कहानी लेखन की रुपरेखा

1 minute read
9.1K views
कहानी लेखन

जीवन के किसी एक घटना के रोचक वर्णन को कहानी कहते हैं । कहानी सुनने ,पढ़ने और लिखने की एक लंबी परंपरा हर देश में रही है , क्योंकि यह सबके लिए मनोरंजक होती है । बच्चों को कहानी सुनने का बहुत चाव होता है और हम दादी और नानी की कहानियां सुनकर बढ़े हुए है । कहानियों का उद्देश्ये मनोरंजन होता है पर वो हमे कुछ शिक्षा भी देती है। कहानी लेखन के लिए हम या तो ढांचे के आधार पर, चित्र के आधार पर और रूपरेखा के आधार पर कहानी लिखसकते है। कई बार स्कूल और कॉलेज प्रतियोगिता में कुछ विषय पर भी कहानी लेखन होता है। अगर आप जानना चाहते है की कहानी लेखन कैसे होता तो ये ब्लॉग पढ़े और जाने कहानी लिखना ढांचे के आधार पर, Story Writing in Hindi चित्र के आधार पर और रूपरेखा के आधार पर।

कहानी लेखन क्या है?

जीवन की किसी एक घटना के रोचक वर्णन को ‘कहानी’ कहते हैं। कहानी सुनने, पढ़ने और लिखने का चलन सदियों से मानव जीवन का हिस्सा है और यह मनोरंजन के साथ-साथ ज्ञान भी प्रदान करता है। आज हर उम्र का व्यक्ति कहानी सुनना या पढ़ना चाहता है यही कारण है कि कहानी का महत्त्व दिन-दिन बढ़ता जा रहा है। बच्चे शुरू से कहानी प्रिय होते है। बच्चों का स्वभाव कहानियाँ सुनने और सुनाने का होता है। इसलिए बड़े चाव से बच्चे अच्छी कहानियाँ पढ़ते हैं। बालक कहानी लिख भी सकते हैं। कहानी छोटे और सरल वाक्यों में लिखी जाती है।

कहानी कैसे लिखें?

Courtesy: MOMJUNCTION

चाहे आप ढांचे के आधार पर कहानी लिख रहे हैं या फिर चित्र और किसी विषय पर, ये ज़रूरी है कि ढाँचे/चित्र/विषय के बारे में अच्छे से सोचा जाए। उसके बाद अपनी कहानी को दिलचस्प तरीके से लिखना भी ज़रूरी है और अगर वो लघु कथा है तो उसे छोटा ही रखा है। एक कहानी में ये सब बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • कहानी का आरंभ आकर्षक ढंग से हो
  • संवाद छोटे हो
  • कहानी का क्रमिक विकास हो
  • उसका अंत स्वाभाविक हो
  • कहानी का शीर्षक मूल कहानी का शीर्षक हो
  • भाषा सरल और सुबोध हो

इसके अलावा, कुछ और बातें है जो आपकी कहानी लेखन में मदद करेगी:

  1. कहानी में विभिन्न घटनाओं और प्रसंगों को संतुलित विस्तार देना चाहिए । किसी प्रसंग को ना बहुत अधिक संस्कृत लेना चाहिए, ना आवश्यक रूप से बहुत अधिक बढ़ाना चाहिए।
  2. कहानी का आरंभ आकर्षक होना चाहिए ताकि कहानी पढ़ने वाले का मन उसे पढ़ने में लगा रहे।
  3. कहानी की भाषा सरल,  स्वाभाविक तथा प्रभावशाली होनी चाहिए। उसमें बहुत अधिक कठिन शब्द तथा लंबे वाक्य नहीं होने चाहिए।
  4. कहानी के उपयुक्त एवं आकर्षक शिक्षा देना चाहिए।
  5. कहानी को प्रभावशाली और रोचक बनाने के लिए मुहावरों और लोकोक्तियों का प्रयोग भी किया जा सकता है।
  6. कहानी हमेशा भूतकाल में ही लिखी जानी चाहिए।
  7. कहानी का अंत सहज ढंग से होना चाहिए।
  8. अंत में कहानी से मिलने वाली सीख स्पष्ट होनी चाहिए।
Source: Goyal Brothers Prakashan

कहानी लिखते समय किन बातों का ध्यान रखें

कहानी लिखते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए, जैसे-

  • कहानी का आरंभ आकर्षक होना चाहिए।
  • कहानी की भाषा सरल, सरस और मुहावरेदार होनी चाहिए।
  • कहानी की घटनाएँ ठीक क्रम से लिखी जानी चाहिए।
  • कहानी के वाक्य छोटे तथा क्रमबद्ध होने चाहिए।
  • कहानी का उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए।
  • कहानी शिक्षाप्रद होनी चाहिए।

कहानी लेखन फॉर्मेट

kahani lekhan का फॉर्मेट नीचे दिया गया है-

  • शुरुआत : अपनी कहानी को एक आकर्षक शुरुआत के साथ किक स्टार्ट करें जो आपके पाठकों को तुरंत दूर कर देती है!
  • चरित्र परिचय : मुख्य पात्रों के साथ अपने पाठकों को परिचित करें, कहानी में उनका हिस्सा और उन्हें आपकी कहानी पहेली के टुकड़ों को फिट करने में मदद करें!
  • प्लॉट : यह तब होता है जब असली नाटक शुरू होता है, क्योंकि मुख्य साजिश सुर्खियों में आती है। कहानी को उजागर करें और अपने पात्रों को प्रतिक्रिया दें, विकसित करें और मुख्य संघर्ष की ओर पहुंचें।
  • क्लाइमेक्स / एंडिंग / निष्कर्ष : चाहे आप एक खुशहाल या एक खुले अंत के लिए जाएं, सुनिश्चित करें कि कम से कम कुछ मुद्दे यदि उनमें से सभी अंत तक हल नहीं होते हैं और आप पाठकों पर एक लंबे समय तक चलने वाली छाप छोड़ते हैं!
Source: Dream stories Tv

कहानी लेखन के लिए गाइड

हालांकि आमतौर पर अनुसरण किए जाने वाले कहानी लेखन प्रारूप को ऊपर वर्णित किया गया है, जिन्हें एक दिलचस्प कहानी के लिए ध्यान में रखते हुए पालन करने की आवश्यकता है:

विचार करें

कहानी लेखन के लिए सबसे पहली और महत्वपूर्ण चीज एक विचार है । यह विचार कुछ भी हो सकता है, एक घटना से एक चरित्र या एक साधारण एक-लाइनर जिसे आप कहानी में बदलना चाहते हैं। इसके अलावा, विचारों में निरंतर विचार-मंथन, पढ़ना और लिखना आता है और अक्सर यदि आपको अपने कथानक को बनाने के लिए सही विचार नहीं मिल रहे हैं, तो आप निश्चित रूप से एक लेखक के ब्लॉक का सामना कर रहे हैं। जितना हो सके उतना पढ़ें, मन में आने वाले सभी विषयों को लिखें और अपने आप को और दूसरों को आकर्षक कहानी के साथ आने के लिए विचार करें।

एक बेसिक रूपरेखा तैयार करें

एक बार जब आप उस कहानी के बारे में निश्चित हो जाते हैं जिसे आप सुनाना चाहते हैं, तो अगला कदम घटनाओं की एक सरल रूपरेखा तैयार करना है और कहानी भर में चरित्रों का प्रसार होगा। यह सिर्फ एक-लाइनर हो सकता है जो किसी को भी मूल कहानी के बारे में बता सकता है या यह विभिन्न घटनाओं को सूचीबद्ध करने वाले बिंदुओं में हो सकता है। एक संक्षिप्त रूपरेखा बनाने से आपको कहानी लेखन प्रारूप पर समझ रखने में मदद मिलेगी क्योंकि आप विभिन्न घटनाओं को समझ पाएंगे और वे कैसे सामने आएंगे।

नायक पर ध्यान दें

“नायक वह चरित्र है जिसका भाग्य कहानी के लिए सबसे अधिक मायने रखता है।”

जैसे आपको अपनी कहानी के लिए सही विचार पर काम करने में घंटे बिताने पड़ते हैं, वैसे ही आपको सही नायक पर भी काम करना होगा जो आपके कथन के विचार और विषय का प्रतिनिधित्व कर सकता है। जबकि अधिकांश लेखक अपने नायक के रूप में एक चरित्र रखना पसंद करते हैं, यह आमतौर पर ऐसा करने की आवश्यकता नहीं है। आप कुछ नया कर सकते हैं और सोच सकते हैं और किसी भी घटना, विचार या किसी चीज़ को अपना नायक बना सकते हैं। लेकिन याद रखें, एक नायक आपकी कहानी की कहानी और कथानक को आगे बढ़ाएगा, इसलिए विवेकपूर्ण तरीके से चुनें।

Source : Blueprint Digital

एक गहन पहली पंक्ति लिखें

अब जब आपने अपना मन बना लिया है कि आपकी कहानी का क्या, कहां, कैसे और कब होना है, तो पहली पंक्ति को ध्यान में रखते हुए कहानी लेखन प्रारूप के उपरोक्त तत्वों को अंतिम रूप देना एक समान संघर्ष है। आपकी कहानी की पहली पंक्ति कथानक के स्वर को निर्धारित करेगी, पाठक को झुकाएगी और आपके कथन की आवाज़ स्थापित करेगी। तो, एक आकर्षक और अद्भुत पहली पंक्ति बनाने पर समय बिताना महत्वपूर्ण है। एक नजर डालते हैं ऐसी ही कुछ लोकप्रिय किताबों की ओपनिंग लाइन्स पर जो आपको जरूर प्रेरित करेंगी:

चरित्रों का निर्माण

कहानी लेखन प्रारूप का एक अन्य प्रमुख तत्व, आपके पात्र कथा को संरचना, प्रवाह और प्रवाह देंगे और इस तरह सावधानी से विकसित करने की आवश्यकता है। घटनाओं के साथ प्रयोग और ये पात्र कैसे उन पर प्रतिक्रिया दे सकते हैं ताकि उन्हें कहानी के अंतिम निष्कर्ष की ओर बढ़ने में मदद मिल सके।

लिखें, एडिट एंड रिपीट

एक बार कहानी लिखने के बाद, अंतिम चरण हमेशा कथा को प्रूफरीड और एडिट करना चाहिए। कहानी को पढ़ने के लिए किसी मित्र से पूछें, इसकी समीक्षा करें और जब तक आपको अच्छा न लगे, तब तक आप इसमें संपादन, इसे जोड़कर और किसी भी अतिरिक्त पैरा को हटा सकते हैं!

अपनी कहानी में नियमित अंतराल पर 2-3 संघर्षों को शामिल करें और उन्हें समय के साथ हल करें, इससे फिर से जुड़ाव बढ़ेगा।  

“यदि आप वास्तव में इसके बारे में सुनना चाहते हैं, तो पहली बात जो आप शायद जानना चाहते हैं कि मैं कहाँ पैदा हुआ था, और मेरा बचपन कैसा था, और मेरे माता-पिता कैसे थे और इससे पहले कि वे मेरे पास थे, और यह सब डेविड कॉपरफील्ड एक प्रकार का बकवास है, लेकिन अगर आप सच्चाई जानना चाहते हैं तो मुझे इसमें जाने का मन नहीं है। ” – कैच इन द राई , जेडी सालिंगर

“सभी खुश परिवार एक जैसे हैं; प्रत्येक दुखी परिवार अपने तरीके से दुखी है। ”- अन्ना करिनेना , लियो टॉल्स्टॉय

“यह सार्वभौमिक रूप से स्वीकार किया गया एक सत्य है, कि एक सौभाग्य के लिए एक अकेला व्यक्ति, एक पत्नी की इच्छा में होना चाहिए।” – प्राइड एंड प्रेजुडिस , जेन ऑस्टेन

“श्रीमती। डलाय ने कहा कि वह खुद फूल खरीदेगी। ” – श्रीमती डलाय,  वर्जीनिया वूल्फ

“जैसा कि ग्रेगर संसा असहज सपनों से एक सुबह जाग गया, उसने पाया कि वह अपने बिस्तर में एक विशाल कीट में तब्दील हो गया है।” – मेटामोर्फोसिस और अन्य कहानियां,  फ्रांज काफ्का

उन्नत कहानियां कैसे लिखें?

जैसे-जैसे आपका शैक्षणिक स्तर बढ़ता है, वैसे-वैसे आपके लेखन कौशल को उभारना अनिवार्य हो जाता है। यहाँ कुछ कहानी लेखन युक्तियाँ और प्रारूप हैं: 

  • अपनी कहानी में पहली, दूसरी और तीसरी व्यक्ति के कथन के संयोजन का उपयोग करें 
  • एक कहानी सेटिंग बनाएँ 
  • कहानी को बढ़ाने के लिए स्पष्ट रूप से समय, स्थान, अवधि, वातावरण और संदर्भ को प्रभावित करें
  • संवाद कहानी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं इसलिए उनमें भावों का उपयोग किया जाता है
  • अपनी कहानी में 2-3 मुख्य पात्र रखें और कथानक को आकर्षक बनाने के लिए कुछ साइड किरदार 
  • भूखंड को कवर करने के लिए उपर्युक्त प्रारूप का पालन करें
Source : SuccessCDs Education

ढांचे/रूपरेखा के आधार पर कहानी लेखन

ढांचे के आधार पर कहानी लेखन में कुछ मुद्दे दिए जाते है जिन्हे जोड़कर हमे कहानी लिखनी होती है। ये एक तरह से अधूरी कहानी को पूरा करने का अभ्यास होता है। आओ एक उदाहरण देखे ढांचे के आधार पर कहानी लेखन का:

एक प्यासा कौआ – छत पे मिला मटका – पानी कम – काफी सारे कंकड़

अब इस ढाँचे के आधार पे आप ऐसे कहानी लिख सकते हो ।

अब तो आप जान गए होंगे की ढांचे के आधार पर कहानी लेखन कैसे करना है तो ये रहे कुछ कहानी लेखन के ढांचे जो आप प्रैक्टिस कर सकते है।

  • एक सिद्ध ऋषि – उनके चार चेले – ऋषि को जाना पढ़ा किसी काम से बहार – उन्हें अपने चेलो में से एक को लेके जाना – उन्होंने दी एक पहेली – हर एक चेले को दिए 100 रूपये – दुनिया की सबसे कीमती चीज़ लाओ
  • एक किसान – इंतज़ार में बारिश के – लिखा उसने एक पत्र भगवान को – पोस्ट ऑफिस में पोस्टमन को जब वो मिला – तो उसने अपने खर्च से कुछ पैसे भेजदिये – किसान ने खुश होके जवाब भेजा
Courtesy: USHA YADAV

चित्र के आधार पर कहानी लेखन

चित्र के आधार पर कहानी लेखन में आपको एक चित्र मिलेगी जिसे देखकर आपको अपनी कल्पना से कहानी लिखनी होती है।उस चित्र को ध्यान से देखे और समझने की कोशिश करे की उस चित्र में क्या हो रहा है। उसी के अनुसार अपनी कहानी बुननी शुरू करे। आइये समझते है ये एक उदाहरण से।

नीचे दिए गए चित्र के आधार पर कहानी लिखे और उसे है शीर्षक भी दे।

Courtesy: Meri saheli

बन्दर और मगरमछ की दोस्ती

  • एक नदी के किनारे एक जामुन के पेड़ पर मोगली नाम का बंदर रहता था। जामुन के पेड़ पर बहुत सारे मीठे मीठे जामुन लगते थे।खाने की तलाश में एक दिन मगरमच्छ जामुन के पेड़ के पास आया। फिर मगरमच्छ ने पेड़ के पास आने की वजह बताएं तब मोगली ने उससे कहा यहां जामुन के पेड़ पर बहुत मीठे मीठे जामुन लगते हैं ,फिर उसने मगरमच्छ को थोड़े जामुन दिए।फिर रोज मगरमच्छ जामुन खाने के लिए पेड़ के पास आता और बंदर उसे रोज जामुन देता , धीरे-धीरे दोनों में बहुत अच्छी मित्रता हो गई। एक दिन मगरमच्छ ने कुछ जामुन अपनी पत्नी को भी खिलाएं ,तब उसकी पत्नी ने यह सोचा कि जामुन इतने स्वादिष्ट है तो सोचो उसे खिलाने वाले का दिल भी कितना मीठा होगा।
  • मगरमच्छ की पत्नी जिद पर आ गई उसने मगरमच्छ से कहा कि उसे बंदर का दिल चाहिए। फिर मगरमच्छ ने एक तरकीब लगाई, उसने मोगली बंदर से कहा कि उसकी भाभी उनसे मिलना चाहती है। अब मोगली बंदर ने मगरमच्छ से कहा कि भला मैं नदी से कैसे जा पाऊंगा? तब मगरमच्छ ने उपाय सुझाया कि उसकी पीठ पर बैठकर जा सकते हैं। बंदर को अपनी मित्रता पर भरोसा था , इसलिए वह पेड से कूदकर नदी में मगरमच्छ की पीठ पर बैठ गया। जब वह दोनों नदी के बीचो-बीच पहुंचे तब मगरमच्छ ने बंदर से कहा कि उसकी पत्नी को उसका दिल चाहिए , तब बंदर का दिल टूट सा गया ,उसे धक्का लगा परंतु उसने अपना धैर्य बिल्कुल भी नहीं खोया।तभी अचानक से बंदर बोला ,”अरे मेरे मित्र ,तुमने यह बात मुझे पहले क्यों नहीं बताया मैं तो अपना दिल जामुन के पेड़ पर ही संभाल कर रखा है।
  • अब तो मुझे जल्दी जल्दी वापस नदी के किनारे ले चलो ताकि मैं अपनी भाभी को अपना दिल देखकर खुश कर सकूं ।मगरमच्छ बंदर को जैसे ही नदी के किनारे लेकर गया, बंदर ने जोर से जामुन के पेड़ पर छलांग लगाई और गुस्से में आकर बोला,” मूर्ख मगरमच्छ दिल के बिना ही क्या जिंदा रह सकते हैं ,आज से तेरी मेरी दोस्ती खत्म।
  • इस कहानी से यह सीख मिलती है कि हमें मुसीबत के क्षण में धैर्य कभी भी नहीं होना चाहिए और अनजान लोगों से दोस्ती सोच समझकर करनी चाहिए।
Source: Youtube

जहां चाह है वह राह
सुबह की कड़कती गर्मी में एक बहुत ही प्यासा कौआ काफी देर से पानी की खोज में था।काफी दूर तक उड़ने के बाद और खोजते खोजते वो हार मान ही चूका था की उसने देखा की एक घर की छत पे एक पानी का मटका पढ़ा है। ख़ुशी से फुला, कौआ बड़ी ही हिम्मत से उस मटके तक पहुंचा पर उसने जैसे ही अंदर झाँका तो पाया की पानी तोह काफी काम है। उसने अपनी चोंच से पानी तक पहुँचने की कोशिश की पर काफी देर के बाद उसने आसपास देखा तो एक कोने में काफी सारे कंकड़ पड़े थे। उसने दो तीन कंकड़ पानी के अंदर डाले तो वो थोड़ा से ऊपर आ गया। कौआ को तब धीरे धीरे समझ आया की कंकड़ से पानी ऊपर लाने से उसकी चोंच पानी तक पहुँच जाएगी। फिर तो उसने झट से कंकड़ डालने शुरू किये और जैसे ही पानी ऊपर आया, उसने अपनी प्यास भुजाई। इस कहानी से हमे यही सीख मिलती है की कोशिश करने से हम अपनी मनचाही चाह पूरी करसकते क्योंकी जहां चाह है वह राह है।

अब आप इन चित्रों के आधार पर कहानी लेखन का अभ्यास करे:

Courtesy: meri saheli
Courtesy: hindiparenting.firstcry.com
COURTESY: FIRSTCRY PARENTING
Courtesy: literally lynne marie

कहानी लेखन के प्रकार

नई शिक्षा पद्धति के अनुसार कहानी लेखन के स्वरूप में भी बदलाव किया गया है इसके फलस्वरूप कहानी चार प्रकार से पूछे जा सकती है यह प्रकार निम्नलिखित है

  • कहानी से संबंधित अधिक से अधिक मुद्दे देकर
  • कहानी से संबंधित कुछ मुख्य मुद्दे देखकर
  • कहानी की शुरुआत की कुछ पंक्तियां देकर
  • कहानी के अंतिम पंक्तियां देकर

आकार की दृष्टि से यह कहानियां दोनों तरफ की है –

  • कुछ कहानियां लंबी है जबकि
  •  अन्य कुछ कहानियां छोटी।
  • आधुनिक कहानी मूलतः छोटी होती है।

कहानी लेखन की प्रमुख विशेषताएँ

कहानी लेखन की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं:

  1. आज कहानी का मुख्य विषय मनुष्य है , दिव्   या  दानव नहीं। पशुओं के लिए भी कहानी में अब कोई जगह नहीं रही।  हां,  बच्चों के लिए लिखी गई कहानियों में देव, दानव,  पशु पक्षी , मनुष्य सभी आता है । लेकिन श्रेष्ठ कहानी उसी को कहते , जिसमें मनुष्य के जीवन की कोई समस्या या संवेदना व्यक्त की गई होती है।
  2. पहले हमारी शिक्षा और मनोरंजन के लिए लिखी जाती थी,  आज इन दोनों के स्थान पर को तोहर जवानी में जो कहानी सक्षम हो, वो वही सफल समझी जाती है । फिर भी मनोरंजन आज भी साधारण पाठकों की मांग है।
  3. आज का मनुष्य या जाने लगा है कि मनुष्य अपने भाग्य का निर्माता है , वह किसी के हाथ का खिलौना नहीं । इसके लिए आज की कहानियों  का आधार मनुष्य के जीवन का संघर्ष है।
  4. आज की कहानी का लक्ष्य विभिन्न प्रकार के चरित्रों के सूची करना है । यही कारण है कि आज खाने में चरित्र चित्रण का महत्व अधिक बड़ा है।
  5. पहले जहां कहानी का लक्ष्य घटनाओं का जम घट लगाना होता था ,  वहां आज घटनाओं को महत्व न देकर मानव मन के किसी एक भाव, विचार और अनुभूति को व्यक्त करना है । प्रेमचंद ने इस संबंध में स्पष्ट लिखा है, ”  कहानी का आधार अब घटना नहीं ,अनुभूति है। “
  6. पहले की उपेक्षा आज की कहानी भाषा की सरलता पर अधिक बल देती है ; क्योंकि उसका उद्देश्य जीवन की गाथा को खोलना है।
  7. प्राचिन कहानी समषटिवादी थी । सबके हितो को ध्यान में रखकर लिखी जाती थी। आज की कहानियां भक्ति व्यक्तिवादी है, जो व्यक्ति के मनोवैज्ञानिक सत्य का उद्घाटन कराती है।
  8. पुरानी कहानियों का अर्थ अधिकतर सुखद होता था , किंतु आज की कहानियां मनुष्य की दु:खानतक  कथा को , उसके जीवन गत समस्याओं और संघर्षों को अधिक से अधिक प्रकाशित करती है।

कहानी लेखन की विधियां

कहानी का अधिकाधिक प्रचार-प्रसार होने के कारण छात्रों से भी आशा की जाती है कि वे भी इस और ध्यान दें और कहानी लेखन का अभ्यास करें;  क्योंकि इसमें उनमें सर्जनात्मक शक्ति जगती है।  इसके लिए उनसे अपेक्षा की जाती है कि वे चार वीडियो से कहानी लिखने का अभ्यास करें

  1. कहानी की सहायता के आधार पर कहानी लिखना
  2. रूपरेखा के सहारे कहानी लिखना
  3. अधूरी या अपूर्ण कहानी को पूर्ण करना
  4. चित्रों की सहायता से कहानी का अभ्यास करना

अपूर्ण कहानी को पूर्ण करना

छात्रों में कल्पना शक्ति जगाने के लिए ऐसी कहानी लिखने का भी अभ्यास कराया जाता है , जो अधूरी अपूर्ण है । उसको पूरा करना । इसके लिए आवश्यक है कि अपूर्ण कहानी को ध्यान से पढ़ाया जाए,  उसके क्रमो को समझाया जाए , और उनमें से संबंध बनाते हुए सृजनात्मक कल्पना के सारे अधूरी कहानी को पूरा करने का अभ्यास कराया जाए।

इस अधूरी कहानी को पूरा करे:

दो चूहे थे , एक का नाम मिट्ठू और उसकी पत्नी का नाम मीठी था। वह दोनों एक बहुत बड़े घर के कोने में बिल बना कर रहते थे ।एक रात को मिट्ठू जब रसोई घर में खाना लेने गया, तब वहां उसने एक सुंदर सा गुड़िया का घर देखा ।फिर उसने अपनी पत्नी को आवाज लगाई ,दोनों उस घर के अंदर है । वह घर के अंदर छोटे कुर्सियां ,छोटे में छोटा पलंग ,और खाने की चीजों से भरी टोकरी रखी हुई  थी, एक छोटी सी  मेज  भी रखी हुई थी। उन्हें उस छोटे घर में बहुत मजा आ रही थी । मीठी ने खुश होकर मिठू से कहा ,” यहां मेरे ही नाप का सामान रखा हुआ है ,चलो पहले कुछ खा लेते हैं । उन्होंने खाना शुरू किया परंतु उनमें से कुछ भी खाया नहीं जा रहा था । वह सभी खाना नकली था।  फिर दोनों बहुत उदास हो गए तभी मीटू छोटी कुर्सी को उठाकर बोला , कम से कम हम इन्हें तो ले जा सकते हैं ना यह बिल्कुल हमारे नाप के हैं । तभी अचानक किसी की आवाज सुनकर भी दोनों भाग कर आपस में बिल में चले गए।

कहानी लेखन वर्कशीट

Story Writing in Hindi

लघु कथा लेखन कक्षा 10th

चालाक खटमल

Story Writing in Hindi
Source: Youtube

एक राजा के शयनकक्ष में मंदविसर्पिणी नाम की जूँ ने डेरा डाल रखा था। रात को जब राजा जाता तो वह चुपके से बाहर निकलती और राजा का खून चूसकर, फिर अपने स्थान पर जा छिपती।संयोग से एक दिन अग्निमुख नाम का एक खटमल भी राजा के शयनकक्ष में आ पहुँचा। जूँ ने जब उसे देखा तो वहाँ से चले जाने को कहा। उसे अपने अधिकार क्षेत्र में किसी अन्य का दखल सहन नहीं था। लेकिन खटमल भी कम चतुर नहीं था, बोला, “देखो, मेहमान से इस तरह बरताव नहीं किया जाता, आज रात मैं तुम्हारा मेहमान हूँ।” जूँ अंतत: खटमल की चिकनी-चुपड़ी बातों में आ गई और उसे शरण देते हुए बोली, “ठीक है, तुम यहाँ रातभर रुक सकते हो, लेकिन राजा को काटोगे तो नहीं, उसका खून चूसने के लिए?” खटमल बोला, “लेकिन मैं तुम्हारा मेहमान है, मुझे कुछ तो दोगी खाने लिए। और राजा के खून से बढ़िया भोजन और क्या हो सकता है।” “ठीक है।” जूँ बोली, “तुम चुपचाप राजा का खून चूस लेना, उसे पीड़ा का एहसास नहीं होना चाहिए।” ‘जैसा तुम कहोगी, बिल्कुल वैसा ही होगा।” कहकर खटमल शयनकक्ष में राजा के आने की प्रतीक्षा करने लगा ।रात ढलने पर राजा आया और बिस्तर पर पड़कर सो गया। खटमल सबकुछ भूलकर राजा को काटने दौड़ा और खून चूसने लगा। ऐसा स्वादिष्ट खून उसने पहली बार चखा था, इसलिए वह जोर-जोर से काटकर खून चूसने लगा। इससे राजा के शरीर में तेज खुजली होने लगी और उसकी नींद उचट गई । उसने क्रोध में भरकर अपने सेवकों से काटनेवाले जीव को ढूँढ़कर मारने को कहा।यह सुनकर चतुर खटमल तो पलंग के पाए के नीचे छिप गया, लेकिन चादर के कोने पर बैठी जूँ राजा के सेवकों की नजर में आ गई। उन्होंने उसे पकड़ा और मार डाला।

शिक्षा : जाँच-परखकर के बाद ही अनजानों पर भरोसा करें।

एक प्यासा कौआ

Story Writing in Hindi
Image Source: mom junction

एक बार एक कौआ था। एक दिन वह बहुत प्यासा था। वह पानी की तलाश में इधर-उधर उड़ा। उसने एक जग देखा। इसमें पानी थोड़ा था। उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुँच सकी। कौआ बहुत चतुर था। उसने एक योजना सोची। वह पत्थरों के कुछ टुकड़े लाया उसने उन्हें जग में डाले। पानी ऊपर आ गया। उसने पानी पिया। वह बहुत खुश हुआ। वह उड़ गया। 

शिक्षा : बुद्धिमानी का फल मिलता है।

संगठन में शक्ति है

Story Writing in Hindi
Source: Youtube

एक बार एक बूढ़ा किसान था। उसके चार पुत्र थे। ॐ एक-दूसरे से सदैव झगड़ते थे। उसने उन्हें नहीं झगडने की सलाह दी, किन्तु सब व्यर्थ । एक दिन वह किसान बहुत बीमार हो गया। उसने अपने पुत्रों को बुलाया। उसने उन्हें लकड़ियों का एक बंडल दिया। उसने उनसे इसे तोड़ने को कहा । कोई भी इसे नहीं तोड़ सका। उसने इस बंडल को खोलने को कहा। फिर किसान ने अपने लड़कों को लकड़ियाँ तोड़ने को कहा। उन्होंने एक-एक करके सरलता से लकड़ियाँ तोड़ दीं। अब किसान ने अपने लड़कों से कहा-“यदि तुम लकड़ियों के बंडल की तरह इकट्ठे (संगठित) रहोगे,कोई तुम्हें नुकसान नहीं पहुँचा सकता है । यदि तुम झगड़ोगे, कोई भी तुम्हें नुकसान पहुंचा सकता है।” उसके लड़कों ने एक शिक्षा ली। वे फिर कभी भी नहीं झगड़े। किसान प्रसन्न हुआ।

 शिक्षा : संगठन में शक्ति है।

कहानी लेखन टॉपिक कक्षा 5, कक्षा 8, कक्षा 9, कक्षा 10

अगर आप कक्षा 5, कक्षा 8, कक्षा 9, कक्षा 10 के लिए कहानी लेखन के टॉपिक्स ढूंढ रहे हो, तो ये रहे कुछ अच्छे टॉपिक नीचे दिए गए हैं:

  • सबक
  • मछलियाँ और साँप
  • स्वर्ग का रास्ता
  • कुत्ता – घर का और गाँव का
  • नारद का दुःख
  • किसान और कुत्ते
  • परीक्षा
  • बीमार मुर्गी और बिल्ली
  • नहले पर दहला
  • भेड़िया और बकरी
  • खरगोश और मेंढक
  • नकलची गधा
  • हम भी टेढ़े, तुम भी टेढ़े
  • सूरज
  • पढ़ो ही नहीं, अमल भी करो
  • शास्त्रीजी तो साधु हैं
  • बुरा क्यों चाहूँ?
  • बच्चे का उद्धार
  • सदैव न्याय करना
  • बूढ़ा आदमी और मौत
  • विशाल बरगद और सरकंडा
  • बेचारा चरवाहा
  • दो कुत्ते
  • एक जुआरी और चिड़िया
  • अपराधी कौन
Hindi Story Writing Worksheet
Courtesy: A2ZWORKSHEETS

FAQs

कहानी लेखन का प्रारूप क्या है?

अन्य लेखन कार्यों की तरह, Story Writing in Hindi में भी एक पैटर्न या एक प्रारूप होता है। इस प्रारूप का पालन करने की आवश्यकता केवल अपने लेखन को अधिक अर्थ देना है। एक निश्चित संरचना का अनुसरण आपकी कहानी को अधिक अर्थ दे सकता है और इसे और अधिक रोचक बना सकता है। आपकी कहानी में ये घटक होने चाहिए – सेटिंग, वर्ण-व्यवस्था, प्लॉट, संघर्ष, चरमोत्कर्ष, संकल्प, विषय और दृष्टिकोण।

लघुकथा लिखने के चरण क्या हैं?

एक परिपूर्ण कहानी की अनिवार्यताएं इस प्रकार हैं:

1. सेट संरचना का पालन करें 
2. कहानी  की प्रमुख भावना, रहस्योद्घाटन या मूल चिंता का पता लगाएं
3. कहानी  लिखना शुरू करें और शुरुआत में एक हुक जोड़ें 
4. कहानी को पूरा करें  फिर से पढ़ें और इसे स्वयं संपादित करें
6. कहानी संपादित करने में मदद के लिए दूसरों से पूछें

कहानी विषय कैसे लिखते हैं?

एक छोटी कहानी लिखने के लिए, आपको एक दिलचस्प हुक के साथ कहानी शुरू करने की आवश्यकता है। आगे बढ़ते हुए, पात्रों का परिचय दें और भूखंड की ओर बढ़ें। अगली बात जो आती है वह पात्रों के बीच का संघर्ष है जो कहानी के समापन या चरमोत्कर्ष की ओर जाता है!

उम्मीद है कि इस ब्लॉग ने आपको यह समझने में मदद की है की कहानी लेखन कैसे करते हैं। यदि आप विदेश में पढ़ाई करना चाहते हैं, तो हमारे Leverage Edu विशेषज्ञ के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन 1800 57 2000 पर कॉल कर बुक करें।

Leave a Reply

Required fields are marked *

*

*

6 comments
    1. आपका धन्यवाद, ऐसे ही हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

    1. आपका शुक्रिया, ऐसे ही हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

    1. आपका शुक्रिया, ऐसे ही आप हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

    1. आपका धन्यवाद, ऐसे ही हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

    1. आपका शुक्रिया, ऐसे ही हमारी वेबसाइट पर बने रहिए।

15,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert