क्या आप जानते हैं सुनील छेत्री की ये बातें

Rating:
3.8
(5)
सुनील छेत्री

सुनील छेत्री एक भारतीय फुटबॉल खिलाड़ी हैं जो वर्तमान में मोहन बागान एसी के लिए खेल रहे हैं। उनका जन्म 3 अगस्त 1984 को सिकंदराबाद में हुआ था। उनके माता-पिता के.बी. छेत्री और सुशीला छेत्री हैं। उन्होंने गंगटोक में बहाई स्कूल, दार्जिलिंग में बेथानी और आरसीएस, कोलकाता में लोयोला स्कूल और नई दिल्ली के आर्मी पब्लिक स्कूल में अध्ययन किया।अभी वह इस क्लब के कप्तान है और उनके खेल से टीम अभी आई-लीग के नंबर एक के खिलाड़ी हैं।अवार्ड अखिल भारतीय फुटबॉल संघ (एआइएफएफ) ने फुटबॉल स्ट्राइकर सुनील छेत्री को वर्ष 2011 का सर्वश्रेष्ठ फुटबॉल खिलाड़ी (प्लेयर ऑफ द ईयर 2011) चुना।तो चलिए जानते हैं सुनील छेत्री के बारे में Leverage Edu के साथ।

Check Out: Motivational Stories in Hindi

नाम सुनील छेत्री
पूरा नाम यशस्वी भूपेंद्र कुमार जैसवाल
जन्म 3 अगस्त 1984
जन्म स्थल सिकंदराबाद, भारत
राष्ट्रीयता नेपाली, भारतीय
धर्म हिंदू
राशि सिंह (Leo)
पिताजी के. बी. छेत्री
माताजी सुशीला छेत्री
बहन (Sister) बंदना छेत्री
प्रेमिका ( Girlfriend ) सोनम भट्टाचार्य
पत्नी (Wife) सोनम भट्टाचार्य
निवास स्थान सिकंदराबाद, भारत
स्कूल बहाई स्कूल, गंगटोक, सिक्किम
कॉलेज आसुतोष कॉलेज, कोलकाता
पेशा स्ट्राइकर, भारतीय फुटबॉलर
Coach सुब्रोतो भट्टाचार्य
Net Worth $1 मिलियन

Check Out: How to Become a Motivational Speaker?

सुनील छेत्री का जीवन परिचय

सुनील छेत्री
Source : Pinterest

सुनील छेत्री का जन्म 3 अगस्त, 1984 को सिकंदराबाद, तेलंगाना में हुआ था। उनके माता-पिता के.बी. छेत्री और सुशीला छेत्री हैं। उन्होंने गंगटोक में बहाई स्कूल, दार्जिलिंग में बेथानी और आरसीएस, कोलकाता में लोयोला स्कूल और नई दिल्ली के आर्मी पब्लिक स्कूल में अध्ययन किया।आर्मी बैकग्राउंड होने के कारण उन्हें कई अलग – अलग शहरों में जाना होता था। जिसके चलते सुनील को गंगटोक से दार्जीलिंग, वहाँ से कोलकाता और फिर दिल्ली में स्थानांतरित होना पड़ा. यही वजह थी उन्होंने अलग – अलग स्कूलों में पढ़ाई की। उन्होंने गंगटोक के बहाई स्कूल, दार्जिलिंग के बेथानी स्कूल, कोलकाता के लोयोला स्कूल और नई दिल्ली के आर्मी पब्लिक स्कूल में अपनी स्कूली शिक्षा की।

असुतोश कॉलेज में शामिल होकर अक्टूबर, 2001 में कुआलालंपुर में एशियाई स्कूल चैम्पियनशिप में भाग लेने के लिए सुनील छेत्री ने कक्षा बारहवीं में अपनी पढ़ाई छोड़ दी। 

  • वह जातीयता के द्वारा एक नेपाली है।
  •  उन्होंने दिल्ली में सिटी क्लब के साथ फ़ुटबॉल में अपना कॅरियर शुरू किया।
  •  वह मोहम बागान जेसीटी एफसी का प्रतिनिधित्व करते हैं। 
  • उन्होंने मौजूदा सीजन के लिए ईस्ट बंगाल क्लब के साथ हस्ताक्षर किए।

उन्हें वर्ष 2007 के एआईएफएफ प्लेयर के रूप में चुना गया था। 22 मई, 2009 को उन्होंने डेम्पो एससी के लिए दो साल के समझौते पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने अगस्त, 2009 में क्वीन एंड आरस्कू पार्क रेंजरों के साथ तीन साल के अनुबंध पर भी हस्ताक्षर किया। लेकिन वह नहीं खेल सके, क्योंकि भारत फीफा रेटिंग के शीर्ष 70 में नहीं है।

Check Out: Success Stories in Hindi

सुनील छेत्री वाइफ एवं शादी [Sunil Chhetri Wife]

सुनील छेत्री
Source: Pinterest

सुनील छेत्री की पत्नी का नाम सोनम भट्टाचार्य है जोकि अपना बिज़नस मैनेजमेंट का कोर्स स्कॉटलैंड से पूरा करने के बाद कोलकाता के साल्ट लेक एरिया में अपने 2 होटल चलाती हैं।

  •  सोनम, मोहन बागन के प्रसिद्ध सुब्रोतो भट्टाचार्य की बेटी हैं।
  • सुब्रोतो भट्टाचार्य सुनील छेत्री के मेंटर हैं. जिसके चलते ये एक दूसरे से मिलते रहते थे, और वे कई सालों तक एक दूसरे को डेट करते रहे।
  • फिर सुनील छेत्री ने उनसे शादी करने का फैसला किया, और कई समय पहले से उनकी गर्लफ्रेंड रही सोनम भट्टाचार्य से उन्होंने 4 दिसम्बर, 2017 को कोलकाता में शादी कर ली।
  • सुनील चूकी नेपाली हैं तो वे शादी में घोड़ी पर नेपाली पोशाक पहने दिखाई दिए, जबकि सोनम लाल और गोल्डन रंग की साड़ी में नजर आईं।
  • इनकी शादी बंगाली रीति – रिवाज से संपन्न हुई।

सुनील छेत्री की पसंद

पसंद (Hobbies) म्यूजिक सुनना, क्रिकेट, बैडमिंटन और टेनिस खेलना
पसंदीदा फुटबॉलर (Favourite Footballer) लियोनेल मेसी, डेविड विला
पसंदीदा अभिनेता (Favourite Actor) शाहरुख़ खान
पसंदीदा अभिनेत्री (Favourite Actress) कोंकोना सेन
पसंदीदा क्रिकेटर (Favourite Cricketer) सचिन तेदुंलकर

Check Out: बिल गेट्स की सफलता की कहानी

सुनील छेत्री के रिकॉर्ड और उपलब्धियाँ (Sunil Chhetri Goal Record and Achievements)

सुनील छेत्री
Source: Pinterest

सुनील छेत्री द्वारा किये गए गोल स्कोर का रिकॉर्ड इस प्रकार है –

No. क्लब एवं टीम साल कुल मैच कुल गोल
1 पूर्व बंगाल 2008-09 18 11
2 डेम्पो 2009-10 13 8
3 केंसास सिटी विज़ार्ड 2010 1 0
4 चिराग यूनाइटेड 2011 7 7
5 मोहन बागन 2011-12 16 9
6 स्पोर्टिंग सीपी बी 2012-13 3 0
7 चर्चिल ब्रदर्स (लोन) 2012-13 13 6
8 बेंगलुरु एफसी 2013-14 और
2014-15
58 26
9 मुंबई सिटी 2015 11 7
10 बेंगलुरु एफसी (लोन) 2015-16 25 11
11 बेंगलुरु एफसी 2016-17 और
2017-18
59 33
12 मुंबई सिटी (लोन)
2005 5 1
2006 1 0
2007 7 6
2008 13 8
2009 6 1
2010 6 3
2011 18 14
2012 7 3
2013 11 5
2014 2 3
2016 6 0
13 भारतीय राष्ट्रीय टीम
2015 12 6
2016 4 2
2017 6 5
2018 4 8

Check Out: हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

इसके अलावा इन्होने अपने करियर में क्लब, टीम और अपने खुद के लिए कई सारी उपलब्धियाँ भी हासिल कीं हैं।

No. क्लब, टीम एवं खुद
के लिए
पुरस्कार एवं अवार्ड का
नाम
साल
1 डेम्पो क्लब आई – लीग खिताब 2009-10
2 चर्चिल ब्रदर्स क्लब आई – लीग ख़िताब 2012-13
3 बेंगलुरु एफसी क्लब
इंडियन फेडरेशन कप
एएफसी कप (रनर अप)
सुपर कप
आई – लीग ख़िताब 2013-14, 2015-16
2014-15, 2016-17
2016
2018
4 भारतीय राष्ट्रीय टीम एएफसी चैलेंज कप
एसएएफएफ चैंपियनशिप
नेहरु कप 2007, 2009, 2012 2008
2011, 2016
5 खुद के लिए एआईएफएफ प्लेयर ऑफ़ द ईयर
एफपीएआई भारतीय खिलाड़ी ऑफ़ द ईयर
एएफसी चैलेंज कप सबसे मूल्यवान खिलाड़ी
एसएएफएफ चैंपियनशिप में प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट
आई- लीग के हीरो
इंडियन सुपर लीग के हीरो
इंटरकॉन्टिनेंटल कप के हीरो
अर्जुन अवार्ड 2011, 2007, 2011, 2013, 2014
2009, 2018
2008
2011
2016-17
2017-18
2018

Check Out: Indira Gandhi Biography in Hindi

सुनील छेत्री का क्लब करियर [शुरुवात से अब तक का सफर]  (Sunil Chhetri Club Careers)

सुनील ने अपने करियर में कई क्लबों के लिए खेला, जिसके बारे में यहाँ दर्शाया गया है-

मोहन बागन क्लब

सन 2001-02 के दौरान दिल्ली सिटी एफसी के साथ शुरूआती दिनों में उन्होंने अपना करियर शुरू किया.

  •  लेकिन उनके करियर की वास्तविक यात्रा तब शुरू हुई, जब उन्होंने प्रसिद्ध कोलकाता क्लब मोहन बागन के लिए खेलना शुरू किया।
  • इस क्लब के साथ उनका कार्यकाल ज्यादा अच्छा नहीं रहा, क्योंकि क्लब के साथ 3 साल की अवधि में छेत्री ने 18 मैचों में केवल 8 गोल किये थे।
  • बाद मे इन्होने इस क्लब को छोड़ने का निर्णय लिया, परंतु सीजन 2011-12 में, उन्होंने मोहन – बागन में वापसी की, जहाँ से उन्होंने अपने करियर की यात्रा शुरू की थी, और चोटों से प्रभावित होने के कारण 14 मैचों में 8 गोल ही किये थे।

जेसीटी क्लब

इसके बाद वे वर्ष 2005 में जेसीटी के लिए खेलने चले गए, और 3 साल तक वहाँ रहे. जेसीटी (2005-06) के साथ पहले सीजन में छेत्री ने 3 गोल किये।

  • अगले सीजन (2006-07) में, छेत्री ने टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा गोल स्कोर कर लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।
  • इस सीजन में जेसीटी के लिए उन्होंने 11 गोल किये, जिससे जेसीटी को लीग टेबल में दूसरी पोजीशन प्राप्त करने में मदद मिली।
  •  इसके बाद अपने आखिरी कार्यकाल (2007-08) में, जोकि आई – लीग का पहला सीजन भी था, छेत्री ने 7 गोल किये, जबकि जेसीटी इस टूर्नामेंट में तीसरे स्थान पर रहा।
  • क्लब और देश के लिए उनके इस प्रदर्शन के कारण उन्हें वर्ष 2007 में एआईएफएफ खिलाड़ी के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

वर्ष 2008 में अफवाहों के चलते छेत्री ने इस बात की पुष्टि की कि उन्हें इंग्लिश फुटबॉल लीग के क्लब एवं पुर्तगाल के दूसरे डिवीज़न क्लबों के साथ बातचीत करने के संकेत दिए गये हैं।हालाँकि यह सौदा कभी भी फाइनलाइस्ड नहीं हो पाया।

पूर्व बंगाल क्लब

  • सन 2008-09 में उन्होंने पूर्व बंगाल के लिए खेला।
  •  सितंबर 2008 में चिराग यूनाइटेड के खिलाफ पूर्व बंगाल के लिए उन्होंने अपने गोल के स्कोर की शुरुआत की, जिसमे उन्होंने पूर्व बंगाल को 3-1 से जीत दिलाने में मदद की थी।
  • इस क्लब के लिए वे कुल 14 मैचों में 9 गोल करने में कामयाब रहे।

Check Out: साहस और शौर्य की मिसाल छत्रपति शिवाजी महाराज

डेम्पो क्लब

सन 2009 में छेत्री कॉवेंट्री, इंग्लैंड में एक ट्रायल के लिए गए थे।

  • हालाँकि यह ट्रायल अच्छा नहीं रहा और वे इस मौके को हासिल करने में असमर्थ रहे।
  •  उसी साल, छेत्री ने डेम्पो क्लब के लिए 2 साल के कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किये, जिसने उन्हें परिक्षण के लिए विदेश जाने की अनुमति दी।
  • इस क्लब के लिए छेत्री ने 13 मैचों में 8 गोल किये।
  • अगस्त 2009 में यह पता चला कि छेत्री ने क्वीन्स पार्क रेंजर – फुटबॉल लीग चैंपियनशिप में एक क्लब के साथ 3 साल के कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किये हैं।
  • लेकिन भारत के फीफा वर्ल्ड रैंकिंग के टॉप 70 में नहीं होने के कारण ब्रिटिश सरकार ने छेत्री को वर्क परमिट से हटा दिया था।

केंसास सिटी विज़ार्ड

मार्च 2010 में छेत्री ने केंसास सिटी विज़ार्ड्स के लिए हस्ताक्षर किये, और इससे वे मेजर लीग सॉकर (MLS) के लिए खेलने वाले पहले भारतीय बने।

हालाँकि उन्हें टीम के लिए अधिकारिक रूप से शामिल होने का मौका नहीं मिला. इसके बाद छेत्री को एआईएफएफ ने बुलाया, जिन्होंने उन्हें सन 2011 एएफसी एशियाई में भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए तैयारी और प्रतिस्पर्धा करने के लिए कहा और साथ ही उनकी आय का ख्याल रखने का भी वादा किया।

चिराग यूनाइटेड

सन 2011 में, चिराग यूनाइटेड ने 2010-11 आई-लीग सीजन के लिए सुनील छेत्री को साइन किया. इसमें उन्होंने कुल 7 मैचों में 7 गोल किये।

स्पोर्टिंग क्लब डे पुर्तगाल ‘बी’

जुलाई 2012 में, छेत्री ने स्पोर्टिंग क्लब डे पुर्तगाल ‘बी’ टीम के साथ 1 साल के कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर किये, और टीम के साथ खेला।

बेंगलुरु एफसी क्लब

जुलाई 2013 में छेत्री ने इस क्लब से छूटने के बाद बेंगलुरु एफसी के एक और आई – लीग साइड के साथ हस्ताक्षर किये. बेंगलुरु एएफसी के लिए उन्होंने 23 मैचों में 14 गोल किये और 7 सहायताएँ उनके नाम हुई।

  • इस प्रकार इनके शुरूआती सीजन में बेंगलुरु एफसी को पहला आई – लीग ख़िताब हासिल हुआ।
  • छेत्री ने सन 2014 में, डूरंड कप में बेंगलुरु एफसी के लिए खेलना शुरू किया, लेकिन सल्गाकार के खिलाफ सेमीफाइनल में उन्होंने डेसीसिव पेनल्टी गवां दी।
  •  इसके बाद उन्होंने 2014-15 फेडरेशन कप जीतने में बेंगलुरु एफसी के लिए अपना बड़े पैमाने पर योगदान दिया।

मुंबई सिटी क्लब

सन 2015 में, छेत्री को मुंबई सिटी द्वारा 1.2 करोड़ रूपये में खरीदा गया, जिससे नीलामी में वे सबसे मँहगे भारतीय खिलाड़ी बन गए।

  • नार्थईस्ट यूनाइटेड के साथ अपने चौथे मैच में छेत्री ने हैट-ट्रिक स्कोर करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बनकर रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज करा लिया।
  •  आई – लीग के 2015-16 सीजन में, छेत्री को बेंगलुरु एफसी द्वारा लोन दिया गया था, और उन्होंने फिर से 5 गोल का स्कोर करके ख़िताब जीतने के लिए टीम का मार्ग खोल दिया था।
  • जून 2016 में, बेंगलुरु एफसी ने यह घोषणा की कि छेत्री ने उनके क्लब के लिए 1 साल के कॉन्ट्रैक्ट पर साइन किये हैं, और इस प्रकार मुंबई सिटी से यह स्वामित्व वापस ले लिया गया।

सुनील छेत्री नेट वर्थ (Net Worth)

सुनील छेत्री की सालाना कमाई है 2 करोड़ रुपये है। वहीं अगर क्रिस्टियानो रोनाल्डो की सालाना कमाई की बात करे तो यह 6 अरब रुपये के करीब है। लियोनेल मेसी करीब 5 अरब रुपये सालाना कमाते हैं तो नेमार की सालाना कमाई 3 अरब रुपये के करीब है।

सुनील छेत्री के बारे में Unknown Facts

  • छेत्री का जन्म तेलंगाना के सिकंदराबाद में हुआ। उनके पैरेंट्‍स का नाम खरगा और सुशीला है।
  • सुनील ने गंगटोक, दार्जिलिंग, कोलकाता और दिल्ली के स्कूलों में पढ़ाई की।
  • उन्होंने 2002 में मोहन बागान के साथ अनुबंध कर प्रोफेशनल फुटबॉल करियर की शुरुआत की।
  • उन्हें पिछले दिनों इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) की नीलामी में मुंबई सिटी एफसी ने 1 करोड़ रुपए से अधिक राशि पर अनुबंधित किया।
  • मोहम्मद सलीम और बाइचुंग भूटिया के बाद छेत्री विदेशी क्लब से जुड़ने वाले तीसरे भारतीय फुटबॉलर बने, जब 2010 में उन्होंने कनसास सिटी विजार्ड्‍स ने अनुबंधित किया।
  • वे एशियन कप मे इंद्र सिंह के बाद एक से ज्यादा मैचों में गोल करने वाले दूसरे भारतीय फुटबॉलर बने।
  • वे भारत की तरफ से अंतरराष्ट्रीय मैचों में सबसे ज्यादा गोल दागने वाले खिलाड़ी हैं। वे 50 अंतरराष्ट्रीय गोल दागने वाले देश के पहले फुटबॉलर बने। उन्होंने जून में गुआम के खिलाफ यह कारनामा किया था।
  • उन्होंने भारत को 2007, 2009 और 2012 में नेहरू कप तथा 2011 में सैफ चैंपियनशिप का खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई।
  • उनकी पसंदीदा फुटबॉल टीम ‘बार्सिलोना’ हैं।
  • बॉलीवुड में उनकी पसंदीदा अभिनेत्री कोंकणा सेन शर्मा हैं।
Source – SpoCombat

आशा करते हैं कि आपको सुनील छेत्री  का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी सुनील छेत्री का  लाभ उठा सकें और  उसकी जानकारी प्राप्त कर सके । हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी प्रकार के सवाल में दिक्कत हो रही हो तो हमारी विशेषज्ञ आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

Harivansh Rai Bachchan
Read More

हरिवंश राय बच्चन: जीवन शैली, साहित्यिक योगदान, प्रमुख रचनाएँ

हरिवंश राय बच्चन भारतीय कवि थे जो 20 वी सदी में भारत के सर्वाधिक प्रशिक्षित हिंदी भाषी कवियों…
Success Story in Hindi
Read More

Success Stories in Hindi

जीवन में सफलता पाना हर एक व्यक्ति की प्राथमिकता होती है, मनुष्य का सपना होता है कि वह…