रजनीकांत थालाइवा की सफलता की कहानी

Rating:
0
(0)
रजनीकांत बायोग्राफी

थलाइवा के नाम से मशहूर रजनीकांत दक्षिण-भारतीय सुपरस्टार हैं और इंडस्ट्री की सबसे अधिक कमाई करने वाली हस्तियों में से एक हैं। एक बस कंडक्टर से दक्षिण भारत के फिल्म उद्योग पर राज करने तक का उनका सफर अभूतपूर्व है और इसने कई लोगों को प्रेरित किया है! यह उनकी पूर्ण जिद और समर्पण का नतीजा है कि बेहद कठिनाइयों के बावजूद, वह अपने लक्ष्य को बिना किसी बाधा के हासिल कर सके। इसलिए, अगले सप्ताह आने वाले उनके 70वें जन्मदिन का जश्न मनाते हुए, हम यहां आपके लिए पेश कर कर रहे हैं रजनीकांत बायोग्राफी, जो उनकी जिद और कड़ी मेह्नत को दर्शाती है, जिससे हम सब कुछ ना कुछ सीख सकते है!

 “जब महत्वाकांक्षा समाप्त होती है तब शांति प्राप्त होती है।” – रजनीकांत

जन्म और शुरुआती जीवन

 रजनीकांत बायोग्राफी
Courtesy: Salary and Net Worth

12 दिसंबर 1950 को मराठी घराने में शिवाजी राव गायकवाड़ के रूप में पैदा हुए रजनीकांत चार भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। उनके पिता एक पुलिस हेड कांस्टेबल थे और जब वह काफी छोटे थे तो उनकी मां जीजाबाई की मृत्यु हो गई थी, और उस समय उनके परिवार को एक बड़े आर्थिक संकट से गुजरना पड़ा था। इस संकट के कारण, उन्हें छोटे छोटे काम करने के लिए मजबूर होना पड़ा, जैसे कि एक ऑफिस बॉय, कुली, बढ़ई, मैसूर मशीनरी में काम और एक समय ऐसा भी था जब चावल के बैग पैक करके पैसा कमाया। लेकिन यह तो केवल थलाइवा रजनीकांत बायोग्राफी की शुरुआत थी क्योंकि आज वह एक प्रेरणादायक व्यक्तित्व हैं, जिसे बहुत से लोग मानते हैं!

Check Out : ऐसे थे लीजेंड चार्ली चैपलिन

फिल्म उद्योग में प्रवेश

 रजनीकांत बायोग्राफी
Courtesy: Twitter

यहां तक कि एक कंडक्टर के रूप में भी रजनीकांत किसी सेलिब्रिटी से कम नहीं थे। पर्यटकों और अन्य बस चालकों के बीच, वह बस टिकट देने और सीटी बजाने के अपने स्टाइल के लिए प्रसिद्ध थे। उन्होंने इस दौरान कुछ कन्नड़ थिएटर के नाटकों में अभिनय किया, बहुत सारी फिल्में देखीं और शिवाजी गणेशन, राजकुमार और एमजी रामचंद्रन के नक्शेकदम पर चलने की कोशिश की। फिल्मों और अभिनय के लिए उनका प्यार हमेशा से था और वही प्यार अंततः उत्साह में बदल गया।

उन्होंने चेन्नई के अडयार के फिल्म संस्थान में प्रवेश लिया। संस्थान में एक प्रदर्शन के दौरान, रजनीकांत से लोकप्रिय फिल्म निर्देशक के.के.बालचंदर इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उनके लिए नाटक में एक भूमिका निभाने के लिए हामी भर दी। हालांकि, रजनीकांत उस दौरान मुख्य रूप से सहायक और नेगेटिव भूमिकाएँ निभाते थे, पर यह वह पड़ाव था जब उनका अभिनय करियर यादगर अभूतपूर्व सफलता की कहानी में बदलने लगा और रजनीकांत बायोग्राफी में मील का पत्थर साबित हुआ !

“बिना मेहनत के कुछ नहीं मिलेगा। बिना मेहनत के जो मिलता है वो कभी फलीभूत नहीं होता।” – रजनीकांत

Check Out : ऐसा रहा बॉलीवुड के “सौदागर” लीजेंड Dilip Kumar का जीवन

सुपरस्टारडम के लिए थालाइवा का उदय

 रजनीकांत बायोग्राफी
Courtesy: Twitter

रजनीकांत बायोग्राफी में एक महतवपूर्ण पड़ाव फिल्म भैरवी थी जहा उन्हें पहली सफलता मिली, जिसमें उन्हें पहली बार मुख्य भूमिका में लिया गया था। उनकी अभिनय प्रतिभा को राष्ट्र ने जल्दी ही पहचान लिया। इसके बाद, रजनीकांत ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और सैकड़ों हिट फिल्मों की कतार लग गई। बाशा (1995), पदयप्पा (1999), अरुणाचलम, थलपति (1991) रजनीकांत बायोग्राफी में कुछ सबसे बड़ी फिल्में साबित हुईं। उनकी फिल्म मुथु जापान में खूब लोकप्रिय हुई और जल्द ही थलाइवा रजनीकांत को वहां भी एक बड़ी संख्या में प्रशंसक मिल गए।

रजनीकांत ने दिखाया है कि उम्र सिर्फ एक संख्या है और अगर कोई व्यक्ति कुछ महान करने के लिए प्रतिबद्ध है तो सचमुच उसकी उम्र कोई मायने नहीं रखती है। रजनीकांत बायोग्राफी में अगर कोई इसकी तुलना उनके मौजूदा प्रोजेक्ट्स और लेटेस्ट फिल्मों से करे तो वह चौंक जाएगा। 68 साल की उम्र में शिवाजी- द बॉस, रोबोट और कबाली जैसी हिट फिल्में देने की ताकत उनके पास हमेशा रही है। फिल्म शिवाजी के लिए उन्हें 8.6 मिलियन डॉलर का भुगतान किया गया जिसके कारण वह जैकी चैन के बाद एशिया में दूसरे सबसे अधिक भुगतान पाने वाले स्टार बन गए। रजनीकांत बायोग्राफी ने हमें सिखाया है कि जिद और समर्पण से आप जीवन में निश्चित रूप से कामयाब हो सकते हैं।

Check Out : दुनियाभर शिक्षा के लिए लड़ रही हस्तियाँ

उपलब्धियां और सम्मान

एक अच्छा मेहनताना पाने वाले स्टार होने के अलावा, थलाइवा रजनीकांत को उनके सरल स्वभाव और करुणा के लिए भी उनके प्रशंसकों द्वारा सराहा जाता है। वह हमेशा लोगों की मदद करने और उन्हें कभी खाली हाथ नहीं लौटाने के लिए जाने जाते हैं। रजनीकांत बायोग्राफी पर नज़र डालें तो आप देख पाएंगे की उन्होंने लगभग 190 फिल्मों में अभिनय किया है। इनमें तमिल, कन्नड़, हिंदी, अंग्रेजी, तेलुगु, मलयालम और बंगाली जैसी भाषा की फिल्में शामिल हैं।

रजनीकांत को अपनी फिल्मों के लिए कई पुरस्कार, सम्मान और नामांकन प्राप्त किये हैं। रजनीकांत बायोग्राफी में उनके सभी पुरस्कारों का उल्लेख है, जिसमें राष्ट्रीय पुरस्कार, फिल्मफेयर और क्षेत्रीय पुरस्कार शामिल हैं। उन्हें 2000 में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया था। वे केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के पाठ्यक्रम में शामिल होने वाले पहले भारतीय फिल्म अभिनेता भी हैं, जिसका शीर्षक फ्रॉम बस कंडक्टर टू सुपरस्टार है।

शानदार जीवन का सपना देखने में कुछ भी गलत नहीं है। जरूरत इस बात का ध्यान रखने की है कि जरूरत को लालच न बनने दें। क्योंकि जरूरतें हमेशा पूरी की जा सकती हैं, लेकिन लालच कभी पूरा नहीं हो सकता। – सुपरस्टार रजनीकांत

Check Out : बॉलीवुड की पहली फीमेल सुपरस्टार श्रीदेवी

रजनीकांत से सीखने के लिए जीवन के सबक

 रजनीकांत बायोग्राफी
Courtesy: Ahseeit

देश और दुनिया भर में कई लोगों द्वारा सम्मानित एक विनम्र सुपरस्टार, थलाइवा रजनीकांत हमेशा एक सरल जीवन जीते हैं और हमेशा जरूरत के समय लोगों की मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। अब जब आप रजनीकांत बायोग्राफी की अद्भुत कहानी जानते हैं, तो थलाइवा से कामयाबी के लिए जीवन के सबक यहां दिए गए हैं!

  • अपने जुनून को मत छोड़ो: रजनीकांत को हमेशा अभिनय में दिलचस्पी थी और यहां तक ​​कि अपने संघर्ष के दौरान, जब वह अभिनय कक्षाओं का खर्च नहीं उठा सकते थे, तो उन्होंने एक कंडक्टर और बढ़ई के रूप में काम किया, और मद्रास फिल्म संस्थान में दाखिले के लिए उनके एक दोस्त ने उन्हें पैसे भी उधार दिए।। वह एक बस कंडक्टर के रूप में अपने मनोरंजक व्यवहार के लिए विशेष रूप से जाने जाते थे और रजनीकांत बायोग्राफी के संघर्ष के वर्षों के दौरान, उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए कभी हार नहीं मानी।
  • नई चीजें सीखने के लिए हमेशा तैयार रहें: एक बार जब वह थिएटर करने लगे और रोल मिलने शुरू हो गए तो वे नई चीजें भी सीखते रहे, चाहे वह दक्षिण में फिल्मों के लिए तमिल भाषा में महारत हासिल करना हो या अपनी अभिनय कला पर काम करना हो।
  • फाइंड योर ओन स्टाइल: रजनीकांत की ऑनस्क्रीन अभिनय की शैली अपने आप में अनूठी और प्रेरक है जो रजनीकांत को अन्य अभिनेताओं से अलग बनाती है, और उनकी यही स्टाइल उनको दुनिया भर में सुपरस्टार बनने का प्रमुख कारण साबित हुई। रजनीकांत बायोग्राफी आपको सिखाती है कि आप अपनी खुद की खूबी और शैली खोजें क्योंकि यही आपको भीड़ से अलग करती है।
  • असफलता को सीढ़ी के रूप में देखें: रजनीकांत बायोग्राफी में एक समय ऐसा भी आया जब बाबा और कुसेलन जैसी उनकी कई फिल्मे बॉक्स ऑफिस पर असफल हो गई। लेकिन उन्होंने खुद इसके नुकसान की भरपाई की और अपनी कला और शैली का सम्मान करते रहे। इसके बाद फिर पी वासु की चंद्रमुखी के साथ शानदार वापसी की!

Check Out : हर किरदार में जान झोक देने वाले सुपरस्टार रणवीर सिंह

एक उत्साही अभिनेता से लेकर, जिन्होंने एक बस कंडक्टर के रूप में शुरुआत की, एक बड़े सुपरस्टार तक, रजनीकांत ने अपने सरल और विनम्र स्वभाव के लिए अपना नाम कमाया। रजनीकांत बायोग्राफी, उनकी अभूतपूर्व सफलता की कहानी वाकई शानदार और लुभावनी है! जो अभिनय या फिल्म निर्माण में अपना करियर बनाना चाहते हैं? हमारे Leverage Edu विशेषज्ञों से संपर्क करें और हम आपके करियर की आकांक्षाओं को साकार करने के लिए सही प्रोग्राम और यूनिवर्सिटी खोजने में आपकी मदद करेंगे! हमारे साथ एक निःशुल्क सत्र के लिए अभी साइन अप करें!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Harivansh Rai Bachchan
Read More

हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

हरिवंश राय बच्चन भारतीय कवि थे जो 20 वी सदी में भारत के सर्वाधिक प्रशिक्षित हिंदी भाषी कवियों…
Success Story in Hindi
Read More

Success Stories in Hindi

जीवन में सफलता पाना हर एक व्यक्ति की प्राथमिकता होती है, मनुष्य का सपना होता है कि वह…