एक ऐसा सिलेबस होता है। यह बोर्ड के अंदर विज्ञान के दृष्टिकोण से छात्रों को सवालों को सुलझाने पर ज्यादा जोर दिया जाता है। इसी कारण से छात्रा काफी अच्छी तरह से सवाल जवाब हासिल कर सकते हैं और समझ सकते हैं।

किताबें

राज्य बोर्ड

हर राज्य के अंदर शिक्षा बोर्ड का सिलेबस और शिक्षाक्रम करने के लिए समिति गठित हुई होती है। उसी के निर्धारित ही स्टेट बोर्ड के लिए किताबें होती है।

CBSE बोर्ड

सीबीएसई बोर्ड की किताबें NCERT द्वारा तय की जाती है, यह बिल्कुल भी जरूरी नहीं होता कि NCERT द्वारा तय की किताबों के अनुसार छात्रों को पढ़ाई करनी चाहिए।

बोर्ड के फायदे व नुकसान

राज्य बोर्ड

राज्य बोर्ड के अंदर आने वाले पाठ्यक्रम में सभी तरह के महत्वपूर्ण जानकारी शामिल होती है साथ ही राज्य के संबंधित जुड़ी जानकारी भी इसके अंदर उपलब्ध होती है। साथ ही छात्रों के साथ उनके माता-पिता भी शिक्षा के माध्यम का चयन करने के लिए निर्णय ले सकते हैं। राज्य सरकार द्वारा आयोजित किसी भी प्रकार की प्रतियोगिता में राज्य बोर्ड के छात्र अच्छे अंक हासिल कर सकते हैं ‌। राज्य बोर्ड के अंदर अंग्रेजी भाषा के साथ अन्य भाषा भी शामिल होता है।

हानि

  • अधिकांश स्टेट बोर्ड में पाठ्यक्रम अच्छा होता है लेकिन शिक्षण विधियां पुरानी हो सकती हैं।
  • कई बार ऐसा होता है कि स्कूल में बच्चों की संख्या ज्यादा होने कारण उनके लिए सीखना और समझना मुश्किल हो जाता है।

CBSE बोर्ड

सीबीएसई बोर्ड के अंदर पढ़ने वाले छात्र राज्य स्तर पर आयोजित की गई प्रतियोगिता और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। जैसे : JEE, NEETUPSC, परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। इस बोर्ड के अंदर हिंदी और अंग्रेजी भाषा की शिक्षा प्राप्त होती है तो बच्चे भारत में किसी भी पाठशाला में आसानी से शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं। CBSE बोर्ड की शिक्षा प्रणाली उच्च स्तर पर होती है इसलिए उज्जवल भविष्य के लिए छात्रों के लिए काफी मदद रूप होती है।

हानि

  • विशेष रूप से कला के क्षेत्र में या एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज में बच्चों के लिए कम विकल्प होते हैं।
  • CBSE के पाठ्यक्रम में मुख्य विषयों पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है
  • एक्सपेरिमेंटल व प्रैक्टिकल शिक्षा पर कम जोर दिया जाता है।

CBSE बोर्ड के नुकसान

इस बोर्ड के कुछ नुकसान भी हैं जिनका वर्णन नीचे किया गया है:

  • CBSE में छात्रों को प्रैक्टिकल नॉलेज देने पर कम फोकस किया जाता है। इसके अलावा, CBSE सिलेबस मुख्य अंग्रेजी ज्ञान पर ध्यान केंद्रित नहीं करता है जैसा कि अन्य प्रतियोगी करते हैं, और बोर्ड गणित और विज्ञान के विषयों पर अधिक महत्व देता है।
  • CBSE सिलेबस सभी विषयों में केवल सैद्धांतिक तरीके से संबंधित है और विज्ञान के पीछे वास्तविक जीवन की अवधारणाओं पर कोई जोर नहीं दिया गया है। पाठ्यक्रम के अनुप्रयोग उन्मुख होने के बावजूद, यह प्रभावी समझ के लिए जगह प्रदान नहीं करता है।

Check it: Hindi ASL Topics

CBSE वर्सेस राज्य बोर्ड: ग्रेडिंग सिस्टम

राज्य बोर्डों में ग्रेडिंग प्रणाली एक दूसरे से अलग हो सकती है जबकि CBSE के तहत यह एक विशिष्ट संरचना का पालन करता है जिसका पालन सभी स्कूलों को करना चाहिए। इस प्रकार CBSE के तहत ग्रेडिंग प्रणाली राज्य बोर्डों की तुलना में अधिक समान और सुसंगत है। ये है CBSE के लिए ग्रेडिंग सिस्टम-

अंक रेंज ग्रेड ग्रेड पॉइंट्स
91-100 A1 10.0
81-90 A2 9.0
71-80 B1 8.0
61-70 B2 7.0
51-60 C1 6.0
41-50 C2 5.0
33-40 D 4.0
21-32 E1 C
00-20 E2 C

बोर्ड लिस्ट

CBSE vs State boards के अलावा देश के सारे बोर्ड्स के नाम इस प्रकार हैं:

  1. CBSE (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड)
  2. ICSE (इंडियन सर्टिफिकेट फॉर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड)
  3. IB (इंटरनेशनल बैकलॉरेट)
  4. स्टेट बोर्ड
  5. IGCSI (इंटरनेशनल जनरल सर्टिफिकेट ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन)
  6. CIE (कैंब्रिज एसेसमेंट इंटरनेशनल एजुकेशन)
  7. NIOS (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग)

स्टडी अब्रॉड के लिए CBSE या राज्य बोर्ड में से कौन है बेस्ट?

अधिकांश बच्चे विदेशों से उच्च अध्ययन करना चाहते हैं, दोनों बोर्ड के छात्र विदेश में पढ़ाई करने के लिए अपलाई कर सकते हैं। लेकिन CBSE बोर्ड के छात्रों को इसका अधिक लाभ होता है क्योंकि सीबीएसई बोर्ड के छात्र नर्सरी स्तर से अंग्रेजी भाषा में पढ़ाई कर रहे हैं और अन्य तीसरी भाषाओं को कुछ समय बाद राज्य बोर्डों के साथ तुलना करने पर अंग्रेजी और क्षेत्रीय स्तरों पर अधिक ध्यान केंद्रित किया जाता है। हालांकि भविष्य में बच्चों का दायरा उनकी क्षमताओं पर निर्भर करता है, CBSE बोर्ड छात्रों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अच्छा प्रदर्शन करने के लिए तैयार करता है।

FAQs

भारत में शीर्ष 3 राज्य बोर्ड कौन से हैं?

आंध्र प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र राज्य बोर्ड भारत के कुछ सर्वश्रेष्ठ राज्य बोर्ड माने जाते हैं।

भारत में कितने राज्य बोर्ड हैं?

भारत में 50+ से अधिक राज्य बोर्ड हैं।

CBSE या राज्य बोर्ड में से कौन सा आसान है?

यदि हम स्कोरिंग अंकों की तुलना करते हैं तो राज्य बोर्ड आसान है यदि हम विषय और छात्र-अनुकूल संसाधनों को समझने की तुलना करते हैं तो CBSE राज्य बोर्डों की तुलना में कहीं अधिक आसान है।

आशा करते हैं कि आपको CBSE vs State boards के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी। यदि आप विदेश में डिप्लोमा या संबंधित कोर्सेज करना चाहते हैं तो आज ही हमारे Leverage Edu एक्सपर्ट्स को 1800572000 पर कॉल करें और 30 मिनट का फ्री सेशन बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert