इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध

1 minute read
3.3K views
इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध

इंटरनेट किसी भी व्यक्ति को दुनियां के किसी भी कोने में बैठे हुए महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान करने की अद्भुत सुविधा प्रदान करता है। इसके माध्यम से हम लोग आसानी से किसी एक जगह रखे कम्प्यूटर को किसी भी एक या एक से अधिक कम्प्यूटर से जोड़कर जानकारी का आदान प्रदान कर सकते हैं। जैसे ही हम अपने इंटरनेट सेवा प्रदाता को इसके कनेक्शन के लिये पैसे देते हैं उसी समय से हम इसका प्रयोग दुनिया के किसी भी कोने से एक हफ्ते या उससे ज्यादा समय के लिये कर सकते हैं। इंटरनेट अपने आप में कोई आविष्कार नहीं है। इंटरनेट टेलीफोन , कंप्यूटर व दूसरी तकनीक को इस्तेमाल करके बनाई गई एक ऐसी प्रणाली है, जिसमें सूचना व तकनीक का साझा उपयोग किया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध के बारे में Leverage Edu के साथ।

यह भी पढ़ें : निबंध लेखन

इंटरनेट का मतलब

आज के दौर में इंटरनेट हमारी आवश्यकता नहीं ज़रूरत बन गया है। बिना इंटरनेट के आज के समय में हम कुछ चीज नहीं ढूंढ सकते हैं। सही मायनों में इंटरनेट एक दूसरे से जुड़े बहुत सारे कम्प्यूटरों का जाल है जो कि उपग्रहों, केवल तंतु प्रणालियों, एल.ए.एन, और वी.ए.एन प्रणालियों तथा टेलीफोनों के जरिए सम्पूर्ण विश्व के करोड़ों कम्प्यूटर्स एवं उपनेटवर्क्स को आपस में जोड़ता है।

आसान भाषा में कहें तो इंटरनेट सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए टी.सी.पी/आई.पी प्रोटोकॉल के द्वारा दो अथवा कई कम्प्यूटर्स को एक साथ जोड़कर रिलेशन बनाता है जिसको इंटरनेट कहते हैं।

इंटरनेट का इतिहास

दुनिया में जब तक इंटरनेट नहीं आया था उससे पहले लोगों को अपने मामूली काम करने के लिए कई कई घंटे इंतजार करना पड़ता था। जैसे रेलवे का टिकट लेने, बिजली का बिल जमा करने तथा आवेदन पत्र जमा करने जैसे काम करने के लिए काफी दिकक्तों का सामना करना पड़ता था। लेकिन आधुनिक समय में लोग बस एक क्लिक से टिकट की बुकिंग कर सकते हैं, साथ ही एक सॉफ्ट कॉपी अपने मोबाईल फोन में भी रख सकते हैं।

1969 में टिम बर्नर्स ली ने इंटरनेट का आविष्कार किया। इसे सबसे पहले सन् 1969 में अमेरिका के प्रतिरक्षा विभाग द्वारा एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क के गुप्त आंकड़ों और सूचनाओं को दूर दराज़ के विभिन्न राज्यों तक भेजने व प्राप्त करने में लाया गया था। हमारे भारत देश में इंटरनेट 1980 के दशक में आया था।

इंटरनेट का महत्त्व

इंटरनेट के महत्व निम्नलिखित है :-

  • मेट्रो, रेलवे, व्यापारिक उद्योग, दुकान, स्कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्थान, एनजीओ, विश्वविद्यालय, कार्यालय (सरकारी तथा गैर-सरकारी) में हर डाटा को कंप्यूटरीकृत करके बड़े स्तर पर कागज़ और कागज़ी कार्यों से बचा जा सकता है, ऐसा करने से कार्यों में पारदर्शिता भी बढ़ेगी।
  • इंटरनेट मनुष्य को विज्ञान द्वारा दिया गया एक सर्वश्रेष्ठ उपहार है। इंटरनेट अनंत संभावनाओं का साधन है। इंटरनेट के माध्यम से हम कोई भी सूचना, चित्र, वीडियो आदि दुनिया के किसी भी कोने से किसी भी कोने तक पल भर में भेज सकते हैं। इंटरनेट के माध्यम से हम ई-मेल भेज सकते हैं और प्राप्त भी कर सकते हैं।
  • यह संदेश भेजने का और प्राप्त करने का सबसे सरल और सस्ता साधन है। इंटरनेट के माध्यम से हम दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हुए अपने दोस्त अथवा संबंधियों से बात कर सकते हैं। इसे इंटरनेट चैटिंग कहते हैं जिसकी वजह से फेसबुक और वाट्सएप बहुत अधिक प्रसिद्ध हो रहे हैं।
  • इंटरनेट के माध्यम से हम अपने विचारों और वस्तुओं का पूरी दुनिया में प्रचार कर सकते हैं। यह विज्ञापन का सबसे सरल और प्रभावी माध्यम है।
  • इंटरनेट के माध्यम से हम व्यापार भी कर सकते हैं और अपनी वस्तुओं और सेवाओं का क्रय-विक्रय भी कर सकते हैं। इसका सबसे बड़ा साधन वेबसाईट है।
  • इंटरनेट का उपयोग हम ईमेल भेजने, वीडियो, चैटिंग, नेट सर्फिंग, बिल जमा कराने, टिकट बुक कराने, शॉपिंग करने के लिए, सूचनाएं बेचने और प्रदान करने के लिए, नौकरी खोजने और प्रदान करने के लिए, विज्ञापन करने के लिए, सीधे अपने ग्राहकों तक पहुंचने के लिए, मनोरंजन इत्यादि सभी कार्य करने के लिए करते है।
  • वर्तमान में तो बच्चों की शिक्षा और उनके खेलने के लिए गेम्स भी इंटरनेट पर उपलब्ध है।
  • विज्ञान के क्षेत्र में भी इंटरनेट ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इंटरनेट की सहायता से वैज्ञानिक एक दूसरे से जुड़कर नए नए आविष्कारों को अंजाम दे पाए है और अंतरिक्ष में घटने वाली घटनाओं की सूचना भी इंटरनेट के माध्यम से सभी को प्रदान की हैं।
  • इसके कारण शिक्षा के क्षेत्र में तो बहुत अधिक बदलाव आया है क्योंकि पिछड़े हुए क्षेत्रों में इंटरनेट की उपलब्धता के कारण, वहां के विद्यार्थियों को उत्तम शिक्षा मिल रही है, जिससे रोज़गार में वृद्धि हो रही है और देश की तरक्की भी तेजी से हो रही है।
  • इसका अथाह ज्ञान, सूचना, जानकारी इसके संचालन के उपयोग को और अधिक बढ़ा देता है। इसकी इसी विशेषता के कारण उपयोगकर्ताओं की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

निबंध लिखने के टिप्स

यहां कुछ युक्तियां दी गई हैं जिनका पालन करके आप एक प्रभावशाली निबंध लिख सकते हैं :-

  • आपका निबंध उचित जानकारी के साथ स्पष्ट और संक्षिप्त होना चाहिए। 
  • आपका निबंध लिखने से पहले सावधानीपूर्वक शोध करें।
  • इसका उपयोग करने के फायदे और नुकसान दोनों को जोड़ें।  
  • सामग्री को पैराग्राफ में लिखें। 
  • अपशब्दों और अपशब्दों के प्रयोग से बचें। 
  • स्वर औपचारिक रखें। 
  • आप सांख्यिकीय डेटा भी जोड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें : विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध ( 100 words )

इंटरनेट एक ऐसा आधुनिक उपकरण है। जो पूरी दुनिया के कम्प्यूटर को एक नेटवर्क से जुड़ा हुआ होता है। इंटरनेट को वैश्विक स्तर पर जुड़ा हुआ नेटवर्क सिस्टम है। जो TCP/IP प्रोटोकॉल के उपयोग से एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर के बीच विभिन्न प्रकार के मीडिया के माध्यम से सूचनाएं या जानकारी के आदान–प्रदान के लिए उपयोग किया जाता है। इंटरनेट का उपयोग ईमेल भेजने, वीडियो, चैटिंग, नेट सर्फिंग, बिल जमा कराने, टिकट बुक कराने, शॉपिंग करने, सूचनाएं बेचने और प्रदान करने, नौकरी खोजने और प्रदान करने के लिए, विज्ञापन करने के साथ-साथ सीधे अपने ग्राहकों तक पहुंचने के लिए, मनोरंजन इत्यादि सभी कार्य करने के लिए किया जाता है। वर्तमान में तो बच्चों की शिक्षा और उनके खेलने के लिए गेम्स भी इंटरनेट पर उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें : अनुशासन का महत्व

इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध ( 250 words )

इंटरनेट शब्द से, हम यह समझ सकते हैं कि यह एक वैश्विक वाइड-एरिया नेटवर्क है जहां असंख्य कंप्यूटर सिस्टम एक ही नेटवर्क से जुड़े हैं। व्यवसाय चलाने से लेकर वित्तीय लेनदेन करने तक, इंटरनेट, जो सबसे शक्तिशाली उपकरणों में से एक है, ने आधुनिक जीवन को बिल्कुल आसान और सरल बना दिया है। 

यह आसान पहुंच और वैश्विक पहुंच के कारण है, हम लागत प्रभावी और समय बचाने के तरीके में विभिन्न प्लेटफार्मों के माध्यम से दुनिया भर के लोगों के साथ संवाद करने में सक्षम हैं। केवल समाचारों तक ही सीमित नहीं है, इसके माध्यम से कोई भी आसानी से महत्वपूर्ण अपडेट भेज सकता है, ऑनलाइन कोर्स चला सकता है, लाइव प्रसारण देख सकता है, व्यावसायिक बैठकों में भाग ले सकता है, और एक साधारण क्लिक के साथ ऑनलाइन सामान खरीद और बेच सकता है। 

हालांकि, अच्छे के साथ, बुरा आता ही है। उद्योगों में क्रांति लाने के बावजूद, इंटरनेट से जुड़े जोखिम भी हैं। साइबर धोखाधड़ी, मैलवेयर हमले, अव्यवस्थित और असत्यापित सामग्री, पहचान की चोरी, बेईमान व्यवसाय आदि इंटरनेट से संबंधित कुछ प्रमुख मुद्दे हैं। इसके अलावा, इंटरनेट का अत्यधिक उपयोग मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों को प्रभावित कर सकता है। 

इंटरनेट का उपयोग करते समय अपने बैंक विवरण को सेव करके न रखें, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित करना, नियमित रूप से पासवर्ड अपडेट करना, सत्यापित वेबसाइटों से सामान खरीदना आदि जैसी सावधानियां बरतने से आपको सुरक्षित रहने में मदद मिल सकती है। इसलिए, एक दोधारी तलवार होने के बावजूद, इंटरनेट एक विशाल महासागर की तरह है, जिसके लाभ-विपक्ष पर भारी पड़ते हैं।

यह भी पढ़ें : डिजिटल इंडिया पर निबंध

इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध ( 500 words )

1960 के दशक के अंत में, एक वैश्विक वाइड-एरिया नेटवर्क बनाया गया था जिसे अब इंटरनेट के रूप में जाना जाता है। इसकी जड़ें उद्योगों में फैली हुई हैं, मानव जाति के साथ रहने के लिए यह एक सर्वोत्कृष्ट आवश्यकता बन गई है। केवल संचार स्थापित करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि कोई वित्तीय लेनदेन कर सकता है, फिल्में देख सकता है, संगीत सुन सकता है, पाठ्यक्रम कर सकता है और इंटरनेट की मदद से खरीदारी कर सकता है। 

इंटरनेट के नुकसान से ज्यादा फायदे हैं। ऑनलाइन खरीदारी से लेकर ऑनलाइन सीखने तक, इंटरनेट ने मानव जाति को मोटा और पतला करने में मदद की है। इसी तरह, व्यावसायिक इकाइयों से लेकर स्कूलों, स्वास्थ्य सेवा और सरकारी विभागों तक, इंटरनेट समय की आवश्यकता बन गया है। इंटरनेट के उद्भव के कारण उपग्रहों और अंतरिक्ष स्टेशनों से कनेक्टिविटी, संचार और सूचना का प्रसार भी संभव हो गया है। इसके अलावा, मनोरंजन उद्योग ने इंटरनेट की मदद से बड़े पैमाने पर गति प्राप्त की है। 

यह भी पढ़ें :  भ्रष्टाचार पर निबंध

हालाँकि इसके कई फायदे हैं, लेकिन इंटरनेट भी एक दोधारी तलवार है, जिसके नुकसान भी हैं। इंटरनेट के उद्भव और लोकप्रियता ने असामाजिक तत्वों की शक्तियों जैसे: ऑनलाइन पीछा करने और ट्रोलिंग करने वालों को भी एक स्पेस दिया है। इसके अलावा, इंटरनेट पर हिंसक और अश्लील छवियों आदि पर सरलता से पहुंचने के कारण इसने अपराधों के साथ-साथ आपराधिक मानसिकता को भी जन्म दिया है। विशेष रूप से किशोरों में, यह न केवल मानसिक परेशानी का कारण बनता है बल्कि शारीरिक बीमारियों को भी जन्म देता है। 

प्रत्येक नए आविष्कार के फायदे और नुकसान होते हैं। हालांकि, उचित सावधानियों जैसे सुरक्षित ब्राउज़िंग का अभ्यास करना, आपके द्वारा साझा किए जाने वाले डेटा के साथ सतर्क रहना, बार-बार पासवर्ड बदलना, गोपनीयता सेटिंग्स को अपडेट करना, और दूसरों के साथ अपनी साख साझा न करने से आपको बिना किसी चिंता के इंटरनेट का उपयोग करने में मदद मिल सकती है।

पहले के समय में जब लोगों के पास इंटरनेट की सुविधा नही थी, तो उन्हें कई प्रकार के सामान्य कार्यों के लिये भी कई घंटों तक लाइनों में लगे रहना पड़ता था। जैसे रेलवे का टिकट लेने, बिजली का बिल जमा करने तथा आवेदन पत्र जमा करने जैसे कार्यों के लिए काफी दिकक्तों का सामना करना पड़ता था। इंटरनेट का जन्म वर्ष 1969 में अमेरिका में किया गया था। इसे सबसे पहले वर्ष 1969 में अमेरिका के प्रतिरक्षा विभाग द्वारा एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क नाम गुप्त आंकड़ों और सूचनाओं को दूर दराज के विभिन्न राज्यों तक भेजने व प्राप्त करने में लाया गया था। हमारे भारत देश में इंटरनेट 80 के दशक में आया था।

इंटरनेट एक वर्ल्ड वाइड वेब है जिसकी सहायता से हम दुनिया के किसी भी कोने में अपनी मेल या जरूरी दस्तावेजों को पलक झपकते ही भेज अथवा प्राप्त कर सकते हैं। इंटरनेट मनोरंजन का एक बहुत अच्छा माध्यम है। इंटरनेट के माध्यम से आप संगीत, गेम्स, फिल्म आदि को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के डाऊनलोड कर सकते हैं और अपनी बोरियत को दूर कर सकते हैं।

इंटरनेट की सहायता से बिजली, पानी और टेलीफोन के बिल का भुगतान बिना किसी परेशानी अथवा बिना लंबी लाईनों में खड़े हुए घर बैठे किया जा सकता है। इंटरनेट से हमें घर बैठे रेलवे टिकेट बुकिंग, होटल रिसर्वेशन, ऑनलाइन शौपिंग, ऑनलाइन पढाई, ऑनलाइन बैंकिंग, नौकरी, खोज आदि सुविधाएँ मिल जाती हैं।

https://youtu.be/SE-YsXEWlkU
Source: Education Track

आशा करते हैं कि आपको इंटरनेट आज की आवश्यकता पर निबंध का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। अगर आप विदेश में अपनी आगे की पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं तो आज ही 1800572000 नंबर पर कॉल करें और हमारे Leverage Edu के एक्सपर्ट्स के साथ 30 मिनट का फ्री सेशन बुक कीजिए।

प्रातिक्रिया दे

Required fields are marked *

*

*

4 comments
20,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
Talk to an expert