DM कैसे बनें?

Rating:
3.7
(18)
DM Kaise Bane

हर इंसान का सपना होता है कि वो आगे चल कर अच्छा और सफल हो , कोई आगे चलकर इंजीनियर बनना चाहता है। कोई शिक्षक बनकर समाज को बेहतर बनाने का काम करता है। कोई पुलिस में भर्ती होकर देश की सेवा करना चाहता है। इसी तरह किसी का सपना होता है कि वो प्रशासनिक सेवाओं(UPSC)को पास करके डी एम बनकर देश की सेवा करें। डीएम  जिसे अंग्रेजी में  कहा जाता है। ये बहुत प्रतिष्ठ पद होता है।  अगर आप डीएम यानि डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट बनाने का सपना देख रहे है तो ये ब्लॉग आपके लिए काफी मददगार साबित होगा। इसमें आज आपको बतायेगे की DM Kya Hota Hai, DM Kaise Bane, डीएम बनने के लिए योग्यता,डीएम बनने के लिए आयु,डीएम की चयन प्रक्रिया, डीएम परीक्षा पैटर्न, डीएम की तैयारी कैसे करें, डीएम के कार्य क्या है , इन सबके बारे में सम्पूर्ण जानकारी आपको देंगे।    

Check Out: BA Hindi

DM क्या होता है

हर कोई जानना चाहता है की DM Kya Hota Hai . डीएम यानी जिला मजिस्ट्रेट या कलेक्टर जिसे जिला अधिकारी या जिले का मुखिया (जिले का मुख्य अधिकारी) या नाम से भी कहा जाता है। जिला मजिस्ट्रेट या कलेक्टर एक जिले के मुख्य कार्यकारी होते हैं। वह ज़िले के प्रशासन को सुचारू रूप से चलाने के लिए ज़िम्मेदार है। जिला प्रशासन अधिकारी अपने  जिले में कानून व्यवस्था बनाये रखना और आपराधिक मामलो में कमी लाने के साथ वो इन मामलो की सुनवाई भी करते है और अपने जिले के वार्षिक अपराध का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हैं। थाना तथा जेलों का निरंतर निरीक्षण करते हैं ताकि वहां के समस्याओं को हल कर सके और सुनिश्चित करें  की वहां सब सही ढंग से हो रहा है  ।जिले में हो रहे सभी मामलों को मंडलायुक्त यानी Divisional कमिश्नर को बताना ताकि मंडल आयुक्त जिले के सारे मामले से परिचित हो सकें।

Full Form

DM की फुल फॉर्म District Magistrate होती है जिसे हिंदी में जिला अधिकारी कहते है। 

डीएम के कार्य

जिला मजिस्ट्रेट के प्रमुख कार्य जो नीचे दिए गए हैं-

  • भूमि मूल्यांकन
  • भूमि अधिग्रहण
  • कृषि ऋण का वितरण
  • बकाया आयकर, उत्पाद शुल्क, सिंचाई बकाया को वसूलना
  • बाढ़, सूखा और महामारी जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय आपदा प्रबंधन
  • बाहरी आक्रमण और दंगों के समय संकट प्रबंधन
  • जिला बैंकर समन्वय समिति का अध्यक्षता
  • जिला योजना केंद्र की अध्यक्षता
  • भूमि राजस्व का संग्रहण, भूमि रिकार्डों का रख-रखाव, भूमि सुधार व जोतों का एकीकरण

डीएम बनने के लिए कितनी हाइट चाहिए

जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए आपकी हाइट कम से कम 5 फीट 6 इंच होनी चाहिए। 

डीएम परीक्षा फॉर्म कैसे भरें

  • Step 1: सबसे पहले यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट www.upsc.gov.in पर जाएं। 
  • Step 2: विभिन्न परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन पर क्लिक करें। 
  • Step 3: अब अगला कदम सेवा सिविल सेवा परीक्षा-प्रारंभिक परीक्षा में जाना है। 
  • Step 4 : आईएएस भाग 1 के साथ पंजीकरण शुरू करें। 
  • Step 5: अपने सभी व्यक्तिगत विवरण भरें। 
  • Step 6: फॉर्म शुल्क 100/- रुपये है।
  • Step 7: अपनी सुविधानुसार परीक्षा केंद्र चुनें। 
  • Step 8: अपने पासपोर्ट आकार के फोटोग्राफ, हस्ताक्षर और पहचान पत्र के साथ विशेष रूप से सावधान रहें। 
  • स्टेप 9: डिक्लेरेशन को उस पर क्लिक करके स्वीकार करें। 
  • Step 10: एक बार विवरण दोबारा जांचें और सबमिट बटन पर क्लिक करें। 
  • Step 11: भविष्य के संदर्भ के लिए इस प्रिंटआउट को अपने पास रखें।

डीएम बनने के लिए कौन सी किताब पढ़े? 

डीएम बनने के लिए आप सामान्य ज्ञान,करंट अफेयर, लोक प्रशासन,समाजशास्त्र, अंग्रेजी आदि की किताबें अवश्य पढ़नी चाहिए। हम यह भी कह सकते हैं कि यदि हमारे पास डीएम बनने के लिए कोई किताब नहीं है तो हम IAS की किताब भी पढ़ सकते हैं। क्योंकि आईएएस और डीएम का लगभग लगभग एक जैसा ही होता है।

Tips

डीएम बनने के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स नीचे दी गई हैं जो आप के डीएम बनने के सफर में आपकी मदद करेंगी-

  • सबसे पहले एग्जाम की पूरी जानकारी होना जरूरी है।
  • एग्जाम में आने वाले सिलेबस को समझे ।
  • रणनीति और अध्ययन की सामग्री को इकट्ठा करें।
  • एकाग्रता के साथ पढ़ाई करें।
  • पढ़ाई के साथ ही साथ लेखन करना भी जरूरी है। 
  • बार-बार मोक टेस्ट दें। 
  • रोज़ाना न्यूज़ पेपर और मैगज़ीन पढ़े। 

Syllabus for the Preliminary Exam

पेपर 1 भारतीय इतिहाससामान्य विज्ञानभारतीय राजनीतिवर्तमान घटनाएँसामान्य मुद्देभारतीय भूगोलविश्व भूगोलसामाजिक विकासआर्थिक विकास
पेपर 2 संचार कौशलअंतर्वैयक्तिक कौशलअंग्रेजी कौशलअंग्रेजी समझभाषा कौशल जो उम्मीदवार द्वारा चुना जाता हैनिर्णय लेने का कौशलसमस्या सुलझाने की क्षमतामानसिक क्षमताबुनियादी संख्या

Syllabus for Mains Exam

Paper Syllabus Marks Duration
निबंध किसी भी विषय पर निबंध 250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 1 भारतीय विरासत, संस्कृति,भूगोल 250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 2 संविधान, शासन,सामाजिक न्याय 250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 3 प्रौद्योगिकी, पर्यावरण,आपदा प्रबंधन 250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 4 नैतिकता, अखंडताऔर योग्यता 250 3 घंटे
Optional Subjects 1 कोई 250 3 घंटे
Optional Subjects 2 कोई 250 3 घंटे
पेपर 1 भारतीय भाषा( भाषा में से कोई भी) 300 3 घंटे
पेपर 2 अंग्रेजी भाषा 300 3 घंटे

Optional Subjects

  • Law
  • Physics
  • Statistics
  • Philosophy
  • Zoology
  • Sociology
  • Public Administration
  • Political Science
  • Medical Science
  • Management
  • Mechanical Engineering
  • Civil Engineering
  • Electrical Engineering
  • Economics
  • History
  • Geography
  • Mathematics
  • Geology
  • Commerce
  • Agriculture
  • Animal Husbandry
  • Chemistry
  • Botany
  • Anthropology

Check Out: 2021 में कैसे करें आईएएस की तैयारी? सीखें खुद IAS टॉपर्स से

DM Kaise Bane: डीएम बनने के लिए योग्यता

किसी भी अभ्यार्थी को सिविल सर्विस एग्जाम या फिर UPSC के exam के लिए apply करने के लिए कुछ योग्यता होनी चाहिए. जिनके बारे में नीचे बता रहे है। न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता यह है कि अभ्यार्थी के पास कम से कम बेचलर की डिग्री होनी चाहिए। यदि कोई अभ्यार्थी MBBS या किसी दूसरे मेडिकल एग्जाम को पास कर लिया है लेकिन internship पूरा करना बाकी है तो वो इस परीक्षा को दे सकते हैं। जिस यूनिवर्सिटी से फाइनल मेडिकल एग्जाम पास किया है, उसका certificate दिखाना होगा।

उम्र सीमा  (Age Limit for District Magistrate)

हर वर्ग के लिये अलग अलग आयु सीमा निर्धारित है अगर आप सामान्य वर्ग(General Category) से है तो आपकी age 21 वर्ष से 30 वर्ष होनी चाहये और OBC वर्ग के लिये यहाँ पर 3 साल की छूट के साथ ये आयु सीमा 21 वर्ष से 33 वर्ष रखी गयी है और SC और ST के लिए 5 वर्ष की छुट दी जाती है जिससे SC और ST वर्ग के लिए 21 से लेकर 35 वर्ष तक होता है।

राष्ट्रीयता

  • IAS बनने के लिए अभ्यार्थी इंडिया ,नेपाल या फिर भूटान का होना चाहिए.
    अभ्यार्थी Tibetan Refugee होना चाहिए जिनका पिता या पूर्वज 1 जनवरी 1962 से भारत मे स्थाई रूप से सेटल होने के लिए आये थे।
  • यदि कोई व्यक्ति इथोपिया , केन्या , मलावी , म्यांमार, पाकिस्तान , श्रीलंका , तंज़ानिया , यूगांडा , वियतनाम , ज़ैरे , या ज़ाम्बिया  का नागरिक है और वो इंडिया स्थायी रूप से सेटल होने के इरादे से आये है तो वो IAS बन सकता है।

डीएम बनने के लिए छात्र कितनी बार परीक्षा को दे सकते हैं?

  • सामान्य वर्ग (General Category) के विद्यार्थी इस परीक्षा को 6 बार दे सकते हैं।
  • ओबीसी वर्ग(OBC Category) के विद्यार्थी परीक्षा 9 बार दे सकते है। 
  • ST/SC यानी की अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थी अपने आयु सीमा तक कई बार इस परीक्षा को दे सकते हैं यानी उनके लिए परीक्षा देने की कोई लिमिट नहीं है।
  • विकलांग विद्यार्थियों के लिए भी परीक्षा देने की कोई लिमिट नहीं है।

Check Out: ये हैं भारत की मुख्य नदियाँ

DM Kaise Bane

DM Kaise Bane यह सवाल  हम सभी के मन एक बार जरूर आता है। अब आप डीएम बनने की एलिजिबिलिटी के बारे में समझ गए होंगे. चलिए अब हम जानते हैं कि डीएम बनने के क्या क्या प्रोसीजर है. चलिए इनके बारे में इनके बारे में हम step by step जानते हैं। तो चलिए एक-एक करके इन सभी बातों को हम जान लेते हैं

  • आपको जिस विषय में पढ़ने में ज्यादा रूचि  है वो ही विषय चुने।अगर आपको जीवविज्ञान में मजा आता है तो आप science stream से जीवविज्ञान भी रख सकते हो. इसी तरह आप Arts या फिर Commerce subject से भी इस परीक्षा को दे सकते हो।
  • स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करे :
    12th परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद आपका अगला स्टेप होता है, स्नातक स्तर की पढ़ाई करना। आप IAS बनने के लिए किसी भी स्ट्रीम से स्नातक स्तर की पढ़ाई  पूरी कर सकते है। इसके लिए भी कोई फिक्स सब्जेक्ट नही है।बेहतर होगा कि आप यहाँ पर भी अपने मन से किसी भी विषय का चुनाव कीजिय। आपको जिस विषय  में पढ़ने में अच्छा लगता है उसी से स्नातक स्तर की पढ़ाई कीजिये.।
  • Preliminary (Prelims) की परीक्षा पास करें- 

ग्रेजुएट करने के बाद अब आपका अखिल भारतीय सेवाओं की असली तैयारी शुरू होता है. अखिल भारतीय सेवा परीक्षा को पास  करने के लिए तीन परीक्षाएं को पास करना होता है । जिनमे से पहला है प्रीलिम्स का एग्जाम, दूसरा The Main exam और फिर तीसरा आपका Interview होगा।प्रीलिम्स की एग्जाम में दो पेपर होते हैं। हर एक पेपर के लिए 200 marks होते है। इन दोनों पेपर्स में objective type questions होते हैं यानी हर एक प्रश्न के लिए आपको चार विकल्प दिए होते हैं। उनमें से किसी एक सही उत्तर को चुनना होता है।इसमे negative marking भी होती है, गलत जवाब होने पर 0.33 अंक काटे जाते है।Question paper हिंदी औरअंग्रेजी भाषाओं में आता ह।  इस एग्जाम को देने के लिए 2 घंटे का समय होता है लेकिन Disability candidate को 20मिनटअधिक दिए जाते है।  

इस परीक्षा मे उपस्थित होने से पहले अभ्यार्थी को पहले प्रीलिम्स की परीक्षा  पास करनी  होता  है  ।  प्रीलिम्स की परीक्षा पास करने के बाद अब  अगला लक्ष्य है Main exam को पास करना। इसमे आपको कठिन परिश्रम करना होता  है ।इसका सिलेबस थोड़ा बड़ा  होता है  और इसमें लगातार बदलाव होते रहते है।  इस परीक्षा के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ती है, क्योकि इसमे आपको कुल 9 पेपर देने होते है।   जिसमें लिखित और मौखित दोनों ही शामिल है।इस परीक्षा का सिलेबस समय -समय पर बदलते रहता है, इसलिए आप इसके सिलेबस के बारे में  ऑफिसियल साइट से जानकारी ले सकते है। 

  • अब Interview निकालें:

Mains exam को पास करने के बाद अब आपका अंतिम चरण होता है इंटरव्यू निकालना। इसमे आपको बड़े बड़े अफसर आपका इंटरव्यू लेते है।  इसमे आपकी मानसिकता को भी देखा जाता है। ये कुल 45 मिनट का होता है। इसमे कुल 275 marks होते हैं।इस इंटरव्यू में आपसे काफी मुश्किल और ट्रिकी सवाल पूछे जाते है।  साथ ही आपके दिमाग की सोचने समझने की शक्ति को जाने के लिए आपसे डबल मीनिंग वाले सवाल भी पूछे जा सकते है।  सुनने में आपको लगेगा कि कोई गंदा सवाल है लेकिन आपको दिमाग से  सोच कर उसका जवाब सकारात्मक तरीके से देना होग। इसको पास करने के बाद आप एक IAS अफसर बन जायेगे  UPSC पास  करने के बाद तुरंत ही आपको DM के पद पर नौकरी नही मिलती है  उसके बाद आपको ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है. ट्रेनिंग में तीन महीने फाउंडेशन कोर्स, भारत दर्शन, फेज 1 और फिर लास्ट में induction होता है। इसमे आपको जोइनिंग लेटर दिया जाता ह।  शुरू में आपको Sub divisional officer (SDM) का पोस्ट मिलता है बाद में प्रमोशन प्राप्त करके आपको DM बना दिया जाता है।

  Check Out: पशु चिकित्सक कैसे बने

डीएम की सैलरी

हर महीने डीएम को ₹78,800  मिलती है। इसके अलावा रहना खाना और इसके साथ ही कई सारे ओर भी सुविधाएं प्राप्त होती हैं जैसे कि रहने के लिए सरकारी आवास ,आवास में एक चपरासी और रसोईया की सुविधा मिलती है,फ्री बिजली तथा फ्री टेलीफोन की सुविधा,सरकारी वाहन,सरकारी काम के लिए अगर आप कहीं बाहर जाते हैं तो आपके पूरी यात्रा की खर्चा सरकार देती है।

   Check Out : आयकर अधिकारी कैसे बनें?

DM Kaise Bane FAQ

क्या बिना कोचिंग के भी डीएम बना जा सकता है?

इसका जवाब हाँ , काफी लोग बिना कोचिंग के डीएम बनाते है आज के ऑनलाइन युग में हर विषय के बारे गहरा अध्यन कर सकते है , मॉकटेस्ट भी दे सकते है और अपनी तैयारी को और अच्छा कर सकते है।

डीएम बनाने के बाद क्या अपना पसंदीदा जिला चुन सकता हूँ?

जी नहीं , आप अपना पसंदीदा जिला नहीं चुन सकते मगर आप अपना पसंदीदा राज्य चुन सकते है।   

डीएम की तैयारी कैसे करे ?

इसके लिए आपको 6-12 तक की NCERT बुक को पढ़ना चाहिए ,देश और दुनिया की सारी जानकारी होनी चाहिए, क़ानून की पूरी जानकारी होनी चाहिए , भारत में किस क्षेत्र में क्या हो रहा है उसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए । 

UPSC IAS Exam Pattern क्या है?

UPSC Civil Service का एग्जाम हर वर्ष कराती है। जिसमे आपको 3 एग्जाम देने होते है।
   Preliminary Examination 
   Main Examination  
   Interview

डीएम बनने के लिए कितना घंटा पढ़ना चाहिए ?

यह उम्मीदवार पर निर्भर करता है वह कितने समय में क्या कर सकता है. कितना देर पढ़ना होगा इससे ज्यादा जरूरी सवाल है समय का सही सदुपयोग कैसे करे? यदि Smart Study करते हो तो पहले चरण में UPSC EXAM QUALIFY कर सकते है। 

उम्मीद हैं, हमारी DM Kaise Bane ब्लॉग से आपको मदद मिलेगी  आप अब इस परीक्षा को पास करने के लिए तैयार हैं।डीएम बनाने के लिए  यूपीएससी में वैकल्पिक विषयों में से किसी एक में अपनी प्रवीणता साबित करना अनिवार्य है और चुने हुए विषय में परास्नातक कोर्स आपको दोहरा लाभ पहुंचा सकता है। Leverage Edu में आप हमारे एक्सपर्ट्स से संपर्क कर सकते हैं और वो उपयुक्त कोर्स और विश्वविद्यालय चुनने में आपकी मदद करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

5 comments

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.

+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like