भारत में सीए कोर्स

Rating:
0
(0)
भारत में सीए कोर्स

कई लोगों का ड्रीम करियर माने जाने वाला, चार्टर्ड एकाउंटेंट (सी.ए.) भारत में सम्मानित सर्टफिकेशन है और अधिकतर कामर्स छात्रों द्वारा किया जाता है। इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आई.सी.ए.आई.) द्वारा आयोजित, यह दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और विशिष्ट देशों के राष्ट्रीय सी.ए. संस्थानों द्वारा आयोजित किया जाता है। हालांकि, सी.ए. की परीक्षा में पास होना कठिन है, लेकिन अभी तक इसके परिणाम अच्छे रहे हैं। चार्टर्ड एकाउंटेंट की जरुरत हर व्यावसायिक संगठन में होती है, इसलिए इस सर्टफिकेशन को करना कठिन है। यदि आप अकाउंटेंसी में करियर बनाना चाहते हैं और इसके ढेरों करियर प्रास्पेक्ट्स का लाभ उठाना चाहते हैं, तो चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स आपके लिए सही विकल्प है। इस ब्लॉग का उद्देश्य भारत में सी.ए. बनने की प्रक्रिया और भारत में सीए कोर्स के जरूरी पहलुओं को समझाना है ।

भारत में सीए कोर्स: एक अवलोकन

चार्टर्ड अकाउंटेंसी (सी.ए.) में ऑडिटिंग, वित्तीय खातों, बिजनेस, बजटिंग, कर-निर्धारण, रणनीति आदि का गहन प्रबंधन शामिल है । विभिन्न कारणों से इस पेशे ने युवाओं को लुभाया है । जैसा कि हम जानते हैं, सी.ए. की परीक्षा पास करना कठिन है। जो लोग भारत में सी.ए. की सभी परीक्षाओं में पास होते हैं, वे चार्टर्ड अकाउंटेंट का सम्मानित पद हासिल करते हैं। इस प्रकार, सी.ए. वे पेशेवर हैं जो अर्थव्यवस्था के विभिन्न पहलुओं को समझने, वित्तीय प्रबंधन करने में सक्षम और वित्तीय प्रबंधन पर लोगों को सलाह देने के लिए प्रशिक्षित हैं। यह कोर्स तीन लेवल यानी सी.ए. फाउंडेशन, सी.ए. आईपीसीसी और सी.ए. फाइनल में विभाजित है।   

भारत में सीए कोर्स ऊपर दिए गए तीन लेवल में विभाजित किया गया है और यहाँ प्रत्येक लेवल की व्यक्तिगत एलिजबिलिटी को स्पष्ट करते हुए एक सूची दी गई है:

लेवल भारत में सी.ए. कोर्स के लिए प्रवेश आवश्यकताएँ 
सी.ए. फाउंडेशन  छात्रों के पास 10 + 2 की न्यूनतम स्कूली शिक्षा होनी चाहिए ।
मई और नवंबर के महीनों में समय पर परीक्षा के लिए पंजीकरण करना होगा ।
सी.ए. आईपीसीसी 10 +2 की औपचारिक स्कूली शिक्षा और छात्रों को सी.ए. फाउंडेशन क्वालिफाई करना होगा । 
कामर्स या संबंधित क्षेत्रों में बैच्लर या मास्टर डिग्री वालों को फाउंडेशन में छूट दी गई है और सीधे इस लेवल पर प्रवेश कर सकते हैं।
छात्रों के पास ग्रेजुएशन या पोस्ट-ग्रेजुएशन में 55-60% अंक होने चाहिए (सी.ए. आईपीपीसी एलिजबिलिटी के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें।)
सी.ए. फाइनल सी.ए. आईपीसीसी परीक्षा के दोनों समूहों में पास करने के बाद,छात्रों को निम्नलिखित करना होगा :
1. अंतिम लेवल के परीक्षा के पंजीकरण से पहले 3 साल का आर्टिकलशिप पूरा करना होगा;2. चार सप्ताह के अड्वैन्स्ड इन्टिग्रैटड कोर्स ऑन इन्फोर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी  एंड सॉफ्ट स्किल्स (एआईसीआईटीएसएस) प्रशिक्षण समाप्त करना होगा;

अब हम भारत में सी.ए. कोर्स के विभिन्न लेवल पर विस्तृत नज़र डालते हैं :

सीए फाउंडेशन

यह सी.ए. प्रार्थी के लिए प्रवेश लेवल की परीक्षा है जिसमें 4 पेपर होते हैं और एलिजबिलिटी फ्लेक्सेबल हैं क्योंकि किसी भी स्ट्रीम के छात्र यह परीक्षा दे सकते हैं । अब्जेक्टिव प्रकार के प्रश्न के साथ गलत उत्तरों के लिए निगेटिव मार्किंग होती है। इस परीक्षा में 2 सत्र होते हैं और प्रत्येक सत्र की अवधि 2 घंटे होती है। इसलिए परीक्षा की कुल अवधि 4 घंटे है। भारत में सीए कोर्स के इस लेवल के आवश्यक विषय हैं :

  • बिजनेस मैथमेटिक्स 
  • लाजिकल रीज़निंग 
  • बिजनेस इकोनॉमिक्स 
  • बिजनेस कॉरस्पान्डन्स और रिपोर्टिंग

सी.ए. फाउंडेशन के सिलेबस पर विस्तृत नजर डालने के लिए यहां क्लिक करें ।

सीए आईपीसीसी 

जरूरी परीक्षा क्वालिफाई करने के बाद छात्र दूसरे लेवल यानी सी.ए. इंटीग्रेटेड प्रोफेशनल  काम्पिटन्स कोर्स (सी.ए. आईपीसीसी) में प्रवेश के योग्य हो जाते हैं । सीए कोर्स के इस लेवल का उद्देश्य छात्रों की मजबूत बुनियादी ढांचे की स्थापना करना है जिससे उन्हें आर्टिकलशिप मिलने में मदद मिल सके जो इस लेवल पर अनिवार्य है । चार्टर्ड अकाउंटेंसी के थीअरेटिकल पहलुओं पर अधिक जोर दिया जाता है जो आर्टिकलशिप के प्रैक्टिकल शिक्षा से आगे पूरित होता है । इस लेवल के 2 समूह हैं जिनमें कुल 7 विषयों की परीक्षा होती है । दो समूहों के कुछ मुख्य विषय हैं:

  • जीएसटी कानून 
  • एन्वाइरन्मन्ट और एथिक्स 
  • कंपनी अकाउन्टस
  • 1965 का पेमेन्ट बोनस ऐक्ट 
  • अकाउन्टिंग फॉर स्पेशल ट्रैन्ज़ैक्शन्ज़

सीए फाइनल

जब छात्र सी.ए. आईपीसीसी परीक्षा के 2 समूहों को पास कर लेते हैं और फर्मों में 3 वर्षों का गहन आर्टिकलशिप पूरा कर लेते हैं, तो वे अंततः भारत में सीए कोर्स की अपनी यात्रा के समाप्ति की तैयारी शुरू कर सकते हैं । अंतिम लेवल में 2 समूह हैं जिनमें कुल 7 विषयों की परीक्षा होती है । सी.ए. फाइनल के कुछ प्रमुख विषय निम्नलिखित हैं: 

  • वैल्यू ऐडड स्टेटमेंट
  • वैल्यूएशन ऑफ लाइअबिलिटीज़ 
  • विदेशी मुद्रा एक्सपोजर और रिस्क प्रबंधन 
  • मर्जर और ऐक्विज़िशन 
  • रिस्क-बैस्ड ऑडिटिंग

भारत में सीए कोर्स के बाद कैरियर स्कोप

भारत में प्रसिद्ध सीए कोर्स को पूरा करने और सर्टफिकेशन प्राप्त करने के बाद, कई क्षेत्रों में नौकरी के प्रवेश द्वार आपके लिए खुल जाते हैं । कैरियर की आकांक्षाओं को सफलता में बदलने के लिए, आपको प्रभावशाली सी.ए. फ्रेशर रिज्यूम के साथ शुरुआत करनी होगी । कुछ प्रमुख क्षेत्र जिनमें चार्टर्ड एकाउंटेंट बनने के बाद आप काम कर सकते हैं वे हैं:

  • आयकर विभाग 
  • ऑडिटिंग फर्म्स 
  • बीमा और बैंकिंग क्षेत्र
  • कर सलाहकार फर्म 
  • लॉ फर्म्स 
  • फाइनेंस कंपनियां 
  • स्टॉक ब्रोकिंग फर्म्स
  • इन्वेस्ट्मन्ट बैंकिंग फर्म  
  • एसेट मैनेजमेंट फर्म्स 
  • कॉर्पोरेट फर्म 
  • सी.ए . फर्म्स

हम आशा करते हैं कि इस ब्लॉग से आपको भारत में सी.ए.कोर्स की सभी प्रमुख विशेषताएँ पता चल गईं होंगी । यदि आप अकाउन्टिंग कोर्स में आगे पढ़ने की योजना बना रहे हैं और यह नहीं जानते कि कहां से शुरू करें, तो हमारे Leverage Edu विशेषज्ञों तक पहुंचे । हम आपको उपयुक्त कार्यक्रम और विश्वविद्यालय का चयन करने में मदद करेंगे । आपके हितों और आकांक्षाओं को ध्यान  में रखते हुए हम आपको  फुल्फिलिंग कैरियर बनाने में मदद करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today.
+91
Talk to an expert for FREE

You May Also Like

ACCA Exams
Read More

ACCA Exams

The Association of Chartered Certified Accountants (ACCA) awards the Chartered Certified Accountants qualification which is counted amongst the…