वाच्य (Vachya) क्या होते हैं

Rating:
4.1
(24)
Vachya

वाच्य से यह पता चलता है कि वाक्य में कर्ता , कर्म और भाव में से किसकी प्रधानता है।इससे यह स्पष्ट होता है कि वाक्य में प्रयुक्त क्रिया के लिंग, वचन तथा पुरुष कर्ता , कर्म या भाव में से किसके अनुसार है। वाच्य- वाच्य का अर्थ है ‘बोलने का विषय।’दूसरे शब्दों में क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात हो कि उसके प्रयोग का आधार कर्ता, कर्म या भाव है, उसे वाच्य कहते हैं।वाणी या कथन,,, यहॉं वाणी का अर्थ— वक्ता की वाणी या वक्ता का कथन है। तो आइए जानते हैं Vachya के बारे में Leverage Edu के साथ।

जरूर पढ़े हिंदी व्याकरण – Leverage Edu के साथ संपूर्ण हिंदी व्याकरण सीखें

वाच्य की परिभाषा (Vachya ki Pribhasha)

वाच्य क्रिया के उस रूपान्तर को कहते हैं, जिससे कर्ता , कर्म और भाव के अनुसार क्रिया के परिवर्तन ज्ञात होते हैं। क्रिया के जिस रूप से यह जाना जाए कि वाक्य में क्रिया का मुख्य सम्बन्ध कर्ता, कर्म या भाव से है, वह वाच्य कहलाता है  |

जरूर पढ़ें पत्र लेखन उदाहरण कक्षा 6, 7, 8, 9 और 10 के लिए

वाच्य का अर्थ(Meaning of Voice)

वाच्य का अर्थ  है— वाणी या कथन,,, यहॉं वाणी का अर्थ— वक्ता की वाणी या वक्ता का कथन है। वस्तुत: वाच्य किसी एक बात को थोडे से अर्थ के अंतर के साथ कहने का तरीका है। इस तरह कहे गए वाक्यों कथनों की सरंचना भिन्न हो जाती है। उदहारण के लिए

  1. मॉं ने खाना बनाया
  2. मॉं के द्वारा  खाना बनाया गया।

यद्यपि दोनो वाक्यों का अर्थ समान्य तो लग ही रहा है किंतु दोनों के अर्थ में सूक्ष्म अंतर है। दोनों की सरंचना भी भिन्न है।  कर्ता द्वारा मॉं के कार्य खाना बनाना  को प्रधानता दी गई है।
वाक्य 2—- में कर्ता के कार्य को नकारने या निरस्त  करने का  कार्य किया गया है, कार्य को निरस्त करने का अर्थ है,
वाक्य 1—- में कर्ता क्रिया को करने में सक्रिय रूप से भाग लेता है।  है। , वही वाक्य 2 में  उसकी भूमिका निष्क्रिय हो जाती ​है।

जरूर पढ़ें Kaal in Hindi (काल)

वाच्य के भेद – Vachya ke Bhed

  1. कर्तृवाच्य
  2. कर्मवाच्य
  3. भाववाच्य

1. कर्तृवाच्य

जिस वाक्य में कर्ता मुख्य हो और क्रिया कर्ता के लिंग, वचन एवं पुरूष के अनुसार हो, उसे कर्तृवाच्य कहते है। जैसे –

a) लड़किया बाजार जा रही है।
b) मै रामायण पढ़ रही है।
c) कुमकुम खाना खाकर सो गई।

इन वाक्यों में जा रही है, पढ़ रहा हूँ, सो गई ये सभी क्रियाएं कर्ता के अनुसार आई है।

2. कर्मवाच्य

जिस वाक्य में कर्म मुख्य हो तथा इसकी सकर्मक क्रिया के लिंग, वचन व पुरूष कर्म के अनुसार हो, उसे कर्मवाच्य कहते हैं। जैसे –

a) लड़कियों द्वारा बाजार जाया जा रहा है।
b) मेरे द्वारा रामायण पढ़ी जा रही है।
c) वर्षा से पुस्तक पढ़ी गई।

इन वाक्यों में पढ़ी जा रहीं है, पढी गई क्रियाएं कर्म के लिंग, वचन, पुरूष के अनुसार आई है।

3. भाववाच्य

जिस वाक्य में अकर्मक क्रिया का भाव मुख्य हो, उसे भाववाच्य कहते हैं | जैसे –

a) हमसे वहाँ नहीं ठहरा जाता।
b) उससे आगे क्यों नहीं पढ़ा जाता। ‘
c) मुझसे शोर में नहीं सोया जाता।

इन वाक्यों में ठहरा जाता, पढ़ा जाता और सोया जाता क्रियाएं भाववाच्य की है।

Check out: 150 Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द)

कर्तृवाच्य: से कर्मवाच्य:

कर्तृवाच्य:

1. लड़किया बाजार जा रही है।
2. मैं रामायण पढ़ रहा हूँ।
3. ममता ने रामायण पढ़ी।
4. लता गाना गाएगी।
5. धर्मवीर वेद पढ़ेगा।
6. तुम फूल तोड़ोगे।
7. नौकर चाय लाएगा।

कर्मवाच्य:

1. लड़कियों द्वारा बाजार जाया जा रहा है।
2. मेरे द्वारा रामायण पढ़ी जा रही है।
3. ममता से रामायण पढ़ी गई।
4. लता से गाना गाया जाएगा।
5. धर्मवीर से वेद पढ़ा जाएगा।
6. तुमसे फूल तोड़े जाएंगे।
7. नौकर द्वारा चाय लाई जाएगी।

Check out: Anuswar in Hindi

Vachya : कर्तृवाच्य: से भाववाच्य:

कर्तृवाच्य:

1. राम तेज दौड़ता है।
2. मैं सर्दियों में नहीं नहाता।
3. आशा नहीं हँसती।
4. बच्चा खूब सोया।
5. रमा नहीं पढ़ती।
6. मैं हँसता हूँ।
7. मोर ऊँचा नहीं उड़ता।

भाववाच्य:

1. राम से तेज दौड़ा जाता है।
2. मुझसे सर्दियों में नहीं नहाया जाता।
3. आशा से नहीं हँसा जाता।
4. बच्चे से खूब सोया गया।
5. रमा से पढ़ा नहीं जाता।
6. मुझसे हँसा जाता है।
7. मोर से ऊँचा नहीं उड़ा जाता ।

Check out :Sarvanam in Hindi (सर्वनाम)

Vachya : कर्मवाच्य और भाव वाच्य में अंतर

कर्मवाच्य तथा भाववाच्य दोनों ही अकर्तृवाच्य के भेद है। दोनो में अंतर केवल इस बात को लेकर है कि कर्मवाच्य वाले वाक्य में सकर्मक क्रिया का प्रयोग होता है। भाववाच्य वाले वाक्यों में  अकर्मक क्रिया का प्रयोग होता है।

Vachya : कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य (Active to Passive)

कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य में रूपान्तरण के लिए हमें निम्नलिखित कार्य करने चाहिए-

  • कर्तृवाच्य के साथ लगी विभक्ति हटा दी जाती है और  कर्त्ता कारक में करण कारक के चिह्न ‘से’या केद्वारा’ का प्रयोग करना चाहिए।
  •  कर्तृवाच्य की मुख्य क्रिया को समान्य भूतकाल की क्रिया में बदला जाता है। और जाना क्रिया के उचित रूप का प्रयोग किया जाता है।
  • कर्म के साथ कोई परसर्ग हो तो उसे हटा दिया जाता है।
  •  कर्म को चिह्न-रहित करना चाहिए।
  •  क्रिया को कर्म के लिंग-वचन-पुरुष के अनुसार रखना चाहिए अर्थात कर्म प्रधान बनाना चाहिए।

कर्मवाच्य से कर्तृवाच्य बनाना

  • कर्मवाच्य से कर्तृवाच्य में परिवर्तन के लिए निम्न बातों पर ध्यान देना चाहिए-
  • भूतकाल की सकर्मक क्रिया रहने पर कर्म के लिंग, वचन के अनुसार क्रिया को रखना चाहिए।
  • कर्त्ता के अपने चिह्न (०, ने) आवश्यकतानुसार लगाना चाहिए।
  • यदि वाक्य की क्रिया वर्तमान एवं भविष्यत् की है तो कर्तानुसार क्रिया की रूप रचना रखनी चाहिए।

Check out :उपसर्ग और प्रत्यय

Vachya: कर्तृवाच्य से भाववाच्य (Active voice to Impersonal Voice)

कर्तृवाच्य से भाववाच्य  निम्नलिखित बिंदुंओ के आधार पर बनते है।

  • क्रिया के साथ से विभक्ति चिह्न लगाया जाता हें
  • क्रिया को सामान्य भूत काल में लाकर उसके साथ काल के अनुसार ‘जाना’ क्रिया रूप जोड़ा जाता है
  • कर्त्ता के साथ से/द्वारा चिह्न लगाकर उसे गौण किया जाता है।
  • मुख्य क्रिया को सामान्य क्रिया एवं अन्य पुरुष पुल्लिंग एकवचन में स्वतंत्र रूप में रखा जाता है।
  • भाववाच्य में प्रायः अकर्मक क्रियाओं का ही है।
  • क्रिया को एकवचन, पुल्लिंग और अन्य पुरुष में परिवर्तित कर दिया जाता है
  • हिंदी में निषेधात्मक अधिंकाश्त: भाववाच्य  का ही प्रचलन है। अन्य भाववाच्य प्रचलन के ही बराबर है।

Check out : कहानी लेखन

Vachya के महत्त्वपूर्ण MCQ

1. ’’मैं यह भाषा नहीं पढ़ सकूँगा।’’ इस वाक्य को ’कर्मवाच्य’ में बदलें ?
(अ) मेरे द्वारा यह भाषा नहीं पढ़ी जा सकती
(ब) मुझसे यह भाषा नहीं पढ़ी जा सकेगी 
(स) इस भाषा को मेरे द्वारा पढ़ पाना मुश्किल है
(द) मैं यह भाषा नहीं पढूंगा

उत्तर: (ब) मुझसे यह भाषा नहीं पढ़ी जा सकेगी 

2. निम्नलिखित वाक्य का वाच्य बताइए –
’भगवान हमारी रक्षा करते हैं।’
(अ) कर्मवाच्य    
 (ब) भाववाच्य
(स) कर्तृवाच्य 
(द) उपर्युक्त सभी

उत्तर: (स) कर्तृवाच्य 

3. ’’क्या तुमने खाना खा लिया है ?’’ इस वाक्य को ’कर्मवाच्य’ में बदलें ?
(अ) क्या तुम्हारे द्वारा खाना खा लिया गया है ? 
(ब) क्या तुमसे खाना खाया जाता है ?
(स) खाने को तुमने खा लिया क्या ?
(द) क्या तुमने खाना खाया ?

उत्तर: (अ) क्या तुम्हारे द्वारा खाना खा लिया गया है ? 

4. निम्नलिखित वाक्य का वाच्य बताइए –
’नानी के द्वारा कहानी सुनाई गई।’
(अ) कर्तृवाच्य 
(ब) कर्मवाच्य 
(स) भाववाच्य 
(द) अन्य

उत्तर: (ब) कर्मवाच्य 

5. ’’गायिका द्वारा गीत गाया जा रहा है ?’’ इस वाक्य को ’कर्तृवाच्य’ में बदलें ?
(अ) गीत को गायिका द्वारा गाया जा रहा है
(ब) गायिका ने गीत गाया
(स) गायिका से गीत गाया जाता है
(द) गायिका गीत गा रही है 

उत्तर: (द) गायिका गीत गा रही है 

6. निम्न वाक्य का वाच्य बताइए –
’अब मुझसे चला नहीं जाता।’
(अ) भाववाच्य 
(ब) कर्तृवाच्य
(स) कर्मवाच्य 
(द) अन्य

उत्तर: (अ) भाववाच्य 

7. ’’पक्षी से उङा गया।’’ इस वाक्य को ’कर्तृवाच्य’ में बदलें ?
(अ) पक्षी के द्वारा उङा जाता है
(ब) पक्षी उङ रहा है
(स) पक्षी उङा
(द) उङने का कार्य पक्षी द्वारा किया जाता है

उत्तर: (ब) पक्षी उङ रहा है

8. निम्नलिखित वाक्य को कर्तृवाच्य में बदलिए-
पुलिस के द्वारा डाकू पकङा गया।
(अ) पुलिस से डाकू पकङा गया
(ब) पुलिस को डाकू ने पकङा
(स) पुलिस ने पकङा डाकू को
(द) पुलिस ने डाकू को पकङा 

उत्तर: (द) पुलिस ने डाकू को पकङा 

9. ’’रमेश के द्वारा सब्जी खरीदी जा रही थी।’’ इस वाक्य को ’कर्तृवाच्य’ में बदलें ?
(अ) रमेश सब्जी खरीद रहा था 
(ब) रमेश ने सब्जी खरीदी
(स) सब्जी रमेश के द्वारा खरीदी गई
(द) रमेश सब्जी खरीद रहा है

उत्तर: (अ) रमेश सब्जी खरीद रहा था 

10. निम्नलिखित वाक्य को भाववाच्य में बदलिए –
’मैं अब चल नहीं सकता।’
(अ) मुझसे अब नहीं चला जाता 
(ब) अब मैं और नहीं चल सकता
(स) मैं नहीं चल सकता
(द) मेरे से चला नहीं जाता

उत्तर: (अ) मुझसे अब नहीं चला जाता 

11. भाववाच्य वाला वाक्य इनमें से कौनसा है ?
(अ) मालती खाना खाती है
(ब) रमेश खाना खा सकता है
(स) हिमेश से दौङा नहीं जाता 
(द) रक्षा दौङ नहीं सकती

उत्तर: (स) हिमेश से दौङा नहीं जाता

12. निम्नलिखित वाक्य का वाच्य बताइए-
’पक्षी आकाश में उङते हैं।’
(अ) कर्तृवाच्य 
(ब) कर्मवाच्य
(स) भाववाच्य 
(द) उपर्युक्त में से कोई नहीं

उत्तर: (अ) कर्तृवाच्य

13. कर्मवाच्य का उदाहरण वाक्य है –
(अ) राम खाना खाता है
(ब) धावकों से दौङा नहीं गया
(स) किसानों द्वारा फसल काट ली गई है 
(द) बच्चे घर जा रहे हैं

उत्तर: (स) किसानों द्वारा फसल काट ली गई है 

14. ’अध्यापक ने कक्षा में गणित की परीक्षा ली’ वाक्य है-
(अ) कर्मवाच्य 
(ब) कर्तृवाच्य 
(स) भाववाच्य 
(द) उपर्युक्त में से कोई नहीं

उत्तर: (ब) कर्तृवाच्य

15. कर्तृवाच्य का प्रयोग नहीं हुआ है ?
(अ) महेश स्कूल से आ रहा है
(ब) अखबार पढ़े जाते हैं 
(स) माली बगीचे में फूल तोङ रहा है
(द) कुत्ता सारी रात भौंकता रहा

उत्तर: (ब) अखबार पढ़े जाते हैं

16. ’मोहन से पढ़ा नहीं जाता है’ वाक्य है-
(अ) भाववाच्य 
(ब) कर्तृवाच्य
(स) कर्मवाच्य 
(द) उपर्युक्त में से कोई नहीं

उत्तर: (अ) भाववाच्य 

17. ’पुस्तक पढ़ी जाती है।’ में प्रयुक्त वाच्य का चयन करें –
(अ) भाव वाच्य 
(ब) कर्मवाच्य 
(स) कर्तृवाच्य 
(द) कोई नहीं

उत्तर: (ब) कर्मवाच्य

18. इनमें से किस वाक्य में ’कर्मवाच्य’ है ?
(अ) चिट्ठी भेजी गई 
(ब) लङका पुस्तक पढ़ता है
(स) श्याम चिट्ठी लिखेगा
(द) लङका दौङ रहा था

उत्तर: (अ) चिट्ठी भेजी गई 

19. ’स्वामी विवेकानंद ने सभा में उपदेश दिया’ यह किस प्रकार का वाच्य है ?
(अ) कर्मवाच्य 
(ब) भाववाच्य
(स) कर्तृवाच्य 
 (द) इनमें से कोई नहीं

उत्तर: (स) कर्तृवाच्य 

20. इनमें से कौनसा वाक्य कर्तृवाच्य में नहीं है ?
(अ) वह बाजार जा रहा है
(ब) बालक खेल रहा है
(स) मुझसे अब चला नहीं जाता
(द) मैं पुस्तक पढ़ रहा हूं

उत्तर: (स) मुझसे अब चला नहीं जाता

Source: Magnet Brains

आशा करते हैं कि आपको Vachya का ब्लॉग अच्छा लगा होगा। जितना हो सके अपने दोस्तों और बाकी सब को शेयर करें ताकि वह भी Vachya का  लाभ उठा सकें और  उसकी जानकारी प्राप्त कर सके । हमारे Leverage Edu में आपको ऐसे कई प्रकार के ब्लॉग मिलेंगे जहां आप अलग-अलग विषय की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।अगर आपको किसी भी प्रकार के सवाल में दिक्कत हो रही हो तो हमारी विशेषज्ञ आपकी सहायता भी करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

हिन्दी साहित्य के लेखक
Read More

जानिए हिन्दी साहित्य के रत्न कहे जाने वाली इन हस्तियों को

हिंदी साहित्य काव्यांश तथा गद्यांशओं का सोने का पिटारा है । जैसे आभूषण के बिना स्त्री अधूरी होती…
Kabir ke Dohe in Hindi
Read More

Kabir Ke Dohe in Hindi

“बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय । जो मन देखा आपना, मुझ से बुरा न…